Dainik Navajyoti Logo
Sunday 27th of September 2020
 
राजस्थान

जयपुर: अतिक्रमण से अटे पड़े हैं बापू बाजार के बरामदे, ट्रैफिक जाम भी बड़ी समस्या

Tuesday, January 21, 2020 10:00 AM
अतिक्रमण से अटे पड़े बापू बाजार के बरामदे।

जयपुर। जयपुर शहर के बाजारों की रंगत खरीदारों को आकर्षित करती है। इतना ही नहीं अन्य राज्यों और विदेशों से आने वाले पर्यटकों को भी गाइड जयपुर के बाजारों की सैर कराते हैं। लेकिन स्थिति उस समय खराब हो जाती है, जब उन्हें ट्रैफिक आदि की समस्या से जूझना पड़ता है। बापू बाजार में लोगों को कुछ इसी तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बाजार की सड़क पर लोग इस तरह से पार्किंग कर देते हैं कि अन्य गाड़ियों को दूसरी ओर निकलने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

हालात यह हैं कि ट्रैफिक का नजारा शाम के समय और ज्यादा खराब हो जाता है। बाजार के दुकानदारों का कहना है कि यहां सबसे बड़ी समस्या ट्रैफिक की है। खासकर शाम के समय ट्रैफिक जाम के कारण लोगों का पैदल चलना मुश्किल हो जाता है। इतना ही नहीं बल्कि धूला हाउस व्यापार मण्डल रोड की ओर भी लोग बेतरतीब तरीके से गाड़ी खड़ी कर देते हैं। जिससे पैदल चलने वाले राहगीरों और पर्यटकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। हालात यह हैं कि ऊपर बिजली आदि के तारों का जाल है और उसके नीचे दुकानों के बाहर सड़कों तक अतिक्रमण की भरमार है। दुकानदारों ने दुकानों के बाहर तक सामान रखे हुए हैं।

बरामदों में चलना मुश्किल
दैनिक नवज्योति की टीम जब बापू बाजार पहुंची तो वहां की दुकानों के बाहर बरामदों तक में अतिक्रमण की समस्या सामने आई। बरामदों में सामानों के ढेर के कारण आम लोगों और पर्यटकों को बचकर निकलना पड़ता है। सामनों के डिस्प्ले के कारण बरामदे पूरे घिर जाते हैं। दुकानदारों ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि जब नगर निगम से गाड़ी आती है तो सभी दुकानदार सामान अंदर रख देते हैं, लेकिन गाड़ी जाने के बाद फिर से वही स्थिति हो जाती है। यहीं स्थित सड़क पर ठेले वालों की देखने को मिलती है। ठेलों पर लोगों की भीड़ से वाहन चालकों को गाड़ी चलाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

अतिक्रमण से परेशान राहगीर
बापू बाजार में अतिक्रमण की स्थिति देखने को मिली। दुपहिया वाहन से लेकर चार पहिया वाहन और सब्जी-फल के ठेलों के कारण अतिक्रमण की स्थिति देखने को मिली। अतिक्रमण की वजह से राहगीरों को चलने की जगह नहीं मिलती है, जिससे राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अतिक्रमण की स्थिति जयपुर के अधिकतर मार्केट देखने को मिली है। इसका एक कारण पार्किंग की उचित व्यवस्था नहीं होने की भी है।


खुले बिजली के तारों का फैला जाल
बाजार में कई जगह पर खुले बिजली के तारो का जाल देखने को मिला था। इससे किसी दिन बड़ी दुर्घटना होने का खतरा बना रहता है। जहां एक ओर जयपुर स्मार्ट सिटी बनाने की पहल चल रही है। वहीं ऐसी समस्याओं के होने की वजह से स्मार्ट सिटी बनने की दौड़ में जयपुर अन्य सिटीज से पिछड़ ना जाए। जल्द से जल्द ऐसी समस्याओं का समाधान होना चाहिए, जिससे परकोटे की खूबसूरती बनीं रहे।


सड़क पर खड़े ई-रिक्शा

बाजार में सड़क पर खड़े ई-रिक्शा से आमजन को परेशानी का सामना करना पड़ा। जहां पर वाहन और राहगीरों के आने-जाने का रास्ता होता है। वहीं पर ई-रिक्शा के ऐसे खड़े होने की वजह से जाम की स्थिति बनीं रहती है। ऐसी समस्याओं उचित समाधान होना जरूरी है, जिससे ग्राहकों को यहां आने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस कारण से कई ग्राहक इस बाजार में आने से बचते है।


कई जगह दिखी गंदगी
कई जगह पर गंदगी देखने को मिली। अधिकतर बाजार की गलियों में गंदगी देखने को मिली, जिससे बाजार की चमक में फीकी देखने को लग रही थी।

बदहाल स्थिति में है पार्क
बापू बाजार के पास स्थित पार्क भी बदहाल स्थिति में दिखा। हालात ऐसे हैं कि पार्क के बाहर गंदगी का आलम है तो वहीं पार्क के अंदर ना तो हरियाली है और ना ही बच्चों के खेलने के लिए झूलों की व्यवस्था। आसपास के निवासियों का कहना है कि कई  बार प्रशासन को पार्क की दशा से अवगत कराया जा चुका है, लेकिन स्थिति वही जस की तस बनी हुई है। पार्क के मुख्य गेट के पास रिक्शा ट्रॉली पड़ी रहती है। दूसरी ओर पार्क के प्रवेश द्वारों पर ताले लगे रहते हैं। नगर निगम ने भी पार्क का उद्घान करने के बाद फिर इसकी सुध नहीं ली।


सड़क पर ही लोड-अनलोड
बापू बाजार की सड़क पर ही दुकानदारों का सामना लोड़-अनलोड़ होता है। जिससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके अतिरिक्त यहां लपके  पर्यटकों को जबरदस्ती सामान बेचते हुए दिखाई दिए। वहीं दूसरी ओर ई-रिक्शा यहां ट्रैफिक जाम की मुख्य समस्या है। चालक ई-रिक्शा कहीं भी खड़ी कर देते हैं। वहीं एक दूसरे से आगे निकलने की हौड़ में दुर्घटना का अंदेशा भी बना रहता है। दुकानदारों का कहना है कि इन पर नकेल कसने की जरूरत है। चालक बेतरतीब तरीके से इन्हें चलाते हैं, जिससे कई बार अन्य गाड़ियों से ठकराने का अंदेशा बना रहता है।

समस्याएं कई हैं, दूर करने वाले नहीं
समस्याएं कई है। शाम के वक्त कभी बाजार आकर रोड पर चलने की जगह पर्यटकों को नहीं मिलती है। क्योंकि रोड के दोनों तरफ ई रिक्शा, टू, थ्री व्हीलर्स पार्क रहते हैं। इतना सुन्दर हमारा बाजार है,वाहनों को हटाना प्रशासन के हाथ में है। इस समस्या को आला अफसर ही कंट्रोल कर सकते हैं। व्यापारियों ने भी कई बार कहा है कि शाम को रोड जाम रहती है। चल फिर नहीं पाते हैं। बरामदे खाली करने के लिए व्यापारियों को समझा रहे हैं। हरदास मल तोलानी, अध्यक्ष, बापू बाजार व्यापार मंडल


जाम की परेशानी हो दूर
शाम को 7.15 बजे ट्रैफिक यहां इतना जाम रहता है कि घर पहुंचना मुश्किल हो जाता है। जाम की समस्या को प्रशासन को अच्छे दूर करना चाहिए। मंजीत सिंहजी ने जब शहर में बरामदे खाली कराए थे तब मैं बापू बाजार को जोड़ने वाली लिंक रोड पर ठेला लगाता था। मुझे अच्छी तरह याद है उन्होंने बरामदों को खाली कराया था। मेरे ठेले के पास बाल्टी से पानी बह रहा था तो कहा अपनी बाल्टी बदल लीजिए। सुनकर अच्छा लगा, मैंने तुरंत टूटी बाल्टी हटाकर नई रख ली। उसकी वजह से वहां पर पानी रिसता था और गंदगी रहती थी। लोकेश कुमार खत्री, दुकानदार

यह भी पढ़ें:

रौद्र हुए सूर्यदेव

राज्य के अधिकांश हिस्सों में गुरुवार को भी सूर्य आग उगलता रहा। सूर्य ने सुबह से ही उग्र रूप धारण कर लिया, जो दिन चढ़ने के साथ ही बढ़ता गया।

31/05/2019

सभी 94 हजार सीएलजी मेंबर्स को बदलने के आदेश

पुलिस के लिए दलाली करने के आरोपों के बाद राज्य सरकार ने प्रदेशभर के थानों में तैनात करीब 94 हजार सीएलजी मेंबर्स कम्युनिटी लायजिंग गु्रप मेंबर्स को बदलने का बड़ा फैसला किया है।

04/08/2019

मंडावा और खींवसर दोनों सीटों पर भारी बहुमत से जीतेगी कांग्रेस: सचिन पायलट

देश को कोई भी नेता या दल हो उनको अपने शब्दो का उपयोग सोच समझ कर करना चाहिए, राजनीति में ऐसी भाषा की कोई जगह नहीं है।

15/10/2019

कर्मचारियों और एनजीओ का नेटवर्क हर जरूरतमंद को दे सकता है सहारा, शहरी क्षेत्रों के लिए बने ऑनलाइन मैपिंग सिस्टम ऐप

कोरोना संक्रमण में लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद और गरीब लोगों की पहचान करने और उन्हें राशन या मदद के लिए राज्य सरकार के कर्मचारियों का नेटवर्क काफी हद तक कारगर साबित हो सकता है। इसके लिए राज्य सरकार को सभी क्षेत्रों को जोड़ने के लिए ऑनलाइन ऐप मैपिंग सिस्टम बनाना होगा।

15/04/2020

गहलोत ने किया प्रदर्शनी का अवलोकन

राज्य सरकार के एक वर्ष पूर्ण होने पर जवाहर कला केन्द्र में आयोजित राज्य स्तरीय प्रदर्शनी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान आवासन मंडल की प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

18/12/2019

ड्रेनेज सिस्टम फेल, सड़कें बनी दरिया

जयपुर में नगर निगम के अधीन लगभग साढ़े नौ सौ से अधिक नाले है और प्रशासन ने इनमें से अधिकतर नालों को ऊपर से पैक कर दिया।

28/07/2019

रिसोर्ट प्रबंधकों,यूआईटी अधिकारियों के खिलाफ एसीबी की जांच

उदयपुर। पीछोला झील के जलस्रोत अमरजोक नदी पेटे की जमीन पर अवैध रूप से सड़क बनाने और यूआईटी के अधिकारियों व कर्मचारियों की मिलीभगत से ताज अरावली रिसोर्ट की भूमि की 90-ए की कार्रवाई मंजूर कर देने का मामला भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो-एसीबी के पास पहुंच गया है जहां इस संबंध में परिवाद प्रस्तुत हुआ है।

13/11/2019