Dainik Navajyoti Logo
Monday 16th of December 2019
 
राजस्थान

सांगानेर की हकीकत: निजी वाहनों का जमावड़ा, गंदगी, आवारा पशु और टूटी सड़कें

Tuesday, November 19, 2019 09:45 AM
मालपुरा रोड पर लगा जाम

जयपुर। ग्रामीण परिवेश की झलक लिए दिखने वाला जयपुर शहर का प्रसिद्ध सांगानेर इलाका आज भी सुविधाओं से महरूम है। यहां रहने वाले स्थानीय निवासियों ने बताया कि देखने वालों को सांगानेर किसी कस्बे से कम दिखाई नहीं पड़ता है। हालांकि जिस तेजी के साथ यहां कॉलोनियां बसती जा रही है उस तेजी के हिसाब से विकास नहीं हो रहा है। विकास की रफ्तार बहुत कम है। कारण तो वहीं हैं जिनको सब जानते हैं कुछ वरिष्ठ नागरिकजनों ने बताया कि विकास तब होता है जब सरकार के नुमाइंदे और जनता की आवाज सुनने वाले उस पर अमल करें। सांगानेर इलाके के सांगासेतु पुलिया से लेकर मालपुरा गेट तक का हाल सोमवार को देखने पहुंचे तो उन्ही सब समस्याओं का अंबार दिखा।

छोटा सा दिखने वाला ये इलाका चारों तरफ से अतिक्रमण की भेंट चढ़ रहा था। ट्रैफिक रूल्स तोड़ने वाले भी बिना हेलमेट के रॉन्ग साइड चल रहे थे। गंदगी चारों तरफ फैली हुई थी। मालपुरा गेट के पास अजीब सी दुर्गन्ध का एहसास हुआ किसी ने बताया कि बूचड़खाना यहां बरसों से हैं। सड़कों पर अवैध रूप से चलने वाले वाहनों ने तो हद ही कद दी थी। इनकी तो हिम्मत इस कदर बढ़ गई है कि सरकारी बस स्टैण्ड पर सरकारी बसों के लिए जगह नहीं छोड़ते हैं और दादागिरी से अपने वाहनों को वहां पर खड़ा कर देते हैं।

पास की एक बिजली विभाग के बड़े पॉवरहाउस की दीवारों के सहारे बिना जान की परवाह किए लोग दुकानें चला रहे हैं। उन्हें परवाह नहीं है जिस जगह दुकानें लगा रखी है कभी कोई हादसा हो सकता है। इसमें कितना बड़ा रिस्क है। वहां से इनको कोई हटाता भी नहीं। सड़के नालियां गंदगी से अटी से पड़ी है। यह नजारा आपको मालपुरा गेट के आस-पास दिखाई देगा जहां पर सालों से दुकान चलाने वाले लोग इस परेशानी से त्रस्त है नाले में भरी इस गंदगी को साफ करने वाला कोई नुमाइंदा कभी नहीं आता है इसलिए सांगानेर की हालत ऐसी है।


निजी वाहनों का जमावड़ा बनी समस्या
सांगानेर बस स्टैण्ड पर निजी वाहनों का जमावड़ा आम लोगों के साथ ही राहगीरों के लिए भी समस्या का केन्द्र बिन्दू बना हुआ है। जहां एक ओर जयपुर को स्मार्ट सिटी बनाने की प्रक्रिया चल रही है। वहीं ऐसी समस्याओं से परेशान राहगीर और स्थानीय लोगों को जब तक राहत नहीं मिलेगी तब तक स्मार्ट सिटी का सपना अंधेरे में लठ चलाने जैसा प्रतीक हो रहा है। कई जगहों पर निजी वाहनों के जमावड़े की वजह से जगह-जगह जाम की स्थिति पैदा हो जाती है।


गंदगी से बेहाल लोग
सांगानेर इलाके की कई जगहों पर कचरों के ढ़ेर पड़े मिले। कचरों में से बदबू आने के साथ मच्छर हो रहे थे। जहां एक ओर जयपुर में तरह-तरह की बीमारियां हो रही है। इस क्षेत्र में साफ-सफाई की उचित व्यवस्था देखने को नहीं मिली। ऐसी गंदगी से मच्छर पैदा होते है, जिससे विभिन्न प्रकार की बीमारियां होने का खतरा बना रहता है। यहां से रोजाना सैकड़ों राहगीरों की भीड़ गुजरती है और बस के इंतजार में खड़ी भी होती है। ऐसे में ऐसी जगहों पर सफाई की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। जहां एक ओर सैलानी जयपुर की सुंदरता का बखान करते है। वहीं दूसरी ओर इसी कारण से जयपुर की सुंदरता पर गंदगी दाग लगाती है। इस क्षेत्र में सफाई की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। 

ट्रैफिक रूल्स की उड़ती धज्जियां
सांगानेर इलाके में बिना हैल्मेट से वाहन चल रहे है। जहां एक ओर ट्रैफिक रूल्स को फॉलों नहीं करने वाले लोगों पर भारी चालान वसूला जाता है। वहीं ऐसे इलाकों में बिना हैल्मेट से चल रहे वाहनों पर कोई अंकुश नहीं देखने को मिल रहा है। इस समस्या से भी सांगानेर ग्रस्त है। क्षेत्र की सभी समस्याओं का स्थाई समाधान ही विकास का नया पथ तैयार करेगा।


टूटी सड़क से बेहाल क्षेत्र
जगह-जगह टूटी सड़क से क्षेत्र बेहाल है। सड़क पर कई जगह गढ्ढे तो कई जगह टूटी-फूटी सड़के देखने को मिली। इन टूटी सड़कों पर कोई अनहोनी होने का खतरा हरदम बना रहता हैं।


पार्किंग की समस्या से त्रस्त क्षेत्र
क्षेत्र में सबसे बड़ी समस्याओं में एक है पार्किंग की है। यहां पर जगह-जगह वाहन खड़े मिले। इस कारण से राहगीरों को यहां पर दिक्कत का सामना करना पड़ता हैं।


आवारा जानवरों से परेशान लोग
सांगानेर के कई क्षेत्रों में आवारा जानवर घूमते हुए नजर आएं। इन आवारा जानवरों के कारण राहगीरों के साथ स्थानीय लोगों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ता हैं।

मालपुरा बस स्टैण्ड पर अवैध वाहनों से परेशानी
इस बस स्टैण्ड से रोजाना लगभग 62 बसें जाती है जिनमें यात्री बैठकर सफर करते हैं। सुबह 4.30 बजे से लेकर रात को 9.00 बजे तक सरकारी बसें संचालित होती है। डिग्गी मालपुरा, केकड़ी, बांसवाड़ा सहित कई जगहों के लिए करीबन 70 प्रतिशत यात्री बस से सफर करते हैं। बस स्टैण्ड के चारों तरफ अवैध वाहनों, टाटा मैजिक का जमावड़ा लगा रहता है। वाहन खड़ा करने की परमिशन तक इनके पास नहीं है। इसके बावजूद ये जोर-जबरदस्ती यहां पर वाहनों को चारों तरफ बेतरतीब तरीके से खड़ा कर देते हैं जिससे सरकारी बसों में बैठने वालों को काफी असुविधा होती है। अस्थायी अतिक्रमण के कारण बस स्टैण्ड दिख नहीं पाता है। मना करने पर सुनते नहीं हैं। यहीं हालातों की वजह से लोग बस स्टैण्ड आने से भी कतराते हैं और समझाने पर झगड़ा करने के लिए उतारु होते हैं सो-अलग।


नेशनल हाईवे है मगर गहरे गड्ढे से होती है परेशानी
सीताराम ने बताया कि मालपुरा गेट के सामने से लगने वाले नेशनल हाईवे जो मुहाना की तरफ निकलता हुआ सीधे भीलवाड़ा को जाता है यहां पर ट्रैफिक जाम की समस्या बहुत है। सालों से रोड़ बनी नहीं है। सड़क में गहरे गड्ढो से आने जाने वाले छोटे-बड़े वाहनों की लम्बी कतार लग जाती है। कई कई घंटो तक जाम लगा रहता है। इस इलाके में इतनी गंदगी रहती है कि आबोहवा में ही दुर्गन्ध महसूस होती है।


सुविधाएं कैसे नसीब होगी
भरत सैनी (अलवर वाले) ने बताया कि यह रास्ता मुहाना से होते हुए भीलवाड़ा जाता है इसलिए नेशनल हाईवे है मगर इतने सालों में सड़क को सुधारने वाला कभी कोई नहीं आता है। दिनभर में कई दफे ट्रैफिक जाम होता है मगर दिखाई किसी को देता है। जयपुर आज स्मार्ट सिटी में शुमार हो गया है दूसरी तरफ सड़क इतनी बुरी दिखेंगी तो लोगों को सुविधाएं कैसे नसीब होगी।


खत्म हो रहा है ऐतिहासिक मालपुरा गेट का वैभव
मालपुरा गेट का ऐतिहासिक महत्व है। पूर्व पार्षद प्रेमप्रकाश ने बताया कि इस गेट के ऊपर स्थित छतरी में अकबर-जोधाबाई का संबंध तय हुआ था। उनके हिसाब से जयपुर करीबन साढ़े चार सौ साल पहले बसा था। यह छतरी इसके भी पहले की है परन्तु प्रशासन का कोई नुमाइंदा खैर खबर लेने बमुश्किल से यहां आता है। गेट की नगरपालिका और नगर निगम ने मरम्मत कराई है मगर अब इस गेट की हालत सुधारने की जरूरत है। ताकि आने वाली पीढ़ियों को मालपुरा गेट के ऐतिहासिक जानकारी का पता चले। सांगानेर के मुख्य बाजार की सड़के ही इतनी सकड़ी है कि आने-जाने का रास्ता कम पड़ता है। दुकानों के बाहर अतिक्रमण होने से मुख्य बाजार ही बहुत छोटा नजर आता है जिसमें से एक कार भी नहीं आ जा सकती है। पैदल चलने वालों को भी जगह नहीं मिलती है।


पेट्रोल पम्प के सामने रुल्स तोड़ने वालों की भरमार
सांगासेतु पुलिया से कुछ ही दूर आगे चलने पर तिराहे के पास एक नामी पैट्रोल पम्प तिराहे पर ट्रैफिक रुल्स तोड़ने वाले बिना हैलमेट रॉन्ग साइड सफर करते हुए दिखे। इनको ना किसी की जान की परवाह थी, ना कोई चिंता। हालांकि यातायात कर्मी मौजूद थे लेकिन देखकर भी अनदेखा कर रहे थे। एक दो स्थानों को छोड़कर कहीं पर भी यातायातकर्मी दिखाई नहीं दिए।

पानी की टंकी के पास गंदगी
सांगानेर रेलवे स्टेशन के पास स्थित पानी की टंकी के पास गंदगी देखने को मिली। अब ऐसी जगह भी साफ-सफाई की उचित व्यवस्था संबंधित प्रशासन नहीं करेगा तो क्षेत्र का विकास संभव नहीं हैं।

यह भी पढ़ें:

जयपुर के कानोता में नग्न अवस्था में मिली महिला, पुलिस कमिश्नर पहुंचे मिलने

कानोता में एक महिला नग्न अवस्था में मिली थी, जिसके दोनों हाथ बंधे हुए थे। पुलिस ने महिला को देर रात पॉलीट्रोमा में भर्ती करवाया था।

22/05/2019

नींबू ने किए दांत खट्टे,अदरक भी आसमान पर

नींबू के बढ़े हुए दामों ने आम आदमी के दांत खट्टे कर दिए हैं। गर्मी के इस मौसम में नींबू की अधिक मांग रहती है, ऐसे में नींबू के बढ़े हुए दाम उपभोक्ताओं को खासे परेशान किए हुए हैं।

27/05/2019

टायर के गोदाम और शराब की दुकान में लगी आग

शहर में गुरुवार सुबह शराब की दुकान और टायर गोदाम में आग लग गई। एक आग को बुझाने के बाद दूसरी जगह लगी आग से दमकलकर्मियों की परेड हो गई।

26/04/2019

1998 के चयनित शिक्षकों से मिले विधायक बाजिव अली, कहा, मुख्यमंत्री से करेंगे बात

धरने में लगभग 200 चयनित शिक्षक मौजूद थे, जिसमें महिलाएं एवं बच्चे भी शामिल थे।

08/06/2019

अंधविश्वास के चलते नहीं मिल सकी चार लोगों को नई जिंदगी, नहीं हो पाया अंगदान

प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में एक बार फिर अंगदान की मुहिम को बड़ा झटका लगा है। ब्रेनडेड मरीज के परिजनों ने बुधवार को अंगदान करने की सहमति दे दी थी और सहमति पत्र पर हस्ताक्षर भी कर दिए थे, लेकिन उन्होंने गुरुवार सुबह अस्पताल में अंगदान की प्रक्रिया शुरू होने से ऐनवक्त पहले ही अंगदान से इनकार कर दिया और देह घर ले जाने पर अड़ गए।

12/04/2019

राजस्थान में कई स्थानों पर प्री मानसून की अच्छी बारिश

राजस्थान में प्री मानसून वर्षा का दौर जारी है और प्रतापगढ़, चित्तौडग़ढ, डूंगरपुर, बासंवाड़ा एवं उदयपुर जिलों में अच्छी बारिश हुई है।

19/06/2019

सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में लगी आग

सवाई मानसिंह अस्पताल के ड्रग स्टोर में लगी आग का धुआं अभी छटा भी नहीं था कि सोमवार को एसएमएस मेडिकल कॉलेज की लाइब्रेरी के बेसमेंट में लगे एसी प्लांट के पैनल के एससीबी बॉक्स में आग लग गई।

14/05/2019