Dainik Navajyoti Logo
Sunday 6th of December 2020
 
ओपिनियन

जानें राज काज में क्या है खास

Monday, November 11, 2019 10:10 AM
असर तो असर ही होता है और जब अपने खुद ही विरोध करे, तो उसके असर और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

असर तो असर ही होता है और जब अपने खुद ही विरोध करे, तो उसके असर और भी ज्यादा बढ़ जाता है। अब देखो ना पिछले दिनों इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने में पर इसका असर कुछ ज्यादा ही दिखाई दिया। स्टेट इंचार्ज पाण्डे साहब ने केन्द्र की नीतियों का विरोध करने के लिए अपना मुंह क्या बोला, उसका युवा मंत्री पर मिनटों में असर दिख गया। मंत्री ने जो कुछ बोला, उसका असर औरों पर पड़ा या नहीं, यह तो बाद में पता चलेगा, मगर पाण्डे साहब पर हाथों हाथ दिख गया। युवा मंत्री के मुंह से भी सत्य वचन निकल गया कि अब किसका विरोध करें, अभी तो हाइब्रिड सिस्टम के विरोध की गूंज थमी भी नहीं है। इस बार तो हम तो सबसे पहले अपने ही राज के फैसलों का ही विरोध करते हैं, औरों का नहीं।

बेचारे हरकारे
इस बार जो दशा हरकारों की बिगड़ी है, वह किसी सपने से भी कम नहीं है। उन्हें चारों तरफ से लताड़ के सिवाय कुछ भी नहीं मिल रहा। बेचारों के आंसू पौंछने वाले तक नहीं मिल रहे है। जिनके सहारे कॉलर ऊंची कर मार्केट में घूमते हैं, वो भी बगलें झांकने में ही अपनी भलाई समझते हैं। अब देखो ना रात दिन राज के गीत गाने के बाद भी बताशों की जगह दुत्कार ही पल्ले पड़ती है। राज का काज करने वाले भी नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर माजरा क्या है। पहले चौकड़ी की सलाह से सीएमओ के चारों तरफ लक्ष्मण रेखा खींची गई। और अब प्रेम से बुलावा देने के बाद दुत्कार दिया जाता है।

बड़ी कुर्सी को कौन सलाह दे कि हरकारों और राज का संबंध तो जन्मों-जन्मों से है। अब राज को दोष भी तो नहीं दिया जा सकता, चूंकि उनके सलाहकारों को तो अपने कामों से ही फुर्सत नहीं है। सचिवालय में खुसर फुसर है कि राज के कानों तक सच पहुंचे, तो कई चापलूसों का पत्ता साफ हो। लेकिन खांटी कहने वाले भी तो कम नहीं हैं, वो चौकड़ी से भी दो कदम आगे हैं। जो कुछ हो रहा है, उसे देख वे मंद-मंद मुस्कुरा रहे हैं। उनकी छठी इन्द्री का संकेत है कि थोड़ा ठण्डी करके खाओ, वक्त एक सा नहीं होता।

गली निकाली
राज का काज करने वाले कई मामलों में नेताओं से एक कदम आगे होते हैं। हर मामले में गली निकालने में महारथियों ने इस बार भी ठान ली है कि राज के किसी भी नवरत्न के हवाई आदेशों को नजरअंदाज करने में ही भलाई है। पिछले राज के नवरत्नों के मौखिक आदेशों की पालना कर काले कोट वालों के फेर में फंसे कारिन्दों ने तो बाकायदा कसम तक खा ली है।

लंच टेबिल पर चर्चा के दौरान गली भी निकाल ली गई कि मौखिक आदेश देने वाले रत्नों की फाइल में नोटिंग डाल देने बचत हो सकती है। पानी वाले महकमे के कारिन्दे अब तोड़ ढूंढने में जुटे हैं कि बिना धन के बड़ी परियोजनाओं को मौखिक मंजूरी से हुए नुकसान की भरपाई कैसे की जाए।

एक जुमला यह भी
इन दिनों खाकी वालों में एक जुमला जोरों पर है। जुमला भी छोटा-मोटा नहीं, बल्कि डिप्टी को लेकर है। पिछले दिनों इंस्पेक्टर से डिप्टी बने कुछ भाई लोगों के चेहरों पर ज्यादा रौनक नहीं है। पीएचक्यू में चर्चा है कि डिप्टी की स्थिति उस उदण्डी और रोने वाले बच्चे जैसे होती है, जिसे साइकिल के अगले डण्डे पर बिठा दिया जाता है। वह रो भी नहीं पाता और आराम से बैठ भी नहीं सकता।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

विजय उदबोधन के विजयी स्वर

सरसंघ चालक मोहन भागवतजी का उद्बोधन संघ के दृष्टिकोण से अवगत कराने का एक सशक्त माध्यम बना है।

14/10/2019

आंध्र प्रदेश की नई राजधानी अधर में

गत मई माह में जब आंध्र प्रदेश में सत्ता परिवर्तन हुआ और जगन मोहन रेड्डी के नेतृत्व में वाई एस आर कांग्रेस पार्टी की सरकार बनी तो इसने सबसे पहले पूर्व मुख्यमंत्री और तेलेगुदेशम पार्टी के नेता चन्द्रबाबू नायडू के ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ राज्य के नई राजधानी अमरावती के निर्माण कार्यों पर रोक लगा दी।

30/09/2019

हाथी गोद में झुलाना

राज्य-मंत्रणा के मंच पर आज ‘हाथी’ सवार था। प्रदेश में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में अचानक हाथी की एंट्री हो गई है। इसे पकड़कर लाने वाली कोई छोटी-मोटी हस्ती नहीं

04/05/2019

न्यायिक प्रक्रिया में संस्थागत मध्यस्थता

राष्ट्रीय न्यायिक डाटा ग्रीड के आंकडों के अनुसार 3 करोड़ 14 लाख न्यायिक प्रकरण देश की निचली एवं जिला अदालतों में ही लंबित चल रहे हैं।

15/02/2020

हैदराबाद का निर्भया कांड

लगभग सात साल पहले दिल्ली में एक युवती के साथ जघन्य तरीके से गैंगरेप हुआ था जिसके चलते बाद में उसकी अस्पताल में मृत्यु हो गई थी, इस घटना से सारा देश विशेषकर महिला वर्ग उद्वेलित हो गया था। इसके चलते सभी 6 आरोपी जल्दी पकड़े गए।

09/12/2019

निरंतर बढ़ती भाजपा की प्रासंगिकता

प्राय: इस देश के लोगों को वर्षों से राजनीतिक भ्रष्टाचार, दुराचार तथा अत्याचार झेलते रहने के कारण सब कुछ भूलने की आदत रही है। इस दुखांत त्रासदी में लोगों ने इतने वर्षों से भ्रष्टाचार के दलदल में फंसी राष्ट्रीय राजनीति के कर्ताधर्ताओं से उनकी राजनीतिक गंदगी का हिसाब पूछना ही बंद कर दिया था।

12/04/2019

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

राज ने अपने नुमाइन्दों को इधर-उधर करने का रास्ता क्या खोला, कइयों के गले में हड्डी फंस गई। वो न तो इसे निगल पा रहे और न ही उगल पा रहे। बेचारे सोच-सोच कर दुबले होते जा रहे हैं। और तो और अपना दुख किसी को बता भी नहीं पा रहे।

30/09/2019