Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 28th of October 2020
 
ओपिनियन

फिर शान की सवारी साइकिल हमारी

Monday, June 03, 2019 10:15 AM

कहते हैं इतिहास अपने को दोहराता है। एक जमाना था जब खासकर भारत ही नहीं लगभग दुनियाभर में साइकिल का बोलबाला था। क्या अब उसी साइकिल युग के लौटने की परिस्थितियां बन रही हैं। यह गंभीर विचारणीय प्रश्न है। आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे कि लंदन में अब डॉक्टर अपने मरीजों को पर्ची पर दवाइयों के साथ रोज 30 मिनट साइकिल चलाने की सलाह भी दे रहे हैं। दरअसल, डॉक्टरों का मानना है कि ऐसा करके वे अपने मरीजों को दवाओं के साइड इफेक्ट से बचाने के साथ ही उनके दवाओं के खर्च में कटौती भी कर रहे हैं। पहले अधिकांश डॉक्टर साइकिल चलाने का सिर्फ जबानी परामर्श देते थे लिखकर देने का चलन तो अब शुरू हुआ है।

संयुक्त राष्ट द्वारा आज तीन जून को विश्व साइकिल दिवस घोषित किया गया था। साइकिल की खोज के बारे में कुछ इतिहासविद् कहते हैं कि 763 में पहली साइकिल बनी थी वहीं कुछ का कहना है 1839 में स्कॉटलैंड के एक लुहार विर्कपैट्रिक मैकमिलन को विश्व की पहली साइकिल बनाने का श्रेय दिया जाता है। कहा तो यह भी जाता है कि साइकिल का प्रचलन 19वीं शताब्दी में यूरोप में हुआ।  खैर..... जब कई शहरों में साइकिल की मांग बढ़ी तो इंग्लैंड, फ्रांस और अमेरिका के यंग निर्माताओं ने इसमें कई सुधार किए तथा 1872 में इसे एक सुंदर रूप  दे दिया और फिर साइकिल शान की सवारी माना जाने लगा।

चीन के बाद दुनिया में आज भी सबसे ज्यादा साइकिल भारत में बनती है। 1960 से लेकर 1990 तक भारत में ज्यादातर परिवारों के पास साइकिलें थीं। कहा जाता है कि दुनिया में सबसे ज्यादा साइकिलें चायना की सड़कों पर चलती हैं। यहां के हर एक घर में एक साइकिल होती है। पूरी दुनिया की बात करें तो हर साल 10 करोड़ साइकिलें बनाई तथा बेची जाती हैं। चिंता की बात यह भी है कि दुनिया की आबादी के हिसाब से साइकिलों की संख्या कम हो रही है। भले साइकिलों की संख्या कम हो रही है पर जब डॉक्टर्स भी कह रहे हैं कि साइकिल इंसान के दिल-दिमाग और शरीर को पूरी तरह से स्वस्थ रखती है तो ऐसे में पूरी दुनिया का ध्यान अब साइकिल पर ज्यादा जा रहा है।

दुनियाभर की सरकारें और पर्यावरण की चिंता करने वाले लोग शहरी पर्यावरण की सुरक्षा के लिए साइकिल सवारी को बढ़ावा देने में जुटे हैं। फ्रांस की राजधानी पेरिस को 2020 तक दुनियाभर की साइकिलिंग राजधानी बनाने के लिए 1.5 करोड़ यूरो की योजना बनाई गई है। साइकिल के बढ़ते क्रेज के मद्देनजर हर साल साइकिल के नए-नए मॉडल भी बाजार में आ रहे हैं। इनमें लकड़ी और बैंबू की साइकिल, पैडल के साथ बैटरी से भी चलने वाली साइकिल और फोल्ड होकर एक टोकरी में रखने वाली साइकिल भी शामिल है। हैैरत की बात यह भी है कि इनमें से कुछ साइकिलों की कीमत तो कार से भी ज्यादा है।

नीदरलैंड साइकिल को बढ़ावा देने में कई यूरोपीय देशों से आगे हैं। इंस्टीट्यूट आॅफ  ट्रांसपोर्ट पॉलिसी एनालिसिस की रिपोर्ट के मुताबिक 2016 में करीब 37 फीसदी लोग छुट्टी के दिनों में साइकिल इस्तेमाल करते थे। जबकि काम पर जाने के लिए सिर्फ 25 फीसदी लोग साइकिल का इस्तेमाल कर रहे थे। ऐसे में नीदरलैंड सरकार साइकिल का इस्तेमाल करने वाले लोगों को टैक्स में छूट भी दे रही है। यहां तक कि नीदरलैंड के प्रधानमंत्री भी चर्चा के विषय बने हुए हैं क्योंकि वो साइकिल से ही संसद जाते हैं। इस देश में रोड एक्सीडेंट ना के बराबर तथा यह अनोखा इसलिए भी कि यहां देश की आबादी से ज्यादा साइकिलें मौजूद हैं।

बढ़ते प्रदूषण के चलते भारत सहित कई देश इलेक्ट्रिक साइकिलें भी बना रहे हैं। हाल ही में पंजाब कृषि विश्वविद्यालय में देश-दुनिया की साइकिल कपंनियों को एक मंच पर जमा किया। इस एक्सपों में देश-विदेश की करीब 170 कंपनियों ने हिस्सा लिया। द एनर्जी एंड रिसोर्सेस इंस्टीट्यूट (टेरी) के एक अध्ययन पर गौर किया जाए तो छोटी दूरी के सफर के लिए अगर दुपहिया या चार पहिया वाहनों के बजाए साइकिल का इस्तेमाल  किया जाए तो इसमें देश की अर्थव्यवस्था को 1.8 खरब रूपए का लाभ होगा। हालांकि उत्तर-प्रदेश सहित कई राज्यों में साइकिल के लिए अलग लेन बनाने की पहल चल रही है। कई राज्य सरकारें साइकलिंग को प्रोत्साहित करने के लिए जागरूकता अभियान चला रही है। दिल्ली जैसे शहरों में किराए की साइकिल की सुविधा भी उपलब्ध की गई है।

जो भी हो पर्यावरण के लिए अति लाभदायक और इसमें कार्बन उत्सर्जन शून्य के बराबर होने के कारण इस शान की सवारी की वापसी सुकुन देने वाली है। एक रोचक बात यह है कि दुनिया की सबसे महंगी साइकिल लंदन ने तैयार की है। 24 कैरेट गोल्ड की इस साइलिक की कीमत 4 करोड़ 20 लाख रखी गई है पर यह सिर्फ प्रदर्शन के काम आएगी।

 - नवीन जैन
 

यह भी पढ़ें:

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

भगवा वाले भाई लोगों का भी कोई जवाब नहीं। जब मन में आए तब ही हर किसी को उपमा दे देते हैं। वे न आगा सोचते है नहीं पीछा। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वाले के ठिकाने पर दांयी तरफ बने एक कमरे में बैठने वाले भाई लोग सिर्फ उपमा देने का ही काम करते हैं।

25/11/2019

पृथ्वी पर जीवन: जरूरी है ओजोन की रक्षा

जलवायु परिवर्तन का सबसे ज्यादा असर ओजोन परत पर पड़ा है जिससे उसके लुप्त होने का खतरा मंडराने लगा है। दरअसल वायुमंडल के ऊपरी हिस्से में लगभग 25 किलोमीटर की ऊंचाई पर फैली ओजोन परत सूर्य की किरणों के खतरनाक अल्ट्रावायलट हिस्से से पृथ्वी के जीवन की रक्षा करती है

16/09/2016

चक्रव्यूह रचने में माहिर अमित शाह

तमाम अंतर्विरोधों और विरोधाभासों के बावजूद भाजपा लगातार दूसरी बार अपने ही बूते पर सरकार बनाने में सफल हुई है, इसके पीछे नरेन्द्र मोदी की करिश्माई शख्सियत की तो सबसे बड़ी भूमिका रही ही लेकिन साथ ही इसमें भाजपा

29/05/2019

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

हर आदमी का देखने का नजरिया अलग-अलग होता है। अगर किसी की भैंगी नजरें हो तो वह तिरछी नजर से देखता है, तो कोई गंदी नजर से देखकर आहें भरता है। कोई अपने बचाव के लिए बंद नजरों से देखता है।

02/09/2019

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

राज ने अपने नुमाइन्दों को इधर-उधर करने का रास्ता क्या खोला, कइयों के गले में हड्डी फंस गई। वो न तो इसे निगल पा रहे और न ही उगल पा रहे। बेचारे सोच-सोच कर दुबले होते जा रहे हैं। और तो और अपना दुख किसी को बता भी नहीं पा रहे।

30/09/2019

महावीर युग फिर से आए

भगवान महावीर की जयन्ती मनाते हुए हमें महावीर बनने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने जीवन भर अनगिनत संघर्षों को झेला, कष्टों को सहा, दुख में से सुख खोजा और गहन तप एवं साधना के बल पर सत्य तक पहुंचे, इसलिए वे हमारे लिए आदर्शों की ऊंची मीनार बन गए।

17/04/2019

मोदी सरकार-2 के पहले 100 दिन एक आकांक्षी भारत का प्रतिबिम्ब

मैं बड़े ही गर्व के साथ अपनी सरकार के प्रथम 100 दिनों के कार्यकलापों पर अपने विचारों को कलमबद्ध कर रही हूं। आम तौर पर यह अवधि अत्यंत्त सुकून भरी होती है। क्योंकि प्रथम 100 दिनों के दौरान न तो सरकार कोई खास सक्रिय रहती है और न ही जनता को यह उम्मीद रहती है कि नई सरकार द्वारा कोई बड़ा निर्णय लेगी।

13/09/2019