Dainik Navajyoti Logo
Sunday 15th of December 2019
 
ओपिनियन

महाराष्ट्र में सरकार को लेकर हवा बाजी

Friday, November 22, 2019 11:05 AM
शरद पवार और उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र का राजनीतिक परिदृश्य दिन प्रतिदिन परिवर्तित होता जा रहा है। चुनाव परिणाम के बाद जैसे-जैसे दिन व्यतीत हो रहे हैं, ठीक वैसे ही सरकार बनाने की प्रक्रिया उलझती जा रही है। राजनीतिक नफा नुकसान की बेहतर समझ रखने वाले राकांपा के शरद पवार शतरंज के माहिर खिलाड़ी की भांति ही अपनी राजनीति करते दिखाई दे रहे हैं। कोई माने या न माने लेकिन यह महाराष्ट्र की राजनीति में सर्वथा स्वीकार करने वाली बात है कि पूरे प्रदेश में शरद पवार की हैसियत वाला दूसरा राजनेता वर्तमान में नहीं है। इसलिए स्वाभाविक रुप से यही कहा जाएगा कि शरद पवार पूरी तरह से ठोक बजाकर ही शिवसेना को समर्थन देंगे। हालांकि कुछ समय पूर्व इस प्रकार का दृश्य दिखाई दे रहा था कि शिवसेना अपना मुख्यमंत्री पूरे पांच साल के लिए बना लेगी, लेकिन अब ऐसा होना असंभव ही दिखाई दे रहा है।

शिवसेना के पाले से मुख्यमंत्री की कुर्सी लगातार खिसकती ही जा रही है, जिससे उसका जल्दी मुख्यमंत्री बनाने का सपना भी धूमिल होता दिखाई देने लगा है। ऐसे में यह भी लग रहा है कि शिवसेना ने सरकार बनाने की जल्दी में अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारने का काम ही किया है। जो देर सवेर उसकी समझ में आएगा ही।शिवसेना इस बात को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त थी कि 17 नवम्बर तक कांग्रेस और राकांपा अपनी ओर से शिवसेना के पक्ष में समर्थन पत्र सौंप देंगे। इसके लिए शिवसेना की ओर से खुले रुप में अपील भी की गई थी, लेकिन यहां शिवसेना की महत्वाकांक्षा उस समय काफूर हो गई, जब इन दोनों की ओर से किसी भी प्रकार की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। समझा जा रहा है कि इस बेमेल गठबंधन में अगर कोई बात आड़े आ रही है, तो वह वैचारिक असमानता ही है।

जाहिर है कि शिवसेना बाला साहेब ठाकरे के समय से ही हिन्दुत्व को केन्द्र मानकर अपनी राजनीति करती आई है। अब ऐसा लग रहा है कि शिवसेना की यही छवि उसकी सरकार बनाने की राह का रोड़ा बन रही है। ऐसे में शिवसेना अगर अपने सिद्धांतों का त्याग करती है तो स्वाभाविक रुप से यही कहा जाएगा कि शिवसेना को सत्ता मोह हो गया है। उल्लेखनीय है कि मोह कोई भी हो, वह खतरनाक ही होता है। इस मोह के चलते शिवसेना के सामने महाराष्ट्र की राजनीति में लगातार भ्रम की स्थिति निर्मित होती जा रही है। कांग्रेस और राकांपा तेल देखो और तेल की धार देखो, वाली उक्ति को ही चरितार्थ कर रहे हैं। यह दोनों दल यह समझ चुके हैं कि शिवसेना येनकेन प्रकारेण अपना मुख्यमंत्री बनाने की ही राजनीति करने पर उतारु हो गई है। ऐसे में यह भी कहा जा रहा है कि राकांपा और कांग्रेस की ओर से एक बड़ी राजनीतिक चाल भी चली गई है, वह यही कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को कमजोर किया जाए। जिसके लिए उन्होंने शिवसेना को राजग से दूर होने की भी राजनीति की है। हालांकि केन्द्र की मोदी सरकार में शिवसेना के एक मात्र मंत्री के रुप में शामिल रहे अरविन्द सावंत से यह कहकर त्याग पत्र दिलवा दिया कि शिवसेना अब राजग का हिस्सा नहीं है, लेकिन राकांपा की ओर से कहा जा रहा है कि शिवसेना की ओर से इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। ऐसा सवाल इसलिए भी उठ रहा है, क्योंकि अभी हाल ही में शिवसेना की ओर से ही ऐसा सवाल उठाया गया है कि शिवसेना को राजग से निकालने वाली भाजपा कौन होती है। इसका आशय यही निकाला जा रहा है कि शिवसेना खुद अभी अपने आपको राजग का हिस्सा ही मान रही है।

वर्तमान में महाराष्ट्र की राजनीति में जिस प्रकार की ऊहापोह की स्थिति बनी है, उसको देखकर यही लग रहा है कि कांग्रेस और राकांपा दोनों ही दल शिवसेना के विचार से भिन्न विचार रखते हैं, इसलिए शिवसेना पर एकाएक विश्वास करना टेड़ी खीर ही साबित हो रहा है। वहीं दूसरी तरफ यह भी दिखाई दे रहा है कि शिवसेना के विधायक भी इन दोनों दलों पर पूरा भरोसा करने की स्थिति में नहीं दिख रहे हैं। भाजपा से अलग होकर शिवसेना को जो सावधानी बरतनी चाहिए थी, वह उसकी तरफ से नहीं बरती जा रही है। कमोबेश ऐसा ही लग रहा है कि शिवसेना के सभी विधायक अपने नेतृत्व के निर्णय के साथ नहीं हैं। शिवसेना के कई विधायक अपनी हिन्दुत्व की छवि को अलग करना नहीं चाहते। इसलिए अब शिवसेना के समक्ष लगभग ऐसी स्थिति निर्मित होती जा रही है जिसमें एक तरफ कुआं तो दूसरी तरफ खाई है।

राकांपा और कांग्रेस की तरफ से समर्थन की स्थिति साफ नहीं होने के बाद अब तो यह भी कहा जाने लगा है कि हो सकता है महाराष्ट्र में फिर से पांच साल पहले की स्थिति ही निर्मित हो जाए। ऐसा इसलिए भी कहा जाने लगा है कि शिवसेना के अधिकांश विधायक भाजपा के साथ ही सरकार बनाने की मानसिकता रखते हैं। राजनीतिक दृष्टिकोण से शिवसेना के लिए यही ठीक माना जा रहा है। वहीं राजग के एक घटक दल के नेता रामदास आठवले ने यह कहकर इस बात को हवा दी है कि भाजपा तीन वर्ष और शिवसेना दो वर्ष अपना मुख्यमंत्री बनाए, लेकिन इस प्रस्ताव पर भाजपा और शिवसेना दोनों दल किस प्रकार तैयार होते हैं, यह पता नहीं है। लेकिन यह संभव लग रहा है।        
सुरेश हिन्दुस्थानी (ये लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

नोटा के लिए विकल्प की सार्थकता

हाल में देश के सर्वोच्च न्यायालय के सम्मुख एक याचिका प्रस्तुत की गई थी कि यदि ‘नोटा’ को, जीतने वाले प्रत्याशी से अधिक मत मिलें तो उस चुनाव को निरस्त कर देना चाहिए।

15/04/2019

बंगाल में राष्ट्रपति शासन के हालात

बंगाल में यह भी दिखाई दे रहा है कि वहां की जनता जय श्रीराम का नारा लगाकर ममता बनर्जी को चिढ़ा रही है। सवाल यह है कि जब स्वयं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी देश के आराध्य भगवान राम के नाम से चिढ़ रही हैं, तब आम कार्यकर्ता कैसा सोच रखता होगा, यह समझा जा सकता है।

21/06/2019

महिला सशक्तिकरण की अनिवार्यता

स्त्री और पुरूष के बीच समानता का सिद्धान्त भारत के संविधान की प्रस्तावना में मौलिक अधिकार राज्य के कर्तव्य तथा नीति निर्देशक सिद्धांतों में अन्तर्निहित है।

21/05/2019

नीयति बन चुकी है दिल्ली की जहरीली हवा

देश की राजधानी दिल्ली के लोग आजकल जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर हैं। मौजूदा हालात इस बात के जीते जागते सबूत हैं। ऐसा लगता है कि जहरीली हवा में सांस लेना उनकी नियति बन चुका है।

21/10/2019

अमेरिकी प्रतिबंधों से निपटने की चुनौती

भारत ने अमेरिका की इच्छा के विपरीत उस समय ही समझौता किया था। अमेरिका को भी साफ कर दिया गया था कि जो समझौता हो गया उसका हम पालन करेंगे।

16/05/2019

केन्द्र की सत्ता से अब भी दूर क्यों है राजस्थान

किसी भी प्रदेश के विकास में उसके सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक ढांचे की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। लेकिन इन सबकी संरचना और सुरक्षा शासन-प्रशासन के योगदान तथा राजनीतिक परिवेश पर काफी हद तक निर्भर करती है।

04/05/2019

इस तरह कब तक लड़ेंगे ?

साल में 365 दिन कोई न कोई दिवस मनाने और अभियान चलाने की हमारी आदत पड़ गई है और व्रत, त्यौहार, पर्व की झांकियां सजाने की कोई भी परम्परा अब हमारा पीछा नहीं छोड़ रही है।

01/11/2019