Dainik Navajyoti Logo
Thursday 13th of May 2021
 
ओपिनियन

जानें राज काज में क्या है खास

Monday, December 02, 2019 11:55 AM
किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है।

किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है। अब देखो ना, सूबे की सबसे बड़ी पंचायत में शुक्र को जोधपुर वाले अशोक जी भाईसाहब के मुंह से नाथद्वारा वाले प्रोफेसर साहब को मुख्यमंत्री बोलने को लेकर जो बात निकली, उसके कई मायने निकाले जा रहे हैं। मौके की नजाकत को भांप कर भाईसाहब ने अपनी जादूगरी दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आखिरकार भाईसाहब ने भी अपना मुंह खोल ही दिया कि मेरी जुबान से निकली बात सही भी हो सकती है। अब पीसीसी में ठाले बैठे भाई लोग अपने-अपने हिसाब से मायने निकाल रहे हैं।

राज वालो पर नहीं विश्वास
राज का काज करने वालों का कोई सानी नहीं है। हर बात को घुमाने में माहिर इन भाई लोगों की एक बानगी ने राज करने वालों को भी जता दिया है कि ऐसा-वैसा चलने वाला नहीं है। दरबार के एक रत्न ने विदेश की हवा खाने का सपना देखा और पासपोर्ट के लिए अपने विभाग का काज करने वाले सचिव को सत्यापन प्रमाण पत्र बनाने का हुक्म दे डाला।

आदिवासी इलाके से ताल्लुक रखने वाले रत्न को जवाब मिला कि ये काम जीएडी का है। वहां पहुंचे रत्न को यह कहकर टरका दिया कि यहां तो सिर्फ एनओसी मिलती है। राज करने वालों की लंच केबिन में चर्चा है कि बैठे ठाले कौन मुसीबत मोल ले, पता नहीं दफा 129 का ही मामला पैण्डिंग हो।

अब नंबर में कौन
पहले सूबे का और अब शहरों की सरकार का चुनाव हार चुकी भगवा पार्टी के लोग आॅक्सीजन की तलाश में हैं। वेंटिलेटर तक पहुंच चुकी पार्टी के लिए अब संजीवनी बूटी से कम नहीं है। उसे लाने के लिए हनुमानजी की तलाश है। अनुशासन की दुहाई की आड़ में पार्टी की इस हालत के लिए किसी न किसी को जिम्मेदार भी ठहराया गया है। हर बार हार ने किसी न किसी की बलि ली है। पहले मैडम और बाद में आमेर वाले पूनिया जी। अब किसका नंबर है? इस बार सूची काफी लंबी बताई गई है।

पर्ची का कमाल
शहरों में बल्ले होने के बाद कांग्रेसी भाईयों की हौसलों की उड़ान थम नहीं रही है। हर एक नेता की महत्वाकांक्षा कम होने का नाम ही नहीं ले रही। छोटे पायलट के उत्तराधिकारी के लिए भी जोड़ तोड़ करने वाले भाई लोग दिल्ली में मैडम के दरबार तक में मत्था टेक आए। कुछ भाई लोगों ने मैडम के सामने जूनियर जोशी और किसान के बेटे डॉक्टर साहब के नाम भी परोस दिए। मैडम कुछ फैसला करती, इससे पहले एक और पर्ची थमा दी गई। पर्ची का असर भी जोरदार रहा। पर्ची में केवल यह लिखा था कि यह कैसी कांग्रेस है कि राजस्थान में साठ साल के बाद भी दलित और अल्पसंख्यक तबके के लोग संगठन की कुर्सी तक नहीं पहुंच पाएं।

एक जुमला यह भी
इन दिनों राजधानी के सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर एक चर्चा जोरों पर है। ठिकाने पर रोजाना आने वाले कार्यकर्ता आपसी संवाद में कबूल करते हैं कि बिना स्ट्रोंग लीडरशिप के मतदाता वोट नहीं डालता। शहरों की सरकार की जंग में भी मतदाता की मंशा तो पक्ष में थी, लेकिन लीडरशिप का मैसेज नहीं दिया जा सका। पार्टी भी विपक्ष की हैसियत से वोट नहीं लेना चाहती। सूबे की सरकार और शहरी सरकारों के चुनावों की हार का प्रमुख कारण भी लीडरशिप ही है।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

निरंतर बढ़ती भाजपा की प्रासंगिकता

प्राय: इस देश के लोगों को वर्षों से राजनीतिक भ्रष्टाचार, दुराचार तथा अत्याचार झेलते रहने के कारण सब कुछ भूलने की आदत रही है। इस दुखांत त्रासदी में लोगों ने इतने वर्षों से भ्रष्टाचार के दलदल में फंसी राष्ट्रीय राजनीति के कर्ताधर्ताओं से उनकी राजनीतिक गंदगी का हिसाब पूछना ही बंद कर दिया था।

12/04/2019

प्रोन्नति में आरक्षण पर न्याय या राजनीति

वोट बैंक की राजनीति के लिए देश की सरकारी सेवाओं को आरक्षण या प्रोन्नति में आरक्षण के सहारे आधुनिक जन-जीवन के विभिन्न कार्यों के अनुरूप सिद्धहस्त बनाया जा सकता है क्या। सुप्रीम कोर्ट ने आरक्षण की विसंगतियों और इस कारण संस्थाओं की सेवा गुणवत्ता में आ रही कमी को ध्यान में रखकर एक टिप्पणी ही तो की है।

17/02/2020

फारूक की गिरफ्तारी के मायने

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला को जन सुरक्षा कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। ऐसे वक्त में जब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद लगाई गई पाबंदियों से जुड़े सवालों पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रही थी, नेशनल कानफ्रेंस के सुप्रीमो फारूक अब्दुल्ला को हिरासत में लिए जाने की खबर आई।

30/09/2019

भारतीय अर्थव्यवस्था की दशा और दिशा

वर्ष 2019-2020 में भारतीय अर्थतंत्र के साथ- साथ विश्व अर्थव्यवस्था के लिए गहरा संकट लेकर उभरा है। इसमें कोई संदेह नहीं कि विभिन्न आर्थिक क्षेत्र मंदी की मार झेल रहा है और उन्हें मदद की दरकार है। सरकार पर विभिन्न क्षेत्रों की जरूरतों के अनुरूप कार्य की घोषणा करने का दबाव है।

20/09/2019

जानिए राजकाज में क्या है खास?

सूबे में इन दिनों गुगली को लेकर काफी चर्चा है। गुगली भी और किसी की नहीं, बल्कि मैच के रेफरी बने अजय जी की तरफ से फैंकी बॉल है। इस गुगली से राज की कुर्सी के सपने देखने वाले भाइयों का दिन का चैन और रातों की नींद उड़े बिना नहीं रह सकी। स्टम्प पर खड़े सामने वाली टीम के कैप्टन के समझ में नहीं आ रहा कि आखिर माजरा क्या है।

08/02/2021

जनकल्याण योजनाओं की भी हो सोशल ऑडिट

राज्य और केन्द्र सरकार जनता के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलाती है। इन योजनाओं को चलाने का उद्देश्य यहीं होता है कि इनका लाभ जनता को मिले। कई बार सरकार द्वारा चलाई जा रही सामाजिक परियोजनाओं की जानकारी ना तो जनता तक पहुंच पाती है और ना ही सरकार को इस बात की जानकारी मिल पाती है कि करोड़ों रुपए की लागत से शुरू की गई योजनाओं का पूरा लाभ जनता को मिल भी रहा है या नहीं।

26/11/2019

साहस शक्ति की प्रतीक श्रीमती इन्दिरा गांधी

पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी ने अपनी पुस्तक ‘मेरी संसदीय यात्रा’ में लिखा है ‘ बंगलादेश निर्माण में इन्दिरा जी की भूमिका सदैव ही सराही जाएगी।

19/11/2019