Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
ओपिनियन

जानें राज काज में क्या है खास

Monday, December 02, 2019 11:55 AM
किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है।

किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है। अब देखो ना, सूबे की सबसे बड़ी पंचायत में शुक्र को जोधपुर वाले अशोक जी भाईसाहब के मुंह से नाथद्वारा वाले प्रोफेसर साहब को मुख्यमंत्री बोलने को लेकर जो बात निकली, उसके कई मायने निकाले जा रहे हैं। मौके की नजाकत को भांप कर भाईसाहब ने अपनी जादूगरी दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आखिरकार भाईसाहब ने भी अपना मुंह खोल ही दिया कि मेरी जुबान से निकली बात सही भी हो सकती है। अब पीसीसी में ठाले बैठे भाई लोग अपने-अपने हिसाब से मायने निकाल रहे हैं।

राज वालो पर नहीं विश्वास
राज का काज करने वालों का कोई सानी नहीं है। हर बात को घुमाने में माहिर इन भाई लोगों की एक बानगी ने राज करने वालों को भी जता दिया है कि ऐसा-वैसा चलने वाला नहीं है। दरबार के एक रत्न ने विदेश की हवा खाने का सपना देखा और पासपोर्ट के लिए अपने विभाग का काज करने वाले सचिव को सत्यापन प्रमाण पत्र बनाने का हुक्म दे डाला।

आदिवासी इलाके से ताल्लुक रखने वाले रत्न को जवाब मिला कि ये काम जीएडी का है। वहां पहुंचे रत्न को यह कहकर टरका दिया कि यहां तो सिर्फ एनओसी मिलती है। राज करने वालों की लंच केबिन में चर्चा है कि बैठे ठाले कौन मुसीबत मोल ले, पता नहीं दफा 129 का ही मामला पैण्डिंग हो।

अब नंबर में कौन
पहले सूबे का और अब शहरों की सरकार का चुनाव हार चुकी भगवा पार्टी के लोग आॅक्सीजन की तलाश में हैं। वेंटिलेटर तक पहुंच चुकी पार्टी के लिए अब संजीवनी बूटी से कम नहीं है। उसे लाने के लिए हनुमानजी की तलाश है। अनुशासन की दुहाई की आड़ में पार्टी की इस हालत के लिए किसी न किसी को जिम्मेदार भी ठहराया गया है। हर बार हार ने किसी न किसी की बलि ली है। पहले मैडम और बाद में आमेर वाले पूनिया जी। अब किसका नंबर है? इस बार सूची काफी लंबी बताई गई है।

पर्ची का कमाल
शहरों में बल्ले होने के बाद कांग्रेसी भाईयों की हौसलों की उड़ान थम नहीं रही है। हर एक नेता की महत्वाकांक्षा कम होने का नाम ही नहीं ले रही। छोटे पायलट के उत्तराधिकारी के लिए भी जोड़ तोड़ करने वाले भाई लोग दिल्ली में मैडम के दरबार तक में मत्था टेक आए। कुछ भाई लोगों ने मैडम के सामने जूनियर जोशी और किसान के बेटे डॉक्टर साहब के नाम भी परोस दिए। मैडम कुछ फैसला करती, इससे पहले एक और पर्ची थमा दी गई। पर्ची का असर भी जोरदार रहा। पर्ची में केवल यह लिखा था कि यह कैसी कांग्रेस है कि राजस्थान में साठ साल के बाद भी दलित और अल्पसंख्यक तबके के लोग संगठन की कुर्सी तक नहीं पहुंच पाएं।

एक जुमला यह भी
इन दिनों राजधानी के सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर एक चर्चा जोरों पर है। ठिकाने पर रोजाना आने वाले कार्यकर्ता आपसी संवाद में कबूल करते हैं कि बिना स्ट्रोंग लीडरशिप के मतदाता वोट नहीं डालता। शहरों की सरकार की जंग में भी मतदाता की मंशा तो पक्ष में थी, लेकिन लीडरशिप का मैसेज नहीं दिया जा सका। पार्टी भी विपक्ष की हैसियत से वोट नहीं लेना चाहती। सूबे की सरकार और शहरी सरकारों के चुनावों की हार का प्रमुख कारण भी लीडरशिप ही है।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

ब्रिक्स : आपसी हितों का प्रभावी मंच

वैश्विक स्तर पर वित्तीय मामलों में परामर्श देने वाली संस्था गोल्डमैन शश के प्रमुख कार्यकारी निदेशक जिम-ओ-नील ने 2001 में अपने एक लेख में लिखा था कि ब्राजील, रूस, भारत और चीन (बीआरआईसी) की अर्थव्यवस्था इतनी मजबूत होगी कि साल 2050 तक यह देश दुनिया के आर्थिक ढांचे का निर्धारण करते दिखेंगें।

15/11/2019

जानिए राज काज में क्या है खास

हाथ वाली पार्टी में वेटिंग इन पी.एम. और पार्टी के युवराज का पगफेरा इस बार भी रास नहीं आया। जहां-जहां उनके पैर पड़े, वहां-वहां पार्टी को हार का सामना करना पड़ा।

27/05/2019

कर्नाटक : मध्यावधि चुनाव की बढ़ती संभावनाएं

कर्नाटक में येद्दियुरप्पा के नेतृत्व में बनी बीजेपी सरकार को फिलहाल केवल एक माह से कुछ अधिक समय हुआ है। लेकिन अभी से इसमें सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है। विपक्षी दल कांग्रेस और जनता दल (स) के नेता खुले तौर पर और बार-बार कह रहे हैं कि यह सरकार अधिक दिन नहीं चलने वाली, इसलिए उन्होंने अभी से मध्यावधि चुनावों की तैयारियां शुरू कर दी है।

02/09/2019

जजों का सुनवाई से अलग होना हैरानी भरा

एक-एक कर पांच जजों ने खुद को चर्चित गौतम नवलखा के मामले से अलग कर लिया। कम से कम देश की सर्वोच्च अदालत के जजों का बिना कारण बताए अलग होना सबके लिए हैरानी से भरे होने के साथ अपने आप में एकदम अलग मामला बन गया है।

10/10/2019

चुनाव को सरकारी अनुदान दीजिए

एनडी की भारी जीत ने हमारी चुनावी व्यवस्था में पार्टियों के वर्चस्व को एक बार फिर स्थापित किया है। विशेष यह की चुनाव में जनता के मुद्दे पीछे और व्यक्तिगत मुद्दे आगे थे।

27/05/2019

फिर भी राजस्थान बदल रहा है!

राजस्थान में विकास और परिवर्तन का कुछ ऐसा उत्साह दिखाई देता है कि चारों तरफ तरह-तरह के अधिकार मांगने वाले समूह गांव-गांव तक सक्रिय हैं। हम राजस्थान को भी भारत का एक विकासशील प्रदेश ही कह सकते हैं। यहां पिछले 70 साल में सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक क्षेत्र का महत्वपूर्ण विकास भी हुआ है, लेकिन हम अभी ये नहीं कह सकते कि हमारे यहां सब कुछ ठीक है और हमारे सभी सपने पूरे हो गए हैं।

17/10/2019

चक्रव्यूह रचने में माहिर अमित शाह

तमाम अंतर्विरोधों और विरोधाभासों के बावजूद भाजपा लगातार दूसरी बार अपने ही बूते पर सरकार बनाने में सफल हुई है, इसके पीछे नरेन्द्र मोदी की करिश्माई शख्सियत की तो सबसे बड़ी भूमिका रही ही लेकिन साथ ही इसमें भाजपा

29/05/2019