Dainik Navajyoti Logo
Sunday 15th of December 2019
 
ओपिनियन

जानें राज काज में क्या है खास

Monday, December 02, 2019 11:55 AM
किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है।

किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है। अब देखो ना, सूबे की सबसे बड़ी पंचायत में शुक्र को जोधपुर वाले अशोक जी भाईसाहब के मुंह से नाथद्वारा वाले प्रोफेसर साहब को मुख्यमंत्री बोलने को लेकर जो बात निकली, उसके कई मायने निकाले जा रहे हैं। मौके की नजाकत को भांप कर भाईसाहब ने अपनी जादूगरी दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आखिरकार भाईसाहब ने भी अपना मुंह खोल ही दिया कि मेरी जुबान से निकली बात सही भी हो सकती है। अब पीसीसी में ठाले बैठे भाई लोग अपने-अपने हिसाब से मायने निकाल रहे हैं।

राज वालो पर नहीं विश्वास
राज का काज करने वालों का कोई सानी नहीं है। हर बात को घुमाने में माहिर इन भाई लोगों की एक बानगी ने राज करने वालों को भी जता दिया है कि ऐसा-वैसा चलने वाला नहीं है। दरबार के एक रत्न ने विदेश की हवा खाने का सपना देखा और पासपोर्ट के लिए अपने विभाग का काज करने वाले सचिव को सत्यापन प्रमाण पत्र बनाने का हुक्म दे डाला।

आदिवासी इलाके से ताल्लुक रखने वाले रत्न को जवाब मिला कि ये काम जीएडी का है। वहां पहुंचे रत्न को यह कहकर टरका दिया कि यहां तो सिर्फ एनओसी मिलती है। राज करने वालों की लंच केबिन में चर्चा है कि बैठे ठाले कौन मुसीबत मोल ले, पता नहीं दफा 129 का ही मामला पैण्डिंग हो।

अब नंबर में कौन
पहले सूबे का और अब शहरों की सरकार का चुनाव हार चुकी भगवा पार्टी के लोग आॅक्सीजन की तलाश में हैं। वेंटिलेटर तक पहुंच चुकी पार्टी के लिए अब संजीवनी बूटी से कम नहीं है। उसे लाने के लिए हनुमानजी की तलाश है। अनुशासन की दुहाई की आड़ में पार्टी की इस हालत के लिए किसी न किसी को जिम्मेदार भी ठहराया गया है। हर बार हार ने किसी न किसी की बलि ली है। पहले मैडम और बाद में आमेर वाले पूनिया जी। अब किसका नंबर है? इस बार सूची काफी लंबी बताई गई है।

पर्ची का कमाल
शहरों में बल्ले होने के बाद कांग्रेसी भाईयों की हौसलों की उड़ान थम नहीं रही है। हर एक नेता की महत्वाकांक्षा कम होने का नाम ही नहीं ले रही। छोटे पायलट के उत्तराधिकारी के लिए भी जोड़ तोड़ करने वाले भाई लोग दिल्ली में मैडम के दरबार तक में मत्था टेक आए। कुछ भाई लोगों ने मैडम के सामने जूनियर जोशी और किसान के बेटे डॉक्टर साहब के नाम भी परोस दिए। मैडम कुछ फैसला करती, इससे पहले एक और पर्ची थमा दी गई। पर्ची का असर भी जोरदार रहा। पर्ची में केवल यह लिखा था कि यह कैसी कांग्रेस है कि राजस्थान में साठ साल के बाद भी दलित और अल्पसंख्यक तबके के लोग संगठन की कुर्सी तक नहीं पहुंच पाएं।

एक जुमला यह भी
इन दिनों राजधानी के सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर एक चर्चा जोरों पर है। ठिकाने पर रोजाना आने वाले कार्यकर्ता आपसी संवाद में कबूल करते हैं कि बिना स्ट्रोंग लीडरशिप के मतदाता वोट नहीं डालता। शहरों की सरकार की जंग में भी मतदाता की मंशा तो पक्ष में थी, लेकिन लीडरशिप का मैसेज नहीं दिया जा सका। पार्टी भी विपक्ष की हैसियत से वोट नहीं लेना चाहती। सूबे की सरकार और शहरी सरकारों के चुनावों की हार का प्रमुख कारण भी लीडरशिप ही है।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

भयावह आतंकी हमले से उपजे सवाल

गत रविवार को श्रीलंका में एक प्रसिद्ध चर्च में आतंकवादियों ने हमला कर 300 से अधिक लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इस हमले में 1000 से अधिक लोग घायल हैं

27/04/2019

युद्ध की शांति है तो आजादी ही गुलामी है?

आज के नए भारत को समझने के लिए हम लोगों को जॉर्ज औरवैल का, अंग्र्रेजी भाषा में लिखा उपन्यास 1984 एक बार जरूर पढ़ना चाहिए, क्योंकि अब हमारा लोकतंत्र, संविधान और आजादी एक-ऐसी प्रयोगशाला में बदल गए हैं जहां हर डॉक्टर जनता को किसी विकास और परिवर्तन की खोज में किसी मेंढक, चूहे, छिपकली, बंदर और मुर्दा शरीर की तरह इस्तेमाल कर रहा है।

21/11/2019

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

सूबे की ब्यूरोक्रेसी में तीन दिन से एक चर्चा जोरों पर है। चर्चा भी किसी बड़े आदमी को लेकर नहीं, बल्कि एक मातहत महिला अधिकारी को लेकर है।

08/07/2019

भारत के चुनाव और विदेशी मीडिया

भारत के लोकसभा के आम चुनाव पर सारे संसार की नजरे टिकी हुई हैं। संसार के सभी प्रमुख समाचारपत्र इस चुनाव का विश्लेषण कर रहे हैं।

10/05/2019

महिलाओं के लिए घटते श्रम के अवसर

भारत सरकार द्वारा समय-समय पर श्रमिकों का सर्वेक्षण कराया जाता है। 2018 के सर्वेक्षण में पाया गया की केवल 23 प्रतिशत महिलाएं ही कार्यरत हैं। इससे पूर्व यह संख्या अधिक थी। 2012 में 31 प्रतिशत एवं 2005 में 43 प्रतिशत महिलाएं कार्यरत थीं।

10/09/2019

संघ पर फिर बरसे राहुल गांधी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के बारे में दिए गए अपने बयान पर वे अडिग हैं।

25/08/2016

बुद्ध हैं धर्मक्रांति के सूत्रधार

मषहापुरुषों की कीर्ति किसी एक युग तक सीमित नहीं रहती। उनका लोकहितकारी चिन्तन एवं कर्म कालजयी, सार्वभौमिक, सार्वकालिक एवं सार्वदैशिक होता है

18/05/2019