Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 12th of August 2020
 
ओपिनियन

राज काज में देखें क्या है खास

Monday, January 13, 2020 11:40 AM
कॉन्सेप्ट फोटो

इन दिनों एक चौकड़ी को लेकर चर्चा जोरों पर है। हाथ वालों के साथ भगवा वालों की नजरें भी इस चौकड़ी पर टिकी है। चौकड़ी में शामिल भाई लोग भी कम नहीं है। सूबे के चुनावों में हाथी पर सवार हो सबसे बड़ी पंचायत की चौखट तक पहुंचे थे, लेकिन अब हाथ से हाथ मिलाकर उसके साथ ही जीने और मरने की कसमें खा ली हैं। चौकड़ी किसी एक इलाके से नहीं, बल्कि शेखावाटी के उदयपुरवाटी के साथ करौली, तिजारा और नगर से ताल्लुकात रखती है।

राज का काज करने वालों में चर्चा है कि चौकड़ी को देख कमल वालों पर नहीं, बल्कि हाथ वाले भाई लोगों के चेहरों पर सलवटें साफ दिखाई देती हैं। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकानेदार तो उनसे हाथ मिलाने के बजाय हाथ जोड़ने में ही अपनी भलाई समझते हैं।

कमल वालों का संकट
मरु प्रदेश में इन दिनों सबसे ज्यादा संकट में कमल वाले भाई लोग हैं। हाथ वाले अशोक भाई के तुरुप के पत्ते को वे न तो निगल पा रहे हैं और न ही उगल पा रहे हैं। किसी के सामने खुल कर जुबान भी नहीं खोल पा रहे। और तो और खुद की जाजम पर भी एक साथ बैठने से पहले अगल-बगल वालों को घूर कर देख रहे है। अब देखो ना सदर के बाद भी जहाज हवा में हिचकोले लेते नजर आ रहा है। सदर भी कुछ ज्यादा ही युवा नजर आने की कोशिश में जुटे हैं, जिनका मन पिंकसिटी में ही रमता है। अब कमल वालों को कौन समझाए कि गांवों की सरकार के चुनावों में ज्यादा सफलता दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही है। यदि ऐसा हुआ, तो पार्टी एक बार फिर अपनी हार के मुहाने पर खड़ी दिख रही है।

अच्छा और बुरा दौर
इन दिनों सूबे में अच्छे-बुरे दौर को लेकर बहस छिड़ना शुरू हो गई। बहस करने वाले न कोई समय देख रहे और न ही स्थान।  सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा के ठिकाने के साथ ही भारती भवन भी इससे अछूता नहीं है। राज का काज करने वाले भी आधे से ज्यादा वक्त बहस में गुजार रहे हैं। बहस इस बात की है कि इस समय अच्छा दौर किसका चल रहा है। बड़ी चौपड़ से लेकर इंदिरा गांधी भवन तक बहस छिड़ी है कि मामला इन फेवर आॅफ अशोकजी एण्ड अगेंस्ट सैकण्ड लीडर है, बीच में किसी का कोई लेना देना नहीं है। जो सैकण्ड लीडर के पक्ष में है, वो सबके पास जाएंगे और जो जोधपुर वाले अशोकजी के फेवर में है, वो कहीं नहीं जाएंगे। अब उनको कौन कहे कि समझने वाले समझ गए, ना समझे वो अनाड़ी हैं।

दिल्ली से दिल्लगी
राज का काज करने वाले कई साहबों को अचानक दिल्ली से दिल्लगी हो गई, जबसे उनका दिल दिल्ली पर आया है, तब से दिन का चैन और रातों की नींद गायब हो गई। सूबे के एक दर्जन से ज्यादा बड़े साहबों को दिल्ली से प्रेम हो गया। वह दिल्ली के लिए हाथ पैर भी मारने के साथ जोड़-तोड़ भी बिठा रहे हैं। हमने भी पता लगाया तो माजरा समझ में आया कि कई बड़े साहब किसी न किसी बहाने अभी सूबे के राज से दूर और नमो मंडली से नजदीकियां बनाने के जुगाड़ में हैं। इसके लिए दिल्ली सबसे बढ़िया जगह है। अभी डेपुटेशन करा कर दिल्ली में बैठो और नमो मंडली से मेल मुलाकात करो। बाद में वापस आकर मनमाफिक कुर्सी के मजे लो।

एक जुमला यह भी
इंदिरा गांधी भवन में बने पीसीसी के ठिकाने पर इन दिनों एक जुमला जोरों पर है। जुमला भी छोटा-मोटा नहीं बल्कि एकजुटता के मंत्र को लेकर है। राज के मुखिया मंत्र को सुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे, मगर उसका कोई असर नहीं दिख रहा। दो गुटों में बंटी सूबे की कांग्रेस के नेता अपनी-अपनी ढपली और अपना अपना राग अलाप रहे हैं। दोनों गुटों के झण्डे सिविल लाइन्स में लहराते हैं। झण्डों के फेर में फंसे हाथ वाले भाई लोगों को चिंता सता रही है कि मकर संक्रांति को दूसरों की पतंग की डोर काटने के चक्कर में एकजुटता का मंत्र कहीं दूर की कोड़ी साबित नहीं हो जाए।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)
 

यह भी पढ़ें:

मंदी तोड़ने के उपाय

भारतीय अर्थव्यवस्था पर संकट के बादल छंटते नहीं दिख रहे हैं। तमाम संस्थाओं का अनुमान है कि वर्तमान आर्थिक विकास दर चार से पांच प्रतिशत के बीच रहेगी

19/11/2019

राजनीति में अपराधीकरण

देश की राजनीति को अपराधीकरण से मुक्त करने के लिए अपराधी राजनेताओं का राजनीति में भाग लेने पर संपूर्ण प्रतिबंध लगाना बहुत जरूरी है।

04/02/2020

विकास और सद्भाव में क्यों राजनीति

हम ज्ञान-विज्ञान की चक्की में कुछ इस तरह पिस रहे हैं कि शासन का राजपथ तो अहंकार से गरज रहा है, लेकिन जनपथ की जनता तमाशबीन हो गई है।

13/02/2020

रणनीतिक हिन्दुत्व की राजनीति सफल

अरविन्द केजरीवाल में वैचारिक गहराई का हमेशा अभाव रहा है, लेकिन राजनीतिक रणनीति एवं अभिनय के मामले में उनका लोहा मानना होगा।

19/02/2020

जनकल्याण योजनाओं की भी हो सोशल ऑडिट

राज्य और केन्द्र सरकार जनता के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलाती है। इन योजनाओं को चलाने का उद्देश्य यहीं होता है कि इनका लाभ जनता को मिले। कई बार सरकार द्वारा चलाई जा रही सामाजिक परियोजनाओं की जानकारी ना तो जनता तक पहुंच पाती है और ना ही सरकार को इस बात की जानकारी मिल पाती है कि करोड़ों रुपए की लागत से शुरू की गई योजनाओं का पूरा लाभ जनता को मिल भी रहा है या नहीं।

26/11/2019

कर्नाटक में फिर राजनैतिक अस्थिरता का दौर

कर्नाटक में दल-दल बदलुओं के समर्थन से बनी येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली चार महीने पुरानी बीजेपी सरकार के वर्चस्व के लिए आगामी 5 दिसम्बर को होने वाले विधानसभा के 15 उप चुनाव एक चुनौती हैं। अगर बीजेपी इनमें से आधी सीटें भी जीत गई तो वह सत्ता में बने रहने में सफल होगी नहीं तो राज्य में एक बार फिर राजनीतिक अस्थिरता का दौर आरंभ हो जाएगा।

18/11/2019

भयावह आतंकी हमले से उपजे सवाल

गत रविवार को श्रीलंका में एक प्रसिद्ध चर्च में आतंकवादियों ने हमला कर 300 से अधिक लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इस हमले में 1000 से अधिक लोग घायल हैं

27/04/2019