Dainik Navajyoti Logo
Monday 19th of April 2021
 
ओपिनियन

राज काज में देखें क्या है खास

Monday, January 13, 2020 11:40 AM
कॉन्सेप्ट फोटो

इन दिनों एक चौकड़ी को लेकर चर्चा जोरों पर है। हाथ वालों के साथ भगवा वालों की नजरें भी इस चौकड़ी पर टिकी है। चौकड़ी में शामिल भाई लोग भी कम नहीं है। सूबे के चुनावों में हाथी पर सवार हो सबसे बड़ी पंचायत की चौखट तक पहुंचे थे, लेकिन अब हाथ से हाथ मिलाकर उसके साथ ही जीने और मरने की कसमें खा ली हैं। चौकड़ी किसी एक इलाके से नहीं, बल्कि शेखावाटी के उदयपुरवाटी के साथ करौली, तिजारा और नगर से ताल्लुकात रखती है।

राज का काज करने वालों में चर्चा है कि चौकड़ी को देख कमल वालों पर नहीं, बल्कि हाथ वाले भाई लोगों के चेहरों पर सलवटें साफ दिखाई देती हैं। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकानेदार तो उनसे हाथ मिलाने के बजाय हाथ जोड़ने में ही अपनी भलाई समझते हैं।

कमल वालों का संकट
मरु प्रदेश में इन दिनों सबसे ज्यादा संकट में कमल वाले भाई लोग हैं। हाथ वाले अशोक भाई के तुरुप के पत्ते को वे न तो निगल पा रहे हैं और न ही उगल पा रहे हैं। किसी के सामने खुल कर जुबान भी नहीं खोल पा रहे। और तो और खुद की जाजम पर भी एक साथ बैठने से पहले अगल-बगल वालों को घूर कर देख रहे है। अब देखो ना सदर के बाद भी जहाज हवा में हिचकोले लेते नजर आ रहा है। सदर भी कुछ ज्यादा ही युवा नजर आने की कोशिश में जुटे हैं, जिनका मन पिंकसिटी में ही रमता है। अब कमल वालों को कौन समझाए कि गांवों की सरकार के चुनावों में ज्यादा सफलता दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही है। यदि ऐसा हुआ, तो पार्टी एक बार फिर अपनी हार के मुहाने पर खड़ी दिख रही है।

अच्छा और बुरा दौर
इन दिनों सूबे में अच्छे-बुरे दौर को लेकर बहस छिड़ना शुरू हो गई। बहस करने वाले न कोई समय देख रहे और न ही स्थान।  सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा के ठिकाने के साथ ही भारती भवन भी इससे अछूता नहीं है। राज का काज करने वाले भी आधे से ज्यादा वक्त बहस में गुजार रहे हैं। बहस इस बात की है कि इस समय अच्छा दौर किसका चल रहा है। बड़ी चौपड़ से लेकर इंदिरा गांधी भवन तक बहस छिड़ी है कि मामला इन फेवर आॅफ अशोकजी एण्ड अगेंस्ट सैकण्ड लीडर है, बीच में किसी का कोई लेना देना नहीं है। जो सैकण्ड लीडर के पक्ष में है, वो सबके पास जाएंगे और जो जोधपुर वाले अशोकजी के फेवर में है, वो कहीं नहीं जाएंगे। अब उनको कौन कहे कि समझने वाले समझ गए, ना समझे वो अनाड़ी हैं।

दिल्ली से दिल्लगी
राज का काज करने वाले कई साहबों को अचानक दिल्ली से दिल्लगी हो गई, जबसे उनका दिल दिल्ली पर आया है, तब से दिन का चैन और रातों की नींद गायब हो गई। सूबे के एक दर्जन से ज्यादा बड़े साहबों को दिल्ली से प्रेम हो गया। वह दिल्ली के लिए हाथ पैर भी मारने के साथ जोड़-तोड़ भी बिठा रहे हैं। हमने भी पता लगाया तो माजरा समझ में आया कि कई बड़े साहब किसी न किसी बहाने अभी सूबे के राज से दूर और नमो मंडली से नजदीकियां बनाने के जुगाड़ में हैं। इसके लिए दिल्ली सबसे बढ़िया जगह है। अभी डेपुटेशन करा कर दिल्ली में बैठो और नमो मंडली से मेल मुलाकात करो। बाद में वापस आकर मनमाफिक कुर्सी के मजे लो।

एक जुमला यह भी
इंदिरा गांधी भवन में बने पीसीसी के ठिकाने पर इन दिनों एक जुमला जोरों पर है। जुमला भी छोटा-मोटा नहीं बल्कि एकजुटता के मंत्र को लेकर है। राज के मुखिया मंत्र को सुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे, मगर उसका कोई असर नहीं दिख रहा। दो गुटों में बंटी सूबे की कांग्रेस के नेता अपनी-अपनी ढपली और अपना अपना राग अलाप रहे हैं। दोनों गुटों के झण्डे सिविल लाइन्स में लहराते हैं। झण्डों के फेर में फंसे हाथ वाले भाई लोगों को चिंता सता रही है कि मकर संक्रांति को दूसरों की पतंग की डोर काटने के चक्कर में एकजुटता का मंत्र कहीं दूर की कोड़ी साबित नहीं हो जाए।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)
 

यह भी पढ़ें:

क्या ग्राहक के अधिकार सुरक्षित हैं?

अब जरा इस बात को परखिए कि ज्यादातर जो जिला अदालतें हैं उनकी क्या हालत है। फर्नीचर के नाम पर न्यायाधीशों के बैठने तक के लिए ठीकठाक कुर्सी मेज नहीं हैं तो फिर जो शिकायत लेकर आया है तो उसके लिए टूटी फूटी बेंच और कई जगह तो वो भी नहीं, खड़े रहकर अपना मुकदमा लड़िए, जैसी हालत के लिए क्या प्रशासन जिम्मेदार नहीं है।

12/08/2019

मोदी विरोधी नेताओं की पीड़ा

विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ने की चुनौती देने वाले विपक्षी नेता अन्तत: गाली गलौज पर उतर आए। कांग्रेस के नेता राहुल गांधी हो या ममता बनर्जी अथवा राबड़ी देवी हों

14/05/2019

भयावह आतंकी हमले से उपजे सवाल

गत रविवार को श्रीलंका में एक प्रसिद्ध चर्च में आतंकवादियों ने हमला कर 300 से अधिक लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इस हमले में 1000 से अधिक लोग घायल हैं

27/04/2019

यूपी ही तय करेगा देश का भविष्य

देश की राजनीति में यूपी की महत्ता किसी से छिपी नहीं है। ऐसे में सबकी निगाह यूपी में आखिरी दो चरणों के चुनाव पर है। यहां भाजपा गठबंधन और कांग्रेस के बीच आखिरी चरण में छिड़ी जुबानी जंग से उत्साहित है।

11/05/2019

राष्ट्रपति ट्रंप की पहली भारत यात्रा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आगामी दो दिवसीय भारतीय यात्रा से पूर्व ऐसे ही विवाद हो रहे हैं। भारत के लोगों के साथ सबसे बड़ी समस्या ये है कि वे अपनी बुद्धि व विवेक से बहुत कम सोचते-समझते हैं।

21/02/2020

राज-काज में क्या है खास

इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने पर शनि को छोटे पायलट साहब के बर्थ डे पर उमड़ी भीड़ को लेकर कई तरह के मायने निकाले जा रहे हैं।

09/09/2019

फिर भी राजस्थान बदल रहा है!

राजस्थान में विकास और परिवर्तन का कुछ ऐसा उत्साह दिखाई देता है कि चारों तरफ तरह-तरह के अधिकार मांगने वाले समूह गांव-गांव तक सक्रिय हैं। हम राजस्थान को भी भारत का एक विकासशील प्रदेश ही कह सकते हैं। यहां पिछले 70 साल में सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक क्षेत्र का महत्वपूर्ण विकास भी हुआ है, लेकिन हम अभी ये नहीं कह सकते कि हमारे यहां सब कुछ ठीक है और हमारे सभी सपने पूरे हो गए हैं।

17/10/2019