Dainik Navajyoti Logo
Saturday 22nd of February 2020
 
ओपिनियन

यह है सच जेएनयू हिंसा का

Wednesday, January 22, 2020 11:10 AM
फाइल फोटो

पुलिस का कहना है कि इन छात्रों के प्रदर्शन की वजह से आम लोगों को परेशानी हो रही है। कनॉट प्लेस में लोगों को इनके प्रदर्शन की वजह से दिक्कते हुई, जब भी हम इन लोगों से कनेक्ट करने की कोशिश करते हैं, तो ये लोग कानून का उल्लंघन करते हैं। यह सच है। अब जरा घटनाक्रम को देखिए और जो माहौल बनाया गया, उससे तुलना करिए। माहौल यह बनाने की कोशिश हुई कि केन्द्र में भाजपा की सरकार होने के कारण उनसे जुड़े छात्र संगठनों ने गुंडों और अपराधियों की तरह वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े लोगों को मारा, जिनको हर संस्था को अविश्वसनीय बनाना है उनके लिए किसी प्रमाण का कोई मायने नहीं, लेकिन दिल्ली पुलिस के विशेष जांच दल यानी सिट के प्रमुख ने प्राथमिक जांच की रिपोर्ट सार्वजनिक कर दी है। सच जेएनयू हिंसा का वही है, जो जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय या जेएनयू में हिंसा पर गहराई से नजर रखने वाले बता रहे थे। कोई भी हिंसा अपने आप नहीं होती। जेएनयू में जो भयावह हिंसा के वीडियो दिखे वे एक पक्षीय नहीं थे। पहली बार हिंसा की, जो तस्वीरें आईं उनके पहले भी हिंसा हुई थी, जिनका सच सामने आ चुका है। दिल्ली पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। दिल्ली पुलिस ने हिंसा मामले में 9 आरोपितों की तस्वीरें जारी की हैं। इसमें जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल हैं। प्रश्न है कि अगर जांच पूरी नहीं हुई, तो फिर दिल्ली पुलिस ने पत्रकार वार्ता क्यों की। इसका उत्तर देते हुए सिट प्रमुख ने ही कहा कि सामान्य तौर पर हम जांच पूरी होने के बाद ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हैं, लेकिन इस घटना के संदर्भ में फैलाई जा रही अफवाहों की वजह से हमें पहले ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करना पड़ रहा है। छात्रों का भविष्य इससे जुड़ा हुआ है, उसको ध्यान में रखते हुए हम आपसे जानकारी साझा कर रहे हैं।

जेएनयू घटना को लेकर लोगों के बीच गलत जानकारी फैलाई जा रही है। यानी गलत बातों को जवाब देने के लिए जितनी जानकारी आई उसे सार्वजनिक कर दिया गया। पुलिस का कहना है कि इन छात्रों के प्रदर्शन की वजह से आम लोगों को परेशानी हो रही है। कनॉट प्लेस में लोगों को इनके प्रदर्शन की वजह से परेशानी हुई, जब भी हम इन लोगों से कनेक्ट करने की कोशिश करते हैं, तो ये लोग कानून का उल्लंघन करते हैं। यह सच है। अब जरा घटनाक्रम को देखिए और जो माहौल बनाया गया उससे तुलना करिए। माहौल यह बनाने की कोशिश हुई कि केन्द्र में भाजपा की सरकार होने के कारण उनसे जुड़े छात्र संगठनों ने गुंडों और अपराधियों की तरह वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े लोगों को मारा। क्यों मारा इसका कोई समाधानपरक जवाब नहीं। दिल्ली पुलिस ने सिलसिलेवार ढंग से जेएनयू के घटनाक्रम को रख दिया है। यह तो सच है कि जेएनयू में विंटर रजिस्ट्रेशन चल रहा है, जिसका वामपंथी दलों से जुड़े छात्र संगठन आईएसएफ, एसएफआई, आईसा और डीएसएफ  विरोध कर रहे है। ज्यादातर छात्र रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं। इन संगठनों के सदस्य स्वयं जो छात्र रजिस्ट्रेशन करना चाह रहे थे, उनको धमका भी रहे थे। हमारे पास घटना का वीडियो आया, लेकिन पुलिस ने विवरण दिया है। जांच में पता चला कि रजिस्ट्रेशन की कोशिश करने वाले छात्रों को डराया-धमकाया गया, धक्कामुक्की भी की गई। दिल्ली पुलिस ने बताया कि स्टूडेंट फ्रंट आॅफ इंडिया, आॅल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन, आॅल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन और डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन के सदस्य सेंट्रलाइज रजिस्ट्रेशन सिस्टम को रोकने के लिए जबरदस्ती सर्वर को बंद कर दिया। उन्होंने सर्वर ठप करने की कोशिश की। दोपहर में पीछे शीशे के दरवाजे से कुछ अंदर घुसे और उन्होंने सर्वर को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया। इससे रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया रुक गई।

इन मामले में पुलिस के पास प्राथमिकी दर्ज कराई गई है, जिसमें आईसा घोष का नाम है। रजिस्ट्रेशन न करने देने से परेशान चार छात्र स्कूल आॅफ सोशल साइंसेज के सामने बेंच पर बैठे हुए थे। आइएसएफ, आइसा, एसएफआइ और डीएसएफ  का एक समूह आया और उन छात्रों को पीटने लगा। बीच-बचाव के लिए गए गार्डों को भी पीटा गया। 20 छात्रों के खिलाफ गार्डो पर हमला करने की प्राथमिकी दर्ज हुई है। इसके बाद इन्हीं 4 संगठनों के लोगों ने पेरियार हॉस्टल में छात्रों पर हमला किया। दोपहर में पेरियार हॉस्टल में नकाबपोश हमलावरों ने चुन-चुनकर छात्रों को मारा। पुलिस का कहना है इसमें जेएनयूएसयू अध्यक्ष भी शामिल थीं। हमलावर मुंह ढके हुए थे। पेरियार हॉस्टल को निशाना बनाया गया। इसके बाद साबरमती हॉस्टल में नकाबपोश हमलावरों ने तोड़फोड़ और हिंसा की। इसमें भी कुछ छात्रों की पहचान हुई है। साबरमती हॉस्टल के पास मौजूद टी पॉइंट के पास पीस मीटिंग हो रही थी। इस दौरान कुछ नकाबपोश लोगों ने हाथ लाठी डंडा लेकर साबरमती हॉस्टल पर हमला किया। इस समूह में शामिल कुछ छात्रों को चिह्नित किया गया है। थोड़ी बहुत हिंसा नर्मदा हॉस्टल में भी हुई। इसका भी केस दर्ज हुआ है। ध्यान रखिए कि अभी यह आधी जांच रिपोर्ट है। इससे इतना साफ होता है, जो दृश्य हमने देखा उसकी पृष्ठभूमि पहले बनाई जा चुकी थी। तीन दिनों से तनाव था और दो दिनों में कई बार मार पिटाई हुई थी। ज्यादातर लोग या तो विद्याथी परिषद के थे या फिर आम छात्र जो सेमेस्टर की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कराना चाहते थे। इसलिए यह भी नहीं कहा जा सकता कि जिन लोगों के हाथों में कोई डंडा दिख रहा है, वह हमलावर ही थे। वह अपनी रक्षा के लिए भी रखे हो सकते हैं। आखिर पेरियार हॉस्टल में उन्हीं कमरों में क्यों हमला हुआ, जिसमें परिषद के छात्र थे। बहुत सारे छात्र-छात्राओं ने छिपकर अपने को बचाया।

(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

अंतिम चरण का चुनाव प्रचार

आजादी के बाद लोकसभा के जितने आम चुनाव हुए उनमें इतनी कटुता कभी नहीं देखी गई जितनी इस बार देखी जा रही है। इस बार तो सत्ता पक्ष और विपक्ष एक दूसरे को जमकर गालियां दे रहे हैं।

17/05/2019

चुनावी परिदृश्य पहले से साफ था

लोकसभा के चुनाव परिणाम बिल्कुल अपेक्षित हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में राजग राष्टÑीय स्तर पर विचारधारा एवं रणनीति के मामले में संगठित ईकाई के रुप में उतरा था तथा पांच-छ: राज्यों को छोड़ दें तो उसका

28/05/2019

जब नहीं मिली एंबुलेंस तो पत्नी के शव को कंधे पर रखकर ले गया

अपनी पत्नी के शव को अस्पताल से घर लाने के लिए जब आदिवासी व्यक्ति को एंबुलेंस नहीं मिली तो वह शव को अपने कंधे पर रखकर चलता गया। इस व्यक्ति के साथ बेटी भी पैदल चल रही थी। उड़ीसा के कालाहांडी जिले की इस घटना ने सरकार की व्यवस्था को कठघरे में खड़ा कर दिया है।

25/08/2016

तीसरे मोर्चे की फिर सुगबुगाहट

लोकसभा चुनावों के नतीजे आने में दो सप्ताह से भी कम समय रहने के साथ ही एक बार फिर गैर एनडीए और गैर यूपीए तीसरा मोर्चा बनाने की सुगबुगाहट एक बार फिर शुरू हो गयी है।

13/05/2019

आने वाली सरकार की आर्थिक चुनौतियां

बीते समय में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसी संस्थाओं ने भारत की आर्थिक विकास दर को घटाया है। अर्थव्यवस्था की इस मंद गति के पीछे यूपीए एवं एनडीए सरकारों द्वारा लागू की गई कुछ नीतियां है।

14/05/2019

मेडिकल कॉलेज दाखिला का महा स्कैम

कुछ महीने पहले कर्नाटक में कार्यरत आयकर विभाग के अधिकारियों ने सरसरी तौर पर कुछ बैंक खातों की जांच में पाया कि राज्य के दो निजी मेडिकल संस्थानों और और एक इंजीनियर संस्थान के कुछ कर्मचारियों के खातों में नियमित अन्तराल से मोटी राशि नकदी के रूप में जमा करवाई जा रही है।

21/10/2019

युद्ध की शांति है तो आजादी ही गुलामी है?

आज के नए भारत को समझने के लिए हम लोगों को जॉर्ज औरवैल का, अंग्र्रेजी भाषा में लिखा उपन्यास 1984 एक बार जरूर पढ़ना चाहिए, क्योंकि अब हमारा लोकतंत्र, संविधान और आजादी एक-ऐसी प्रयोगशाला में बदल गए हैं जहां हर डॉक्टर जनता को किसी विकास और परिवर्तन की खोज में किसी मेंढक, चूहे, छिपकली, बंदर और मुर्दा शरीर की तरह इस्तेमाल कर रहा है।

21/11/2019