Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of August 2020
 
ओपिनियन

वायु प्रदूषण पर नियंत्रण के उपाय

Tuesday, March 03, 2020 12:55 PM
फाइल फोटो

सरकार का कहना है कि थर्मल के स्थान पर बिजली के दूसरे स्रोतों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जैसे जल विद्युत को। कोयले को जलाने से वायु प्रदूषित होती है, यह तो सर्वविदित है और इसके विकल्प हमें खोजने ही चाहिए, लेकिन जल विद्युत के सम्बन्ध में भ्रम व्याप्त हैं। मूल रूप से जल विद्युत साफ नहीं होती है। जल विद्युत परियोजनाओं के पीछे बड़ा तालाब बनता है जिसके अन्दर मरे हुए पशु और पेड़ पत्तियां नीचे बैठकर सड़ते हैं। इनके सड़ने से मीथेन गैस का उत्सर्जन होता है जो कि कार्बन डाई आॅक्साइड की तुलना में वायु को 20 गुणा ज्यादा प्रदूषित करती है, लेकिन इस प्रदूषण का संज्ञान हमारी सरकार, विशेषत: पर्यावरण मंत्रालय लेता ही नहीं है। हमें कोयले और जल विद्युत को छोड़कर परमाणु और सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन की तरफ  बढ़ना चाहिए।

विश्व के बीस अधिकतम वायु प्रदूषित शहरों में से चौदह भारत में हैं। यह हमारे लिए शर्मनाक ही नहीं अपितु हमारे आर्थिक विकास के लिए अत्यधिक हानिप्रद है, क्योंकि इस प्रदूषण से हमारे नागरिकों का स्वस्थ्य बिगड़ रहा है। उनकी आय नए माल के उत्पादन में निवेश करने के स्थान पर अस्पतालों में व्यय हो रही है। वायु प्रदूषण पर नियंत्रण न करने का मुख्य उद्देश्य यह है कि उद्योगों पर प्रदूषण नियंत्रण का बोझ न पड़े, उनके माल के उत्पादन की लागत कम आए, देश का आर्थिक विकास हो जिससे कि जनता के जीवन स्तर में सुधार हो, लेकिन इस प्रक्रिया में बढ़े वायु प्रदूषण से जनता का स्वास्थ्य और जीवन स्तर गिर रहा है। अत: वायु प्रदूषण बढ़ाकर जनहित हासिल करने के स्थान पर हमें वायु प्रदूषण नियंत्रित करके जनता के जीवन स्तर में सुधार लाने के प्रयास करने होंगे। वायु प्रदूषण का प्रमुख स्रोत उद्योग हैं जिसमें थर्मल बिजली प्लांट सम्मेलित है। थर्मल बिजली प्लांटों द्वारा भारी मात्रा में कार्बन, सल्फर और नाइट्रोजन का उत्सर्जन किया जाता है, जो कि वायु को प्रदूषित करते हैं। इस प्रदूषण को नियंत्रित करने का सीधा उपाय है कि उद्योगों द्वारा उत्सर्जित वायु के मानकों को कड़ा कर दिया जाए। जब इनके द्वारा साफ  वायु छोड़ी जाएगी तो प्रदूषण नहीं होगा, लेकिन सरकार नें हाल में इसके विपरीत कदम उठाए हैं। सरकार ने इनके मानकों को ढीला कर दिया है जिसके कारण प्रदूषण बढ़ रहा है। इन मानकों को और कड़ा करके वायु प्रदूषण रोकना चाहिए और इनके अनुपालन से जो उद्योगों की उत्पादन लागत बढ़ती है उसे उपभोक्ता और अर्थव्यवस्था को वहन करना चाहिए। जैसे आर्गेनिक फल सब्जी का उपभोक्ता पर आर्थिक भार पड़ता है लेकिन स्वस्थ्य सुधरता है और जीवन स्तर में सुधार होता है।

सरकार का कहना है कि थर्मल के स्थान पर बिजली के दूसरे स्रोतों को बढ़ावा दिया जा रहा है जैसे जल विद्युत को। कोयले को जलाने से वायु प्रदूषित होती है यह तो सर्वविदित है और इसके विकल्प हमें खोजने ही चाहिए। लेकिन जल विद्युत के सम्बन्ध में भ्रम व्याप्त हैं। मूल रूप से जल विद्युत साफ नहीं होती है। जल विद्युत परियोजनाओं के पीछे बड़ा तालाब बनता है जिसके अन्दर मरे हुए पशु और पेड़ पत्तियां नीचे बैठकर सड़ते हैं। इनके सड़ने से मीथेन गैस का उत्सर्जन होता है जो कि कार्बन डाई आॅक्साइड की तुलना में वायु को 20 गुणा ज्यादा प्रदूषित करती है, लेकिन इस प्रदूषण का संज्ञान हमारी सरकार, विशेषत: पर्यावरण मंत्रालय लेता ही नहीं है। हमें कोयले और जल विद्युत को छोड़कर परमाणु और सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन की तरफ  बढ़ना चाहिए।

परमाणु ऊर्जा में समस्या रेडियोधर्मिता और पानी की खपत की हैं। यदि इन संयंत्रों को रिहाईशी इलाकों से दूर स्थापित किया जाए और इनमें पानी की खपत को कम किया जाए तो परमाणु ऊर्जा हमारे लिए उपयुक्त हो सकती है। इन संयंत्रों के लिए अनिवार्य कर देना चाहिए की वे गर्म पानी को नदी में न छोड़े बल्कि उसका तब तक उपयोग करते रहें जब तक वह समाप्त न हो जाए। ऐसा करने से इनकी पानी की खपत कम हो जाएगी। सौर ऊर्जा पर्यावरण के प्रति नरम है और इसके विस्तार के लिए हमारी सरकार प्रयास कर रही है जो कि सही दिशा में है और जिसके लिए सरकार को साधुवाद। अत: उद्योगों द्वारा वायु प्रदूषण रोकने के लिए दो कदम उठाने चाहिए। पहला यह कि उत्सर्जित वायु के मानकों को सख्त किया जाए और दूसरा कोयला और जल विद्युत का त्याग कर हम परमाणु और सौर ऊर्जा की तरफ  बढ़ें।

वायु प्रदूषण का दूसरा कारण यातायात है। अपने देश में निजी कारों का उपयोग भारी मात्रा में बढ़ रहा है। इस प्रदूषण को कम करने के लिए तीन कदम उठाए जा सकते हैं। पहला यह कि सार्वजनिक यातायात जैसे मेट्रो का विस्तार किया जाए। सरकार इस दिशा में कार्य कर रही है जो कि सही है। दूसरा यह कि निजी कारों का उपयोग करने के लिए हाइवे में सड़कों पर विशेष लेन बनाए जा सकते हैं जिनमें केवल उन निजी वाहनों को छूट हो जिनमें कम से कम तीन व्यक्तियों बैठे हों। अक्सर देखा जाता है कि एक गाड़ी में एक ही व्यक्ति यात्रा करता है जिसके कारण वायु प्रदूषण अधिक होता है। अमेरिका आदि देशों में सड़कों में विशेष लेन हैं जिनमें केवल अधिक बैठे यात्रियों की कारों को ही चलने की छूट होती है।

ऐसा करने से लोगों को प्रेरणा मिलेगी कि तीन या चार व्यक्ति साथ में चलें जिससे कि वे ट्रेफिक जाम से बच सकें और अपने गंतव्य स्थान पर शीघ्र पहुंच सकें। यातायात के सम्बन्ध में एक भ्रम यह है कि बिजली से चलने वाली कार के उपयोग से प्रदूषण कम होगा। इतना सही है कि बिजली से चलने वाली कार से स्थानीय प्रदूषण कम होता है, लेकिन बिजली के उत्पादन में उतना ही प्रदूषण अन्यत्र होता है। अत: यदि देश के वायु प्रदूषण को देखें तो बिजली की कार के उपयोग से सुधार नहीं होता है। केवल हम शहरी प्रदूषण को दूर क्षेत्रों में स्थानांतरित करते हैं जहां कि वह हमें दिखता नहीं है। यह गन्दगी पर पर्दा लगाने जैसा है। वायु प्रदूषण का तीसरा स्रोत निर्माण कार्य में धूल का पैदा होना है। यह विषय पूरी तरह से कार्यान्वयन का है। निर्माण कार्य के चारों तरफ परदे आदि लगाकर धूल को कम किया जा सकता है और इस कार्य के लिए सरकार को अलग पुलिस फोर्स बनानी चाहिए।

(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

कर्नाटक में फिर राजनैतिक अस्थिरता का दौर

कर्नाटक में दल-दल बदलुओं के समर्थन से बनी येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली चार महीने पुरानी बीजेपी सरकार के वर्चस्व के लिए आगामी 5 दिसम्बर को होने वाले विधानसभा के 15 उप चुनाव एक चुनौती हैं। अगर बीजेपी इनमें से आधी सीटें भी जीत गई तो वह सत्ता में बने रहने में सफल होगी नहीं तो राज्य में एक बार फिर राजनीतिक अस्थिरता का दौर आरंभ हो जाएगा।

18/11/2019

ब्रिक्स : आपसी हितों का प्रभावी मंच

वैश्विक स्तर पर वित्तीय मामलों में परामर्श देने वाली संस्था गोल्डमैन शश के प्रमुख कार्यकारी निदेशक जिम-ओ-नील ने 2001 में अपने एक लेख में लिखा था कि ब्राजील, रूस, भारत और चीन (बीआरआईसी) की अर्थव्यवस्था इतनी मजबूत होगी कि साल 2050 तक यह देश दुनिया के आर्थिक ढांचे का निर्धारण करते दिखेंगें।

15/11/2019

चुनाव के केन्द्र में सिर्फ मोदी

1977 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की करारी हार हुई। उन्हें उनके प्रतिद्वंदि राजनारायण ने 55 हजार मतों से पराजित किया था।

13/05/2019

शिक्षित नारी ही समृद्ध भारत की कुंजी है

सौभाग्य से विश्व के वृहद्तम शिक्षा तंत्रों में से एक का पारिवारिक सदस्य होने के नाते मुझे सम्पूर्ण देश की शिक्षण संस्थाओं के दीक्षांत समारोहों में जाने का अवसर मिलता रहता है। एक रुझान स्पष्ट रूप से सामने आता है कि हर क्षेत्र में हमारी बेटियां सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रही हैं।

02/03/2020

वर्तमान चुनाव और राजनीति

जैसे-जैसे चुनावों में आम जनता की भागीदारी बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे अब उम्मीदवार और राजनैतिक दलों में गलाकाट प्रतिस्पर्धा भी बढ़ रही है।

09/05/2019

इंटरनेट की दुनिया में खोता बच्चों का बचपन

खेलने-कूदने की उम्र के साढ़े छह करोड़ बच्चे इंटरनेट की दुनिया में डूबे रहते हैं। इसमें कोई दोराय नहीं कि इंटरनेट ज्ञान का भण्डार है पर यह भी नहीं भूलना चाहिए कि ज्ञान का यह भण्डार सतही अधिक है।

27/12/2019

जानें राज-काज में क्या है खास

सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वाले ठिकाने पर एक ऐसी कुर्सी है, जो पिछले 27 दिनों से खाली है।

22/07/2019