Dainik Navajyoti Logo
Thursday 12th of December 2019
 
ओपिनियन

महावीर युग फिर से आए

Wednesday, April 17, 2019 11:35 AM

भगवान महावीर की जयन्ती मनाते हुए हमें महावीर बनने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने जीवन भर अनगिनत संघर्षों को झेला, कष्टों को सहा, दुख में से सुख खोजा और गहन तप एवं साधना के बल पर सत्य तक पहुंचे, इसलिए वे हमारे लिए आदर्शों की ऊंची मीनार बन गए। महावीर जयन्ती सत्संकल्पों को जागृत करने का पर्व है और सबसे बड़ा संकल्प है मनुष्य स्वयं को बदलने के लिए तत्पर हो। सरल नहीं है मनुष्य को बदलना। बहुत कठिन है नैतिक मूल्यों का विकास। बहुत-बहुत कठिन है आध्यात्मिक चेतना का रूपांतरण। और भी कठिन है अहिंसा की स्थापना। एक संकल्प हो कि हमारी अज्ञानता मिटे। हिंसा, युद्ध एवं भौतिकवादी युग में महावीर के प्रकाश की आवश्यकता केवल भीतर के अंधकार मोह-मूर्च्छा को मिटाने के लिए ही नहीं, अपितु लोभ और आसक्ति के परिणामस्वरूप खड़ी हुई पर्यावरण प्रदूषण और अनैतिकता, हिंसा और युद्ध जैसी बाहरी समस्याओं को सुलझाने के लिए भी जरूरी है। भगवान महावीर की जयन्ती मनाते हुए हमें महावीर बनने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने जीवन भर अनगिनत संघर्षों को झेला, कष्टों को सहा, दुख में से सुख खोजा और गहन तप एवं साधना के बल पर सत्य तक पहुंचे, इसलिए वे हमारे लिए आदर्शों की ऊंची मीनार बन गए। उन्होंने समझ दी कि महानता कभी भौतिक पदार्थों, सुख-सुविधाओं, संकीर्ण सोच एवं स्वार्थी मनोवृत्ति से नहीं प्राप्त की जा सकती उसके लिए सच्चाई को बटोरना होता है, नैतिकता के पथ पर चलना होता है और अहिंसा की जीवन शैली अपनानी होती है। भगवान महावीर की मूल शिक्षा है- ‘अहिंसा’। सबसे पहले ‘अहिंसा परमो धर्म:’ का प्रयोग हिन्दुओं का ही नहीं बल्कि समस्त मानव जाति के पावन ग्रंथ ‘महाभारत’ के अनुशासन पर्व में किया गया था। लेकिन इसको अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्धि दिलवाई भगवान महावीर ने। भगवान महावीर ने अपनी वाणी से और अपने स्वयं के जीवन से इसे वह प्रतिष्ठा दिलाई कि अहिंसा के साथ भगवान महावीर का नाम ऐसा जुड़ गया कि दोनों को अलग कर ही नहीं सकते। अहिंसा का सीधा-साधा अर्थ करें तो वह होगा कि व्यावहारिक जीवन में हम किसी को कष्ट नहीं पहुंचाएं, किसी प्राणी को अपने स्वार्थ के लिए दु:ख न दें।

आत्मान: प्रतिकूलानि परेषाम् न समाचरेत्’’ इस भावना के अनुसार दूसरे व्यक्तियों से ऐसा व्यवहार करें जैसा कि हम उनसे अपने लिए अपेक्षा करते हैं। इतना ही नहीं सभी जीव-जन्तुओं के प्रति अर्थात् पूरे प्राणी मात्र के प्रति अहिंसा की भावना रखकर किसी प्राणी की अपने स्वार्थ व जीभ के स्वाद आदि के लिए हत्या न तो करें और न ही करवाएं और हत्या से उत्पन्न वस्तुओं का भी उपभोग नहीं करें। महावीर की आज ज्यादा जरूरत एवं प्रासंगिकता है। उनका अहिंसा दर्शन आज की जरूरत है। क्योंकि हमने अपने स्वार्थ के वशीभूत होकर प्रकृति, पदार्थ, प्राणी और पर्यावरण के सहअस्तित्व को नकार दिया है। महावीर ने अनेकांत का चिन्तन दिया, हम अपने वैयक्तिक विचारों के आग्रह में बंधकर रह गए। महावीर ने अपरिग्रह का जीवन सूत्र दिया, हमने वैभव और विलासिता की दीवारों को ऊंची करने में जीवन खपा दिया। महावीर ने समता से जीने की सीख दी पर हम अनुकूलता के बीच संतुलन, धैर्य रखना भूल गए। महावीर ने असाम्प्रदायिक अखण्ड धर्म की व्याख्या की, हमने उसे जाति, सम्प्रदाय और पंथों में विभक्त कर दिया। महावीर ने अभय एवं मैत्री का सुरक्षा कवच पहनाया, हम प्रतिशोध और प्रतिस्पर्धा को ही राजमार्ग समझ बैठे। अगर हम जीवन को सफल एवं सार्थक करना चाहते हैं जो हमें महावीर को केवल पूजना ही नहीं है, बल्कि जीना होगा। महावीर को जीने का तात्पर्य होगा- एक आदर्श जीवनशैली को जीना।

आज मनुष्य जिन समस्याओं से और जिन जटिल परिस्थितियों से घिरा हुआ है उन सबका समाधान महावीर के दर्शन और सिद्धांतों में समाहित है। जरूरी है कि हम महावीर ने जो उपदेश दिए उन्हें जीवन और आचरण में उतारें। हर व्यक्ति महावीर बनने की तैयारी करे, तभी समस्याओं से मुक्ति पाई जा सकती है। महावीर वही व्यक्ति बन सकता है जो लक्ष्य के प्रति पूर्ण समर्पित हो, जिसमें कष्टों को सहने की क्षमता हो। जो प्रतिकूल परिस्थितियों में भी समता एवं संतुलन स्थापित रख सके, जो मौन की साधना और शरीर को तपाने के लिए तत्पर हो। जो पुरुषार्थ के द्वारा न केवल अपना भाग्य बदलना जानता हो, बल्कि संपूर्ण मानवता के उज्ज्वल भविष्य की मनोकामना रखता हो। महावीर के जीए गए वे सारे सत्य धर्म के व्याख्या सूत्र बने हैं जिन्हें उन्होंने ओढ़ा नहीं था, बल्कि साधना की गहराइयों में उतरकर आत्मचेतना के तल पर पाया था। उन्होंने जो पाया उसी से योग का सूत्र दिया है, ध्यान का सूत्र दिया है। ध्यान करने का मतलब है अपनी शक्ति से परिचित होना, अपनी क्षमता से परिचित होना, अपना सृजनात्मक निर्माण करना, अहिंसा की शक्ति को प्रतिष्ठापित करना। जो आदमी अपने भीतर गहराई से नहीं देखता, वह अपनी शक्ति से परिचित नहीं होता। जिसे अपनी शक्ति पर भरोसा नहीं होता, अपनी शक्ति को नहीं जानता, उसकी सहायता भगवान भी नहीं कर सकता और कोई देवता भी नहीं कर सकता। अगर काम करने की उपयोगिता है और क्षमता भी है तो वह शक्ति सृजनात्मक हो जाती है और किसी को सताने की, मारने की उपयोगिता है तो वह शक्ति ध्वंसात्मक हो जाती है। इसलिए महावीर का संपूर्ण जीवन स्व और पर के अभ्युदय की जीवंत प्रेरणा है। लाखों-लाखों लोगों को उन्होंने अपने आलोक से आलोकित किया है। उनके मन में  संपूर्ण प्राणिमात्र के प्रति सहअस्तित्व  की भावना थी। भगवान महावीर का संपूर्ण जीवन तप और ध्यान की पराकाष्ठा है इसलिए वह स्वत: प्रेरणादायी है। उनके उपदेश जीवनस्पर्शी हैं जिनमें जीवन की समस्याओं का समाधान निहित है। वे चिन्मय दीपक हैं, जो अज्ञान रूपी अंधकार को हरता है। वे सचमुच प्रकाश के तेजस्वी पुंज और सार्वभौम धर्म के प्रणेता हैं। वे इस सृष्टि के मानव-मन के दु:ख-विमोचक हैं। पदार्थ के अभाव से उत्पन्न दु:ख को सद्भाव से मिटाया जा सकता है, श्रम से मिटाया जा सकता है किंतु पदार्थ की आसक्ति से उत्पन्न दुख को कैसे मिटाया जाए? इसके लिए महावीर के दर्शन की अत्यंत उपादेयता है।

- आचार्य डॉ. लोकेशमुनि
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

जानें राज काज में क्या है खास

किसी भी बड़े आदमी के मुंह से निकली बात का कोई न कोई मायना जरूर होता है। वो तो उसका अर्थ निकालने वाले पर निर्भर करता है कि वह क्या सोचता है।

02/12/2019

इतने राम कहां से लाऊं?

भारत वर्ष हजारों साल से गांव और गरीबी प्रधान देश है। हमें वैदिक काल से ही एक प्रजा के रूप में देवी-देवताओं और राजा की विजय के दिवस मनाने की आदत है। हमारा इतिहास, संस्कृति और परम्परा में हर दिन शक्ति और भक्ति का उत्सव मनाता है। दुनिया में सत्य, शिव और सुंदर की महाखोज करते रहना भी हमारी इस बात का प्रमाण है कि मनुष्य की जीवनधारा को सुख-दु:ख का संगीत मानकर ही चलते रहना चाहिए।

10/10/2019

बुद्ध हैं धर्मक्रांति के सूत्रधार

मषहापुरुषों की कीर्ति किसी एक युग तक सीमित नहीं रहती। उनका लोकहितकारी चिन्तन एवं कर्म कालजयी, सार्वभौमिक, सार्वकालिक एवं सार्वदैशिक होता है

18/05/2019

भारत में डिजिटल क्रांति की चुनौतियां

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत को ‘डिजिटल इण्डिया’ का विजन दिया है ताकि डिजिटल क्रांति को देश में साकार रूप प्रदान किया जा सके। इक्कसवीं सदी सूचना प्रौद्योगिकी को समर्पित है लेकिन इस क्षेत्र में तकनीकी नवप्रर्वतन, सुधार एवं समायोजन की अत्यंत गुंजाईश है।

16/09/2016

अंतिम चरण का चुनाव प्रचार

आजादी के बाद लोकसभा के जितने आम चुनाव हुए उनमें इतनी कटुता कभी नहीं देखी गई जितनी इस बार देखी जा रही है। इस बार तो सत्ता पक्ष और विपक्ष एक दूसरे को जमकर गालियां दे रहे हैं।

17/05/2019

सही दिशा में कश्मीर नीति

मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर में आरक्षण के लाभ से जुड़े जो तीन फैसले लिए हैं। उसमें सबसे खास ये है कि अब इंटरनेशनल बार्डर पर रहने वाले लोग यानि कि जम्मू, कठुआ और सांबा में रहने वाली आबादी, जो क्रॉस बॉर्डर फायरिंग और शैलिंग का दंश झेल रही है, उसे सरकारी नौकरियों के आरक्षण में 3 प्रतिशत का लाभ मिलेगा।

05/07/2019

महिला उत्पीड़न से मुक्त भारत चाहिए

मुझे 2019 का ये नारा भी याद है कि मोदी है तो मुमकिन है। इसलिए मैं आप से आशा करता हूं कि आप कभी महिलाओं के दुख-दर्द पर और महिलाओं के जीवन में व्याप्त भ्रम और यथार्थ पर भी कोई बदलाव तथा परिवर्तन लाने वाला हंगामा खड़ा करें।

01/08/2019