Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 28th of September 2021
 
ओपिनियन

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

बगदादी के बाद भी खतरा खत्म नहीं

इस्लामिक स्टेट के प्रमुख अबू बकर अल-बगदादी की मौत से दुनिया के कई देशों पर मंडराता रहा आतंकी खतरा क्या खत्म हो गया है? सवाल का सीधा जवाब सिर्फ है, नहीं।

08/11/2019

जानिए राजकाज में क्या है खास?

सूबे की सबसे बड़ी पंचायत में शनि को पांच पांडवों की बात हुए बिना नहीं रह सकी। बात भी इसलिए हुई कि सारा राज भगवा वाले एक भाई साहब के मुंह से ही भोलेपन में खुल गया। पांच पांडवों की सूची में भगवा वालों का एक भी नाम नहीं है, सारे ही हाथ से ताल्लुकात रखते हैं।

02/11/2020

'बच्चों को ढाल बनाते हैं उपद्रवी, 95 प्रतिशत कश्मीरी शांति से चाहते हैं हल'

गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जम्मू-कश्मीर के हालात पर बात की। राजनाथ ने कांफ्रेंस में कहा कि कश्मीर में छोटे बच्चों को बरगलाया जाता है, कुछ लोग बच्चों को पत्थर मारने के लिए तैयार करते हैं। सभी कश्मीर में शांति चाहते हैं, घाटी के हालात को लेकर बहुत दुखी हूं।

25/08/2016

चुनाव आयोग के फैसले और आम समझ

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ कांग्रेस की शिकायतों पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को 6 मई तक फैसला लेने का आदेश दिया है।

03/05/2019

जानिए राजकाज में क्या है खास?

सूबे में इन दिनों अपर क्लास वाले लोगों की नजरें पूर्व दिशा की तरफ टिकी हैं। टिके भी क्यों नहीं, दोनों दलों में जो भी कुछ हो रहा है, उसी दिशा के पानी का कमाल है। हाथ वाले दल में सपोटरा और दौसा वाले मिनेश वंशज भाईसाहबों ने जब से दुबारा जुबान खोली है, तभी से अगुणी दिशा के ठाले बैठे पंडितों को भी काम मिल गया, सो उन्होंने भी कुंडलियां देखना शुरू कर दिया है।

16/03/2021

जानिए राजकाज में क्या है खास?

इन दिनों सूबे में अच्छे-बुरे दौर को लेकर बहस छिड़ना शुरू हो गई। बहस करने वाले न कोई समय देख रहे और न ही स्थान। श्मशान तक में बहस करने में कंजूसी नहीं बरतते। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के दफ्तर के साथ किसी भी दल का ठिकाना इससे अछूता नहीं है। राज का काज करने वाले भी आधे से ज्यादा वक्त बहस में गुजार रहे हैं।

28/06/2021

लापरवाही पड़ सकती है जेब व जीवन पर भारी!

सम्पूर्ण विश्व की तरह हमारा प्यारा देश भी वर्ष 2020 से ही घातक कोरोना महामारी के प्रकोप से जूझ रहा है

08/09/2021