Dainik Navajyoti Logo
Friday 28th of January 2022
 
ओपिनियन

औपचारिक मृत्यु नहीं, अनौपचारिक जीवन दीजिए

Monday, January 10, 2022 15:45 PM
कॉन्सेप्ट फोटो

वर्तमान में अर्थव्यवस्था सुचार रूप से चल रही दिखती है। जीएसटी की वसूली 1,30,000 करोड़ रूपए प्रति माह के नजदीक पहुंच गई है, जो कि आज तक का अधिकतम स्तर है। कोविड के ओमिक्रॉन वैरिएंट के आने के बावजूद शेयर बाजार का सेंसेक्स 5,500 से 6,000 के स्तर पर बना हुआ है। रुपए का मूल्य 70 से 75 रुपए प्रति डॉलर पर बीते कई वर्षों से स्थिर टिका हुआ है। तमाम वैश्विक संस्थाओं के आकलन के अनुसार भारत विश्व की सबसे तेज बढ़ने वाली व्यवस्था बन चुकी है। इन सब उपलब्धियों के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेरोजगारी को एक विशेष चुनौती बताया है। तमाम आकलन भी बताते हैं कि वर्तमान में देश की जनता द्वारा की जा रही खपत कोविड पूर्व के स्तर से भी नीचे है। यानी जीएसटी की वसूली 1,30,000 करोड़ रूपए प्रति माह के स्तर पर पहुंचने और अर्थव्यवस्था के सुचारू रूप से चलता दिखने के बावजूद आम आदमी की खपत सपाट है और रोजगार नदारद हैं। इस समस्या की जड़ें नीति आयोग के चिंतन में निहित है।


वर्ष 2018 में नीति आयोग ने देश की 75वीं वर्षगांठ के लिए बनाए गए रोड मैप में कहा था कि औपचारिक रोजगार को बढ़ावा देना होगा और श्रम-सघन रोजगार को भी बढ़ावा देना होगा। नीति आयोग इन दोनों उद्देश्यों के एक साथ बढ़ावा देना चाहता है। आयोग समझता है कि यह दोनों उद्देश्य एक साथ मिलकर चल सकते हैं जैसे गाड़ी के दो चक्के मिलजुल कर एक साथ चलते हैं। लेकिन वास्तव में इन दोनों उद्देश्यों के बीच में अंतर्विरोध है जैसे गाड़ी का एक चक्का आगे और दूसरा चक्का पीछे की तरफ चले तो गाड़ी डगमग हो जाती है। इसीलिए वर्तमान में रोजगार की गाड़ी डगमग हो चली है जैसा प्रधानमंत्री ने कहा है।औपचारिक रोजगार और श्रम-सघन उद्योग के बीच पहला अंतर्विरोध श्रम की लागत का है। जैसे मान लीजिए नुक्कड़ पर मोमो बेचने वाले अनौपचारिक कर्मियों को हम औपचारिक छत्रछाया के नीचे ले आते हैं। अब इनका पंजीकरण होगा। पंजीकरण के बाद इन्हें अपने द्वारा बेचे गए मोमो का वजन नियमानुसार प्रमाणित करना होगा। इनके कार्य पर स्वास्थ्य निरीक्षक की नजर रहेगी। इन्हें अपनी दुकान को खोलने व बंद करने के समय निर्धारित करने होंगे। इन्हें सही क्वालिटी की प्लेट लगानी होगी। अपने सहायकों को दिए गए वेतन का प्रोविडेंट फंड काटना होगा और उन्हें न्यूनतम वेतन देना होगा। बैंक में जाकर प्रोविडेंट फण्ड जमा कराने में इनका समय लग जाएगा। सरकारी निरक्षक महोदय को मुफ्त मोमो भी देने होंगे। इन तमाम कार्यों से इनके द्वारा बनाए गए मोमो की लागत बढ़ जाएगी। आज वर्तमान में यदि ये 7 रूपए  में मोमो बेचते हैं, जो औपचारिक रोजगारी बनने के बाद इनके द्वारा उत्पादित मोमो का मूल्य बढ़कर 10 रूपए हो जाएगा। इनके मोमो का मूल्य बढ़ जाने से इनकी जो कम दाम में बेचने की विशेषता है वह समाप्त हो जाएगी। खरीददार 7 रूपए में नुक्कड़ पर मोमो खरीदने के स्थान पर 10 रूपए में मॉल में मोमो खरीदेगा, क्योंकि नुक्कड़ पर भी मोमो का दाम अब मॉल की तरह 10 रूपए हो जाएगा। श्रम सघन उद्योग कि बलि औपचारिक राजगार के वेदी पर चढ़ा दी जाएगी। दोनों उद्देश्य साथ-साथ नहीं चलेंगे।


औपचारिक उत्पादन में दूसरा संकट ऑटोमेटिक मशीनों का है। मॉल में मोमो बेचने वाले औपचारिक विक्रेता द्वारा डिश वॉशर लगाया जाएगा और ऑटोमेटिक ओवन होगा जिसमें बिजली की खपत कम होगी। इन आॅटोमेटिक मशीनों के कारण मोमो के औपचारिक उत्पादन में रोजगार की संख्या कम होगी। इसलिए औपचारिक रोजगार के चलते श्रम सघन नहीं बल्कि श्रम विघन रोजगार उत्पन्न होंगे। रोजगार की संख्या कम होगी।


औपचारिक रोजगार में तीसरा संकट वित्तीय औपचारिकता यानी नोटबंदी और जीएसटी का है। नोटबंदी के बाद वर्ष 2017 में एक ओला के ड्राइवर से चर्चा हुई। उन्होंने बताया कि वे 35 वर्षों से चार महिलाओं को रोजगार दे रहे थे। उनसे घर पर कपड़ों में कसीदा करा रहे थे। नोटबंदी के बाद उनके क्रेताओं ने उन्हें नकद में पेमेंट करना बंद कर दिया। उनके पास व्यवस्था नहीं थी कि वे बैंक के माध्यम से कपडेÞ का पेमेंट ले सकें। यह भी कहा की नगद माल खरीदने वाले ही नहीं रहे। अब बड़ी दूकानों में डेबिट कार्ड के पेमेंट से ही कपडेÞ खरीदे जा रहे हैं। उनका बाजार समाप्त हो गया। उन्होंने चारों महिलाओं को मुअत्तल कर दिया और स्वयं जीविका चलने के लिए ओला के ड्राइवर का काम शुरू कर दिया। लगभग यही स्थिति जीएसटी की है जीएसटी के कारण छोटे उद्योगों को तमाम कानूनी पेंचों से जूझना पड़ रहा है, जिसके कारण उनका धंधा कम हो रहा है। यह बात तमाम रपटों में दिखाई पड़ती है। इन तमाम कारणों से औपचारिक और श्रम सघन रोजगार मैं सीधा अंतर्विरोध है। औपचारिक रोजगार के चलते श्रम सघन उत्पादन का मूल्य बढ़ता है और ऑटोमेटिक मशीनों के उपयोग से श्रम का उपयोग घटता है। नोटबंदी और जीएसटी के कारण पुन: रोजगार घटता है। लेकिन नीति आयोग इस अंतर्विरोध को नहीं समझती अथवा नहीं समझना चाहती है। इसलिए अनायास ही औपचारिक रोजगार को बढ़ावा देने में नीति आयोग ने देश में रोजगार ही समाप्त कर दिए हैं। न्यून स्तर के अनौपचारिक जीवन के स्थान पर नीति आयोग ने औपचारिक मृत्यु को देशवासियों के पल्ले में डाल दिया है जिसके कारण प्रधानमंत्री ने कहा है कि रोजगार हमारे सामने प्रमुख चुनौती है।

संभवत: नीति आयोग भारत को विकसित देशों की तर्ज पर औपचारिक श्रम की तरफ ढकेलना चाहती हैण् लेकिन आयोग इस बात को भूल रहा है की वर्तमान में पश्चिमी देश भी अनौपचारिक रोजगार की तरफ तेजी से बढ़ रहे हैंण् इसे वहां श्गिगश् रोजगार कहा जाता है जैसे श्रमिक घर में 3 घंटे बैठकर डेटा एंट्री इत्यादि करते हैंण् इन गिग श्रमिकों को निर्धारित न्यूनतम वेतन से भी कम वेतन दिए जाते हैं बिल्कुल उसी तरह जैसे अपने देश में नुक्कड़ पर मोमो विक्रेता को न्यूनतम वेतन से कम आय होती हैण् इसलिए हमें विकसित देशों के मोह को छोड़ना चाहिएण् उनकी अंदरूनी रोजगार की परिस्थिति को समझना चाहिएण् अपने देश में अनौपचारिक रोजगार को बढ़ने देना चाहिएए नुक्कड़ के मोमो बेचने वाले को सम्मान देना चाहिए कि वह स्वरोजगार कर रहा है और सरकार पर मनरेगा का बझ नहीं दाल रहा हैण् औपचारिक मृत्यु की तुलना में न्यून स्तर का अनौपचारिक जीवन ही उत्तम हैण् वर्तमान में अर्थव्यवस्था ऊपर से सुचार रूप से चल रही दिखती हैण् अन्दर गड़बड़ है।

     भरत झुनझुनवाला

(ये लेखक के अपने विचार हैं)

मुद्दा
औपचारिक रोजगार और श्रम-सघन उद्योग के बीच पहला अंतर्विरोध श्रम की लागत का है। जैसे मान लीजिए नुक्कड़ पर मोमो बेचने वाले अनौपचारिक कर्मियों को हम औपचारिक छत्रछाया के नीचे ले आते हैं। अब इनका पंजीकरण होगा। पंजीकरण के बाद इन्हें अपने द्वारा बेचे गए मोमो का वजन नियमानुसार प्रमाणित करना होगा। इनके कार्य पर स्वास्थ्य निरीक्षक की नजर रहेगी। इन्हें अपनी दुकान को खोलने व बंद करने के समय निर्धारित करने होंगे। इन्हें सही क्वालिटी की प्लेट लगानी होगी। अपने सहायकों को दिए गए वेतन का प्रोविडेंट फंड काटना होगा और उन्हें न्यूनतम वेतन देना होगा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

क्रिसमस का इंतजार

दुनिया के कुछ देशों में 2019 का क्रिसमस भी मास्क, सैनेटाइजर के साथ तो नहीं लेकिन तमाम डरी-डरी भावनाओं और दहशतभरी आशंकाओं के बीच मनाया गया था। जबकि साल 2020 का क्रिसमस तो पूरी तरह से कोरोना की भेंट ही चढ़ गया।

23/12/2021

भारतीय प्रशासनिक सेवा में सुधार की आवश्यकता

हमें आईएएस कैडर नियमों में सुधार को किस परिप्रेक्ष्य में देखना चाहिए? क्या स्थानीयता या उनके अखिल भारतीय स्वरूप को प्राथमिकता दी जानी चाहिए?

25/01/2022

वायुसेना को चाहिए दो सौ लड़ाकू विमान

पिछले दिनों वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ ने जिस प्रकार वायुसेना के बेड़े में शामिल 44 साल पुराने मिग लड़ाकू विमानों को लेकर चिंता जाहिर की। उससे वायुसेना में लड़ाकू विमानों की कमी और वायुसेना की जरूरतों का स्पष्ट अहसास हो जाता है।

23/09/2019

जम्मू कश्मीर के लिए नए सूरज का उदय

जम्मू कश्मीर में नए सूरज का उदय हुआ है। सरदार वल्लभ भाई पटेल के जन्म दिवस से अनुच्छेद 370 खत्म करने का विधान तथा जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम लागू होने के साथ जम्मू कश्मीर के चरित्र एवं ढांचे में आमूल परिवर्तन आ गया है। इसे लागू करने का सरदार पटेल की जंयती से बेहतर दिन नहीं हो सकता था।

04/11/2019

राज-काज में क्या है खास

सूबे में पिछले तीन दिनों से पेंट और आंचल काफी चर्चा में हैं। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा के ठिकाने पर हर कोई आने वाला भी इसकी चर्चा किए बिना नहीं रहता।

26/08/2019

न्याय में लगातार देरी का गणित

देशभर की अदालतों में करीब साढ़े तीन करोड़ केस लंबित हैं। इन मामलों को निपटाने के लिए 2,373 अतिरिक्त जजों की जरूरत है। यह बात संसद में पेश हुए आर्थिक सर्वेक्षण 2018-19 में सामने आई है। लंबित मुकदमों के बढ़ते बोझ के कारण हमारे देश की अदालतों से त्वरित न्याय मिल पाना दिनोंदिन दूभर होता जा रहा है।

20/12/2019

आने वाली सरकार की आर्थिक चुनौतियां

बीते समय में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसी संस्थाओं ने भारत की आर्थिक विकास दर को घटाया है। अर्थव्यवस्था की इस मंद गति के पीछे यूपीए एवं एनडीए सरकारों द्वारा लागू की गई कुछ नीतियां है।

14/05/2019