Dainik Navajyoti Logo
Sunday 1st of August 2021
 
ओपिनियन

मन्द आर्थिक हालातों में उचित हो राजकोषीय नीति

Wednesday, January 08, 2020 11:00 AM
निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

यदि बाजार में औद्योगिक उत्पादन कम होता है तो कई सेवाएं भी प्रभावित होती है। इसमें माल ढुलाई, बीमा, गोदाम, वितरण जैसी तमाम सेवाएं शामिल हैं। कई कारोबार जैसे टेलिकॉम, टूरिज्म सिर्फ सेवा आधारित हैं, लेकिन व्यापक रूप से बिक्री घटने पर उनका व्यवसाय भी प्रभावित होता है। आर्थिक मन्दी के कुछ मुख्य कारण को समझ सकते हैं जिससे डॉलर के मुकाबले रुपये की घटती हुई कीमत है।

आयात के मुकाबले निर्यात में गिरावट से देश का राजकोषीय घाटे का बढ़ना और विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आना। इसके अलावा अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर की वजह से भी दुनिया में आर्थिक मंदी का खतरा तेजी से बढ़ रहा है, जिसका असर भारत पर भी पड़ा है, लेकिन सरकार को संकट से जल्द उभरने की कोशिश करनी चाहिए। हालांकि यह हमेशा कहा जाता है कि भारत बहुत बड़ी अर्थव्यवस्था है, यहां की अर्थव्यवस्था में मांग में कमी आना बहुत मुश्किल है। ऐसे में अगर मांग में कमी आयी है तो इसका मतलब साफ है कि भारत की अर्थव्यवस्था को संरचनागत सुधार की जरूरत है।

भारत सहित दुनिया के कई देशों में आर्थिक गतिविधियों में सुस्ती के स्पष्ट संकेत दिख रहे हैं। अर्थव्यवस्था के मंदी की तरफ बढ़ने पर आर्थिक गतिविधियों में चौतरफा गिरावट आती है। ऐसे कई दूसरे पैमाने भी हैं, जो अर्थव्यवस्था के मंदी की तरफ बढ़ने का संकेत देते हैं। हमारे देश में पिछले कुछ समय से आर्थिक स्थिति डांवाडोल हो रही है। इसी संकट का सामना सिर्फ उद्योग क्षेत्र ही नहीं, आम जनता पर भी खराब आर्थिक हालातों का असर है। हमारी अर्थव्यवस्था में यदि उद्योग का पहिया रुकेगा तो नए उत्पाद नहीं बनेंगे। मंदी के दौर में उद्योगों का उत्पादन कम हो जाना, मिलों और फैक्ट्रियों का बन्द हो जाना आदि कारणों से बाजार में बिक्री घट रही है।

यदि बाजार में औद्योगिक उत्पादन कम होता है तो कई सेवाएं भी प्रभावित होती है। इसमें माल ढुलाई, बीमा, गोदाम, वितरण जैसी तमाम सेवाएं शामिल हैं। कई कारोबार जैसे टेलिकॉम, टूरिज्म सिर्फ सेवा आधारित हैं, लेकिन व्यापक रूप से बिक्री घटने पर उनका व्यवसाय भी प्रभावित होता है। आर्थिक मन्दी के कुछ मुख्य कारण को समझ सकते हैं, जिससे डॉलर के मुकाबले रुपये की घटती हुई कीमत है। आयात के मुकाबले निर्यात में गिरावट से देश का राजकोषीय घाटे का बढ़ना और विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आना। इसके अलावा अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर की वजह से भी दुनिया में आर्थिक मंदी का खतरा तेजी से बढ़ रहा है, जिसका असर भारत पर भी पड़ा है, लेकिन सरकार को संकट से जल्द उभरने की कोशिश करनी चाहिए। हालांकि यह हमेशा कहा जाता है कि भारत बहुत बड़ी अर्थव्यवस्था है, यहां की अर्थव्यवस्था में मांग में कमी आना बहुत मुश्किल है। ऐसे में अगर मांग में कमी आयी है तो इसका मतलब साफ है कि भारत की अर्थव्यवस्था को संरचनागत सुधार की जरूरत है।

इसलिए नए वर्ष में इन आर्थिक हालातों को सुधारने की चुनौती भी है। सरकार को ऐसी परिस्थितियों में उचित मौद्रिक और राजकोषीय नीति अपनाने की जरूरत है। यह ठीक होगा इस नीति द्वारा सरकार कर और व्यय में परिवर्तन द्वारा पूर्ण रोजगार और कÞीमत स्तर में स्थिरता लाने का प्रयास करती है। सरकार को सार्वजनिक व्यय में वृद्धि के प्रयास करने चाहिए जैसे सड़कें, बांध, स्कूलें,अस्पताल आदि जिससे रोजगार, आय और मांग का सृजन होगा। इसी के साथ करों में कमी उपभोक्ताओं के व्यय योग्य आय में वृद्धि करती है। यह प्रयास तभी कारगर साबित होगा जब सरकार करों में कोई वृद्धि नहीं करती है। इसी तरह मौद्रिक नीति में मुद्रा की पूर्ति में वृद्धि की जानी चाहिए, जिसके परिणामस्वरूप ब्याज की दर में कमी आएगी तथा निजी विनियोग में वृद्धि भी होगी। इन आर्थिक हालातों से निजात पाने के लिए सरकार चाहे तो उचित विस्तारक मौद्रिक और राजकोषीय नीतियों की आजमाइश कर सकती हैं, जहां तक हो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और सरकार को राजकोषीय नीति अपनाने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि राजकोषीय प्रबन्ध से सफलता की सम्भावना अधिक रहती है।

अर्थव्यवस्था के कई प्रमुख क्षेत्रों को प्रभावित हुए हैं। इसलिए जरूरी है कि मांग में आ रही कमी को दूर किया जाए। यह तीन साल पहले नोटबंदी, जीएसटी, बैंकों के एनपी बढ़ने के साथ शुरू हो गई थी। इसकी वजह से मांग में कमी आना शुरू हो चुका था। पहले असंगठित क्षेत्रों में उसके बाद संगठित क्षेत्रों में दिक्कतें आना शुरू हो गयी। आॅटोमोबाइल सेक्टर उत्पादन में संकट, लाखों  नौकरियों का जाना आदि। इसलिए नये वर्ष 2020 में हमारे देश के आर्थिक हालातों को पटरी पर लाने की कोशिश सर्वोपरि होनी चाहिए। अर्थव्यवस्था में आई मंदी इतनी जल्दी समाप्त होने वाली नहीं है। फिर भी हम आशा करते हैं कि नव वर्ष 2020 में ही इस आर्थिक मंदी के खत्म होने की संभावना है। इसके साथ ही मौजूदा सरकार गंभीरतापूर्वक विचार करके इन हालातों से उबरने की कोशिश करेगी।

- रमेश जोगचन्द
(ये लेखक के अपने विचार हैं)


 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

इन दिनों पिंकसिटी की गली-गली में हाथ वाली ज्योति की चर्चा जोरों पर है। हो भी क्यों नहीं, गुजरे जमाने में टीआरपी में अपनी ही पार्टी के सांसद भाई साहब को भी काफी पीछे जो छोड़ दिया था।

22/04/2019

जानिए राजकाज में क्या है खास?

सूबे में इन दिनों दोनों दलों में अशांति है लेकिन दोनों बड़े बंगलों में पूर्ण शांति है। सिविल लाइन्स स्थित इन दोनों बंगलों में रहने वाले बड़े लोग भी चुपचाप तमाशा देख रहे हैं। हाथ वाले भाई लोगों में नौ महीनों से शांति की तलाश है, तो कमल वाले भाइयों में तीन महीने से अशांति है। दोनों तरफ काचे कलवों की कमी नहीं हैं।

01/03/2021

चुनाव को सरकारी अनुदान दीजिए

एनडी की भारी जीत ने हमारी चुनावी व्यवस्था में पार्टियों के वर्चस्व को एक बार फिर स्थापित किया है। विशेष यह की चुनाव में जनता के मुद्दे पीछे और व्यक्तिगत मुद्दे आगे थे।

27/05/2019

कुपोषण घटा पर मोटापे का संकट बढ़ा

देश में कुपोषितों की संख्या में तेजी से कमी आई है। हालांकि बढ़ता मोटापा नए संकट की ओर इशारा कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ की हालिया रिपोर्ट में यह कहा है कि दुनिया के देशों में रोटी का संकट बढ़ा है।

11/09/2019

क्या ग्राहक के अधिकार सुरक्षित हैं?

अब जरा इस बात को परखिए कि ज्यादातर जो जिला अदालतें हैं उनकी क्या हालत है। फर्नीचर के नाम पर न्यायाधीशों के बैठने तक के लिए ठीकठाक कुर्सी मेज नहीं हैं तो फिर जो शिकायत लेकर आया है तो उसके लिए टूटी फूटी बेंच और कई जगह तो वो भी नहीं, खड़े रहकर अपना मुकदमा लड़िए, जैसी हालत के लिए क्या प्रशासन जिम्मेदार नहीं है।

12/08/2019

वायु प्रदूषण बना बड़ी चुनौती

वायु प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकारों को लताड़ा- आप सड़क की धूल निर्माण, ध्वंस और कूड़े के निस्तारण से नहीं निपट सकते हैं तो आप इस पद पर क्यों बने हुए हैं? आपको लोगों के अरमानों को पूरा करना है। अगर आप ये नहीं कर सकते तो आप यहां क्यों रहेंगे? आप अपनी ड्यूटी निभाने में पूरी तरह नाकाम रहे हैं। आपने किस तरह का रोडमैप अपनाया है?

18/11/2019

अब हमें सबका विश्वास जीतना है

पहले कभी योजना आयोग विकास के लिए व्यवस्था के विकेन्द्रीय की बात करता था तो अब नीति आयोग-साधनों के केन्द्रीकरण पर जोर दे रहा है।

20/06/2019