Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 28th of September 2021
 
ओपिनियन

क्या बदलेगा राजनीति का चेहरा

Thursday, February 13, 2020 10:00 AM
अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

भारतीय राजनीति में दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों ने वायदों को नकारने और हकीकत को स्वीकारने की एक नई शुरुआत कर दी है या भारतीय मतदाता ने अपनी परिपक्वता पर मुहर लगा बता दिया कि कौन कितने पानी में है। निश्चित रूप से धड़कनें तो सभी दलों की बढ़ गईं है, क्योंकि कथनी और करनी के बीच फर्ककरने की मतदाताओं की निपुणता ने दिग्गजों की अटकलों को ध्वस्त जरूर कर दिया। दिल्ली नतीजों के ट्रेन्ड ने होने वाले बिहार व प. बंगाल में संभावित विधानसभा चुनावों को लेकर वहां राजनीतिक दलों की परेशानी खासी बढ़ा दी है। जिसका काम दिखेगा, सत्ता तक वही पहुंचेगा की नई शुरुआत ने जुबानी जमा खर्च और जुमलों के सहारे जीतने के मंसूबों को बुरी तरह से ध्वस्त कर खलबली मचा दी है। आम आदमी पार्टी की लगातार तीसरी और सरीखे भारी, भरकम सफलता ने देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा को सोचने को तो मजबूर कर ही दिया। कांग्रेस के लिए अस्तित्व बचाए रखने की नई चुनौती भी पेश कर दी। इसके साथ ही केन्द्र और राज्य की राजनीति का असली फर्क भी जतला दिया तथा हर कहीं व्यक्ति केन्द्रित राजनीति,  मतदाताओं का ध्रुवीकरण, जांत-पांत की खाई और नकारात्मकता के प्रवाह के जरिए वोट हासिल करने वालों को आगाह भी कर दिया है। दिल्ली में वोट प्रतिशत के लिहाज से भी एक अलग नजारा दिखा जिसका अलग बारीकी से विश्लेषण होगा व नतीजों को दूसरे दृष्टिकोणों से भी देखा जाएगा। अलबत्ता केजरीवाल की जीत को लेकर संदेह किसी को नहीं था हां सारे सर्वेक्षणों का निचोड़ भी सभी को जोड़कर औसत ही दिखा।

यानी चुनाव के पहले ही जीत की सच्चाई सबको पता थी पर आंकड़ों की सच्चाई हमेशा ऊपर नीचे दिखी है। दिल्ली के नतीजों से इतना तो साफ  हो गया है कि केन्द्र हो या राज्य सभी सरकारों को जनता की कसौटी पर खरा उतरना ही होगा वरना हिसाब-किताब करने में माहिर मतदाता जरा सी भी चूक नहीं करेगा। इसके अलावा केन्द्र और राज्य की राजनीति का फर्क भी उसी मतदाता ने समझा दिया है जिसने पिछले आम चुनाव में दिल्ली में लोकसभा की सभी सातों सीट पर भाजपा को बड़े बहुमत से वोट देकर झोली भरी थी उसे ही महज 9 महीनों में हासिए पर पहुंचा दिया। विकास के मुद्दे और जनसरोकारों से सीधे जुड़ने की आम आदमी पार्टी की हकीकत ने केन्द्र में अपने दम पर पूर्ण बहुमत पा चुकी भाजपा को विधानसभा में औंधे मुंह गिरने को मजबूर कर दिया। वायदों और क्रियान्वयन को लेकर आम आदमी पार्टी की एक नई केमेस्ट्री की शुरुआत हो चुकी है जो विधानसभा के रास्ते लोकसभा के सफर पर निकल सकती है। दिल्ली के चुनाव में न नकारात्मक राजनीति ही चली और न ही मतदाताओं का ध्रुवीकरण दिखा। यदि ऐसा होता तो पूर्वांचल के मतदाताओं की 40 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ नतीजे कुछ और ही होते तथा भाजपा को और ज्यादा सीटें मिलती। जाहिर है दिल्ली विधानसभा के इस चुनाव ने राजनीति की नई परिभाषा गढ़ी है और वह है वायदे, जो हकीकत में पूरे होते दिखे। दिल्ली में सरकारी स्कूलों के बदले रंग रूप और बेहतरीन पढाई, मोहल्ला क्लीनिकों की असरदार स्वास्थ्य सुविधा लंबे-चौड़े बिजली बिलों से छुटकारा ऊपर से 200 यूनिट फ्री बिजली का तोहफा महिलाओं को सम्मान के साथ डीटीसी की बसों में मुफ्त सवारी की सुविधा, पानी के बिलों में कटौती और नए जमाने में युवाओं को लुभाने फ्री वाई-फाई यानी करीब आधा दर्जन वो हकीकत जो सीधे-सीधे आम आदमी से जुड़ी हैं और जेब पर असर डालती हैं।

शायद बड़े-बड़े लोकलुभावन वायदों की फेहरिस्त से ऊब चुका मतदाता थोड़े से ही लेकिन असर डालने वाले वायदों पर अमल से कितना खुश हो जाता है। निश्चित रूप से चाहे फ्री बिजली हो या पानी यह केवल जेब की बचत नहीं बल्कि बचत की आदत को बढ़ाने जैसा रहा। वरना कई राज्यों में फ्री लैपटॉप, रंगीन टीवी, सस्ता खाना और हाल में घर-घर शौचालय, सस्ता और अनिवार्य बीमा, उज्ज्वला के तहत मुफ्त सिलेण्डर, किसानों को नकद सहायता जैसी तमाम सुविधाओं के मुकाबले दिल्ली से निकला महज आधा दर्जन मदद  फॉर्मूला ज्यादा असर दिखा गया। निश्चित रूप से सरकारी स्कूल, अस्पताल, दवा, बिजली, पानी वो अहम मुद्दे होंगे जो अगले चुनावों में हर राज्य में सभी दलों के लिए खास होने वाले हैं। यह वही आम आदमी पार्टी है जो 26 नवंबर 2012 को  दिल्ली के जंतर-मंतर में भारतीय संविधान अधिनियम की 63वीं वर्षगांठ के अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के लोकपाल आन्दोलन से जुड़े तमाम सहयोगियों के आन्दोलन से उपजी और दिल्ली में मजबूत पकड़ बनाई तथा अनेकों नामी, गिरामी हस्तियां जुड़ती गईं। बाद में उसी तेजी से तमाम हस्तियों ने आम आदमी पार्टी से खुद को अलग भी कर लिया या फिर पार्टी ने ही बाहर जाने को मजबूर कर दिया। एक बार तो यह भी लगने लगा था कि अकेले केजरीवाल कब तक चल पाएंगे। लेकिन दिल्ली की नब्ज को पकड़ चुके केजरीवाल ने चंद भरोसेमंद सहयोगियों के सहारे ही भारतीय राजस्व सेवा की अपनी काबिलियत का इस्तेमाल किया और वायदों की फेहरिस्त के बजाए जनसाधारण से सीधे जुड़कर असर डालने वाले गिने-चुने अहम मुद्दों पर अपना ध्यान केन्द्रित किया और बिना भटके जुटे रहे। उन्होंने यह साबित कर दिया कि मजबूत इच्छा शक्ति और काम करने की नीयत के आगे चुनौती कुछ हो ही नहीं सकती।       

- ऋतुपर्ण दवे

(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

इन दिनों सुन्दरकांड को लेकर सूबे की सबसे बड़ी पंचायत में चर्चा जोरों पर है। सुन्दरकांड भी कोई छोटा-मोटा पंडित नहीं बांच रहा

15/07/2019

रायसीना डायलॉग से बढ़ा भारत का कद

ईरान की कुर्द सेना के कमांडर कासीम सुलेमानी की हत्या के तुरंत बाद होने वाले रायसीना डायलॉग काफी अहम माना जा रहा था।

24/01/2020

इसरो, ये देश आपके साथ है

चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का चांद पर उतरते समय जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया। जिसके बाद पीएम मोदी ने इसरो सेंटर से देश को संबोधित किया। पीएम ने वैज्ञानिकों से कहा, ‘हर मुश्किल’ हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है, कुछ नए आविष्कार, नई टेक्नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती हैं।

10/09/2019

जानिए राजकाज में क्या है खास?

दो साल के जलसे में डूबे हाथ वाले कुछ भाई लोगों की नजरें दिल्ली की तरफ टिकी हुई हैं। वे पल-पल की खबरें ले रहे हैं। ले भी क्यों नहीं, जोधपुर वाले अशोकजी भाईसाहब का दस महीने बाद पगफेरा जो हुआ है। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वाले के ठिकाने पर चर्चा है कि भाईसाहब का जब भी दिल्ली में पगफेरा होता है तो किसी न किसी का हिट विकेट होता है।

21/12/2020

पुनर्विचार याचिका का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण

सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा अयोध्या मामले पर आगे न बढ़ने के निर्णय के बावजूद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल बोर्ड पुनर्विचार याचिका डलवाएगा। जमीयत उलेमा हिंद का एक गुट भी कोर्ट जा रहा है। वस्तुत: अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से देश के बहुमत ने यह सोचते हुए राहत की सांस ली कि 491 वर्ष के विवाद का बेहतरीन हल निकल आया है।

04/12/2019

जानिए राज काज में क्या है खास

पिंकसिटी में दस दिनों से भोजन पॉलिटिक्स की चर्चा जोरों पर है। हो भी क्यूं ना, पहली बार हाथ के साथ कमल वालों ने भी भोजन कराने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

13/05/2019

फिर भी राजस्थान बदल रहा है!

राजस्थान में विकास और परिवर्तन का कुछ ऐसा उत्साह दिखाई देता है कि चारों तरफ तरह-तरह के अधिकार मांगने वाले समूह गांव-गांव तक सक्रिय हैं। हम राजस्थान को भी भारत का एक विकासशील प्रदेश ही कह सकते हैं। यहां पिछले 70 साल में सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक क्षेत्र का महत्वपूर्ण विकास भी हुआ है, लेकिन हम अभी ये नहीं कह सकते कि हमारे यहां सब कुछ ठीक है और हमारे सभी सपने पूरे हो गए हैं।

17/10/2019