Dainik Navajyoti Logo
Thursday 23rd of January 2020
 
ओपिनियन

इंटरनेट की दुनिया में खोता बच्चों का बचपन

Friday, December 27, 2019 12:05 PM
सांकेतिक तस्वीर।

यह आंकड़ा वास्तव में चेताने वाला है कि खेलने-कूदने की उम्र के साढ़े छह करोड़ बच्चे इंटरनेट की दुनिया में डूबे रहते हैं। इसमें कोई दोराय नहीं कि इंटरनेट ज्ञान का भण्डार है पर यह भी नहीं भूलना चाहिए कि ज्ञान का यह भण्डार सतही अधिक है। हालांकि यह सब कुछ होते हुए भी बड़े-बूढ़े, ज्ञानी-ध्यानी तक गूगल बाबा की सहायता लेने में कोई संकोच नहीं करते है पर बच्चों में इंटरनेट की लत पड़ने को किसी भी स्थिति में उचित नहीं ठहराया जा सकता है। इससे सीधे-सीधे बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर असर पड़ रहा है। सबसे चिंतनीय यह है कि इंटरनेट की लत के चलते बच्चों पर मनोविज्ञानिक असर अधिक पड़ रहा है। भारत इंटरनेट 2019 की हालिया रिपोर्ट में उभर कर आया है कि देश में 45 करोड़ के लगभग इंटरनेट उपयोगकर्ता है। हालांकि इसमें हम चीन से थोड़ा पीछे हैं पर चिंतनीय यह है कि देश में 5 से 11 साल की उम्र के बच्चों में साढ़े छह करोड़ बच्चे नियमित रुप से इंटरनेट का उपयोग करते हैं। यह कुल उपयोगकर्ताओं का करीब 15 फीसदी है। हालांकि बदलते सिनेरियों में पांच साल से कम उम्र के बच्चों के इंटरनेट के उपयोग के आंकड़ों को और जोड़ा जाए तो यह आंकड़ा और अधिक ही होगा।

दरअसल स्मार्टफोन ने सब कुछ बदल कर रख दिया है। क्या बच्चे, क्या बड़े-बूढ़े धडल्ले से मोबाइल फोन का उपयोग कर रहे हैं। पीसी हो या लेपटॉप या फिर स्मार्टफोन बच्चे इंटरनेट का उपयोग करने में आगे हैं। कारण चाहे कोई भी माने पर इतनी बड़ी संख्या में बच्चों द्वारा इंटरनेट का उपयोग और यदि यह कहा जाए कि उपयोग ही नहीं लत है तो यह अपने आप में गंभीर है। भले ही पक्षधर कुछ भी कहे पर इसमें कोई दोराय नहीं होनी चाहिए कि इंटरनेट की लत से बच्चों को स्वाभाविक सामाजिक-मानसिक पर विपरीत असर पड़ रहा है। बच्चों का जरे स्वाभाविक विकास होना चाहिए वह नहीं हो रहा है और यह कहे तो कोई अतिश्योक्ति नहीं कि इंटरनेट के अत्यधिक उपयोग के दुष्परिणाम सामने आते जा रहे हैं। दरअसल पूरा सामाजिक ताना-बाना बिगड़ता जा रहा है। बच्चों की मिलनशीलता और संवेदनशीलता खोती जा रही है। शारीरिक मानसिक विकास के परंपरागत गेम्स अब वीडियो गेम्स में बदलते जा रहे हैं। परंपरागत खेलों से होने वाला स्वाभाविक विकास अब वीडियो गेम्स के बदला लेने, मरने मारने वाले गेम्स लेते जा रहे हैं। यही कारण है कि बच्चे तेजी से आक्रामक होते जा रहे हैं। समूह में रहना या यों कहे कि दो लोगों के साथ रहने, आपसी मेलजोल को यह इंटरनेट खत्म करता जा रहा है। पड़ोस की तो दूर घर में ही बच्चे स्मार्टफोन पर गेम्स या यूट्यूब के वीडियो में इस तरह से खोए रहते हैं कि आपस में बात करने तक की फुर्सत नहीं दिखती।

बच्चों में मोटापा बढ़ता जा रहा है। चिड़चिड़ापन आता जा रहा हैं, अपने में खोए रहने की आदत बनती जा रही है। इसमें कोई दोराय नहीं कि आज के बच्चे अधिक स्मार्ट होते जा रहे हैं। मोबाइल फोन के फंक्शंस को आपरेट करने में बड़ों से भी आगे हैं। अन्य जानकारियां भी खूब होती जा रही है पर दिमाग पर बोझ इस कदर बढ़ता जा रहा है कि शारीरिक और मानसिक रुप से बच्चे प्रभावित होते जा रहे हैं। खेलकूद के मैदानों की जगह टेलीविजन, कम्प्यूटर और मोबाइल लेते जा रहे हैं। चार बच्चों के साथ खेलने घूमने की जगह अब नए गेम्स और मायावी दुनिया में हो रही गतिविधियां चर्चा का विषय बन रही है। यह कहना बेमानी होगा कि केवल शहरी बच्चे ही इस लत कि शिकार है। बल्कि रिलायंस को शुरुआती विज्ञापन हो वीरेन्द्र सहवाग को लेकर फिल्माया गया था और संदेश था कर लो दुनिया मुठ्ठी में आज साकार हो गया है। बच्चों-बड़ों के हाथों में आज मोबाइल आम होता जा रहा है।

हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इंटरनेट केवल और केवल ज्ञान या मनोरंजक ही है अपितु इंटरनेट पर बहुत अधिक मात्रा में इस तरह की सामग्री परोसी हुई है जो बच्चों पर गलत असर डालने वाली है। पोर्न साइटों का अंबार लगा है तो मारधाड़ और बदला लेने के भावों को उकेरने वाली सामग्री भी कम नहीं है। बच्चों में आत्महत्या करने तक के उदाहरण सामने आ रहे हैं तो मारना पीटना, लड़ाई-झगड़ा तो आम होता जा रहा है। जिस तरह से रियलिटी शो के नाम पर बच्चे असमय ही बड़े होते जा रहे हैं ठीक उसी तरह से इंटरनेट और इससे जुड़ी गतिविधियां बच्चों की मानसिकता को प्रभावित कर रही है। इसे केवल और केवल इसी से समझा जा सकता है कि अब कहीं भी कुछ होने लगता है तो सरकार का पहला हथियार इंटरनेट सेवाओं को बाधित करना हो गया है। कहने को कुछ नहीं रह जाता बल्कि यह स्थिति अपने आप में हालातों की गंभीरता को दर्शाती है। ना तो इंटरनेट का विरोध है और ना ही इसकी उपयोगिता पर कोई प्रश्न उठाया जा रहा है पर इतनी अधिक संख्या में बच्चों में लत के रुप में इंटरनेट का उपयोग और समाज में दिन-प्रतिदिन दिख रहे उदाहरण अपने आप में गंभीरता की ओर इशारा कर रहे हैं। एक सीमा तक इंटरनेट का उपयोग ठीक है पर बच्चों द्वारा अत्यधिक उपयोग और एकाकी होने की प्रवृति गंभीर है और समाज विज्ञानियों और शिक्षाविदों को इस विषय में गंभीर चिंतन मनन करना होगा।
डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा (ये लेखक के अपने विचार हैं) 
 

यह भी पढ़ें:

मारवाड़ी और व्यापारिक विकास

विश्व में भारत की गणना एक व्यापारिक देश के रूप में की जाती है। सम्पूर्ण विश्व में व्यापारिक विकास की दृष्टि से राजस्थानियों की अति महत्वपूर्ण भूमिका है

21/05/2019

हेकड़ी बनाम वाटर-बम

आज ‘हेकड़ी’ की बात करते हैं। इसकी बात इसलिए उठी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाड़मेर की चुनाव सभा में इस शब्द का इस्तेमाल जो किया।

23/04/2019

सौ दिन के साहसिक फैसलों के उजाले

नरेंद्र मोदी ने अपनी दूसरी पारी के सौ दिन में अब तक सात देशों की विदेशी यात्राओं के दौरान द्विपक्षीय संबंधों को नया आयाम दिया है।

12/09/2019

भाषा को धर्मों से जोड़ना गलत

वह बचपन से संस्कृत पढ़ रहा था। उसके पिता भी संस्कृत के विद्वान हैं। पहली कक्षा से लेकर एमए तक की पढ़ाई में संस्कृत उसका विषय रहा। संस्कृत में ही डॉक्टरेट भी की उसने। बीएड भी। विश्वविद्यालय में पढ़ाने की सारी योग्यताएं-अर्हताएं उसके पास हैं। पर वह संस्कृत पढ़ा नहीं सकता। नहीं पढ़ा तो सकता है, पर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग में नहीं।

22/11/2019

अपराधियों में कानून का भय क्यों नहीं?

महिला अत्याचारों को लेकर देश में कठोर कानून का प्रावधान है।यहां तक कि जघन्य अपराधों के लिए फांसी की सजा का प्रावधान भी है।

18/05/2019

नीयति बन चुकी है दिल्ली की जहरीली हवा

देश की राजधानी दिल्ली के लोग आजकल जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर हैं। मौजूदा हालात इस बात के जीते जागते सबूत हैं। ऐसा लगता है कि जहरीली हवा में सांस लेना उनकी नियति बन चुका है।

21/10/2019

एक साथ चुनाव देश हित में

निस्संदेह, एक साथ चुनाव को लेकर दो मत हैं, लेकिन विरोधियों का तर्क कल्पनाओं पर ज्यादा आधारित है। वे मानते हैं कि भाजपा अपने लोकप्रिय कार्यक्रमों का लाभ उठाकर मतदाताओं को प्रभावित करने में सफल होगी तथा लोकसभा के साथ विधानसभाओं और स्थानीय निकायों में भी सफलता पा लेगी।

02/07/2019