Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 26th of January 2021
Dainik Navajyoti flag
 
ओपिनियन

यह थी दीये और तूफान की लड़ाई

Wednesday, February 12, 2020 10:55 AM
केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

दिल्ली देश की राजधानी, यहां हुए विधानसभा के चुनाव पर पूरे देश की नजरें टिकीं थीं और हो भी क्यों न, यहां मुकाबला एक दीये और तूफान के बीच जो था। एक तरफ थी विश्व की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी और दूसरी तरफ आम आदमी अरविंद केजरीवाल की पार्टी आप। भाजपा ने इस चुनाव में अपना पूरा जोर लगा दिया था। 250 सांसद, 6 प्रदेशों के मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री और देशभर से आए कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में प्रचार किया। इतना ही नहीं  प्रधानमंत्री ने यहां रैलियां की और भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले और देश के गृहमंत्री अमित शाह ने आम कार्यकर्ताओं की तरह गली-गली घूमकर चुनाव प्रचार किया। दूसरी तरफ सिर्फ और सिर्फ आम आदमी पार्टी के स्थानीय कार्यकताओं की मेहनत। भाजपा ने इस चुनाव में पाकिस्तान-हिंदुस्तान और रामभक्त हनुमान तक को मुद्दा बनाया। केजरीवाल ने सिर्फ विकास के नाम पर वोट मांगा। भाजपा ने इस चुनाव को मोदी बनाम केजरीवाल करने की भी लाख कोशिशें की गई, लेकिन केजरीवाल ने बड़ी ही विनम्रता से मोदी को अपना प्रधानमंत्री बताकर स्वयं को सिर्फ दिल्ली का बेटा बताया और दिल्ली के दो करोड़ लोगों के दिल में जगह बनाई।

केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों की नब्ज जानकर शिक्षा, स्वास्थ और सुरक्षा को ही अपना मुद्दा बनाया। केजरीवाल ने तो चुनाव प्रचार के शुरू में ही कह दिया था कि अगर दिल्ली की जनता को लगता है कि उन्होंने विकास किया है तो वे आम आदमी पार्टी को वोट दें वरना भाजपा को वोट कर सकते हैं। मंगलवार को आए परिणामों ने बता दिया कि दिल्ली की जनता ने क्या चुना है। परिणामों से साफ है कि धर्म, जात, हिंदुस्तान-पाकिस्तान की बजाय विकास ही चुना गया। यह चुनाव न केवल दिल्ली बल्कि पूरे देश के लिए मिसाल है। केजरीवाल की जीत से यही लगता है कि अब राजनीति के मुद्दे कुछ अलग हो गए हैं। अब जो विकास करेगा, लोगों की बुनियादी जरूरतों की बात करेगा,वही चुनाव जीतेगा। केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।
 

यह भी पढ़ें:

मंदी तोड़ने के उपाय

भारतीय अर्थव्यवस्था पर संकट के बादल छंटते नहीं दिख रहे हैं। तमाम संस्थाओं का अनुमान है कि वर्तमान आर्थिक विकास दर चार से पांच प्रतिशत के बीच रहेगी

19/11/2019

आयुर्वेद के जन्मदाता हैं धन्वंतरि

दीवाली से दो दिन पूर्व ‘धनतेरस’ त्यौहार मनाया जाता है। सही मायनों में दीवाली के पंच पर्व की शुरूआत ही स्वास्थ्य चेतना जागृति के इसी पर्व से होती है। ‘धनवंतरि जयंती’ आरोग्य के देवता धन्वंतरि का अवतरण दिवस है। भगवान विष्णु के 24 अवतारों में 12वां अवतार धन्वंतरि का माना गया है।

25/10/2019

राजनीति में अपराधीकरण

देश की राजनीति को अपराधीकरण से मुक्त करने के लिए अपराधी राजनेताओं का राजनीति में भाग लेने पर संपूर्ण प्रतिबंध लगाना बहुत जरूरी है।

04/02/2020

एक साथ चुनाव देश हित में

निस्संदेह, एक साथ चुनाव को लेकर दो मत हैं, लेकिन विरोधियों का तर्क कल्पनाओं पर ज्यादा आधारित है। वे मानते हैं कि भाजपा अपने लोकप्रिय कार्यक्रमों का लाभ उठाकर मतदाताओं को प्रभावित करने में सफल होगी तथा लोकसभा के साथ विधानसभाओं और स्थानीय निकायों में भी सफलता पा लेगी।

02/07/2019

एक साथ चुनाव आसान नहीं

भारत में लोकसभा के साथ विधानसभाओं के चुनाव पहले कई बार हो चुके हैं। 1951-52, 1957, 1962 और 1967 में राज्य विधानसभा चुनावों का आयोजन लोकसभा चुनाव के साथ ही हुआ था।

26/06/2019

राजनीतिक इस्तीफों का दौर

सवाल उठता है, क्या निर्वाचित प्रतिनिधि का यह दायित्व नहीं बनता कि वह अपना कदम उठाने से पहले उनसे भी कुछ पूछ ले जिन्होंने उन्हें अपना प्रतिनिधि चुना है?

12/07/2019

जलवायु परिवर्तन से बंजर होती जमीन

जलवायु परिवर्तन समूची दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा बन चुका है। जलवायु परिवर्तन से जहां समुद्र का जलस्तर बढ़ने से कई द्वीपों और दुनिया के तटीय महानगरों के डूबने का खतरा पैदा हो गया है।

08/11/2019