Dainik Navajyoti Logo
Saturday 22nd of February 2020
 
ओपिनियन

यह थी दीये और तूफान की लड़ाई

Wednesday, February 12, 2020 10:55 AM
केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

दिल्ली देश की राजधानी, यहां हुए विधानसभा के चुनाव पर पूरे देश की नजरें टिकीं थीं और हो भी क्यों न, यहां मुकाबला एक दीये और तूफान के बीच जो था। एक तरफ थी विश्व की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी और दूसरी तरफ आम आदमी अरविंद केजरीवाल की पार्टी आप। भाजपा ने इस चुनाव में अपना पूरा जोर लगा दिया था। 250 सांसद, 6 प्रदेशों के मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री और देशभर से आए कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में प्रचार किया। इतना ही नहीं  प्रधानमंत्री ने यहां रैलियां की और भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले और देश के गृहमंत्री अमित शाह ने आम कार्यकर्ताओं की तरह गली-गली घूमकर चुनाव प्रचार किया। दूसरी तरफ सिर्फ और सिर्फ आम आदमी पार्टी के स्थानीय कार्यकताओं की मेहनत। भाजपा ने इस चुनाव में पाकिस्तान-हिंदुस्तान और रामभक्त हनुमान तक को मुद्दा बनाया। केजरीवाल ने सिर्फ विकास के नाम पर वोट मांगा। भाजपा ने इस चुनाव को मोदी बनाम केजरीवाल करने की भी लाख कोशिशें की गई, लेकिन केजरीवाल ने बड़ी ही विनम्रता से मोदी को अपना प्रधानमंत्री बताकर स्वयं को सिर्फ दिल्ली का बेटा बताया और दिल्ली के दो करोड़ लोगों के दिल में जगह बनाई।

केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों की नब्ज जानकर शिक्षा, स्वास्थ और सुरक्षा को ही अपना मुद्दा बनाया। केजरीवाल ने तो चुनाव प्रचार के शुरू में ही कह दिया था कि अगर दिल्ली की जनता को लगता है कि उन्होंने विकास किया है तो वे आम आदमी पार्टी को वोट दें वरना भाजपा को वोट कर सकते हैं। मंगलवार को आए परिणामों ने बता दिया कि दिल्ली की जनता ने क्या चुना है। परिणामों से साफ है कि धर्म, जात, हिंदुस्तान-पाकिस्तान की बजाय विकास ही चुना गया। यह चुनाव न केवल दिल्ली बल्कि पूरे देश के लिए मिसाल है। केजरीवाल की जीत से यही लगता है कि अब राजनीति के मुद्दे कुछ अलग हो गए हैं। अब जो विकास करेगा, लोगों की बुनियादी जरूरतों की बात करेगा,वही चुनाव जीतेगा। केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।
 

यह भी पढ़ें:

बढ़ रहा है धरती पर संकट

अब यह जगजाहिर है और समूची दुनिया में किए गए शोधों-अध्ययनों से साबित भी हो गया है कि प्राकृतिक संसाधनों के बेतहाशा उपयोग और भौतिक सुख-संसाधनों की चाहत में बढ़ोतरी

22/04/2019

'बच्चों को ढाल बनाते हैं उपद्रवी, 95 प्रतिशत कश्मीरी शांति से चाहते हैं हल'

गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जम्मू-कश्मीर के हालात पर बात की। राजनाथ ने कांफ्रेंस में कहा कि कश्मीर में छोटे बच्चों को बरगलाया जाता है, कुछ लोग बच्चों को पत्थर मारने के लिए तैयार करते हैं। सभी कश्मीर में शांति चाहते हैं, घाटी के हालात को लेकर बहुत दुखी हूं।

25/08/2016

मारवाड़ी और व्यापारिक विकास

विश्व में भारत की गणना एक व्यापारिक देश के रूप में की जाती है। सम्पूर्ण विश्व में व्यापारिक विकास की दृष्टि से राजस्थानियों की अति महत्वपूर्ण भूमिका है

21/05/2019

गहलोत सरकार की वित्तीय चुनौतियां

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की गठबंधन युक्त कांग्र्रेस सरकार को एक वर्ष हो गया है जिसका अधिकांश समय लोकसभा व स्थानीय सरकारों के चुनावों में व्यतीत हो गया है तथा आगामी लगभग 6 माह का समय भी पंचायतों के चुनावों में चला जाएगा।

09/12/2019

चुनावी परिदृश्य पहले से साफ था

लोकसभा के चुनाव परिणाम बिल्कुल अपेक्षित हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में राजग राष्टÑीय स्तर पर विचारधारा एवं रणनीति के मामले में संगठित ईकाई के रुप में उतरा था तथा पांच-छ: राज्यों को छोड़ दें तो उसका

28/05/2019

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

निष्ठा तो निष्ठा ही होती है, वह कब और कहां तथा किसके प्रति बदल जाए, कुछ नहीं कहा जा सकता।

01/07/2019

ह्यूस्टन महारैली और राजनीति

प्रधानमंत्री मोदी की विदेश यात्राएं हमेशा चर्चा में रही हैं। पहले भी वे जब-जब विदेशों में भारतीय मूल के लोगों से मिले हैं, उसे भारत में नागरिकों द्वारा बड़े कौतुहल और प्रशंसा की दृष्टि से देखा गया है। लेकिन इस बार अमेरिका-यात्रा के दौरान ह्यूस्टन में हुआ भव्य आयोजन विशेष रूप से चर्चा में है

27/09/2019