Dainik Navajyoti Logo
Monday 21st of September 2020
 
ओपिनियन

यह थी दीये और तूफान की लड़ाई

Wednesday, February 12, 2020 10:55 AM
केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

दिल्ली देश की राजधानी, यहां हुए विधानसभा के चुनाव पर पूरे देश की नजरें टिकीं थीं और हो भी क्यों न, यहां मुकाबला एक दीये और तूफान के बीच जो था। एक तरफ थी विश्व की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी और दूसरी तरफ आम आदमी अरविंद केजरीवाल की पार्टी आप। भाजपा ने इस चुनाव में अपना पूरा जोर लगा दिया था। 250 सांसद, 6 प्रदेशों के मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री और देशभर से आए कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में प्रचार किया। इतना ही नहीं  प्रधानमंत्री ने यहां रैलियां की और भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले और देश के गृहमंत्री अमित शाह ने आम कार्यकर्ताओं की तरह गली-गली घूमकर चुनाव प्रचार किया। दूसरी तरफ सिर्फ और सिर्फ आम आदमी पार्टी के स्थानीय कार्यकताओं की मेहनत। भाजपा ने इस चुनाव में पाकिस्तान-हिंदुस्तान और रामभक्त हनुमान तक को मुद्दा बनाया। केजरीवाल ने सिर्फ विकास के नाम पर वोट मांगा। भाजपा ने इस चुनाव को मोदी बनाम केजरीवाल करने की भी लाख कोशिशें की गई, लेकिन केजरीवाल ने बड़ी ही विनम्रता से मोदी को अपना प्रधानमंत्री बताकर स्वयं को सिर्फ दिल्ली का बेटा बताया और दिल्ली के दो करोड़ लोगों के दिल में जगह बनाई।

केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों की नब्ज जानकर शिक्षा, स्वास्थ और सुरक्षा को ही अपना मुद्दा बनाया। केजरीवाल ने तो चुनाव प्रचार के शुरू में ही कह दिया था कि अगर दिल्ली की जनता को लगता है कि उन्होंने विकास किया है तो वे आम आदमी पार्टी को वोट दें वरना भाजपा को वोट कर सकते हैं। मंगलवार को आए परिणामों ने बता दिया कि दिल्ली की जनता ने क्या चुना है। परिणामों से साफ है कि धर्म, जात, हिंदुस्तान-पाकिस्तान की बजाय विकास ही चुना गया। यह चुनाव न केवल दिल्ली बल्कि पूरे देश के लिए मिसाल है। केजरीवाल की जीत से यही लगता है कि अब राजनीति के मुद्दे कुछ अलग हो गए हैं। अब जो विकास करेगा, लोगों की बुनियादी जरूरतों की बात करेगा,वही चुनाव जीतेगा। केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।
 

यह भी पढ़ें:

मोदी के संदेश के मायने

प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देशभर में हुई हिंसा को लेकर कहा कि देश का सम्मान कीजिए, लोकसभा, राज्य सभा का सम्मान कीजिए, संविधान का सम्मान कीजिए लेकिन देश में आगजनी और हिंसा न फैलाइए। देश आपका है। जाति-धर्म की राजनीति करने वालों की उन ने जमकर खबर ली।

27/12/2019

वैश्विक तापमान बढ़ोतरी का संकट

बीते दिनों वैश्विक तापमान में बढ़ोतरी के खिलाफ नए सिरे से कदम उठाने और विश्व नेताओं पर दबाव बनाने के लिए यूरोप में लाखों लोग सड़क पर उतरे। कारण तापमान में दिनोंदिन हो रही बढ़ोतरी समूची दुनिया के लिए भीषण खतरा बनती जा रही है। दुनिया के वैज्ञानिक सबसे अधिक इसी बात से चिंतित हैं।

06/12/2019

हिन्दू संस्कृति में आदिदेव हैं गणेश

भाद्रप्रद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को गणेशजी का जन्मोत्सव गणेश चतुर्थी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। गणेश के रूप में विष्णु शिव-पावर्ती के पुत्र के रूप में जन्मे थे। उनके जन्म पर सभी देव उन्हें आशीर्वाद देने आए थे। विष्णु ने उन्हें ज्ञान का, ब्रह्मा ने यश और पूजन का, शिव ने उदारता, बुद्धि, शक्ति एवं आत्म संयम का आशीर्वाद दिया।

02/09/2019

भागो मत अपने को बदलो

बदलती दुनिया की इस महाभारत में सभी देश सामाजिक, आर्थिक युद्ध में उलझे हैं तथा जहां भी लोकतंत्र है। वहां सरकारें सत्ता में बने रहने के लिए विकल्पहीन होकर आम नागरिक को धर्म, जाति की राजनीति सिखा रही है।

23/01/2020

जानें राज-काज में क्या है खास

हाथ वाले भाई लोग जश्न की तैयारियों में जुटे हैं, मगर कइयों के चेहरों पर चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही है। उसका कारण भी खुली किताब की तरह है, जिसके पन्नों को हर कोई पढ़ रहा है।

20/05/2019

आर्थिक संकट से जूझता संयुक्त राष्ट्र

साफ है कि आर्थिक मंदी के बीच, जो काम अमेरिका जैसे विकसित देश नहीं कर सके वो काम आर्थिक मंदी से जूझ रहे भारत के मोदी सरकार ने कर दिखया है।

23/10/2019

भाषा को धर्मों से जोड़ना गलत

वह बचपन से संस्कृत पढ़ रहा था। उसके पिता भी संस्कृत के विद्वान हैं। पहली कक्षा से लेकर एमए तक की पढ़ाई में संस्कृत उसका विषय रहा। संस्कृत में ही डॉक्टरेट भी की उसने। बीएड भी। विश्वविद्यालय में पढ़ाने की सारी योग्यताएं-अर्हताएं उसके पास हैं। पर वह संस्कृत पढ़ा नहीं सकता। नहीं पढ़ा तो सकता है, पर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग में नहीं।

22/11/2019