Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of December 2021
 
ओपिनियन

युक्तिसगंत बनानी होगी एमएसपी व्यवस्था

Tuesday, November 23, 2021 13:10 PM
कॉन्सेप्ट फोटो

हालांकि केन्द्र सरकार ने कृषि कानूनों को वापस ले लिया है, पर किसान अभी भी एमएसपी को लेकर डटे हुए हैं। आजादी के 75 साल बाद भी एमएसपी पर खरीद कुछ फसलों तक ही सीमित है। वहीं एमएसपी व्यवस्था को युक्ति संगत बनाना आज भी आवश्यक है। इसमें कोई दोराय नहीं कि किसानों को मुख्य धारा में लाने के लिए एमएसपी व्यवस्था कारगर सिद्ध हो सकती है। समर्थन मूल्य पर खरीद व्यवस्था को कुछ फसलों तक ही खरीद के दायरे से बाहर निकालना होगा। अन्नदाता को आर्थिक विकास की मुख्य धारा से जोड़ने के लाख दावें किए जाते रहे हो पर वह दिन अभी दूर की कोड़ी ही है जब देश का अन्नदाता अपनी मेहनत से तैयार उपज का भाव स्वयं तय कर सकें। कई दशकों से चली आ रही एमएसपी व्यवस्था के बावजूद अभी एमएसपी के नाम पर ले देकर किसान गेहूं, चावल, कपास, गन्ना, सरसों, सोयाबीन, मूंगफली और अब पिछले कुछ सालों की बात करें तो मंूग-उड़द की बात की जा सकती है। दुनिया आज मोटे अनाज को लेकर गंभीर हुई है और मोटे अनाज को बढ़ावा देने की बात की जा रही हैं वहीं बाजरा आदि मोटे अनाज की खरीद कोसों दूर है। नेशनल सेंपल सर्वे की हालिया रिपोर्ट के अनुसार 2019 के दौरान देश में सिर्फ  पांच फसलों की खरीद ही दस प्रतिशत से ज्यादा रही है। हांलाकि गेहूं, चावल, गन्ना और कपास की खरीद अधिक मात्रा में होती रही है। पिछले सालों में एमएसपी दरों में अच्छी खासा बढ़ोतरी हुई है तो दूसरी और कृषि लागत में भी काफी बढ़ोतरी हुई है। इसलिए एमएसपी बढ़ने के बावजूद अधिक लाभ वाली बात नहीं है। यही कारण है कि नए कृषि कानूनों के चलते सबसे मुखर आवाज उभर कर आई है तो वह न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की व्यवस्था को लेकर हुई है। सरकार का दावा है कि नए कानूनों के बावजूद एमएसपी पर खरीद व्यवस्था जारी है और जारी रहेगी, वहीं किसानों की पैरवी करने वाले सभी संगठन एमएसपी को लेकर अधिक मुखर है। एमएसपी को लेकर देश में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। हालांकि एमएसपी को लेकर लाख संदेहों के बावजूद देश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद जारी है।


यह सही है कि पिछले कुछ सालों से फसल की बुवाई के समय या उसके आसपास ही फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्यों की घोषणा की जाने लगी है। इससे पहले देरी से एमएसपी की घोषणा को लेकर विवाद होता रहता था और यह कहा जाता था कि समय पर एमएसपी की घोषणा नहीं होने से किसान अच्छे मूल्य वाली फसलों की बुवाई से वंचित रह जाता था। हालांकि अब हालातों में सुधार आया है। पर सवाल अभी भी वहीं का वहीं है। अन्नदाता में अभी भी एमएसपी को लेकर वह जागरुकता नहीं है जो उसमें होनी चाहिए। इसका एक बड़ा कारण देश में खेती के लिए चली आ रही संस्थागत ऋण व्यवस्था है। देश की संस्थागत वित्तदायी संस्थाएं आजादी के सात दशक बाद भी सभी किसानों की खेती के लिए आवश्यक वित्त व्यवस्था करने में विफल रही है और यही कारण है कि आज भी बड़ी संख्या में काश्तकारों की रुपयों पैसों की जरुरत पूरी करने के लिए गैर संस्थागत ऋणदाताओं खासतौर से साहूकारों पर निर्भरता बनी हुई है। लाख दावें किए जाते हो पर सहकारी ऋण व्यवस्था में झोल आज भी बना हुआ है। वैसे सहकारी बैंक संसाधनों की कमी के चलते सभी किसानों की ऋण जरुरतों को पूरा नहीं कर पा रही है। इस कारण से किसानों की निर्भरता अन्य स्रोतों पर बनी हुई है। यही कारण है कि किसानों से ही खरीद का दावा करने के बावजूद किसानों की मेहनत का बहुत बड़ा हिस्सा इन साहूकारों या गैर संस्थागत ऋणदाताओं की झोली में चला जाता है और किसान अपने आपको ठगा महसूस करता है। सरकार द्वारा खरीफ  और रबी के लिए फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर घोषणा की जाती है। गेहूं आदि खाद्यान्नों की खरीद की जिम्मेदारी जहां भारतीय खाद्य निगम के पास है तो दलहनी और तिलहनी फसलों की खरीद की जिम्मेदारी नेफैड ने संभाल रखी है। कपास की खरीद कॉटन कारपोरेशन आॅफ इंडिया द्वारा तो गन्ने की खरीद गन्ना मिलों द्वारा की जा रही है। कुछ प्रदेशों में राज्य की संस्थाओं द्वारा भी वाणिज्यिक दरों के साथ ही बाजार हस्तक्षेप योजना के तहत खरीद की जाती है, पर यह नाम मात्र की ही हो पाती है। भारतीय खाद्य निगम और नेफैड हालांकि बदली परिस्थितियों में यह दोनों ही संस्थाएं खरी नहीं उतरी है और यही कारण है कि नेफैड जहां लड़खड़ाती हुई जैसे तैसे चल रही हैं वहीं भारतीय खाद्य निगम के पुनर्गठन पर भी विचार की चर्चा यदा-कदा चलती रही है। ले देकर के देश में गेहूं और चावल की ही एमएसपी पर अधिक व समय पर खरीद होती है। इसकी खरीद के पीछे भी एक दूसरा बड़ा कारण सरकार की सार्वजनिक वितरण प्रणाली की बाध्यता भी है। सरकार को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत गेहूं और चावल आदि उपलब्ध कराने होते हैं। इसके लिए सरकार के पास बड़ा सहारा एमएसपी पर खरीद व्यवस्था ही है। हालांकि कोरोना महामारी के दौर में खाद्यान्नों की उपलब्धता व्यवस्था पूरी तरह से खरी उतरी है। सरकारी गोदामों में गेहूं चावल के भण्डारों के चलते केन्द्र व राज्य सरकारों ने जरुरतमंद लोगों को मुफ्त राशन सामग्री उपलब्ध कराने में कोई कोताही नहीं बरती और परिणाम सामने है। देश में कोरोना लाकडाउन व उसके अलावा भी राशन सामग्री उपलब्ध कराने में किसी तरह की परेशानी नहीं हुई। पूरी निष्पक्षता के साथ कहा जा सकता है कि इसका श्रेय अन्नदाता की मेहनत और सरकार की एमएसपी व्यवस्था को ही जाता है।      
   -डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा
(ये लेखक के अपने विचार हैं)


आज भी देष की एमएसपी खरीद व्यवस्था ले देकर गेहूं, धान, कपास, गन्ना, सरसों आदि तक सीमित हो कर रह गई है। जबकि 2023 को अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष मनाने की तैयारियां जोरों से चल रही है। मोटे अनाज का महत्व समझा जाने लगा है। ऐसे में मोटे अनाज का लाभकारी मूल्य मिलें यह सुनिष्चित करना भी सरकारों की जिम्मेदारी हो जाती है ताकि किसान स्वयं आगे आकर मोटे अनाज की पैदावार लेने के प्रति प्रेरित हो। सरकारों को इस और सोचना ही होगा। आज राजस्थान सहित उत्तरी भारत के रा’यों में बाजरे की समर्थन मूल्य पर खरीद की मांग की जा रही है। होना तो यह चाहिए कि जिसभी फसल का समर्थन मूल्य घोषित हो उसके भाव बाजार में कम होते ही खरीद आरंभ हो जाए तो समस्या का समाधान बहुत आसानी से हो सकता है।

 

सरकार द्वारा खरीफ और रबी के लिए फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर घोषणा की जाती है। गेहूं आदि खाद्यान्नों की खरीद की जिम्मेदारी जहां भारतीय खाद्य निगम के पास है तो दलहनी और तिलहनी फसलों की खरीद की जिम्मेदारी नेफैड ने संभाल रखी है। कपास की खरीद कॉटन कारपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा तो गन्ने की खरीद गन्ना मिलों द्वारा की जा रही है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर नए सदर को लेकर दो नाम 55 दिनों से काफी चर्चा में है।

19/08/2019

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

भगवा वाले नड्डा के अपनी नई टीम घोषित करने के साथ ही सूबे में प्रतिस्थापन की चर्चाएं शुरू हो गई। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर चर्चा है कि इस रिप्लेसमेंट की पीछे कई राज छिपे है। मोदी टीम में बदलाव से पहले मैडम को किनारा करने में जुटे लोगों को संदेश देना जरुरी था।

28/09/2020

जानिए राज काज में क्या है खास

संघ प्रमुख के एक संदेश ने भगवा वाले कई भाई लोगों की नींद उड़ा दी है। उड़े भी क्यों नहीं भाई साहब ने भी खरी-खरी सुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

03/06/2019

नए जोश के साथ पूरी तरह फोकस प्रयासों के छह महीने

जब मोदी 1.0 और मोदी 2.0 में बिताए अपने साढ़े पांच साल को देखता हूं तो मैं पाता हूं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की प्रगति के रास्ते पर एक अमिट छाप छोड़ी है। देश ने पहले पांच साल के कार्यकाल में देखा कि एक ‘नया भारत’ बनाने की दिशा में समावेशी विकास के लिए ढांचागत बदलाव किए गए।

04/12/2019

चुनावी परिदृश्य पहले से साफ था

लोकसभा के चुनाव परिणाम बिल्कुल अपेक्षित हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में राजग राष्टÑीय स्तर पर विचारधारा एवं रणनीति के मामले में संगठित ईकाई के रुप में उतरा था तथा पांच-छ: राज्यों को छोड़ दें तो उसका

28/05/2019

आयुर्वेद और योग की परंपराओं का गौरव

भारतीय चिकित्सा पद्धति सहस्राब्दी पुरानी है और यह समग्र स्वास्थ्य प्रदान करती है

21/09/2021

जानिए राजकाज में क्या है खास?

दो साल के जलसे में डूबे हाथ वाले कुछ भाई लोगों की नजरें दिल्ली की तरफ टिकी हुई हैं। वे पल-पल की खबरें ले रहे हैं। ले भी क्यों नहीं, जोधपुर वाले अशोकजी भाईसाहब का दस महीने बाद पगफेरा जो हुआ है। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वाले के ठिकाने पर चर्चा है कि भाईसाहब का जब भी दिल्ली में पगफेरा होता है तो किसी न किसी का हिट विकेट होता है।

21/12/2020