Dainik Navajyoti Logo
Friday 17th of September 2021
 
ओपिनियन

भ्रमित करने का एक और प्रयास

Thursday, September 02, 2021 13:05 PM
कॉंसेप्ट फोटो

पना राजनीतिक वजूद बनाए रखने के लिए शायद विपक्ष के लिए जरूरी हो गया है कि मोदी सरकार के हर कदम की आलोचना की जाए। केंद्र सरकार को विवादों के कठघरे में खड़ा करने के लगातार प्रयासों की कड़ी में अब नया अध्याय जुड़ गया है। ऐतिहासिक जलियांवाला बाग के शहादत स्मारक का जीर्णोद्धार।  दरअसल केंद्र सरकार ने जलियांवाला बाग स्मारक को नया स्वरूप दिया है। जिसका 28 अगस्त को प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था।
अमृतसर स्थित इस ऐतिहासिक स्थल पर कई बदलाव लाए गए हैं। मुख्य स्मारक की मरम्मत की गई है, शहीदी कुएं का जीर्णोद्धार किया गया है, नए चित्र और मूर्तियां लगाई गई हैं और ऑडियो-विजुअल और थ्रीडी तकनीक के जरिए नई गैलरियां बनाई गई हैं। इसके अलावा कमल के फूलों का एक तालाब बनाया गया है और एक लाइट एंड साउंड शो भी शुरू किया गया है। अब सुनिए विरोध क्या है। विरोध यह है कि रंग-बिरंगी रोशनी और तेज संगीत के माहौल से शहीदों की मर्यादा का अपमान हो रहा है। यह कैसा अजीब कुतर्क है।
सोचने वाली बता है कि क्या सरकार ने यह सब गलत किया है। स्मारक के स्वरूप को नवीनता प्रदान करने से शहीदों का अपमान कैसे हो गया। इससे देश की स्थिरता को कैसे खतरा पहुंच गया। प्रधानमंत्री विरोधी शक्तियों का यह मानसिक दीवालियापन देखिए कि किसी प्राचीन शहीद स्मारक के जीर्णद्धार पर भी चीख पुकार मचा दी है।
याद रहे कि अमृतसर के जलियांवाला बाग में जनरल डायर द्वारा किए गए एक अभूतपूर्व और हिंसक हमले में महिलाओं और बच्चों सहित एक हजार से अधिक भारतीयों की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। फिर भी पंजाब में पंजाब के लोगों ने ब्रिटिश राज का विरोध करना बंद नहीं किया। आज हम जिस जमीन पर खड़े हैं, उनके संघर्ष ने उन्हें आजाद कराया है। उनके अभूतपूर्व योगदान, उनके अकल्पनीय बलिदान और औपनिवेशिक बंधनों से मुक्ति पाने के लिए उनके अद्भुत समर्पण को नई पीढ़ी तक पहुंचाना, दुनिया को अपने शहीदों की बेजोड़ वीरता से परिचित कराना क्या किसी भी देश या समुदाय के लिए पाप के समान है। यह तो किसी भी देश और उसके नागरिकों के लिए गौरव की बात है कि वह अपने शहीदों को निरंतर याद करता रहे।   
सरकार के कदम का अंधा विरोध करने वाले क्या आम नागरिकों को बता रहे हैं कि पिछले दशकों में बाग में जो भवन संरचनाएं बनी थीं, वे प्रमुख रूप से खराब हालत में थीं। तत्कालीन रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी ने 14 अप्रैल 2010 को उस समय की केंद्रीय सूचना एंव प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी की मौजूदगी में शहीदों को श्रद्धांजलि स्वरूप 52 मिनट की अवधि का साउंड एंड लाइट शो शुरू किया था जो कुछ ही समय बाद पूरी तरह से निष्क्रिय हो गया था। स्मारक की दो संग्रहालय दीर्घाएं बहुत निराशा की हालत में पहुंच गई थीं।
पहली मंजिल पर थिएटर भी नाम के लिए था। ज्वाला स्मारक और परिसर के आसपास के फव्वारे बेहद खराब दशा को पहुंच चुके थे। शहीदी कुएं की सुपर संरचना जो स्मारक बनने के समय विकसित की गई थी, खराब हो गई थी। कम विकास, खराब पानी के पंप आदि की वजह से वहां के ऐतिहासिक कुएं ने अपनी पवित्रता खो दी थी। बाग के प्रवेश द्वार में पानी की बड़ी समस्या थी और मूल प्रवेश मार्ग पर बनाए गए ढांचे की मरम्मत और बहाली की जरूरत थी। इसलिए जलियांवाला बाग स्मारक के जीर्णोद्धार का निर्णय लिया गया।
ऐसा नहीं है सरकार ने चुपचाप रातोंरात यह काम कर दिया हो। इस परियोजना को 8 नवंबर 2018 को गृह मंत्री की अध्यक्षता में राष्ट्रीय कार्यान्वयन समिति (एनआईसी) द्वारा अनुमोदित किया गया था। एएसआई की अध्यक्षता में इतिहासकारों, विद्वानों और शिक्षाविदों की एक अधिकार प्राप्त समिति का गठन किया गया था। पूरी अवधारणा को एक उच्च स्तरीय समिति द्वारा अनुमोदित किया गया था।   
लेकिन नहीं, यह तथ्य नहीं बताए जा रहे हैं, क्योंकि फिर विरोध किस बात का करेंगे। लोगों में भ्रम पैदा कर अपने राजनीति लाभ उठाने के फेर में सरकार विरोधी ताकतें पूरी ताकत से शोर मचा रही हैं। सरकार देश के गौरवशाली अतीत को नई पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए कैसे भी प्रयास कर लें, उसका विरोध किए बिना ये शक्तियां रह ही नहीं सकतीं। मगर सोचने वाली बात यह है कि विपक्षी दलों द्वारा भ्रम फैलाने वाली इस पूरी मुहिम से भारतीय समाज और इस देश का कितना नुकसान हो रहा है  और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की कैसी छवि बनेगी इस मुद्दे पर भी कोई सोचेगा।

               -सचिन श्रीधर
पूर्व भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी एवं स्तंभकार हैं
      (ये लेखक के अपने विचार हैं)


मुद्दा
सरकार के कदम का अंधा विरोध करने वाले क्या आम नागरिकों को बता रहे हैं कि पिछले दशकों में बाग में जो भवन संरचनाएं बनी थीं, वे प्रमुख रूप से खराब हालत में थीं। तत्कालीन रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी ने 14 अप्रैल 2010 को उस समय की केंद्रीय सूचना एंव प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी की मौजूदगी में शहीदों को श्रद्धांजलि स्वरूप 52 मिनट की अवधि का साउंड एंड लाइट शो शुरू किया था जो कुछ ही समय बाद पूरी तरह से निष्क्रिय हो गया था। स्मारक की दो संग्रहालय दीर्घाएं बहुत निराशा की हालत में पहुंच गई थीं।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

प्लास्टिक के नीचे दबी मानवीय सभ्यता

आज सम्पूर्ण विश्व में प्लास्टिक का उत्पादन 30 करोड़ टन प्रति वर्ष किया जा रहा है। आंकड़े बताते है कि प्रति वर्ष समुद्र में जाने वाला प्लास्टिक कचरा 80 लाख टन है। अरबों टन प्लास्टिक पृथ्वी के पानी स्रोतों खासकर समुद्रों-नदियों में पड़ा हुआ है।

20/09/2019

मेडिकल कॉलेज दाखिला का महा स्कैम

कुछ महीने पहले कर्नाटक में कार्यरत आयकर विभाग के अधिकारियों ने सरसरी तौर पर कुछ बैंक खातों की जांच में पाया कि राज्य के दो निजी मेडिकल संस्थानों और और एक इंजीनियर संस्थान के कुछ कर्मचारियों के खातों में नियमित अन्तराल से मोटी राशि नकदी के रूप में जमा करवाई जा रही है।

21/10/2019

सही दिशा में कश्मीर नीति

मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर में आरक्षण के लाभ से जुड़े जो तीन फैसले लिए हैं। उसमें सबसे खास ये है कि अब इंटरनेशनल बार्डर पर रहने वाले लोग यानि कि जम्मू, कठुआ और सांबा में रहने वाली आबादी, जो क्रॉस बॉर्डर फायरिंग और शैलिंग का दंश झेल रही है, उसे सरकारी नौकरियों के आरक्षण में 3 प्रतिशत का लाभ मिलेगा।

05/07/2019

अमेरिका ने पाकिस्तान की नींद उड़ाई

पाकिस्तान की बदनाम गुप्तचर एजेंसी आईएसआई का वह पालतू आतंकवादी है, पाकिस्तान ने भारत में दंगे कराने, अपराध कराने के लिए दाउद इब्राहिम को एक हथकंडे के तौर पर इस्तेमाल करता है।

09/07/2019

रघुराम राजन की विदाई पर बेंगलुरु के रेस्तरां ने पेश किए दो पकवान

भारतीय रिजर्व बैंक के निवर्तमान गर्वनर रघुराम राजन की शान में बेंगलूर की एक रेस्त्रां कंपनी ने अपने मेन्यू में दो विशेष पकवान पेश किए हैं. बराबर चर्चाओं में रहे राजन ने केंद्रीय बैंक के काम-धाम पर अपना एक खास असर डाला है.

25/08/2016

चित्तौड़ के महंत दिग्विजयनाथ, जिन्होंने 9 दशक पहले राम मंदिर आंदोलन को दी थी धार

हालात चाहे जितने विषम हों, जिस काम को ठान लिया बिना नतीजे की फिक्र किए उसे करेंगे ही।

14/11/2019

तीसरे मोर्चे की फिर सुगबुगाहट

लोकसभा चुनावों के नतीजे आने में दो सप्ताह से भी कम समय रहने के साथ ही एक बार फिर गैर एनडीए और गैर यूपीए तीसरा मोर्चा बनाने की सुगबुगाहट एक बार फिर शुरू हो गयी है।

13/05/2019