Dainik Navajyoti Logo
Sunday 15th of December 2019
 
ओपिनियन

युद्ध की शांति है तो आजादी ही गुलामी है?

Thursday, November 21, 2019 11:25 AM
संसद भवन।

आज के नए भारत को समझने के लिए हम लोगों को जॉर्ज औरवैल का, अंग्रेजी भाषा में लिखा उपन्यास 1984 एक बार जरूर पढ़ना चाहिए, क्योंकि अब हमारा लोकतंत्र, संविधान और आजादी एक-ऐसी प्रयोगशाला में बदल गए हैं जहां हर डॉक्टर जनता को किसी विकास और परिवर्तन की खोज में किसी मेंढक, चूहे, छिपकली, बंदर और मुर्दा शरीर की तरह इस्तेमाल कर रहा है। जिस तरह पथ के दावेदार कभी, जीवन के हर रास्ते पर अपना अधिकार जताते थे, ठीक उसी तरह आज लोकतंत्र का हर प्रथम सेवक हमें ये समझा रहा है कि युद्ध ही शांति है तो आजादी ही गुलामी है तो अज्ञान ही शक्ति है। चारों तरफ एक ऐसा भय, आशंका, आतंक और अविश्वास का अंधेरा फैल गया है कि धरती, आकाश, वायु, अग्नि, जल सभी एक दूसरे की जासूसी कर रहे हैं और लग रहा है कि कोई अदृश्य महाबली हमें देख रहा है।

हमारे आज की ये कहानी हमारे बीते हुए कल में जॉर्ज औरवैल ने एक भविष्यवाणी की तरह अपने प्रसिद्ध उपन्यास 1984 में लिखी थी। जिस तरह कभी कथाकार प्रेमचन्द ने भारत के गांव, गरीब और किसान की व्यथा-कथा अपने उपन्यास ‘गोदान’ में हमें सुनाई भी और मैक्सिम गोर्की ने कभी अपने उपन्यास ‘मां’ के बहाने रूस की जारशाही की दारूण गाथा बताई थी और कभी ज्यांपॉल सात्र, माओत्से तुंग, अब्राहम लिंकन, मार्टीन लूथर किंग और नेल्सन मण्डेला ने अपने-अपने देश, काल और समाज की आप बीती दर्द और पीड़ा हमें अपनी कविता और कथाओं से समझाई थी, ठीक वैसे ही नए भारत की ये महाकथा जॉर्ज औरवेल ने भारत में जन्म लेकर ही (1903-1950) के बीच प्राप्त अल्प आयु में दिखाई है।

दूसरे विश्व युद्ध (1940) के  बाद की दुनिया और आज की दुनिया के बीच में जो कुछ अब घटित हो रहा है उसे जानने के लिए हमें एक  बार फिर से अपन भीतर के इस नए सच और झूठ को पढ़ना चाहिए। उपनिवेशवाद से साम्राज्यवाद और सामंतवाद और समाजवाद तथा लोकतंत्र के रास्ते- राष्ट्रवाद तक आते-आते हमारा भूत, भविष्य और वर्तमान अब इतना हिंसक और संवेदनहीन हो गया है कि भारत का आम नागरिक जैसे मौत के कुए में सपनों की साइकिल चला रहा है। हम भारत के लोग अपने संविधान की शपथ को बार-बार दोहराते हुए कभी अपनी आत्मा और परमात्मा से तो कभी अपनी आस्था और परम्परा से पूछ रहे हैं कि जब जीना और मरना सभी यहीं है, तो फिर हम कहां जाएं?

आपने कभी सोचा ही नहीं होगा कि आजादी (1947) के बाद हमारी पहली मुठभेड़ महात्मा गांधी की साम्प्रदायिक शहादत से होगी तो दूसरी मुठभेड़ पृथकतावाद, आतंकवाद और राष्ट्रवाद से होगी तो फिर कोई भिड़न्त मण्डल-कमण्डल से होगी और आपातकाल से गुजर कर हम राम-रहीम में बंट जाएंगे तो मंदिर-मस्जिद के नाम पर धर्म और आस्था के रथ पर सवार होकर अपने लोकतंत्र, संविधान और आजादी को गैर बराबरी के दल-दल में फंसाएंगे। हमें अनुमान तक नहीं था कि 1990 के बाद ये दुनिया एक खुले बाजार में बदल जाएगी और समाजवाद तथा धर्म निरपेक्षता का हमारा सपना भूख, गरीबी, अशिक्षा, कुपोशण और जाति-धर्म की महाभारत में बदल जाएगा। हमें ये भी पता नहीं था कि भारत के 135 करोड़ देवी-देवता अपने अच्छे दिनों की तलाश में अपने लोकतंत्र को ही बहुमत की तानाशाही का अखाड़ा बना देंगे और धारा 370, समान नागरिक संहिता और मंदिर निर्माण को ही लोकतंत्र का विकल्प समझ लेंगे?

अब हमारी आजादी, संविधान और लोकतंत्र-इतनी उलझन में और धर्म-आस्था के आदिकाल में चला गया है कि हिंसा ही अहिंसा हो गई है, तो झूठ ही सत्य के प्रयोग बन गए हैं तो प्रतिबंध ही मानवाधिकार समझ लिए गए हैं तो बहुमत के आदेश ही सर्वमत के जनादेश हो गए हैं। जॉर्ज औरवैल का उपन्यास 1984 अब 2019 में इस तरह साकार हो रहा है कि जैसे विज्ञान और धर्म-आस्था की जुगलबंदी ने जनता को जुगलबंदी ने जनता को गुलामों का द्वीप समूह बना दिया है तो विकास और परिवर्तन को ही तेरी, मेरी, सबकी चौकीदारी में बदल दिया है। एक भारत-श्रेष्ठ भारत का सपना अब एक देश, एक चुनाव और एक व्यक्ति-एक विधान में बदल रहा है क्योंकि लोकतंत्र में जिन्दा कौमों को भी पांच साल तक तानाशाही के बहुमत की भूल-भुलैया में जीना-मरना पड़ता है और रहीम दास को भी बुरे दिनों के चक्कर में चुप बैठना होता है। इसलिए ये हमारा आज बेरोजगारी, महंगाई, दलित- महिला उत्पीड़न और कश्मीर में धारा 370, नागरिक अधिकारोंं के हनन और गांव-गरीब की बदहाली पर अब बाजार और झूठ का प्रचार मुस्करा रहा है। ऐसे असुरक्षित लोकतंत्र में जहां विधायिका और कार्य पालिका मिलकर बहुमत को एकाधिकार और फिर तानाशाही में बदल रही हो तब फिर न्यायपालिका भी आस्था के दबाव से मुक्त होकर लोकतंत्र और संविधान को भला कैसे बचा सकती है? क्योंकि बड़ा भाई (दादा) सबको देख रहा है और कोई जॉर्ज औरवैल (1984) फिर से हमें याद दिला रहा है कि नए भारत में युद्ध ही शांति है तो आजादी ही गुलामी है और अज्ञान ही शक्ति है। अत: जोर से बोलिए-भारत माता की, जय हो!
वेदव्यास (ये लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

राज के नवरत्नों का भी कोई सानी नहीं है। अब देखो ना कलेक्टरों और खाकी वालों के सामने एक-दूसरे की पोल खोलने में जरा भी चूक नहीं करते। कलेक्टिव रेस्पोंसिबिलिटी को ताक में रख कर शेखावाटी की धरती पर जो जुबान खोली, उसका राज का काज करने वाले चटकारे ले रहे हैं।

21/10/2019

नदी जोड़ने के विकल्प

पंजाब में कुछ क्षेत्रों में जल भराव हो रहा है फिर भी पंजाब अपना पानी देने को तैयार नहीं है। इस परिस्थिति में अन्तरराज्यीय नदी जोड़ने के कार्यक्रम कतई सफल नहीं हो सकती हैं।

20/08/2019

कुपोषण घटा पर मोटापे का संकट बढ़ा

देश में कुपोषितों की संख्या में तेजी से कमी आई है। हालांकि बढ़ता मोटापा नए संकट की ओर इशारा कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ की हालिया रिपोर्ट में यह कहा है कि दुनिया के देशों में रोटी का संकट बढ़ा है।

11/09/2019

अमेरिकी प्रतिबंधों से निपटने की चुनौती

भारत ने अमेरिका की इच्छा के विपरीत उस समय ही समझौता किया था। अमेरिका को भी साफ कर दिया गया था कि जो समझौता हो गया उसका हम पालन करेंगे।

16/05/2019

श्रमिक दिवस की प्रासंगिकता

प्रतिवर्ष 1 मई का दिन ‘अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस’ अथवा ‘मजदूर दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। जिसे ‘मई दिवस’ भी कहा जाता है।

01/05/2019

भ्रष्टाचार पर मोदी की सर्जिकल स्ट्राइक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार पर प्रहार का वादा देशवासियों से किया था और कहा था कि ‘ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा’। लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कई बार यह बयान दोहराया था कि जिन्होंने देश को लूटा है, उन्हें पाई-पाई लौटानी पड़ेगी।

04/09/2019

प्लास्टिक के नीचे दबी मानवीय सभ्यता

आज सम्पूर्ण विश्व में प्लास्टिक का उत्पादन 30 करोड़ टन प्रति वर्ष किया जा रहा है। आंकड़े बताते है कि प्रति वर्ष समुद्र में जाने वाला प्लास्टिक कचरा 80 लाख टन है। अरबों टन प्लास्टिक पृथ्वी के पानी स्रोतों खासकर समुद्रों-नदियों में पड़ा हुआ है।

20/09/2019