Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 22nd of September 2021
 
नागौर

अमेरिका में कोरोना को हराने में जुटा चम्पाखेड़ी का राजपुरोहित परिवार

Wednesday, May 06, 2020 16:00 PM
डॉक्टर गिरधारी सिंह राजपुरोहित और उनका पूरा परिवार।

रियांबड़ी/पादूकलां। चीन के वुहान शहर से शुरू हुए कोरोना संक्रमण ने आज पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया है, हालात बेकाबू हो रहे हैं और कई देशों में तो हजारों लोगों की जान तक चली गई है। अमेरिका में भी हालात काफी भयावह हैं, लेकिन इस बीच राजस्थान के नागौर जिले के एक पिता, उनके पुत्र व पुत्री तीनों ही मिलकर अदम्य साहस, त्याग और बलिदान को पेश कर मारवाड़ के गौरवशाली अतीत को वर्तमान में चरितार्थ कर रहे है। पिता व पुत्र-पुत्री तीनों संयुक्त राज्य अमेरिका के हेमेट शहर में डॉक्टर हैं। इंसानी जिंदगियां बचाने के इस लोक कल्याण के कार्य में तीनों ने अपने आप को समर्पित कर रखा है। इस वैश्विक संकट के समय संयुक्त राज्य अमेरिका में तेजी से बढ़ रहे इस कोरोना वायरस संक्रमण के बीच डॉक्टर गिरधारी सिंह राजपुरोहित, उनके पुत्र डॉक्टर नरेश सिंह राजपुरोहित व पुत्री डॉक्टर ज्योति राजपुरोहित कोरोनो वायरस से लड़ने के लिए अग्रिम पंक्ति में अथक प्रयास कर रहे हैं। गौरतलब है कि डॉक्टर गिरधारी सिंह राजपुरोहित रियां बड़ी निवासी श्याम सिंह राजपुरोहित के बहनोई है व उनके भतीजे राजू सिंह राजपुरोहित व सुमेर सिंह राजपुरोहित ने भी स्थानीय स्तर पर यहां जरूरतमंदों की सेवा में जुटे हुए है।

हालत भयावह, घरों में रहें व लॉकडाउन का पालन करें
तकरीबन 50 वर्ष पहले अमेरिका गए डॉक्टर गिरधारी सिंह राजपुरोहित का आज भी नागौर जिले में अपने गांव चम्पाखेड़ी व अपने ससुराल रियांबड़ी से अथाह आत्मीय जुड़ाव है। डॉ. राजपुरोहित संयुक्त राज्य अमेरिका के कैलिफोर्निया स्टेट के हेमेट शहर में हेमेट वैली हॉस्पिटल में चीफ ऑफ स्टाफ हैं। डॉक्टर राजपुरोहित यहां संक्रमित मरीजों का इलाज करने के साथ ही अन्य मेडिकल स्टाफ को वर्तमान आपातकालीन परिस्थितियों में काम करने की ट्रेनिंग भी दे रहे हैं। डॉ. राजपुरोहित बताते हैं कि हेमेट वैली हॉस्पिटल में क्षमता से अधिक कोरोना के मरीज होने के चलते अस्थाई वार्ड बना बेड तैयार किए हैं। उन्होंने बताया की अधिकतर कम इम्युनिटी पावर वाले बुजुर्ग व अन्य किसी बीमारियों से पीड़ित लोगों के साथ ही बच्चे व गर्भवती महिलाएं कोरोना संक्रमित हो रही हैं। संक्रमण से कइयों की मौत तक हो गई है। डॉ. गिरधारी सिंह ने बताया कि उनके हॉस्पिटल में अभी तक 3563 कोरोना संक्रमित मरीज इलाज के लिए लाए गए है, जिनमें से अभी तक 1207 मरीजों को ठीक किया जा चुका है और करीब 118 मरीजों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि अमेरिका में दिन-प्रतिदिन हालत भयावह होते जा रहे है और अभी तक इसका कोई इलाज भी नहीं है। मेरी एक सलाह है कि जब तक इसकी कोई वैक्सीन नहीं बन जाती, सभी लोगों को घरों के दरवाजों के अंदर रहकर लॉकडाउन की पालना करनी चाहिए।
     
मास्क लगाएं व सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखें
डॉ. गिरधारी सिंह राजपुरोहित के पुत्र डॉक्टर नरेश राजपुरोहित भी पिता के मातहत संयुक्त राज्य अमेरिका के केलिफोर्निया स्टेट के हेमेट शहर में हेमेट वैली हॉस्पिटल में एमडी हैं और इंटरनल मेडिसिन मेडिकल फिजिशियन के पद पर कार्यरत है। डॉ. नरेश पुरोहित बताते हैं कि कोरोना के चलते सिर्फ आपातकालीन स्थितियों में ही दूसरे मरीजों का इलाज किया जा रहा है, लेकिन कोरोना से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। वर्तमान में घर पर जाने के बाद भी पूरी तरह से वो एहतियात बरत रहे हैं। एक घर में रहते हुए भी आपस में परिजनों से मिले दो सप्ताह से अधिक समय हो गया है, ताकि परिवार में संक्रमण नहीं फैले। उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में जब तक इसके लिए कोई टीका विकसित नहीं किया जाता है, तब तक हमें बाहरी व्यक्ति से सामाजिक दूरी बनाए रखना चाहिए और हर समय अपने हाथों को भी धोना चाहिए और बार-बार सफाई करनी चाहिए और अपनी प्रतिरक्षा को मजबूत रखना चाहिए।

खुद को बचाएंगे तो कम होगी संक्रमण की रफ्तार
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने और धीमा करने के लिए सबसे अच्छा तरीका खुद को इससे बचाना है। कोरोना वायरस के बारे में अब सभी को अच्छी तरह से पता है कि यह कैसे फैलता है। इसलिए अपने हाथों को धोने के लिए एल्कोहॉल युक्त सेनेटाइजर का उपयोग करते हुए खुद को संक्रमण से बचाएं और दूसरों को भी सुरक्षित रखें। इसके अलावा बार बार अपने चेहरे को न छुए। वायरस मुख्य रूप से लार की बूंदों या नाक से तब फैलता है जब किसी संक्रमित व्यक्ति को खांसी या छींक आती है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी कोहनी में खांसी करें।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

अफवाहों से नमक मंडी खौफ के साए में

पक्षियों की मौत के बाद अब 50 हजार लोगों के रोजगार पर संकट

22/11/2019

दो और आरोपियों ने किया कोर्ट में समर्पण

बहुचर्चित डांगावास मामले में फरार चल रहे सात आरोपी, दो और आरोपियों ने किया कोर्ट में समर्पण

02/12/2019

रिश्वत लेते वीडीओ और रोजगार सहायक का पति गिरफ्तार, पट्टा बनाने की एवज में मांगी थी रकम

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने मकान का पट्टा बनाने की एवज में रिश्वत लेते ग्राम पंचायत ढींगसरा के ग्राम विकास अधिकारी व रोजगार सहायक के पति को 5 हजार रुपए की राशि लेते गिरफ्तार किया है।

21/11/2019

अमित शाह के लेटरहैड पर लिखा फर्जी लेटर वायरल, कहीं खुशी, कहीं गम!

भाजपा के राष्टÑीय अध्यक्ष अमित शाह के लेटरहैड पर लिखा एक फर्जी पत्र बुधवार को दिनभर सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। पत्र में नागौर के नवनिर्वाचित सांसद हनुमान बेनीवाल, जोधपुर के गजेंद्रसिंह शेखावत, झालावाड़ के दुष्यंत सिंह और बीकानेर सांसद अर्जुनराम मेघवाल को मंत्री पद की शपथ लेने के लिए आमंत्रित करना बताया गया।भाजपा पदाधिकारियों द्वारा सोशल मीडिया पर वायरल पत्र को फर्जी बताए जाने व खंडन किए जाने के बाद सच्चाई सामने आई।

29/05/2019

दो बहिनों पर चाकू से हमला, एक की मौत

लाडनूं निकटवर्ती ग्राम मंगलपुरा में शुक्रवार दो युवकों द्वारा दो सगी बहिनों पर चाकू से हमला करने का मामला सामने आया है। हमले में गंभीर घायल दोनों बहिनों को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां जहां एक ने दम तोड़ दिया जबकि दूसरी की हालत गंभीर बताई जा रही है।

11/10/2019

जिले की विभिन्न बैंकों में जमा हो गए 1.39 लाख के जाली नोट

जिले की विभिन्न बैंकों में बैंक कर्मचारियों की लापरवाही से अप्रैल 2017 से मार्च 2018 के बीच 1 लाख 39 हजार 500 रुपए के जाली नोट जमा कर लिए गए। इसका खुलासा तब हुआ, जब नोटों को जयपुर स्थित भारतीय रिजर्व बैंक कार्यालय भेजा गया और वहां संदेह होने पर संदिग्ध नोटों को नासिक मुद्रणालय भेजा गया, जहां जाली नोटों के रूप में प्रमाणित किया गया।

20/06/2019

ट्रेलर व कार की भिड़ंत में दो युवकों की मौत

डांगावास-जैतारण बाईपास पर शुक्रवार शाम एक ट्रेलर व कार में हुई भिड़ंत में कार में सुवार दो युवकों की मौत हो गई।

10/01/2020