Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 11th of December 2019
 
कोटा

गांव में फैली मगरमच्छ की दहशत

Thursday, November 14, 2019 01:05 AM
खातौली। सुमेरपुरा गांव में तलाई के समीप मौजूद मगरमच्छ।

 खातौली। क्षेत्र की जटवाड़ा ग्राम पंचायत के सुमेरपुरा गांव स्थित तलाई में गत एक वर्ष से मगर का आतंक है, किन्तु प्रशासन एवं जिम्मेदार अधिकारियों ने अभी तक इस ओर ध्यान नहीं दिया है। जिससे ग्रामीणों में भय व्याप्त है। 

    ग्रामीण कल्याण पोसवाल ने बताया कि एक वर्ष पूर्व इस तलाई में मगर आने के बाद इसकी सूचना प्रशासन एवं वन विभाग को दे दी थी। किन्तु समस्या का समाधान न होने से ग्रामीणों मे रोष व्याप्त है। गांव के लोगों का कहना है कि यदा-कदा मगर बाहर निकल आता है। गर्मियों में तलाई में पानी कम हो गया था। किन्तु इस ओर जिम्मेदार लोगों ने ध्यान नहीं दिया।
     ग्रामीणों ने बताया कि लोगों ने इस रास्ते से आना-जाना बहुत कम कर दिया है। तलाई के पानी से यह रास्ता कटता जा रहा है। और मगरमच्छ कभी भी इस रास्ते पर आ जाता है। रेंजर ताराचंद ने ग्रामीणों से अपील की है कि इस रास्ते का उपयोग सावधानी पूर्वक करें।
        स्कूल के बच्चों में भय...
तलाई के पास ही राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय भी संचालित है। जिससे बच्चों व अभिभावक में भी मगर के हमले का डर बना रहता है। जिसके चलते बालक-बालिकाएं गांव वालों की निगरानी में ही विद्यालय से आते जाते हैं। इस बारे में कई बार प्रशासन को अवगत कराने के बाद भी कोई कार्यवाही न हो पाने से विद्यार्थी भी भय के साये में विद्यालय जाने को मजबूर हैं।               
-
    मगरमच्छ को पकड़ने के संसाधनों का हमारे पास अभाव है। मगर तलाई से कब बाहर आएगा यह भी निश्चित नहीं है। तलाई में काफी गहरा पानी है। ऐसे में मगर को पकड़ना मुश्किल है। ग्रामीण सहयोग कर तलाई के पानी को कम करें तो ही मगर को पकड़ा जा सकता है।
-ताराचंद, रेंजर, खातौली वन क्षेत्र 
यह भी पढ़ें:

रक्षाबंधन को लेकर बाजारों में बढ़ी रौनक

कस्बे में रक्षाबंधन को लेकर बाजार दुल्हन की तरह सज गए हैं। राखियों से सजी दुकानों पर खरीदारी बढ़ गई है।

11/08/2019

FathersDay: मेरी ताकत मेरी पहचान हैं मेरे पिता...!!

मां बच्चों के लिए लाड़-दुलार, संस्कार देने की खान होती है तो पिता एक बरगद की तरह होता है। जिसके तले बच्चा सुरक्षित रहने के साथ उसे जीने की दिशा, अच्छे कामों के लिए मार्गदर्शन और उद्देश्य मिलता है। पिता के रहने से संतान खुद को बेहतर सुरक्षित महसूस करती है।

13/06/2019

दशहरा मैदान को है विकास की दरकार

कस्बे में दशहरे का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास से मनाते है। रावण दहन तथा उसके साथ लगने वाले मेले में कस्बे के तो लोग शामिल होते ही हंै, लेकिन विडम्बना यह है कि इस त्यौहार के आयोजन स्थल की स्थिति बेहद खराब है। जिसे सुधारा जाना चाहिए।

21/07/2019

चौथे दिन भी बिगड़े रहे हालात, एक दर्जन गांव बने टापू

इटावा क्षेत्र में चौथे दिन भी बाढ़ के हालात बने हुए है। जहां नदियों में जलस्तर में काफी कम हो चुका है लेकिन एक दर्जन गांव क्षेत्र के टापू बने हुए है। वहीं रेस्क्यू कार्य जारी है।

17/09/2019

विद्यार्थियों ने किया प्रदर्शन, बाजार रहा बंद

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पीपल्दाकलां के प्रधानाध्यापक गिरिराज नागर के स्थानांतरण को निरस्त करवाने की मांग को लेकर मंगलवार को स्कूल के विद्यार्थियों ने स्कूल के मुख्य गेट पर ताला लगाकर प्रदर्शन किया और अन्य स्कूलों को बंद करवाकर तहसील कार्यालय के सामने 2 घंटे तक प्रदर्शन किया।

01/10/2019

कांग्रेस ने किया किसानों का कर्ज माफ : धारीवाल

यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने शुक्रवार को पीपल्दा विधानसभा क्षेत्र के कई गांवों का दौरा कर जगह-जगह सभाएं कर कोटा-बूंदी लोकसभा कांग्रेस प्रत्याशी रामनारायण मीणा के लिए समर्थन की अपील की।

26/04/2019

खुदा की बारगाह में सिर झुका मांगी दुआ

इटावा नगर सहित क्षेत्र में ईद-उल-जुहा का पर्व सोमवार को उल्लास के साथ मनाया। इस अवसर पर बाईपास ईदगाह मस्जिद पर इकबाल मौलाना ने सुबह नौ बजे ईद की नमाज अदा करवाई।

12/08/2019