Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of January 2022
 
खास खबरें

राजकाज

Monday, November 15, 2021 13:25 PM
कॉन्सेप्ट फोटो

ठगे से रह गए वर्कर
सूबे में इन दिनों हाथ वाले वर्कर्स की दशा देखने लायक है। उन्होंने दूर तलक भी नहीं सोचा था कि आखिर में वे खुद को ठगा सा महसूस करेंगे। बड़ी कुर्सी के लिए 16 महीनों तक दो-दो हाथ करने वाले बड़े लोग तो हाथ मिलाते नजर आ रहे हैं, किन्तु अब वर्कर्स को कोई पूछने वाला भी नहीं है। इंदिरा गांधी भवन में बने पीसीसी के ठिकाने पर सालों से आने वाले गांधी टोपी वाले बुजुर्गवार की मानें तो, यह तो होना ही था। चूंकि कुछ हाथ नहीं लगा, तो जो खोया, उसे पाने के लिए भी जोर लगाए बिना पार नहीं पड़ती दिख रही थी। अब सोनिया मैडम की आड़ लेकर कम से कम आंख उठाकर देखने लायक तो रहेंगे, वरना राम जाने क्या होता।


बदले-बदले से साहब

सूबे की सबसे बड़ी पंचायत के एक पंच इन दिनों बदले-बदले से नजर आ रहे हैं। उनके हाव-भाव के साथ चाल-ढ़ाल भी बदल गई है। गुजरे जमाने में कमल की सुगंध सूंघ चूके भाई साहब ने विधानसभा के चुनाव से पहले हाथ वालों से हाथ मिलाया था। हाथ वालों ने भी मासी और बनास के गांवों की पटेलाई सौंपने में जरा भी आगा-पीछा नहीं सोचा था। भाई साहब ने दिन में भी बहुत ख्वाब देखे थे और ऊंची उड़ान के लिए एक पायलट का सहारा भी लिया था। जब भाई साहब के सपने पूरे नहीं होते दिख रहे, तो उनका भोला मन भी इधर-उधर डोलने लगा है। राज का काज करने वालों में चर्चा है कि भाई साहब को कमल के फूल की सुगंध की यादें सताने लगी है।


चर्चा में मल्टी मिलियनर
इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के दफ्तर में इन दिनों मल्टी मिलियनर की चर्चा जोरों पर है। वहां आने वाला हर कोई अंगुलियों पर चार-पांच मल्टी मिलियनर्स के नाम भी गिनाते हैं। इस भवन में आने वालों की रग रग जानने वाले गांधी टोपी वाले बाबा भी चर्चा में पीछे नहीं है। बीस साल पहले जो भाई साहब 15 लाख के कर्जदार थे, वो आज मल्टी मिलियनर्स की लिस्ट है। वो तो भला हो शंकर भगवान का, जिन्होंने आशीर्वाद दे दिया, वरना विधायकी का चुनाव भी खटाई में पड़ता दिख रहा था। दो लालों का हाल भी कुछ ऐसा ही था।


पद, प्रतिष्ठा और पैसा

इन दिनों दोनों तरफ पद, प्रतिष्ठा ओर पैसा का जुमला जोरों पर है। इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के दफ्तर में चीफ के पास भीड़ का आना जारी है, लेकिन उनमें पब्लिक डीलिंग के बजाय पदों की डीलिंग करने वाले ज्यादा हैं। सरदार पटेल मार्ग पर स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर संगठन, समाज और सेवा वालों का टोटा है। कार्यकर्ताओं के इस मोह भंग की राज का काज करने वालों में भी चर्चा है।


रिप्लेसमेंट की राजनीति
आजकल सभी दलों में रिप्लेसमेंट की राजनीति ऊंचाई पर है। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 और इंदिरा गांधी भवन के साथ ही राज का काज करने वालों के लंच क्लब में भी रिप्लेसमेंट राजनीति की चर्चा है। राज का काज करने वाले चटकारे ले रहे हैं कि भगवा में मैडम और हाथ में जादूगरजी के रिप्लेसमेंट के लिए पसीने तो बहाए जा रहे हैं, लेकिन तोड़ किसी के पास नहीं है। दोनों तरफ वफादारों का टोटा नहीं है। और तो और हाथ वाले दोनों छुटभैयों ने भी एक-दूसरे के रिप्लेसमेंट के लिए रात दिन एक किए हुए हैं। रिप्लेसमेंट तो संभव नहीं है, लेकिन धड़ाबंदी जरूर हो गई है।


एक जुमला यह भी

सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में कोई न कोई नया जुमला आ ही जाता है। अब देखो ना गत दिनों पहले युवाओं की भीड़ को देख भाई साहब में जोश पैदा हो गया और युवाओं को सड़क पर लाकर सिविल लाइन्स तक ले गया। इस घटना को लेकर वहां आने वालों में चर्चा है कि कई दिनों से मीडिया में जगह नहीं मिलने से दुखी भाई साहबों को भीड़ को देख अचानक यह ड्रामा कर दिखाया। मसखरों की भाषा में इसे कहते है छपास रोग का इलाज।
(यह लेखक के अपने विचार हैं)
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

जानें राज-काज में क्या है खास

तीखे तेवर मैडम के

10/01/2022

चांद पर इंसान के कदम रखने की 50वीं वर्षगांठ पर गूगल ने बनाया वीडियो डूडल

इंटरनेट सर्च इंजन गूगल ने चांद पर इंसान का पहला कदम पडऩे की 50वीं वर्षगांठ का जश्न मनाते हुए एक एनिमेटेड वीडियो डूडल लांच किया।

19/07/2019

औपचारिक मृत्यु नहीं, अनौपचारिक जीवन दीजिए

वर्तमान में अर्थव्यवस्था सुचार रूप से चल रही दिखती है। जीएसटी की वसूली 1,30,000 करोड़ रूपए प्रति माह के नजदीक पहुंच गई है, जो कि आज तक का अधिकतम स्तर है।

10/01/2022

चांद के नजदीक आ रहे ग्रह, सोम को शुक्र बना सांझ का तारा :10 नवंबर को शनि और 11 को बृहस्पति ग्रह के होगा नजदीक

सभी प्रमुख ग्रहों की चाल इन दिनों सीधी, चन्द्रमा की गति तेज होने से यह हुआ सम्भव

09/11/2021

परदेसी बाबू पर आया राजस्थानी लड़की का दिल, लिए सात फेरे

चित्तौड़गढ़। चित्तौड़गढ़ की एक बेटी परदेसी बाबू को दिल दे बैठी, लेकिन परदेसी बाबू को बेटी के साथ-साथ भारत की सभ्यता एवं संस्कृति इतनी अधिक अच्छी लगी कि वह भारतीय परम्परा के अनुसार, चित्तौड़गढ़ की इस बेटी के साथ सात फेरे लेने के लिए अपने परिवार के अन्य सदस्यों एवं दोस्तों के साथ चित्तौड़गढ़ आ पहुंचा।

31/01/2020

झालाना प्रदेश का पहला जंगल, जहां लेपर्ड को दिए नाम

सबसे पहले मादा लेपर्ड को नाम दिया था आरती

03/12/2021

जानें राज-काज में क्या है खास

ना माया मिली, ना राम

22/11/2021