Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of December 2021
 
खास खबरें

विजय दशमी : बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक

Friday, October 15, 2021 10:35 AM
कॉन्सेप्ट फोटो

दस प्रकार के महापापों से बचने का संदेश है यह विजय पर्व हमें काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी से बचने और इन बुरी आदतों से दूर रहने प्रेरणा देता है।


आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को दशहरा पर्व पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है। वहीं इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार भी किया था, इसलिए भी इसे विजय दशमी के रूप में मनाया जाता है, दशहरे पर अस्त्र-शस्त्रों की पूजा की जाती है और विजय पर्व मनाया जाता है। दशहरे के दिन ही भगवान श्री राम ने अत्याचारी रावण का वध कर विजय हासिल की थी और कहा जाता है कि यह युद्ध 9 दिनों तक लगातार चला,इसके बाद 10वें दिन भगवान राम ने विजय हासिल की।


छिपे हुए संदेश
प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला विजयादशमी का पर्व महज राम-रावण का युद्ध ही नहीं माना जाना चाहिए। बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक इस पर्व में छिपे हुए संदेश समाज को दिशा दे सकते हैं। स्वयं महापंडित दशानन इस बात को भलिभांति जानता था कि उसके जीवन का उद्धार राम के हाथों ही होना है। दूसरी ओर मर्यादा पुरूषोत्तम राम ने भी रावण की विद्वता को नमन किया है।  


पर्व का मुख्य संदेश
हम प्रतिवर्ष अंहकार के पुतले का दहन कर उत्सव मनाते हैं, किन्तु स्वयं का अहंकार नहीं त्यागते हैं । हमारे अंदर छिपी चेतना का जागरण और विषयों का त्याग ही विजयादशमी पर्व का मुख्य संदेश है। आज हम विषयों के जाल में इस तरह उलझे हुए हैं कि स्वयं अपने अंदर चेतना और ऊर्जा को सही दिशा नहीं दे पा रहे हैं। रावण से परेशान जनता को खुशहाल जीवन प्रदान करने के लिए ही भगवान राम का अवतरण हुआ।


आज के युग में

यह भी जानने योग्य प्रसंग है कि रावण वध के पश्चात स्वयं भगवान राम ने अपने छोटे भाई लक्ष्मण को रावण के पास ज्ञान लेने भेजा, किन्तु अंतिम सांसें ले रहे रावण ने लक्ष्मण की ओर देखा तक नहीं। बाद में स्वयं मर्यादा पुरूषोत्तम ने रावण के चरणों पर हाथ जोड़ते हुए ज्ञान प्रदान करने का निवेदन किया और रावण ने अपने अहंकार को त्यागते हुए गूढ़ ज्ञान प्रदान किया।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

Video: पुष्कर मेले में 15 करोड़ का 'भीम', जिसके साथ हर कोई ले रहा सेल्फी

विश्व प्रसिद्ध पुष्कर पशु मेले का आकर्षक केन्द्र जोधपुर का भैंसा भीम है। जिसकी कीतम 15 करोड़ आंकी गई है। लेकिन इसके मालिक इसे इस कीमत में भी बेचना नही चाहते है।

05/11/2019

अगले साल में कम हैं विवाह मुहूर्त, पूरे साल में केवल 51 बार बजेगी शहनाई

अगले साल 2021 में विवाह मुहुर्त कम है। पूरे साल केवल 51 बार ही शहनाई बजेगी। ज्योतिषीय गणना के अनुसार साल 2021 में विवाह मुहूर्त कम हैं। हिन्दू पंचांग के अनुसार साल के पहले माह में केवल एक मुहूर्त है और यह मुहूर्त 18 जनवरी को पड़ेगा, जो नए साल का पहला मुहूर्त होगा।

03/12/2020

धनतेरस पर विशेष तैयारी के साथ करें पूजा

धन के देवता के मंत्र, पूजा के मुहूर्त, आरती, तस्वीर और पूजा विधि पहले से तैयार रखें ताकि उस दिन सब समय पर उपलब्ध हो सके।

02/11/2021

तियानमेन चौक नरसंहार में 10 हजार लोगों को टैंकों से कुचल डाला था

तियानमेन चौक नरसंहार की 30वीं बरसी है। तीस साल पहले 4 जून 1989 को कम्युनिस्ट पार्टी के उदारवादी नेता हू याओबैंग की मौत के खिलाफ हजारों छात्र तियानमेन चौक पर प्रदर्शन कर रहे थे।

04/06/2019

यह है AAP का सबसे छोटा 'मफलरमैन', जो पहुंचा अरविंद केजरीवाल से मिलने

आप के कार्यकर्ता पार्टी मुख्यालय में जश्न मना रहे हैं तो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर भी समर्थक खुशी से झूम रहे हैं।

11/02/2020

विश्व पर्यटन दिवस पर विशेष

किले-महलों से भी पुराना ममी का कड़ा, मेकअप बॉक्स और अंगुठी, ममी के साथ आई थी मिस्त्र से करीब 400 वस्तुएं

27/09/2021

भगवान श्रीकृष्ण के 108 नाम

भगवान श्रीकृष्ण के 108 नाम

25/08/2016