Dainik Navajyoti Logo
Friday 22nd of October 2021
 
खास खबरें

हर चीज में दिव्यता देखना ही देवी की आराधना

Wednesday, October 13, 2021 10:25 AM
पुराणों में दुर्गा की शक्ति का चित्रण किया गया है।

देवी की तलवार ज्ञान की तलवार है। यह हमारे अज्ञान के छह मूल तत्वों  इच्छा, क्रोध, लोभ, मोह, अभिमान और ईर्ष्या को अलग करती है। जब आत्म.ज्ञान का प्रकाश प्रकट होता है, तो अज्ञान का अंधेरा स्वाभाविक रूप से छंट जाता है। देवी जिन राक्षसों को मारती हैं, वे हमारी नकारात्मक प्रवृत्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इन राक्षसी ताकतों को हमारे भीतर से खत्म करने में मदद के लिए दैवीय हस्तक्षेप की आवश्यकता है। ऐसा कहा जाता है कि दुर्गा सभी देवताओं की दिव्य शक्तियों की संयुक्त ऊर्जा से प्रकट हुई थीं। यहां इसका अर्थ यह है कि हमें गहराई तक जड़ें जमा चुकी हमारी नकारात्मक प्रवृत्तियों को हराने में सक्षम होना होगा और इनकी जड़ों, आत्म-अज्ञान को दूर करना होगा, तभी हम अपने सभी सकारात्मक गुणों को आत्मसात कर पाएंगे। विजयदशमी बुराई पर अच्छाई की,अधर्म पर धर्म की अंतिम जीत का प्रतीक है। उस जीत के लिए हमें ईश्वर की कृपा चाहिए। अपने जीवन में ईश्वर की कृपा लाने के लिए हमें समाज को वापस देने की प्रवृत्ति को जगाने की जरूरत है। हमें सभी में ईश्वर को देखने और दूसरों की करुणापूर्वक सेवा करने की प्रवृत्ति जागृत करनी चाहिए। नवरात्रि के दौरान हम न केवल देवी की पूजा करते हैं, बल्कि ब्रह्मांड में सभी अचेतन वस्तुओं को भी दिव्य के रूप में देखते हैं। पूजा के लिए पत्थर, लकड़ी,बर्तन,हल, चाकू,यहां तक कि हथियार भी रखे जाते हैं। वास्तव में मानव जाति को हमेशा सब कुछ दिव्य  रूप में देखने के इस दृष्टिकोण को बनाए रखना चाहिए। यदि हम ऐसा कर सकते हैं, तो हम कभी भी संघर्ष, युद्ध और अन्य प्रकार की हिंसा से ग्रस्त नहीं होंगे,महामारी से भी नहीं।

ईश्वर की रचना में हर चीज का एक लाभकारी उद्देश्य होता है। जब हम वस्तुओं का दुरुपयोग करते हैं, तो हम विनाश लाते हैं। पसंद की स्वतंत्रता, सेवा या विनाश में संलग्न होना, हममें से प्रत्येक के हाथ में है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

पहली आदिवासी कमर्शियल पायलट बनी अनुप्रिया लाकड़ा, सीएम ने दी बधाई

माओवादी प्रभावित मल्कानगिरी की रहने वाली एक आदिवासी लड़की व्यावसायिक विमान उड़ाने वाली राज्य की पहली महिला बन गई है।

09/09/2019

या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

मां की आराधना का महापर्व नौ दिनी नवरात्र आज से शुरू हो रहे है। नवरात्र के आगमन को लेकर लोगों में उत्साह है। बाजार पूरी तरह खुल चुके है।

07/10/2021

14वें ‘दिव्यांग टैलेंट एंड फैशन शो’ में दिव्य हीरोज ने दिखाई प्रतिभा

नारायण सेवा संस्थान की ओर से मुंबई के जेवीपीडी ग्राउंड में आयेाजित 14वें ‘दिव्यांग टैलेंट एंड फैशन शो’ में दिव्य हीरोज ने व्हीलचेयर, बैसाखी, कैलीपर्स और कृत्रिम अंगों पर अपने वजन को संभाले हुए आश्चर्यजनक स्टंट और नृत्य करते हुए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

13/11/2019

गौर-गौर गोमती ईसर पूजे पार्वती

गौर ए गणगौर माता खोल किंवाड़ी, पूजन हाळी बाहर खड़ी छै कांई कांई मांगी, कान्ह कंवर सूं बीरो मांगू राई सी भोजाई... गौर-गौर गोमती ईसर पूजे पार्वती... जैसे मांगलिक गीतों के बीच सुहागिनों और कुंवारी कन्याओं ने सोमवार को शिव-पार्वती का पूजन ईसर-गणगौर के रूप में किया।

09/04/2019

श्राद्ध कर्म से तृप्त होते हैं पितृ, देते हैं आशीर्वाद

अन्न से भौतिक शरीर तृप्त होता है। अग्नि को दान किए गए अन्न से सूक्ष्म शरीर और मन तृप्त होता है। इसी अग्निहोत्र से आकाश मंडल के समस्त पक्षी भी तृप्त होते हैं।

20/09/2021

इंडियन आइडल सीजन-11 में शानदार परफॉर्मेंस दे रहे जयपुर के अजमत

पॉपुलर सिंगिंग रियलिटी शो इंडियन आइडल सीजन-11 के टॉप-15 प्रतिभागियों में अपनी जगह बना चुके जयपुर के अजमत हुसैन बेहतर परफॉर्मेंस कर रहे हैं।

12/11/2019

87 वर्षीय 'सुपर फैन' से मिले विराट कोहली

मैच के दौरान 87 वर्षीय सुपर फैन चारुलता पटेल पूरे मैच के दौरान टीम इंडिया को चीयर करती रहीं।

03/07/2019