Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of May 2021
 
खास खबरें

मां की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्र, ये हैं कलश स्थापना के शुभ चौघड़िया और अभिजीत मुहूर्त

Friday, October 16, 2020 12:30 PM
शारदीय नवरात्र में मां के 9 रूपों की होगी पूजा।

जयपुर। शक्ति की देवी मां दुर्गा की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्र कल 17 अक्टूबर से पूरे देश में शुरू हो रहा है। कलश स्थापना के साथ ही 9 दिन तक मां की गुणगान शुरू हो जाएगा। नवरात्र की शुरूआत शनिवार को होने की वजह से मां दुर्गा इस बार घोड़े पर सवार होकर आ रही हैं। देशभर में माता के मंदिरों में कोरोना संक्रमण रोकने के उपाय के साथ मां के दर्शन होंगे। मां के आने और जाने की सवारी दिन के हिसाब से तय होती है। ऐसी मान्यता है कि यदि नवरात्र शनिवार और मंगलवार से शुरू हो तो मां घोड़े पर सवार हो के आती हैं। रविवार और सोमवार को शुरू होने पर हाथी पर आती हैं जबकि गुरूवार और शुक्रवार होने पर डोली में सवार हो के आती हैं ।

24 अक्टूबर को अष्टमी और नवमीं दोनों है। लिहाजा 9 दिन व्रत रखने वाले 24 तक व्रत रखेंगे। 25 अक्टूबर को दिन में 11 बजे तक नवमी है, उसके बाद दशमी शुरू हो जाएगी। मां भगवती को पूजने, मनाने एवं शुभ कृपा प्राप्त करने का सबसे उत्तम समय आश्विन शुक्ल पक्ष में प्रतिपदा से नवमी तक होता है। आश्विन मास में पड़ने वाले इस नवरात्र को शारदीय नवरात्र कहा जाता है। इस नवरात्र की विशेषता है कि हम घरों में कलश स्थापना के साथ-साथ पूजा पंडालों में भी स्थापित करके मां भगवती की आराधना करते हैं।

शारदीय नवरात्रि में घट स्थापना का शुभ मुहूर्त
सुबह 8 बजकर 16 मिनट से कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त बन रहा है, जो 10 बजकर 31 मिनट तक रहेगा। पूरे दिन में कलश स्थापना के कई योग बन रहे हैं। अभिजीत मुहूर्त सभी शुभ कार्यों के लिए अति उत्तम होता है, जो मध्यान्ह 11:36 से 12:24 तक होगा। इस मुहूर्त में भी बड़ी संख्या में लोग कलश स्थापना करके शक्ति की अराधना शुरू करते हैं। इसी दिन दोपहर 2 बजकर 24 मिनट से 3 बजकर 59 मिनट तक और शाम 7 बजकर 13 मिनट से 9 बजकर 12 मिनट तक स्थिर लग्न है। इसमें भी कलश स्थापना की जा सकती है।

तिथि और मां के अवतार का पूजन-:
17 अक्टूबर - प्रतिपदा - घट स्थापना और शैलपुत्री पूजन।
18 अक्टूबर - द्वितीया - मां ब्रह्मचारिणी पूजन।
19 अक्टूबर - तृतीया - मां चंद्रघंटा पूजन।
20 अक्टूबर - चतुर्थी - मां कुष्मांडा पूजन।
21 अक्टूबर - पंचमी - मां स्कन्दमाता पूजन।
22 अक्टूबर - षष्ठी - मां कात्यायनी पूजन।
23 अक्टूबर - सप्तमी - मां कालरात्रि पूजन।
24 अक्टूबर - अष्टमी - मां महागौरी पूजन।
25 अक्टूबर - नवमी, दशमी - मां सिद्धिदात्री पूजन व विजया दशमी।

यह भी पढ़ें:

'बच्चों को ढाल बनाते हैं उपद्रवी, 95 प्रतिशत कश्मीरी शांति से चाहते हैं हल'

गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जम्मू-कश्मीर के हालात पर बात की। राजनाथ ने कांफ्रेंस में कहा कि कश्मीर में छोटे बच्चों को बरगलाया जाता है, कुछ लोग बच्चों को पत्थर मारने के लिए तैयार करते हैं। सभी कश्मीर में शांति चाहते हैं, घाटी के हालात को लेकर बहुत दुखी हूं।

25/08/2016

राजस्थान आना अपनी रूह के साथ जुड़ने जैसा है : रिजवान

टेलिविजन चैनल पर प्रसारित फीयर फैक्टर 2005 के विनर, मॉडल और एक्टर रिजवान सिकन्दर ने उस खिताब अपने नाम किया था।

03/05/2019

14वें ‘दिव्यांग टैलेंट एंड फैशन शो’ में दिव्य हीरोज ने दिखाई प्रतिभा

नारायण सेवा संस्थान की ओर से मुंबई के जेवीपीडी ग्राउंड में आयेाजित 14वें ‘दिव्यांग टैलेंट एंड फैशन शो’ में दिव्य हीरोज ने व्हीलचेयर, बैसाखी, कैलीपर्स और कृत्रिम अंगों पर अपने वजन को संभाले हुए आश्चर्यजनक स्टंट और नृत्य करते हुए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

13/11/2019

'पैड वुमन ऑफ राजस्थान', 7 साल में एक लाख से अधिक सेनेटरी पैड किए वितरित

पूरे विश्व में 28 मई को मासिक धर्म स्वच्छता दिवस मनाया जाता है। देश-विदेश में इसी महीने सैकड़ों चर्चाएं और संगोष्ठियां आयोजित की जाती हैं, जहां महिलाओं से जुड़े मुद्दों पर बात होती है। फिर भी कई ऐसे मुद्दे हैं जो आज भी महिलाओं से कोसो दूर हैं या यो कहें कि वो आज भी अनसुने, अनकहे व पूरी तरह से नजरअंदाज हैं।

25/05/2020

FathersDay: भारत और पाक मैच करेगा एंजॉय तो कोई देगा गिफ्ट

पिता आमतौर पर हमारी जिंदगी के अनसुने, बिसरा दिए गए नायकों की तरह होते हैं। वे चुनौतियों से हमें डटकर सामना करने की प्रेरणा देते हैं।

14/06/2019

अजब गजब: देश में एक ऐसी जगह, जहां जाने वाला कभी नहीं लौटा वापस

क्या आप इस बात पर यकीन कर सकते हैं कि 21वीं सदी में भी भारत में एक ऐसी जगह है जहां जाने के बाद आज तक कोई वापस नहीं लौटा। हम बात कर रहे हैं इंडियन ओशन के नॉर्थ सेंटिनल आइलैंड की। आप जानकर आश्चर्यचकित हो जाएंगे कि यहां इंसानों की एक प्रजाति रहती है। इसके बाद भी कोई व्यक्ति यहां जाने के बाद वापस लौटकर नहीं आता।

30/12/2020

बाघ ने दी भालू को चेतावनी

रणथम्भौर टाइगर रिजर्व में विभिन्न प्रजातियों के वन्यजीवों का संसार बसता है। जहां पर्यटकों को बाघ, पैंथर, नील गाय, भालू आदि वन्यजीवों को देखने का मौका मिलता है।

21/05/2019