Dainik Navajyoti Logo
Monday 20th of September 2021
 
खास खबरें

मां की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्र, ये हैं कलश स्थापना के शुभ चौघड़िया और अभिजीत मुहूर्त

Friday, October 16, 2020 12:30 PM
शारदीय नवरात्र में मां के 9 रूपों की होगी पूजा।

जयपुर। शक्ति की देवी मां दुर्गा की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्र कल 17 अक्टूबर से पूरे देश में शुरू हो रहा है। कलश स्थापना के साथ ही 9 दिन तक मां की गुणगान शुरू हो जाएगा। नवरात्र की शुरूआत शनिवार को होने की वजह से मां दुर्गा इस बार घोड़े पर सवार होकर आ रही हैं। देशभर में माता के मंदिरों में कोरोना संक्रमण रोकने के उपाय के साथ मां के दर्शन होंगे। मां के आने और जाने की सवारी दिन के हिसाब से तय होती है। ऐसी मान्यता है कि यदि नवरात्र शनिवार और मंगलवार से शुरू हो तो मां घोड़े पर सवार हो के आती हैं। रविवार और सोमवार को शुरू होने पर हाथी पर आती हैं जबकि गुरूवार और शुक्रवार होने पर डोली में सवार हो के आती हैं ।

24 अक्टूबर को अष्टमी और नवमीं दोनों है। लिहाजा 9 दिन व्रत रखने वाले 24 तक व्रत रखेंगे। 25 अक्टूबर को दिन में 11 बजे तक नवमी है, उसके बाद दशमी शुरू हो जाएगी। मां भगवती को पूजने, मनाने एवं शुभ कृपा प्राप्त करने का सबसे उत्तम समय आश्विन शुक्ल पक्ष में प्रतिपदा से नवमी तक होता है। आश्विन मास में पड़ने वाले इस नवरात्र को शारदीय नवरात्र कहा जाता है। इस नवरात्र की विशेषता है कि हम घरों में कलश स्थापना के साथ-साथ पूजा पंडालों में भी स्थापित करके मां भगवती की आराधना करते हैं।

शारदीय नवरात्रि में घट स्थापना का शुभ मुहूर्त
सुबह 8 बजकर 16 मिनट से कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त बन रहा है, जो 10 बजकर 31 मिनट तक रहेगा। पूरे दिन में कलश स्थापना के कई योग बन रहे हैं। अभिजीत मुहूर्त सभी शुभ कार्यों के लिए अति उत्तम होता है, जो मध्यान्ह 11:36 से 12:24 तक होगा। इस मुहूर्त में भी बड़ी संख्या में लोग कलश स्थापना करके शक्ति की अराधना शुरू करते हैं। इसी दिन दोपहर 2 बजकर 24 मिनट से 3 बजकर 59 मिनट तक और शाम 7 बजकर 13 मिनट से 9 बजकर 12 मिनट तक स्थिर लग्न है। इसमें भी कलश स्थापना की जा सकती है।

तिथि और मां के अवतार का पूजन-:
17 अक्टूबर - प्रतिपदा - घट स्थापना और शैलपुत्री पूजन।
18 अक्टूबर - द्वितीया - मां ब्रह्मचारिणी पूजन।
19 अक्टूबर - तृतीया - मां चंद्रघंटा पूजन।
20 अक्टूबर - चतुर्थी - मां कुष्मांडा पूजन।
21 अक्टूबर - पंचमी - मां स्कन्दमाता पूजन।
22 अक्टूबर - षष्ठी - मां कात्यायनी पूजन।
23 अक्टूबर - सप्तमी - मां कालरात्रि पूजन।
24 अक्टूबर - अष्टमी - मां महागौरी पूजन।
25 अक्टूबर - नवमी, दशमी - मां सिद्धिदात्री पूजन व विजया दशमी।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

घट स्थापना के साथ चैत्र नवरात्र की शुरुआत, पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा

धर्म के अनुसार हर संप्रदाय का अपना अलग-अलग नववर्ष मनाया जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार विक्रम संवत का शुभारंभ चैत्र मास की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को होता है। इसी दिन से नवरात्र की शुरुआत होती है। आदि शक्ति की आराधना का पावन पर्व चैत्र नवरात्र इस वर्ष 25 मार्च (बुधवार) से शुरू होगा। इसे वासंतिक नवरात्र भी कहते हैं। इसी दिन हिन्दू नववर्ष यानी नवसंवत्सर 2077 का शुभारम्भ होगा।

24/03/2020

वाहन चालक से पुलिस-आरटीओ नहीं मांग सकते मूल दस्तावेज

एम परिवहन और डिजी लॉकर में वाहनों के पेपर भी मान्य

04/09/2021

तियानमेन चौक नरसंहार में 10 हजार लोगों को टैंकों से कुचल डाला था

तियानमेन चौक नरसंहार की 30वीं बरसी है। तीस साल पहले 4 जून 1989 को कम्युनिस्ट पार्टी के उदारवादी नेता हू याओबैंग की मौत के खिलाफ हजारों छात्र तियानमेन चौक पर प्रदर्शन कर रहे थे।

04/06/2019

हैप्पी फ्रेंडशिप डे: ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे...

आज के समय में मित्रता की परिभाषा बहुत भिन्न है। पहले दोस्ती होने पर ताउम्र तक निभाई जाती थी। आज की दोस्ती फायदा-नुकसान देखती है। स्वार्थ देखती है। पहले के समय में व्यक्ति सामाजिक ज्यादा था, इसलिए मित्रता को सर्वोपरि रखता था।

03/08/2019

रणथम्भौर किले में पर्यटकों के लिए बनाया बेबी फिडिंग कक्ष

प्रदेश के किले-महल पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इसी का नतीजा है कि हर साल लाखों की संख्या में देशी-विदेशी पर्यटक मरु प्रदेश की ओर रूख करते हैं।

05/02/2020

FathersDay: भारत और पाक मैच करेगा एंजॉय तो कोई देगा गिफ्ट

पिता आमतौर पर हमारी जिंदगी के अनसुने, बिसरा दिए गए नायकों की तरह होते हैं। वे चुनौतियों से हमें डटकर सामना करने की प्रेरणा देते हैं।

14/06/2019

अजमेर का राजकीय संग्रहालय प्रदेश का पहला ऐसा म्यूजियम, जहां पर्यटकों के लिए दो मूवी थिएटर

थिएटर में फिल्मों को देखने का एक अपना ही मजा है। हालांकि अभी कोविड-19 के चलते थिएटर बंद हैं, लेकिन क्या किसी ने ऐसा म्यूजियम देखा है जिसमें थिएटर भी हो। वो भी एक नहीं बल्कि दो। पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के अंतर्गत आने वाले राजकीय संग्रहालय अजमेर में यह थिएटर देखने को मिलेगा। दर्शक यहां ट्रेडिशनल, एजुकेशनल, साइंटिफिक, डॉक्यूमेंट्री, राजस्थानी एवं क्लासिकल मूवी देख सकते हैं।

24/08/2020