Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of December 2021
 
खास खबरें

शरद पूर्णिमा देती है निरोगी काया और धन-संपदा का आशीर्वाद

Tuesday, October 19, 2021 10:10 AM
कॉन्सेप्ट फोटो

 इस व्रत को आश्विन पूर्णिमा, कोजगारी पूर्णिमा और कौमुदी व्रत के नाम से भी जानते हैं। मान्यता है कि शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है। इसे अमृत काल भी कहा जाता है। कहते हैं कि इस दिन महालक्ष्मी का जन्म हुआ था। मां लक्ष्मी समुद्र मंथन के दौरान प्रकट हुई थीं।  शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा कि रोशनी को अमृत समान माना गया है। मान्यता है कि इस दिन चंद्र दर्शन और पूजन से निरोगी काया की प्राप्ति होती है। इस दिन मां लक्ष्मी के पूजन से धन-धान्य की प्राप्ति होती है।  


    आयुर्वेद में शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की रोशनी को अमृत समान माना गया है। इस दिन रात्रि में चंद्र दर्शन करने और चंद्रमा का त्राटक करने से नेत्र विकार दूर होते हैं।
    शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की रोशनी में बैठने से शरीर के सभी रोगाणुओं का नाश होता है तथा सांस संबंधी बीमारियों में भी लाभ मिलता है।
    शरद पूर्णिमा के दिन दूध और चावल की खीर को बना कर साफ कपड़े से ढक कर रात भर के लिए चंद्रमा की रोशनी में रख देना चाहिए। सबरे इस खीर को खाने से रोग प्रतिरोधकता में वृद्धि होती है।
    शरद पूर्णिमा को कुमार पूर्णिमा भी कहा जाता है। इस दिन कार्तिकेय भगवान के पूजन से योग्य वर मिलता है।
      शरद पूर्णिमा को मां लक्ष्मी का जन्मदिन माना जाता है। इस दिन रात्रि जागरण और मां लक्ष्मी के मंत्रों का जाप किया जाता है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

सरहद पर युद्धाभ्यास, टेंशन में पाकिस्तान

दायरा 500 किलोमीटर का, कुल जवान 30000, दिखाया युद्ध कौशल

27/11/2021

पहली आदिवासी कमर्शियल पायलट बनी अनुप्रिया लाकड़ा, सीएम ने दी बधाई

माओवादी प्रभावित मल्कानगिरी की रहने वाली एक आदिवासी लड़की व्यावसायिक विमान उड़ाने वाली राज्य की पहली महिला बन गई है।

09/09/2019

अजब गजब: जब पूरे शहर की सड़कों को हो गया था कैंसर, हर घर को करवाया था खाली

ऐसा कई बार होता है जब इंसान कुछ अच्छा करने जाता है, लेकिन उससे इस दौरान बड़ी भूल हो जाती है, जिससे उससे जुड़े सभी लोग कहीं ना कहीं प्रभावित होते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ था अमेरिका में अधिकारियों के साथ, जब उन्होंने सोचा तो लोगों की भलाई के बारे में था, लेकिन इस दौरान उनसे अनजाने में एक बड़ी भूल हो गई जिसका असर हजारों लोगों पर पड़ा था और सैंकडों लोगों को अपना घर-बार सब छोड़ना पड़ा था।

24/12/2020

हिन्दी दिवस पर विशेष

यह जानना जरूरी है हमारे पाठकों की अच्छी हिन्दी के लिए जानिए, हिन्दी में होने वाली 25 अहम गलतियां

14/09/2021

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है।

08/06/2019

गहलोत सरकार कर रही अच्छा काम, वसुंधरा की भाजपा में हो रही अनदेखी: महेश जोशी

सरकारी मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने भाजपा नेताओं की राज्य सरकार के खिलाफ बयानों को खारिज करते हुए कहा है कि भाजपा नेता नॉन इश्यू को इश्यू बना रहे हैं।

08/01/2020