Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
खास खबरें

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से जुड़ी कई योजनाएं आज भी अधूरी

Wednesday, October 02, 2019 12:05 PM
महात्मा गांधी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जीवन भर हिंदी के लिए लड़ते रहे, लेकिन पिछले 10 वर्षों से 'गांधी वांग्मय' हिंदी में उपलब्ध नहीं है और उनके 150वें जयंती वर्ष में यह फिर से प्रकाशित नहीं हो पाया है। इस बीच 100 खंडों में अंग्रेजी में प्रकाशित 'गांधी वांग्मय' की डीवीडी भी आ गया है और सम्पूर्ण सेट पेन ड्राइव में भी उपलब्ध हो गया है, लेकिन हिंदी में यह आज तक उपलब्ध नहीं हो पाया है। इतना ही नहीं साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष विश्वनाथ तिवारी के संपादन में गांधी पर भारतीय भाषाओं में लिखे गए प्रमुख लोगों के संस्मरण और कविताओं का एक संग्रह भी 150वें जयंती वर्ष में प्रकाशित होने वाला था, लेकिन वह आज तक नहीं निकल सका है, क्योंकि कॉपीराइट की अनुमति आज तक उन्हें नहीं मिल पाई और वह योजना खटाई में पड़ गई।   

ललित कला अकादमी ने संस्कृति मंत्रालय को गांधी जी से सम्बंधित कई प्रस्ताव भेजे, लेकिन 150वां जयंती वर्ष बीत जाने तक कोई स्वीकृति नहीं मिल पाई। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार 'गांधी वांग्मय' का संपूर्ण सेट 1998 में प्रकाशित हुआ था, लेकिन करीब 10 वर्षों से वह अनुपलब्ध है। उसे दोबारा छापने का काम चल रहा है और उम्मीद है कि इस वर्ष के अंत तक आ जाएगा। सूत्रों का कहना है कि प्रकाशन विभाग ने गांधी जी की 150वीं जयंती के मौके पर उन पर 21  किताबें फिर से प्रकाशित की हैं। जिनमें 16 हिंदी में हैं। इनमें 'चंपारण पुराण', 'गांधी शतदल', गांधी की प्रार्थना सभा के भाषण और गांधी के संस्मरण प्रमुख हैं।

'गांधी वांग्मय' प्रकाशित करने की योजना नेहरू जी के कार्यकाल में बनी थी और 1956 में इस पर काम शुरू हुआ और 1994 तक आते आते इसके सौ खण्ड छपे। इसके बाद 1998 में इसके हिंदी अनुवाद के सभी खण्ड आए। 'गांधी वांग्मय' के मुख्य संपादक प्रो. के स्वामीनाथन ने इस काम में अपने जीवन के 30 वर्ष दिए। सूत्रों के अनुसार 'गांधी वांग्मय' का सम्पूर्ण डीवीडी सेट मात्र 800 रुपए, जबकि पेन ड्राइव सेट 1800 रुपए में उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें:

किसान ने बनवाया पीएम मोदी का मंदिर, 8 महीने में 1.20 लाख रुपए की लागत से तैयार

तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली जिले के ईराकुडी गांव में किसान पी शंकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित मंदिर का निर्माण कराया है। पी शंकर ने गरीबों और वंचितों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को शुरू करने के लिए मोदी का आभार व्यक्त करते हुए अपनी जमीन पर इस मंदिर का निर्माण कराया है।

26/12/2019

14वें ‘दिव्यांग टैलेंट एंड फैशन शो’ में दिव्य हीरोज ने दिखाई प्रतिभा

नारायण सेवा संस्थान की ओर से मुंबई के जेवीपीडी ग्राउंड में आयेाजित 14वें ‘दिव्यांग टैलेंट एंड फैशन शो’ में दिव्य हीरोज ने व्हीलचेयर, बैसाखी, कैलीपर्स और कृत्रिम अंगों पर अपने वजन को संभाले हुए आश्चर्यजनक स्टंट और नृत्य करते हुए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

13/11/2019

कोरोना योद्धाओं के सम्मान के लिए अनूठी पहल, यहां 2 रुपए सस्ता मिल रहा पेट्रोल-डीजल

जब पूरे देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से सुर्खियां बन रही हैं, ऐसे समय में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृह राज्य गुजरात में एक व्यवसायी ने कोरोना महामारी से लड़ाई में लगे अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धाओं के सम्मान के लिए अनूठा कदम उठाया है और उन्हें अहमदाबाद स्थित अपने दो पेट्रोल पंप के जरिए सामान्य लोगों की तुलना में 2 रुपए प्रति लीटर की रियायत पर पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति कर रहे हैं।

02/07/2020

चांद बावडी में की जाएगी लाइटिंग

दौसा जिले के बांदीकुई में स्थित आठवीं सदी की चांद बावडी का दृश्य है। यहां पर्यटन विभाग की ओर से आभानेरी उत्सव का आयोजन होगा।

26/09/2019

आसमान से खेत में गिरा रहस्यमयी पत्थर, देखने आ रहे लोग

बिहार के मधुबनी जिले के लौकही प्रखंड के कोरियाही गांव के एक खेत में आसमान से एक रहस्यमयी पत्थर गिरने का मामला चर्चाओं में है।

23/07/2019

खरगोश के बाल पर लिखा है गायत्री मंत्र

जब किसी संग्रहालय की रचना करते हैं तो उसका उद्देश्य लोगों को उस युग में ले जाना जहां से उन्हें इतिहास का दर्शन हो सके।

19/05/2019

ये है एशिया का सबसे स्वच्छ गांव, जो भारत में है, जहां सड़क पर नजर नहीं आता कचरा

मेघालय में एक गांव मावलिननोंग स्थित है, जिसे 2003 से लगातार एशिया महाद्वीप के सबसे स्वच्छ ग्राम का दर्जा मिल रहा है।

14/06/2019