Dainik Navajyoti Logo
Friday 18th of June 2021
 
खास खबरें

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में दिखेगी जयपुर हैरिटेज परकोटा की झलक

Monday, December 30, 2019 11:05 AM
जयपुर परकोटे की झांकी का नमूना।

जयपुर। गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के राजपथ पर आयोजित समारोह में इस बार राजस्थान की कला संस्कृति और हैरिटेज झलक भी दिखाई देगी। समारोह में कुल 16 राज्यों की झलकियों में राजस्थान की गुलाबी नगरी जयपुर का हैरिटेज परकोटा झांकी के रूप में अपनी खूबसूरती बिखेरता नजर आएगा। गणतंत्र दिवस की परेड में इस बार राजस्थान की झांकी को रक्षा मंत्रालय की ओर से स्वीकृति मिल गई है। झांकी की डिजाइन वरिष्ठ कलाकार हरशिव शर्मा और जोधपुर के वाघाराम चौधरी ने बनाया है। गुलाबी नगरी का परकोटा अपने अंदर हैरिटेज और खूबसूरती को समेटे हुए है। अब इसकी खूबसूरती दिल्ली के राजपथ पर 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर आयोजित समारोह में नजर आएगी। परकोटे की इस झांकी में जयपुर की सांस्कृतिक विरासत को दिखाया जाएगा। इस झांकी के माध्यम से पूरी दुनिया जयपुर की स्थापत्य कला, जाली, झरोखे, रंग-रोगन और हैरिटेज को निहार सकेगी।

झांकी में सबसे आगे होगी सवाई जयसिंह की छतरी
प्रदेश के कला एवं संस्कृति विभाग ने इसके लिए राजस्थान ललित कला अकादमी को नोडल एजेंसी बनाया था। झांकी के नोडल अफसर विनय शर्मा और हरशिव शर्मा ने बताया कि इसमें सबसे आगे स्टेच्यू सर्किल पर बनी सवाई जय सिंह की छतरी को दिखाया गया है। इसके पीछे परकोटा में बने झरोखों को अलग-अलग अंदाज में बनाया गया है। यह पूरा डिजाइन परकोटे की खूबसूरती को बयां करता है। वहीं पपेट आर्टिस्ट लाइव प्रस्तुति देते नजर आ रहे हैं। झांकी पर ही राजस्थान कलाकार लोक नृत्य की प्रस्तुति देंगे। झांकी 45 फीट लंबी, 14 फीट चौड़ी और लगभग 16 फीट ऊंची होगी। 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

दैनिक नवज्योति के राष्ट्रीय कवि सम्मेलन देश राग में आएंगे गीतकार समीर अंजान

गणतंत्र दिवस की संध्या पर जयपुर शहर और आसपास के वाशिन्दें गुदगुदाएंगे और लोटपोट होंगे। मौका होगा दैनिक नवज्योति की ओर से आयोजित राष्ट्रीय कवि सम्मेलन देश राग का।

21/01/2020

जानिए, कितना है इंफोसिस के सीईओ का सैलरी पैकेज

आईटी कंपनी इन्फोसिस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सलिल पारेख को बीते वित्त वर्ष 2018-19 में 24.67 करोड़ रुपए का सैलरी पैकेज मिला।

21/05/2019

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से जुड़ी कई योजनाएं आज भी अधूरी

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जीवन भर हिंदी के लिए लड़ते रहे, लेकिन पिछले 10 वर्षों से 'गांधी वांग्मय' हिंदी में उपलब्ध नहीं है और उनके 150वें जयंती वर्ष में यह फिर से प्रकाशित नहीं हो पाया है।

02/10/2019

डाक टिकटों में दिख रही गुरुद्वारों की सुंदरता, डाक विभाग ने जारी किया 5 टिकटों का सेट

पिछले साल डिपार्टमेंट ने गुरु नानक देवजी के प्रकाश पर्व पर करतापुर कॉरीडोर को खोले जाने के इस ऐतिहासिक क्षण को डाक टिकट में उतारकर बहुत ही प्रेरणादायक कार्य किया है। 5 डाक टिकटों के साथ विभाग ने पूरा एक सेट जारी किया है, हर एक टिकट अपने आप में बेहतर है और सुंदर भी।

24/02/2020

मोबाइल फोन और इंटरनेट के दौर में भी महिलाओं में बढ़ रहा करवाचौथ का आकर्षण

पति की दीर्घायु के लिये सदियों से मनाये जा रहे पर्व 'करवा चौथ' का आकर्षण आधुनिकता के इस दौर में भी फीका नहीं पड़ा है बल्कि जीवन संगिनी का इस व्रत में साथ निभाने वाले लोगों की तादाद हाल के वर्षो में तेजी से बढ़ी है।

16/10/2019

असफलता से सीखकर सफलता का स्वाद चखा : कृष्ण भारद्वाज

तेनालीरामा का किरदार मिलने के चार साल पहले से मेरे पास काम नहीं था। मेंटली, सोशली तौर पर बुरी स्थिति में था क्योंकि मुम्बई जैसी जगह पर रहे और आप कुछ ना करें

03/06/2019

आसमान से खेत में गिरा रहस्यमयी पत्थर, देखने आ रहे लोग

बिहार के मधुबनी जिले के लौकही प्रखंड के कोरियाही गांव के एक खेत में आसमान से एक रहस्यमयी पत्थर गिरने का मामला चर्चाओं में है।

23/07/2019