Dainik Navajyoti Logo
Friday 30th of October 2020
 
खास खबरें

अपनी गर्लफ्रेंड को लेकर IAS टॉपर कनिष्क कटारिया ने कहीं ये चौंकाने वाली बातें

Sunday, April 07, 2019 10:25 AM
अपने परिवार के साथ कनिष्क कटारिया

जयपुर। संघ लोक सेवा आयोग की ओर से शुक्रवार को घोषित सिविल सर्विस 2018 के नतीजों में देशभर में टॉपर रहे जयपुर निवासी कनिष्क कटारिया ने अपने इंटरव्यू में इसका श्रेय अपनी गर्ल फ्रेण्ड को भी दिया है। इस संबंध में दैनिक नवज्योति संवाददाता ने शनिवार को कनिष्क से फिर बात की और सवाल किए। सवालों के जवाब में कनिष्क ने अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में खुलासा तो नहीं किया, लेकिन उन्होंने इतना जरूर बताया कि उसने मेरे लिए जो किया उसे मैं बयां नहीं कर सकता और उसे क्रेडिट देना बहुत ही जरूरी था। उसने मेरे लिए जो भी किया वह आज के जमाने में किसी गर्ल फ्रेंड के लिए बमुश्किल है।

कनिष्क से बातचीत के कुछ अंश इस प्रकार है
प्रश्न : रूढ़ीवादी और ढकोसलों से भरे वर्तमान समय में भारतीय संस्कृति में यह बात थोड़ी अजीब सी लगती है कि आपने अपने माता पिता और बहन के साथ अपनी गर्ल फ्रेंड को भी सफलता का श्रेय दिया। ऐसा कह पाना आपके लिए कैसा रहा? 
उत्तर : यह बात सही है कि कोई भी व्यक्ति सफलता का श्रेय अपनी गर्ल फ्रेंड को देने से पहले दस बार सोचता है, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया जो सच था वही सबके सामने बोला है। मैं फिर बोल रहा हूं कि जो सहयोग आईएएस बनने में मेरी गर्ल फ्रेंड ने मुझे किया उसको मैं जीवनभर नहीं भूल सकता हूं और इस समय उसे भी क्रेडिट देना मैंने उचित समझा।

प्रश्न : जब आपने अपनी सफलता में अपनी गर्ल फ्रेंड का जिक्र किया तो आपके पैरेंट्स और उसके पैरेंट्स की क्या प्रतिक्रिया रही?                      

उत्तर : सफलता का क्रेडिट जब मैंने गर्ल फ्रेंड को दिया तो मेरे पैरेंट्स और उसके पैरेंट्स बहुत खुश हुए। हम दोनों के पैरेंट्स को मालूम है कि वे मेरी अच्छी मित्र है।

प्रश्न : आपकी गर्ल फ्रेंड का इसपर क्या नजरिया रहा, जब आपने उसे अपनी सफलता का श्रेय दिया?
उत्तर : वह बेहद खुश थी। उसने जो कुछ मेरे लिए किया उसके सामने उसको क्रेडिट देना बहुत मामूली तोहफा है।

प्रश्न : आपकी गर्ल फ्रेंड ने किस तरह यहां पहुंचने में मदद की?
उत्तर : उसने हमेशा मुझे मोरल सपोर्ट किया। पॉजीटिव फिलिंग्स करवाई, मुझे हर बार इस बात के लिए प्रेरित किया कि मैं यूपीएससी की परीक्षा अच्छे नम्बरों से पास करूं। उसने मुझे मोटिवेट करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। उसने बाहर रहते हुए भी मुझे उम्मीद से ज्यादा सपोर्ट किया, जो उसके लिए काफी मुश्किल था।

प्रश्न : आपकी गर्ल फ्रेंड क्या कर रही है, उनकी शिक्षा, उनका नाम और पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में कोई जानकारी देंगे?
उत्तर : मैं सिर्फ  इतना सा बताना चाहूंगा कि वह जापान में एक प्रतिष्ठित कम्पनी में काम करती है। इससे ज्यादा उसके बारे में बताना मैं उचित नहीं समझता, लेकिन इस जमाने में ऐसी गर्ल फ्रेंड मिलना भी मेरे लिए सौभाग्य की बात है। उसने निस्वार्थ मेरी मदद की और यहां तक पहुंचाने में अमूल्य योगदान दिया। जिसे भुलाया नहीं जा सकता।

प्रश्न : रूढ़ीवादी और ढकोसलों से भरे वर्तमान समय में भारतीय संस्कृति में यह बात थोड़ी अजीब सी लगती है कि आपने अपने माता पिता और बहन के साथ अपनी गर्ल फ्रेंड को भी सफलता का श्रेय दिया। ऐसा कह पाना आपके लिए कैसा रहा? 
उत्तर : यह बात सही है कि कोई भी व्यक्ति सफलता का श्रेय अपनी गर्ल फ्रेंड को देने से पहले दस बार सोचता है, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया जो सच था वही सबके सामने बोला है। मैं फिर बोल रहा हूं कि जो सहयोग आईएएस बनने में मेरी गर्ल फ्रेंड ने मुझे किया उसको मैं जीवनभर नहीं भूल सकता हूं और इस समय उसे भी क्रेडिट देना मैंने उचित समझा।

प्रश्न : जब आपने अपनी सफलता में अपनी गर्ल फ्रेंड का जिक्र किया तो आपके पैरेंट्स और उसके पैरेंट्स की क्या प्रतिक्रिया रही?                      

उत्तर : सफलता का क्रेडिट जब मैंने गर्ल फ्रेंड को दिया तो मेरे पैरेंट्स और उसके पैरेंट्स बहुत खुश हुए। हम दोनों के पैरेंट्स को मालूम है कि वे मेरी अच्छी मित्र है।

प्रश्न : आपकी गर्ल फ्रेंड का इसपर क्या नजरिया रहा, जब आपने उसे अपनी सफलता का श्रेय दिया?
उत्तर : वह बेहद खुश थी। उसने जो कुछ मेरे लिए किया उसके सामने उसको क्रेडिट देना बहुत मामूली तोहफा है।

प्रश्न : आपकी गर्ल फ्रेंड ने किस तरह यहां पहुंचने में मदद की?
उत्तर : उसने हमेशा मुझे मोरल सपोर्ट किया। पॉजीटिव फिलिंग्स करवाई, मुझे हर बार इस बात के लिए प्रेरित किया कि मैं यूपीएससी की परीक्षा अच्छे नम्बरों से पास करूं। उसने मुझे मोटिवेट करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। उसने बाहर रहते हुए भी मुझे उम्मीद से ज्यादा सपोर्ट किया, जो उसके लिए काफी मुश्किल था।

प्रश्न : आपकी गर्ल फ्रेंड क्या कर रही है, उनकी शिक्षा, उनका नाम और पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में कोई जानकारी देंगे?
उत्तर : मैं सिर्फ  इतना सा बताना चाहूंगा कि वह जापान में एक प्रतिष्ठित कम्पनी में काम करती है। इससे ज्यादा उसके बारे में बताना मैं उचित नहीं समझता, लेकिन इस जमाने में ऐसी गर्ल फ्रेंड मिलना भी मेरे लिए सौभाग्य की बात है। उसने निस्वार्थ मेरी मदद की और यहां तक पहुंचाने में अमूल्य योगदान दिया। जिसे भुलाया नहीं जा सकता। 

यह भी पढ़ें:

अलविदा 2019 : आर्थिक संकट से उभरा जेडीए, चला विकास की डगर

जयपुर शहर के विकास की एक बड़ी कड़ी के रूप में स्थापित जयपुर विकास प्राधिकरण का यह वर्ष आर्थिक मामलों में संकट ग्रस्त ही रहा। वर्ष के शुरुआत में जहां कर्मचारियों के वेतन तक के भी लाले पड़ गए थे। अब धीरे धीरे विकास की राह पकड़ने के साथ ही जेडीए की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है।

16/12/2019

खरगोश के बाल पर लिखा है गायत्री मंत्र

जब किसी संग्रहालय की रचना करते हैं तो उसका उद्देश्य लोगों को उस युग में ले जाना जहां से उन्हें इतिहास का दर्शन हो सके।

19/05/2019

दिल्ली से जयपुर और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन चलाने की तैयारी

रेलवे ने बुलेट ट्रेन के लिए दिल्ली-जयपुर-उदयपुर-अहमदाबाद समेत 6 नए कॉरिडोर चिन्हित किए हैं। इसकी डीपीआर एक साल में तैयार हो जाएगी। इनमें हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेन की रफ्तार 300 किलोमीटर प्रति घंटे होगी, जबकि सेमी हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेन 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी।

30/01/2020

फ्लैशबैक 2019 : जम्मू-कश्मीर बना केंद्र शासित प्रदेश, लागू हुआ देश का संविधान

साल 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली भाजपा सरकार ने कई महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक फैसले लिए। आंतरिक सुरक्षा के मोर्चे पर बीते वर्ष जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 तथा धारा 35ए को हटाया और उसे दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित किया गया।

31/12/2019

तीन साल की बच्ची बनी सबसे कम उम्र की प्रतिभागी

जयपुर मैराथन में इस साल भाग लेकर वैरोनिका कुमारी चंद्रावत सबसे कम उम्र की प्रतिभागी बन गई है। यह जानकारी देते हुए पिता रिपुदमन सिंह चंद्रावत ने बताया कि वे बेटियों को आगे बढ़ाने और मिसाल के तौर पर स्थापित कर समाज के लिए एक उदाहरण स्थापित करना चाहते हैं।

10/04/2019

अजमेर का राजकीय संग्रहालय प्रदेश का पहला ऐसा म्यूजियम, जहां पर्यटकों के लिए दो मूवी थिएटर

थिएटर में फिल्मों को देखने का एक अपना ही मजा है। हालांकि अभी कोविड-19 के चलते थिएटर बंद हैं, लेकिन क्या किसी ने ऐसा म्यूजियम देखा है जिसमें थिएटर भी हो। वो भी एक नहीं बल्कि दो। पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के अंतर्गत आने वाले राजकीय संग्रहालय अजमेर में यह थिएटर देखने को मिलेगा। दर्शक यहां ट्रेडिशनल, एजुकेशनल, साइंटिफिक, डॉक्यूमेंट्री, राजस्थानी एवं क्लासिकल मूवी देख सकते हैं।

24/08/2020

फ्लैशबैक 2019 : खय्याम, गिरीश कर्नाड और विद्या सिन्हा, इन सेलेब्स ने दुनिया को कहा अलविदा

बॉलीवुड में वर्ष 2019 कई मायनों में कई उपलब्धियों भरा वर्ष साबित हुआ लेकिन बीते साल बॉलीवुड ने अपने कई बेहतरीन कलाकारों को हमेशा के लिए खो दिया। ऐसे कलाकार जिन्होंने अपने हुनर से फैंस को अपना दिवाना बनाया अब हमारे बीच नहीं रहे।

31/12/2019