Dainik Navajyoti Logo
Saturday 22nd of February 2020
 
खास खबरें

हिस्टोरिकल मॉन्यूमेंट्स: फोटोज क्लिक करते समय कीमती सामान भूल जाते हैं पर्यटक, भारतीयों की तादाद ज्यादा

Monday, February 03, 2020 13:45 PM
पर्यटकों को उनका सामान लौटाते हुए स्मारक के अधिकारी।

जयपुर। पर्यटन सीजन के चलते देशी-विदेशी पर्यटक गुलाबी नगरी की ओर रूख करते हैं। यहां आकर वे किलों-महलों की सुंदरता को अपने कैमरों में कैद करते हैं। वहीं सालों पुरानी दुर्लभ वस्तुओं को समेटे म्यूजियम के दीदार भी करते हैं। लेकिन आमतौर पर रोजाना ही देखा जाता है कि हिस्टोरिकल मॉन्यूमेंट्स को निहारते हुए कई बार पर्यटक यहां अपना कीमती सामाना जैसे, मोबाइल फोन, एटीएम कार्ड, बैग, ज्वैलरी, कैमरा आदि भूल जाते हैं। मॉन्यूमेंट्स प्रशासन के कर्मचारियों और होमगार्ड के जवानों को यह कीमती सामना मिलता है तो वे इन्हें कार्यालय में जमा करवा देते हैं। पर्यटक इन्हें ढूंढ़ते हुए कार्यालय में सम्पर्क करते हैं, तो पूरी जांच पड़ताल करने के बाद उन्हें सामना वापस लौटाया जाता है।

भारतीय पर्यटकों की संख्या ज्यादा
पिंकसिटी के हिस्टोरिकल मॉन्यूमेंट्स की विजिट के दौरान पर्यटक अपनों के साथ फोटोज खींचने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि अपने साथ लाए कीमती सामना स्मारक परिसर में रखकर भूल जाते हैं। जयपुर के आमेर महल, जंतर-मंतर स्मारक, हवामहल स्मारक, अल्बर्ट हॉल संग्रहालय, नाहरगढ़ फोर्ट आदि में मोबाइल फोन, पर्स, कैमरा, जैकेट, एटीएम आदि कीमती सामनों को स्मारक परिसर में रखकर भूल जाने में भारतीय पर्यटकों की संख्या ज्यादा देखने को मिलती है। जंतर-मंतर स्मारक से मिले आंकड़ों के अनुसार दिसम्बर 2019 से जनवरी, 2020 तक (दो महीनों) के मिले आंकड़ों के अनुसार 14 पर्यटकों में से 10 पर्यटक भारतीय थे। जो स्मारक विजिट के दौरान इस तरह के सामान परिसर में ही भूल गए थे। इसके अतिरिक्त आमेर महल, अल्बर्ट हॉल आदि मॉन्यूमेंट्स पर भी कीमती सामान भूल जाने में भारतीय पर्यटकों की संख्या ज्यादा ही देखने को मिली।

आमेर महल के अधीक्षक डॉ. पंकज धरेंद्र ने बताया कि पर्यटक मॉन्यूमेंट विजिट के दौरान फोटोज क्लिक करने के चक्कर में सामान परिसर में रख देते हैं, जिसे वे फिर साथ ले जाना भूल जाते हैं। जब याद आती है तो मोबाइल फोन, पर्स आदि कीमती सामानों को ढूंढ़ते हुए कार्यालय में सम्पर्क करते हैं। जहां पूरी जानकारी लेने के बाद उन्हें खोया हुआ सामान वापस दिया जाता है। मॉन्यूमेंट घूमने के दौरान कीमती सामना खोने में भारतीय पर्यटकों की संख्या ज्यादा रहती है।

जंतर-मंतर स्मारक के सहायक प्रशासनिक अधिकारी गोपाल शर्मा ने बताया कि स्मारक परिसर में करीब दो माह के दौरान देशी-विदेशी पर्यटकों के मोबाइल फोन, बैग, जैकेट, कैमरा आदि खोए, जिन्हें वापस लौटाया गया है। साथ ही करीब एक लाख रुपए से ज्यादा की खोई राशि स्मारक परिसर में मिलने के बाद पर्यटकों को वापस लौटाई गई है। कीमती सामानों को स्मारक परिसर में रखकर भूल जाने के मामले में भारतीय पर्यटकों की संख्या ज्यादा है।

यह भी पढ़ें:

भारत रत्न सचिन तेंदुलकर के नाम हैं कई रिकॉर्ड

सचिन तेंदुलकर ने अपना 46वां जन्मदिन मना रहे है। इस दिन उन्होंने अपने फैंस से मुलाकात की। उनका जन्म 1973 में हुआ था।

24/04/2019

मोबाइल फोन और इंटरनेट के दौर में भी महिलाओं में बढ़ रहा करवाचौथ का आकर्षण

पति की दीर्घायु के लिये सदियों से मनाये जा रहे पर्व 'करवा चौथ' का आकर्षण आधुनिकता के इस दौर में भी फीका नहीं पड़ा है बल्कि जीवन संगिनी का इस व्रत में साथ निभाने वाले लोगों की तादाद हाल के वर्षो में तेजी से बढ़ी है।

16/10/2019

अलविदा 2019: कमजोर रहा खेती-किसानी के लिए बीता साल, राजस्थान कल्याण कोष का शुभारम्भ

प्रदेश की खेती-किसानी के लिए गुजरा हुआ साल कमजोर ही रहा। प्रदेश में नई सरकार बनने के बाद सरकार के वादे के अनुसार किसानों में उम्मीद जगी थी कि सरकार किसानों के सभी तरह के कर्जे माफ कर देगी, लेकिन मात्र सहकारी बैंकों के ही कर्जे माफ हो पाए।

30/12/2019

एशिया के सबसे बड़े कच्चे बांध मोरेल पर चली 9 इंच चादर, देखने उमड़ी भीड़

एशिया के सबसे बड़े कच्चे बांधों में माने जाने वाले मोरेल बांध में आखिरकार रविवार की देर रात पूरा भरने के साथ ही इस पर नौ इंच की चादर चल रही है। बांध पर चादर चलने की खबर लगते ही लालसोट सहित सवाईमाधोपुर, टोंक एवं दौसा जिले से काफी संख्या में लोग बांध पर पानी देखने के लिए पहुंचना शुरू हो गए।

19/08/2019

पैलेस ऑन व्हील्स में मिलती हैं फाइव स्टार होटलों जैसी सुविधाएं

देशी-विदेशी पर्यटकों को शाही जीवन शैली जैसा अनूठा अनुभव देने वाली एवं पांच सितारा होटलों जैसी सुविधाओं से परिपूर्ण भारतीय रेल और राजस्थान पर्यटन विकास निगम द्वारा संयुक्त रूप से चलाई जा रही विश्व प्रसिद्ध पैलेस ऑन व्हील्स अपने नए रंगरूप और साज-सज्जा से सायं नई दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से देशी-विदेशी पर्यटकों को लेकर राजस्थानी संस्कृति से रूबरू कराने के लिये गन्तव्य स्थानों के सुनहरे सफर के लिए रवाना हो गई।

05/09/2019

कंक्रीट के बनते जंगल, रिहायशी इलाकों में वन्यजीवों की दस्तक

प्रदेश ही नहीं बल्कि देश के विभिन्न हिस्सों के जंगल में मानव के बढ़ते दखल, अतिक्रमण और कंक्रीट के बनते जंगल से वन्यजीव वहां से निकलकर शहर की ओर दस्तक दे रहे हैं।

14/12/2019

जयपुर के अल्बर्ट हॉल संग्रहालय ने विदेशों तक छोड़ी है छाप

जयपुर में अद्वितीय शिल्पकारी, स्थापत्य और एंटीक वस्तुओं से देसी-विदेशी पर्यटकों को रोमांचित करने वाले अल्बर्ट हॉल संग्रहालय ने अपनी छाप विदेशों तक छोड़ी है।

12/04/2019