Dainik Navajyoti Logo
Saturday 28th of March 2020
 
खास खबरें

रणथम्भौर किले में पर्यटकों के लिए बनाया बेबी फिडिंग कक्ष

Wednesday, February 05, 2020 12:10 PM
बेबी फिडिंग बनाया गया है।

जयपुर। प्रदेश के किले-महल पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इसी का नतीजा है कि हर साल लाखों की संख्या में देशी-विदेशी पर्यटक मरु प्रदेश की ओर रूख करते हैं। पर्यटकों के साथ आने वाले नन्हें बच्चों के लिए पुरातत्व विभाग की ओर से हवामहल स्मारक में बेबी फिडिंग बनाया गया है। इसके बाद अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) के जयपुर मण्डल ने अपने अधीन आने वाले वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट रणथम्भौर किले में नन्हें पर्यटकों के लिए बेबी फिडिंग बनवाया है, जहां देशी-विदेशी पर्यटकों के साथ आने वाले नन्हें पर्यटकों को भूख लगने पर दुग्धपान करवाया जा सकेगा। रणथम्भौर किला प्रदेश का पहला वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट बन गया है, जहां यह सुविधा शुरू हुई है। प्रदेश की अन्य वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट्स में पर्यटकों के लिए यह सुविधा अभी तक उपलब्ध नहीं हो सकी है। इसके अतिरिक्त भरतपुर में एएसआई के अधीन आने आदर्श मॉन्यूमेंट डीग पैलेस में भी बेबी फिडिंग बनवाया गया है।

10 साल बाद काम शुरू
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार रणथम्भौर किला परिसर स्थित शिजी की हवेली, बादल महल एवं करीब 10 साल बाद अंधेरी पोल का रिस्टोरेशन कार्य करवाया जाएगा, ताकि उनकी सुंदरता पुन: लौट सके। जानकारी के अनुसार काफी समय से किले के इन हिस्सों को रिस्टोरेशन वर्क की जरूरत थी।

यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट की लिस्ट में शामिल रणथम्भौर किले में बेबी फिडिंग बनाया गया है। इससे किले के भ्रमण के दौरान अगर नन्हें बच्चों को भूख लगे, तो उन्हें बेबी फिडिंग में दुग्धपान करवाया जा सके।
- प्यारे लाल मीणा, अधीक्षण पुरातत्वविद, जयपुर मण्डल, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण 
 

यह भी पढ़ें:

अलविदा 2019 : पंचायत पुनर्गठन से बदला ढांचा, नरेगा में केन्द्र ने थपथपाई पीठ

प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के लिहाज से यह साल काफी बदलाव भरा रहा। ग्राम पंचायत और पंचायत समितियों के पुनर्गठन और पुनर्सीमांकन प्रक्रिया से ग्रामीण क्षेत्र के ढांचे में बड़ा बदलाव आया तो शैक्षणिक योग्यता की बाधा हटाकर भी राज्य सरकार ने बड़ा परिवर्तन कर दिखाया।

09/12/2019

धरोहर स्थलों और स्मारकों के इतिहास के प्रति होगा जागरुकता बढ़ाने का प्रयास

दुनिया भर में, ऐतिहासिक विरासतों का जश्न मनाने के लिए हर साल एक दिन खास दिन मनाया जाता है, जिसे विश्व विरासत दिवस कहते हैं।

18/04/2019

संग्रहालय में अब्दुल कलाम का वैक्स स्टैच्यू

मिसाइल मैन के नाम से विख्यात देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का वैक्स स्टैच्यू केवल जयपुर में ही बना है।

16/10/2019

पाकिस्तान के सिंध की पहली हिंदू महिला अधिकारी बनी पुष्पा कोहली

पाकिस्तान में हिंदू लड़की पुष्पा कोहली पुलिस में अधिकारी बनी है। पहली बार हिंदू लड़की को सिंध पुलिस में शामिल किया गया है।

06/09/2019

जयपुर के ये 50 कलाकार यूरोप में करेंगे ढोल वादन

अन्तरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धोद गु्रप के निर्देशक रहीस भारती ने पहली बार परकशन का एक अनूठा कंसेप्ट बेस्ड शो तैयार किया है, जिसके लिए प्रदेश के विभिन्न शहरों में शादी-पार्टी में ढोल बजाकर जीवन यापन करने वाले पचास कलाकारों को प्रशिक्षित कर उनकी प्रतिभा का निखारा है।

22/05/2019

एशिया के सबसे बड़े कच्चे बांध मोरेल पर चली 9 इंच चादर, देखने उमड़ी भीड़

एशिया के सबसे बड़े कच्चे बांधों में माने जाने वाले मोरेल बांध में आखिरकार रविवार की देर रात पूरा भरने के साथ ही इस पर नौ इंच की चादर चल रही है। बांध पर चादर चलने की खबर लगते ही लालसोट सहित सवाईमाधोपुर, टोंक एवं दौसा जिले से काफी संख्या में लोग बांध पर पानी देखने के लिए पहुंचना शुरू हो गए।

19/08/2019

राजस्थान में अब तक 30 हजार दुर्लभ वस्तुओं का रजिस्ट्रेशन

दुर्लभ वस्तुओं का कलेक्शन कर सहेजकर रखना हर किसी के बस की बात नहीं है। जयपुर ही नहीं बल्कि प्रदेश के कई जिलों में ऐसे संग्रहकर्ता मिल जाएंगे, जो किसी ना किसी एंटीक चीजों का कलेक्शन करते हैं।

12/12/2019