Dainik Navajyoti Logo
Saturday 22nd of February 2020
 
खास खबरें

रणथम्भौर किले में पर्यटकों के लिए बनाया बेबी फिडिंग कक्ष

Wednesday, February 05, 2020 12:10 PM
बेबी फिडिंग बनाया गया है।

जयपुर। प्रदेश के किले-महल पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इसी का नतीजा है कि हर साल लाखों की संख्या में देशी-विदेशी पर्यटक मरु प्रदेश की ओर रूख करते हैं। पर्यटकों के साथ आने वाले नन्हें बच्चों के लिए पुरातत्व विभाग की ओर से हवामहल स्मारक में बेबी फिडिंग बनाया गया है। इसके बाद अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) के जयपुर मण्डल ने अपने अधीन आने वाले वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट रणथम्भौर किले में नन्हें पर्यटकों के लिए बेबी फिडिंग बनवाया है, जहां देशी-विदेशी पर्यटकों के साथ आने वाले नन्हें पर्यटकों को भूख लगने पर दुग्धपान करवाया जा सकेगा। रणथम्भौर किला प्रदेश का पहला वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट बन गया है, जहां यह सुविधा शुरू हुई है। प्रदेश की अन्य वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट्स में पर्यटकों के लिए यह सुविधा अभी तक उपलब्ध नहीं हो सकी है। इसके अतिरिक्त भरतपुर में एएसआई के अधीन आने आदर्श मॉन्यूमेंट डीग पैलेस में भी बेबी फिडिंग बनवाया गया है।

10 साल बाद काम शुरू
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार रणथम्भौर किला परिसर स्थित शिजी की हवेली, बादल महल एवं करीब 10 साल बाद अंधेरी पोल का रिस्टोरेशन कार्य करवाया जाएगा, ताकि उनकी सुंदरता पुन: लौट सके। जानकारी के अनुसार काफी समय से किले के इन हिस्सों को रिस्टोरेशन वर्क की जरूरत थी।

यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट की लिस्ट में शामिल रणथम्भौर किले में बेबी फिडिंग बनाया गया है। इससे किले के भ्रमण के दौरान अगर नन्हें बच्चों को भूख लगे, तो उन्हें बेबी फिडिंग में दुग्धपान करवाया जा सके।
- प्यारे लाल मीणा, अधीक्षण पुरातत्वविद, जयपुर मण्डल, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण 
 

यह भी पढ़ें:

अलविदा 2019: कमजोर रहा खेती-किसानी के लिए बीता साल, राजस्थान कल्याण कोष का शुभारम्भ

प्रदेश की खेती-किसानी के लिए गुजरा हुआ साल कमजोर ही रहा। प्रदेश में नई सरकार बनने के बाद सरकार के वादे के अनुसार किसानों में उम्मीद जगी थी कि सरकार किसानों के सभी तरह के कर्जे माफ कर देगी, लेकिन मात्र सहकारी बैंकों के ही कर्जे माफ हो पाए।

30/12/2019

ये है एशिया का सबसे स्वच्छ गांव, जो भारत में है, जहां सड़क पर नजर नहीं आता कचरा

मेघालय में एक गांव मावलिननोंग स्थित है, जिसे 2003 से लगातार एशिया महाद्वीप के सबसे स्वच्छ ग्राम का दर्जा मिल रहा है।

14/06/2019

सोशल मीडिया के जरिए भी किया जा रहा राज्य सरकार की योजनाओं का प्रचार-प्रसार: नीरज पवन

करीब 16 साल की सर्विस में करौली, भरतपुर, पाली जैसे जिलों में कलेक्टर और सरकार के विभिन्न महकमों में रहकर सुर्खियां बटोरने वाले 2003 बैच के आईएएस डॉ. नीरज के पवन की गिनती तेज तर्रार ब्यूरोक्रेट्स में होती है।

10/01/2020

जयपुर के इंजीनियर की तकनीक से बनेंगी गांवों की सड़कें, ग्राउंड वॉटर को रिचार्ज करेगा बारिश का पानी

सड़क बनाने के एक्सपर्ट इंजीनियर 84 वर्षीय पृथ्वी सिंह कांधल की बारिश के जल को बचाने के लिए सुराखदार सड़कों के निर्माण की तकनीक को केन्द्र सरकार ने मंजूरी दी है। इस तकनीक से प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत बनने वाली 20 फीसदी सड़कों को बनाया जाएगा।

03/02/2020

सोशल मीडिया के जरिए अफसरों पर रखेंगे ध्यान: कलेक्टर डॉ. जोगाराम

जयपुर जिले के नए कलक्टर डॉ. जोगाराम सोशल मीडिया के जरिए जिले के अफसरों पर ध्यान रखेंगे। कल का काम आज और आज का काम अभी की नीति को अपने जीवन में अपना कर चलने वाले कलेक्टर कई तरह के नवाचार करने में माहिर है, जयपुर में भी इस पर अमल करेंगे।

14/12/2019

शारीरिक दुर्बलता को पीछे छोड़ MBBS की सीढ़ियां चढ़े साजन

साजन कुमार ने अपनी शारीरिक दुर्बलता को पीछे छोड़ते हुए कड़ी मेहनत से खुद को साबित किया और मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट क्रक की।

25/07/2019

इसरो ने लिखा कामयाबी का नया इतिहास, इनसेट 3डीआर का प्रक्षेपण सफल

श्रीहरिकोटा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगन (इसरो) ने अपनी कामयाबी की एक और दास्तान लिखते हुए गुरुवार को मौसम संबंधी जानकारी देने वाले उपग्रह इनसेट 3डीआर का सफल प्रक्षेपण किया। साथ ही पहली बार किसी आॅपरेशनल फ्लाइट में स्वदेश निर्मित क्रायोजेनिक अपर स्टेज (सीयूएस) का इस्तेमाल किया गया।

08/09/2016