Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
खास खबरें

स्पेशल बच्चों की ख्वाहिशें देख भावुक हुए लोग

Tuesday, December 03, 2019 15:50 PM
अल्बर्ट हॉल पर डांस के जरिए बच्चों ने लोगों का ध्यान रोजगार और समाज में इस वर्ग की स्वीकार्यता पर खींचा।

जयपुर। अच्छी शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण हासिल करने के बाद हमें रोजगार के बराबर अवसर मिलें, हमारी काबलियत को इंडस्ट्री के लोग समझकर अपना हिस्सा मानें तभी सही मायने में समावेशी समाज बन पाएगा। ये बात विश्व विकलांग दिवस पर स्पेशल बच्चों ने कही। अल्बर्ट हॉल पर डांस के जरिए सोमवार को उमंग स्कूल के बच्चों ने लोगों का ध्यान रोजगार और समाज में इस वर्ग की स्वीकार्यता पर खींचा। बच्चों ने अपने तरीके से अपनी बात एक प्यारी सी इस्माइल के साथ मासूम अंदाज में रखी, जिसे देखकर वहां हर कोई भावुक हो गया। स्पेशल बच्चे अपनी पीड़ा भले उस तरीके से समझा ना सके,  मगर यह बात जिम्मेदारो को तो समझनी होगी।

व्हीलचेयर पर चलने वाले श्रेयांस ने कहा कि हम बच्चे जो चाहे कर सकते है, मगर लोग हमें घूरते हैं, बेचारा समझते हैं तो बुरा लगता है। मनीष और वरदान ने कहा कि हममें और दूसरे बच्चों में कोई फर्क नहीं है, इसलिए सबको काम और नौकरी का बराबर मौका मिलना चाहिए। अपूर्वा, रोहित और रिपु ने भी स्पेशल बच्चों के रोजगार के लिए उद्यमियों से खुले दिल से आगे आने की अपील की। इस मौके पर इन बच्चों ने कृष्णा लिंब के वालेन्टियर्स के साथ पशु अपंगता की भी बात की और लोगों को संभलकर गाड़ी चलाने और ट्रैफिक नियमों का पालन करने को कहा। इस आयोजन में अन्य स्कूल्स के वालेन्टियर्स भी मौजूद थे।
 

यह भी पढ़ें:

मदर्स डे विशेष : मां ये जीवन ही तुमसे है

मां एक शब्द ही नहीं है, इस शब्द में पूरा संसार समाया हुआ है। मां की परिभाषा का क्षेत्र सीमित नही है वो तो असीमित है किसी समंदर की तरह।

09/05/2019

जनता का घोषणापत्र: शहरों की साफ-सफाई और युवाओं के रोजगार पर विशेष फोकस

आज देश के साथ ही प्रदेश के हर शहर में जगह-जगह कचरे का ढेर लगा हुआ है। जबकि राज्य और केन्द्र सरकार की ओर से स्वच्छता के लिए कई अभियान चलाए जा रहे हैं।

22/04/2019

इंदिरा गांधी ने की थी कांग्रेस अधिवेशन में शिरकत

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी यूं तो गुलाबी नगर में कई बार आर्इं थी, लेकिन 1966 में उनकी जयपुर यात्रा विशेष महत्व रखती है।

29/04/2019

अजब गजब: देश में एक ऐसी जगह, जहां जाने वाला कभी नहीं लौटा वापस

क्या आप इस बात पर यकीन कर सकते हैं कि 21वीं सदी में भी भारत में एक ऐसी जगह है जहां जाने के बाद आज तक कोई वापस नहीं लौटा। हम बात कर रहे हैं इंडियन ओशन के नॉर्थ सेंटिनल आइलैंड की। आप जानकर आश्चर्यचकित हो जाएंगे कि यहां इंसानों की एक प्रजाति रहती है। इसके बाद भी कोई व्यक्ति यहां जाने के बाद वापस लौटकर नहीं आता।

30/12/2020

तीन साल की बच्ची बनी सबसे कम उम्र की प्रतिभागी

जयपुर मैराथन में इस साल भाग लेकर वैरोनिका कुमारी चंद्रावत सबसे कम उम्र की प्रतिभागी बन गई है। यह जानकारी देते हुए पिता रिपुदमन सिंह चंद्रावत ने बताया कि वे बेटियों को आगे बढ़ाने और मिसाल के तौर पर स्थापित कर समाज के लिए एक उदाहरण स्थापित करना चाहते हैं।

10/04/2019

जयपुर के इंजीनियर की तकनीक से बनेंगी गांवों की सड़कें, ग्राउंड वॉटर को रिचार्ज करेगा बारिश का पानी

सड़क बनाने के एक्सपर्ट इंजीनियर 84 वर्षीय पृथ्वी सिंह कांधल की बारिश के जल को बचाने के लिए सुराखदार सड़कों के निर्माण की तकनीक को केन्द्र सरकार ने मंजूरी दी है। इस तकनीक से प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत बनने वाली 20 फीसदी सड़कों को बनाया जाएगा।

03/02/2020

इसरो ने लिखा कामयाबी का नया इतिहास, इनसेट 3डीआर का प्रक्षेपण सफल

श्रीहरिकोटा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगन (इसरो) ने अपनी कामयाबी की एक और दास्तान लिखते हुए गुरुवार को मौसम संबंधी जानकारी देने वाले उपग्रह इनसेट 3डीआर का सफल प्रक्षेपण किया। साथ ही पहली बार किसी आॅपरेशनल फ्लाइट में स्वदेश निर्मित क्रायोजेनिक अपर स्टेज (सीयूएस) का इस्तेमाल किया गया।

08/09/2016