Dainik Navajyoti Logo
Monday 2nd of August 2021
 
खास खबरें

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा, मंदिरों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़

Tuesday, April 13, 2021 10:55 AM
फाइल फोटो।

जयपुर। आज से नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। इसी दिन से हिन्दू नववर्ष यानी नए संवत्सर की शुरुआत होती है। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण मां दुर्गा जी का नाम शैलपुत्री पड़ा। मां शैलपुत्री नंदी नाम के वृषभ पर सवार पर सवार होती हैं और उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प होता है। नवरात्रि के पहले दिन शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना या घटस्थापना की जाती है। फिर विधि विधान से मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरुप की पूजा की जाती है। नवरात्रि के पहले ही दिन से व्रत रखा जाएगा। इस बार आप भी नवरात्रि का व्रत रखने वाले हैं तो जागरण अध्यात्म में आज हम आपको मां शैत्रपुत्री की पूजा विधि, आरती, मंत्र आदि के बारे में बता रहे हैं, जिससे आपको आसानी होगी।

कौन हैं मां शैत्रपुत्री
मां दुर्गा का प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री हैं। यह पर्वतराज हिमालय की कन्या हैं। पूर्व जन्म में यह सती के नाम से जानी जाती थीं और प्रजापति दक्ष की कन्या थीं। मां शैलपुत्री की पूजा करने से व्यक्ति को शांति, उत्साह और निडरता प्राप्त होता है। मां भय का नाश करने वाली हैं। इनकी कृपा से व्यक्ति को यश, कीर्ति, धन, विद्या और मोक्ष प्राप्त होता है।

मां शैत्रपुत्री पूजा विधि
प्रतिपदा को कलश स्थापना करके नवरात्रि की पूजा और व्रत का संकल्प करें। इसके बाद मां शैलपुत्री की पूजा करें। उनको लाल पुष्प, सिंदूर, अक्षत्, धूप, गंध आदि चढ़ाएं। फिर माता के मंत्रों का उच्चारण करें। दुर्गा चालीसा का पाठ करें। पूजा के अंत में गाय के घी से दीपक या कपूर से आरती करें। माता रानी को जिन फलों और मिठाई का भोग लगाया है, उसे पूजा के बाद प्रसाद स्वरूप लोगों में बांट दें।

घट स्थापना का शुभ मुहूर्त
वासंतिक नवरात्र पर मंगलवार को सुबह सर्वश्रेष्ठ मुहुर्त में सुबह 6.09 बजे से लेकर 10.16 बजे तक मंदिरों और घरों में घट स्थापना होगी। इसके बाद द्विस्वभाव मिथुन लग्न में 9.46 से लेकर 12 बजे तथा अभिजित मुहुर्त मध्यान्ह 12.03 बजे से लेकर 12.53 बजे तक है। आमेर स्थित शिलामाता के मंदिर में नवरात्र स्थापना सुबह 6.10 बजे हुई। निशा पूजन सप्तमी तिथि 19 अप्रैल को रात 10 बजे होगी। वहीं 20 अप्रैल को महाअष्टमी हवन पूर्णाहुति के साथ होगी। 22 अप्रैल को नवरात्र उत्थपना होगी।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

दूसरे राज्यों से हमारी ब्यूरोक्रेसी बेहतर, जनहित के फैसले ले रही सरकार: मुख्य सचिव डीबी गुप्ता

किसी भी राज्य की ब्यूरोक्रेसी में ऐसा कम ही देखने को मिलता है कि कोई आईएएस अधिकारी दो सरकारों में मुख्य सचिव की कुर्सी पर काबिज रहा हो, लेकिन 1983 बैच के आईएएस अधिकारी डीबी गुप्ता इस जिम्मेदारी को भली भांति निभा रहे हैं।

15/12/2019

स्कूलों में बढ़ रही है काउंसलिंग की जरूरत

बदलते शिक्षा व्यवस्था के चलते बच्चों की सोच को और अधिक विकसित करने की जरूरत है। इसके लिए बच्चों को स्कूलों में पढ़ाई के साथ ही बेहतर परामर्श की आश्यकता पड़ती है, लेकिन अधिकांश निजी स्कूल प्रशासन इस तरफ कोई ध्यान नहीं देते है और स्कूलस्तर पर खानापूर्ति करते रहे है।

11/06/2019

अलविदा 2019: कमजोर रहा खेती-किसानी के लिए बीता साल, राजस्थान कल्याण कोष का शुभारम्भ

प्रदेश की खेती-किसानी के लिए गुजरा हुआ साल कमजोर ही रहा। प्रदेश में नई सरकार बनने के बाद सरकार के वादे के अनुसार किसानों में उम्मीद जगी थी कि सरकार किसानों के सभी तरह के कर्जे माफ कर देगी, लेकिन मात्र सहकारी बैंकों के ही कर्जे माफ हो पाए।

30/12/2019

हरियाणा चुनाव में चर्चा बटोर रहा 'छोटू रिपोर्टर'

हरियाणा में विधानसभा चुनाव होने वाले है। चुनाव में एक रिपोर्टर की काफी चर्चा हो रही है। इस बच्चे को नाम गोल्डी गोयत है।

09/10/2019

जनता का घोषणापत्र: गांवों में बेहतर शिक्षा व चिकित्सा की जरूरत

आज के दौर में देशभर के शहरी क्षेत्रों के विकास पर सभी सरकारों का पूर्ण रूप से फोकस होता है, लेकिन आज भी देश के कई गांव बेहर शिक्षा और चिकित्सा सुविधाओं से वंचित है

03/05/2019

FathersDay: मेरी ताकत मेरी पहचान हैं मेरे पिता...!!

मां बच्चों के लिए लाड़-दुलार, संस्कार देने की खान होती है तो पिता एक बरगद की तरह होता है। जिसके तले बच्चा सुरक्षित रहने के साथ उसे जीने की दिशा, अच्छे कामों के लिए मार्गदर्शन और उद्देश्य मिलता है। पिता के रहने से संतान खुद को बेहतर सुरक्षित महसूस करती है।

13/06/2019

सोशल मीडिया के जरिए भी किया जा रहा राज्य सरकार की योजनाओं का प्रचार-प्रसार: नीरज पवन

करीब 16 साल की सर्विस में करौली, भरतपुर, पाली जैसे जिलों में कलेक्टर और सरकार के विभिन्न महकमों में रहकर सुर्खियां बटोरने वाले 2003 बैच के आईएएस डॉ. नीरज के पवन की गिनती तेज तर्रार ब्यूरोक्रेट्स में होती है।

10/01/2020