Dainik Navajyoti Logo
Monday 2nd of August 2021
 
खास खबरें

अजब गजब: इस झील को माना जाता है दुनिया की सबसे रहस्यमयी झील, रात में नीला हो जाता है इसका पानी

Friday, February 26, 2021 10:45 AM
इंडोनेशिया की कावाह इजेन झील।

पूरी दुनिया में रहस्यों की कमी नहीं है, दुनियाभर के वैज्ञानिक भी इन रहस्यों के बारे में आज तक पता नहीं लगा पाए। आज हम आपको एक ऐसे ही रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो एक झील में छिपा हुआ है। इस झील का रहस्य यह हैं कि यह झील रात के वक्त किसी नीले रंग के पत्थर की तरह चमकने लगती है। इसीलिए इस झील को दुनिया की सबसे रहस्यमयी झील के नाम से जाना जाता है। दरअसल, हम बात कर रहे हैं इंडोनेशिया की कावाह इजेन नाम की झील के बारे में।

झील के पानी का तापमान हमेशा 200 डिग्री सेल्सियस
यह झील इंडोनेशिया की सबसे अधिक अम्लीय यानी खारे पानी की झील भी है। इस झील की सबसे बड़ी खासियत यह है कि दिन में तो ये बिल्कुल अन्य झीलों की तरह ही दिखाई देती है लेकिन रात के वक्त इसका पानी बिल्कुल नीले रंग का हो जाता है। तब ऐसा महसूस होता है कि ये कोई नीले रंग का पत्थर हो। इस झील के पानी का तापमान हमेशा 200 डिग्री सेल्सियस तब गर्म रहता है। यानी इसमें अगर कोई जीव गिर जाए तो कुछ ही सेकंड में भाप बन गए उड़ जाएगा।

रिसर्च के बाद भी वैज्ञानिक खाली हाथ
झील का पानी हमेशा खौलता रहता है। जैसे इसके नीचे किसी ने भट्टी जला रखी हो। इस वजह से झील के आसपास कोई आबादी नहीं रहती है। हालांकि, इस झील की कई बार सैटेलाइट इमेज जारी हो चुकी है, जिसमें रात के समय झील के पानी से नीली-हरी रोशनी निकलती दिखती है। सालों के रिसर्च के बाद वैज्ञानिकों ने इस झील से निकलने वाली रंगीन रोशनी की वजहों का पता नहीं लगाया जा सका।

आसपास कई सक्रिय ज्वालामुखी
झील के आसपास कई सक्रिय ज्वालामुखी मौजूद हैं, जिसके कारण झील से हाइड्रोजन क्लोराइड, सल्फ्यूरिक डाइऑक्साइड जैसी कई तरह की गैसें भी निकलती रहती हैं। ये सभी गैसें आपस में मिलकर प्रतिक्रिया करती हैं, जिससे नीला रंग पैदा होता है। कावाह इजेन झील इतनी खतरनाक है कि इसके आसपास वैज्ञानिक भी लंबे समय तक रहने की हिम्मत नहीं कर सकते हैं। एक बार झील की अम्लीयता जांचने के लिए अमेरिकी वैज्ञानिकों की एक टीम ने तेजाब से भरे इस पानी में एलुमीनियम की मोटी चादर को लगभग 20 मिनट के लिए डाला था। इस चादर को निकालने के बाद देखा गया कि चादर की मोटाई पारदर्शी कपड़े जितनी रह गई थी।
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

पल्स ऑक्सीमीटर में पीआई को न करें नजरअंदाज, यह ऑक्सीजन लेवल जितना ही महत्वपूर्ण

कोरोना की दूसरी लहर अपने पीक पर है और आमजन अपने शरीर में ऑक्सीजन लेवल को चेक करने के लिए पल्स ऑक्सीमीटर का इस्तेमाल करना बखूबी जान गए हैं। शरीर में ऑक्सीजन लेवल और पल्स रेट कितना होना चाहिए। इसे ऑक्सीमीटर में हर कोई जांच लेता है, लेकिन इसके अलावा डिवाइस में छोटे शब्दों में पीआई भी लिखा होता है जोकि उतना ही महत्वपूर्ण होता है जितना कि ऑक्सीजन लेवल।

15/05/2021

घट स्थापना के साथ चैत्र नवरात्र की शुरुआत, पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा

धर्म के अनुसार हर संप्रदाय का अपना अलग-अलग नववर्ष मनाया जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार विक्रम संवत का शुभारंभ चैत्र मास की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को होता है। इसी दिन से नवरात्र की शुरुआत होती है। आदि शक्ति की आराधना का पावन पर्व चैत्र नवरात्र इस वर्ष 25 मार्च (बुधवार) से शुरू होगा। इसे वासंतिक नवरात्र भी कहते हैं। इसी दिन हिन्दू नववर्ष यानी नवसंवत्सर 2077 का शुभारम्भ होगा।

24/03/2020

भारतीय रेल ने पुराने डिब्बों का किया रचनात्मक इस्तेमाल, मैसूर में खोले क्लास रूम

भारतीय रेल ने पुराने और बेकार पड़े डिब्बों का रचनात्मक तरीके से इस्तेमाल किया है। भारतीय रेल ने शिक्षा को बढ़ावा देने और स्कूल के प्रति बच्चों की रुचि बढ़ाने के लिए रेलवे के पुराने डिब्बों को कचरा बनाने की बजाय उसमें नए क्लासरूम खोले हैं।

21/02/2020

जयपुर के ये 50 कलाकार यूरोप में करेंगे ढोल वादन

अन्तरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धोद गु्रप के निर्देशक रहीस भारती ने पहली बार परकशन का एक अनूठा कंसेप्ट बेस्ड शो तैयार किया है, जिसके लिए प्रदेश के विभिन्न शहरों में शादी-पार्टी में ढोल बजाकर जीवन यापन करने वाले पचास कलाकारों को प्रशिक्षित कर उनकी प्रतिभा का निखारा है।

22/05/2019

अब राजस्थान में 5 लाख रुपए तक का मिलेगा नि:शुल्क इलाज

राजस्थान में केन्द्र की आयुष्मान योजना और प्रदेश की भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना को मिलाकर नई योजना आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना एक सितंबर से लागू होगी।

29/08/2019

धनतेरस पर करें मां लक्ष्मी, कुबेर और धन्वंतरि की पूजा, राशि के अनुसार करें खरीदारी

धन्वंतरी को हिन्दू धर्म में देवताओं के वैद्य माना जाता है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये भगवान विष्णु के अवतार समझे जाते हैं। इनका पृथ्वी लोक में अवतरण समुद्र मंथन के समय हुआ था। शरद पूर्णिमा को चंद्रमा, कार्तिक द्वादशी को कामधेनु गाय, त्रयोदशी को धन्वंतरी, चतुर्दशी को काली माता और अमावस्या को भगवती लक्ष्मी जी का सागर से प्रादुर्भाव हुआ था, इसीलिए दीपावली के दो दिन पूर्व धनतेरस को भगवान धन्वंतरी का जन्म धनतेरस के रूप में मनाया जाता है।

13/11/2020

घट स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र प्रारंभ, किसी तिथि का क्षय नहीं होने से इस बार नौ दिन के नवरात्र

शारदीय नवरात्र का प्रारम्भ हो गया है। इस बार नौ दिन के नवरात्र हैं। 29 सितंबर से प्रारम्भ होकर 7 अक्टूबर तक यह चलेंगे। 8 अक्टूबर को विजय दशमी है। इस दिन देवी प्रतिमाओं का विसर्जन होगा।

29/09/2019