Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of April 2021
 
खास खबरें

अजब गजब: दुनिया की सबसे ऊंची वीरान बिल्डिंग, जहां जाने से थरथर कांपते हैं लोग

Saturday, February 27, 2021 10:20 AM
होटल रयुगयोंग।

पूरी दुनिया में तमाम ऐसे इमारतें हैं जिन्हें भूतिया या डरावना माना जाता है। जहां जाने से इंसान तो क्या जानवर भी कतराते हैं। आज हम आपको एक ऐसा ही इमारत के बारे में बताने जा रहे हैं जो दुनिया की सबसे ऊंची वीरान बिल्डिंग है। जहां जाने के नाम से ही लोगों के रोंगटे खड़े हो जाता है। दरअसल, उत्तर कोरिया में मौजूद होटल की बिल्डिंग ऐसी ही भूतिया जगहों में से एक है। उत्तर कोरिया में एक ऐसा होटल मौजूद है, जिसको शापित और भूतिया कहा जाता है।

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड भी में दर्ज
यह होटल पिरामिड जैसे आकार और नुकीले सिरे वाली गगनचुंबी इमारत के रूप में बनाया गया है। इस होटल का निर्माण कार्य बीच में ही रोक दिया गया और 33 साल बीत जाने के बावजूद इसका निर्माण कार्य आज भी अधूरा ही है। इस होटल का आधिकारिक नाम रयुगयोंग है, इसे यू-क्यूंग के नाम से भी जाना जाता है। बता दें कि उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयोंग में स्थित इस होटल की ऊंचाई 330 मीटर है और इसमें 105 कमरे हैं। यह होटल बाहर से दिखने में बेहद भव्य और आलीशान दिखाई देता है। उत्तर कोरिया में लोग इस होटल को भूतिया इमारत कहकर पुकारते हैं। जापान की एक रिपोर्ट्स के मुताबिक, उत्तर कोरियाई सरकार ने इस होटल के निर्माण में काफी रुपए खर्च किए। उत्तर कोरियाई सरकार ने इस होटल पर लगभग 55 खरब रुपए खर्च किए हैं, लेकिन आज तक यह होटल बनकर तैयार नहीं हो पाया है। आज दुनिया इसको धरती की सबसे ऊंची वीरान इमारत के रूप में जानती हैं। इस होटल की इसी खासियत के कारण इसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड भी में दर्ज है।

होटल का निर्माण कार्य आज भी अधूरा
अगर यह होटल पूरा बनकर तैयार हो जाता, तो यह दुनिया की 7वीं सबसे ऊंची इमारत और दुनिया के सबसे ऊंचे और आलीशान होटल मे तौर पर जाना जाता। बता दें कि इस होटल का निर्माण 1987 में शुरू किया गया था और इसको पूरा करने के लिए दो साल का समय रखा गया था। इसके निर्माण में कई तरह की दिक्कतें आने लगी थीं, जिसके बाद 1992 में इसका निर्माण कार्य बंद कर दिया गया। हालांकि, साल 2008 में इसे बनाने का काम काम फिर से शुरू हुआ और इस पर 11 अरब रुपए खर्च किए गए। हालांकि होटल का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका।

यह भी पढ़ें:

सावधान ये जयपुर कमिश्नरेट है, आपके साथ कहीं भी लूट हो सकती है

जयपुर शहर को जब पुलिस कमिश्नरेट का तमगा मिला तब सरकार और आमजन खुश था कि आज हमने प्रगति की है।

26/04/2019

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से जुड़ी कई योजनाएं आज भी अधूरी

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जीवन भर हिंदी के लिए लड़ते रहे, लेकिन पिछले 10 वर्षों से 'गांधी वांग्मय' हिंदी में उपलब्ध नहीं है और उनके 150वें जयंती वर्ष में यह फिर से प्रकाशित नहीं हो पाया है।

02/10/2019

किसानों के उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए IAS अफसर 10 KM पैदल चलकर जाता है सब्जी खरीदने

वेस्ट गारो हिल्स में तैनात आईएएस अफसर रामसिंह ने हाल ही में अपने फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट से कुछ तस्वीरें पोस्ट की है। जिसमें उन्होंने बताया कि स्थानीय किसानों और उनके उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हर दिन अपने दफ्तर से 10 किलोमीटर पैदल चलकर घर जाते हैं। इस दौरान रास्ते में वे सब्जियां और जरूरत के सामान खरीदते हैं।

26/09/2019

मदर्स डे विशेष : मां ये जीवन ही तुमसे है

मां एक शब्द ही नहीं है, इस शब्द में पूरा संसार समाया हुआ है। मां की परिभाषा का क्षेत्र सीमित नही है वो तो असीमित है किसी समंदर की तरह।

09/05/2019

पहली आदिवासी कमर्शियल पायलट बनी अनुप्रिया लाकड़ा, सीएम ने दी बधाई

माओवादी प्रभावित मल्कानगिरी की रहने वाली एक आदिवासी लड़की व्यावसायिक विमान उड़ाने वाली राज्य की पहली महिला बन गई है।

09/09/2019

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

जयपुर का परकोटा हर कोई देखता ही रह जाता है

करीब 300 साल पहले जयपुर शहर की स्थापना की गई। लंबी चौड़ी और ऊंची प्राचीरों से घिरे इस नगर में प्रवेश कीजिए तो पहली झांकी से ही लगता है जैसे अरावली पर्वतमाला में कैनवास पर किसी सिद्धहस्त कलाकार ने अपनी तूलिका से यह दृश्यांकन किया है।

07/07/2019