Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of May 2021
 
खास खबरें

अजब गजब: देश में एक ऐसी जगह, जहां जाने वाला कभी नहीं लौटा वापस

Wednesday, December 30, 2020 11:00 AM
फाइल फोटो।

सेंटिनल आइलैंड। क्या आप इस बात पर यकीन कर सकते हैं कि 21वीं सदी में भी भारत में एक ऐसी जगह है जहां जाने के बाद आज तक कोई वापस नहीं लौटा। हम बात कर रहे हैं इंडियन ओशन के नॉर्थ सेंटिनल आइलैंड की। आप जानकर आश्चर्यचकित हो जाएंगे कि यहां इंसानों की एक प्रजाति रहती है। इसके बाद भी कोई व्यक्ति यहां जाने के बाद वापस लौटकर नहीं आता। दरअसल यहां रहने वाली जनजाति सेंटिनलीज जनजाति का आधुनिक मानव सभ्यता से कोई लेना-देना नहीं है। इन लोगों को कई बार आधुनिक समाज से जोड़ने का प्रयास किया गया, लेकिन ये जनजाति इतनी ज्यादा आक्रामक है कि वे किसी को अपने पास आने ही नहीं देते। जो भी उनके पास जाता है वह उसे खत्म कर देते हैं।

भारतीय सेना के हेलिकॉप्टर पर किया था हमला
कई बार भारत सरकार समेत आम लोगों ने उन तक पहुंचने की कोशिश की, लेकिन इन लोगों ने उन्हें मार डाला। कुछ समय पहले गलती से एक भागा हुआ कैदी इस आइलैंड पर पहुंच गया था तो इन आदिवासियों ने उसे भी मार दिया था। साल 1981 में एक भटकी हुई नौका इस आइलैंड के आस-पास पहुंच गई थी। इस नौका में बैठे लोगों ने किसी तरह बचकर अपनी जान बचाई थी। नौका के साथ वापस आए लोगों ने बताया था कि कुछ लोग किनारों पर तीर-कमान और भाले लेकर खड़े थे। किसी तरह वह लोग वहां से बचकर निकलने में सफल हो पाए थे। बता दें कि साल 2004 में इस इलाके में भयानक भूकंप आया था। इस सुनामी के बाद भारत सरकार ने आइलैंड की खबर लेने के लिए सेना का हेलिकॉप्टर भेजा था, लेकिन उन लोगों ने सेना के हेलिकॉप्टर पर भी हमला कर दिया था।

न मोबाइल फोन, न ही बिजली
इस इलाके की हवाई तस्वीरों से साफ होता है कि यहां के लोग खेती नहीं करते, क्योंकि पूरे इलाके में घने जंगल हैं। यह जनजाति आज भी शिकार पर निर्भर है। करीब 60 हजार साल से ये लोग यहां रह रहे हैं। इन लोगों का आज भी किसी से कोई संबंध नहीं है। यहां से जो भी प्लेन गुजरता है उन पर ये लोग तीरों में आग लगाकर मार देते हैं। हम आज बिना बिजली के रहने की कल्पना नहीं कर सकते। लेकिन यहां ना तो बिजली है और ना ही मोबाइल फोन।

यह भी पढ़ें:

पुलिस में सकारात्मक काम करना कम हो गया है: डीजीपी भूपेन्द्र सिंह

ऐसे में पुलिस में सकारात्मक और अच्छे काम करना कम हो गया। भविष्य में सकारात्मक पहलू को बढ़ाने पर ध्यान दिया जाएगा।

01/07/2019

ये है इलेक्ट्रिक कारों वाला देश, जिसकी पूरी दुनिया में हो रही चर्चा

नॉर्वे धरती और जलवायु में बेहतरीन योगदान देने वाले देशों की सूची में शीर्ष पर है।

25/05/2019

'मैं जेडीए चौराहा, दु:खी हूं, विचलित हूं, यहां आप संभलकर चलिए'

मैं हूं जेडीए चौराहा। मैंने इस चौराहे और आसपास तेजी से बढ़ते विकास को देखा है। वर्षों पहले आपने अपनी सहूलियत के लिए बीचों बीच सर्किल बनाके उस पर सतरंगी फव्वारे लगाए थे, उस दौरान जयपुर की आबादी के अनुसार और वाहनों की संख्या के अनुसार यातायात अपने आप नियंत्रित हो जाता था।

20/07/2019

रणथम्भौर टाइगर रिजर्व की 'मछली' पर बनी फिल्म को बेस्ट एनवायरनमेंटल अवॉर्ड

रणथम्भौर टाइगर रिजर्व की फेमस बाघिन रही मछली को मैंने करीब आठ साल तक फॉलो किया था। तब जाकर एक बेस्ट वाइल्ड लाइफ फिल्म बनी। यह कहना है वाइल्ड लाइफ फिल्म मेकर नल्ला मुत्थु का।

10/08/2019

नाहरगढ़ फोर्ट में पर्यटकों को मिलेगी ऑडियो गाइड की सुविधा

पर्यटकों की सुविधार्थ पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के अधीन आने वाले जयपुर के आमेर महल, अल्बर्ट हॉल संग्रहालय, हवामहल स्मारक और जंतर-मंतर स्मारक में आॅडियो गाइड की सुविधा उपलब्ध है।

17/10/2019

अजब गजब: दुनिया की सबसे ऊंची वीरान बिल्डिंग, जहां जाने से थरथर कांपते हैं लोग

उत्तर कोरिया में मौजूद होटल की बिल्डिंग ऐसी ही भूतिया जगहों में से एक है। उत्तर कोरिया में एक ऐसा होटल मौजूद है, जिसको शापित और भूतिया कहा जाता है। यह होटल पिरामिड जैसे आकार और नुकीले सिरे वाली गगनचुंबी इमारत के रूप में बनाया गया है। इस होटल का निर्माण कार्य बीच में ही रोक दिया गया और 33 साल बीत जाने के बावजूद इसका निर्माण कार्य आज भी अधूरा ही है।

27/02/2021

राजस्थान: मई में सबसे ज्यादा होते हैं सड़क हादसे, जानिए वजह

तेज गर्मी का कहर, स्कूलों-कॉलेजों की छुट्टियां और वाहनों की तेज रफ्तार के कारण मई माह में सड़कों पर मौत का तांडव होता है।

16/05/2019