Dainik Navajyoti Logo
Friday 14th of May 2021
 
खास खबरें

यह भी पढ़ें:

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा, मंदिरों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़

आज से नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। इसी दिन से हिन्दू नववर्ष यानी नए संवत्सर की शुरुआत होती है। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण मां दुर्गा जी का नाम शैलपुत्री पड़ा। नवरात्रि के पहले दिन शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना या घटस्थापना की जाती है। फिर विधि विधान से मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरुप की पूजा की जाती है।

13/04/2021

एक कॉल पर मोबाइल वैन घर पहुंचाएगी पौधे, जयपुर से शुरुआत

प्रदेश में पहली बार मोबाइल वैन की शुरूआत जयपुर से की गई है। इसके तहत अगर किसी व्यक्ति को पौधों की आवश्यकता है तो वे डिविजनल ऑफिस के फोन नम्बर पर कॉल कर पौधे मंगवा सकते हैं।

08/08/2019

Video: पुष्कर मेले में 15 करोड़ का 'भीम', जिसके साथ हर कोई ले रहा सेल्फी

विश्व प्रसिद्ध पुष्कर पशु मेले का आकर्षक केन्द्र जोधपुर का भैंसा भीम है। जिसकी कीतम 15 करोड़ आंकी गई है। लेकिन इसके मालिक इसे इस कीमत में भी बेचना नही चाहते है।

05/11/2019

अब बायोलॉजिकल पार्क में भी हाथी सफारी

गुलाबी नगरी आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों को में हाथी सफारी का क्रेज देखा जा सकता है। आमेर महल में पर्यटक लाइन में लगकर हाथी सफारी में अपने नम्बर आने का इंतजार करते देखे जा सकते हैं।

04/07/2019

दो बर्ड्स राजस्थान से पहुंच गए ओमान, मंगोलिया से उड़ा पंछी पहुंचा इथोपिया

मौसम में परिवर्तन के चलते कई विदेशी पक्षी अन्य देशों की ओर रुख करते हैं। ज्यादातर बर्ड्स ठंड के चलते प्रजनन और भोजन-पानी की तलाश के चलते भारत के विभिन्न राज्यों में प्रवास करते हैं। एक ऐसी ही प्रजाति कॉमन कुक्कू (ओनो) मंगोलिया से सितम्बर माह के अंतिम सप्ताह के दौरान भारत के विभिन्न राज्यों से होता हुआ राजस्थान पहुंचा। इसके बाद जयपुर, चाकसू, अजमेर, जोधपुर को पार करता हुआ पड़ौसी मुल्क पाकिस्तान से होता हुआ ओमान और फिर इथोपिया पहुंचा।

03/10/2019

15 शावकों का लालन-पालन

जयपुर चिड़ियाघर में राजस्थान का पहला न्यूनिटेल केयर सेंटर है, जहां वन क्षेत्रों में वन्यजीवों से बिछड़े शावकों को लाकर डॉक्टर्स की देखरेख में उनकी केयर की जाती है।

09/05/2019

अलविदा 2019 : पंचायत पुनर्गठन से बदला ढांचा, नरेगा में केन्द्र ने थपथपाई पीठ

प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के लिहाज से यह साल काफी बदलाव भरा रहा। ग्राम पंचायत और पंचायत समितियों के पुनर्गठन और पुनर्सीमांकन प्रक्रिया से ग्रामीण क्षेत्र के ढांचे में बड़ा बदलाव आया तो शैक्षणिक योग्यता की बाधा हटाकर भी राज्य सरकार ने बड़ा परिवर्तन कर दिखाया।

09/12/2019