Dainik Navajyoti Logo
Thursday 21st of January 2021
 
खास खबरें

अजब गजब: जब पूरे शहर की सड़कों को हो गया था कैंसर, हर घर को करवाया था खाली

Thursday, December 24, 2020 12:30 PM
फाइल फोटो।

मिसूरी। ऐसा कई बार होता है जब इंसान कुछ अच्छा करने जाता है, लेकिन उससे इस दौरान बड़ी भूल हो जाती है, जिससे उससे जुड़े सभी लोग कहीं ना कहीं प्रभावित होते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ था अमेरिका में अधिकारियों के साथ, जब उन्होंने सोचा तो लोगों की भलाई के बारे में था, लेकिन इस दौरान उनसे अनजाने में एक बड़ी भूल हो गई जिसका असर हजारों लोगों पर पड़ा था और सैंकडों लोगों को अपना घर-बार सब छोड़ना पड़ा था। दरअसल, अमेरिका के मध्यपश्चिम के राज्य मिसूरी के शहर टाइम्स बीच के लोगों को राज्य के स्वास्थ्य विभाग और रोग नियंत्रण विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उनको पूरा शहर खाली करना पड़ेगा। इसका कारण था कि इस शहर की सड़कों पर रासायनिक डाइऑक्सिन का छिड़काव किया गया। इसके बाद अधिकारियों ने पूरे शहर को खाली करवाया और उसके बाद शहर की तमाम इमारतों को ध्वस्त कर दिया गया। साल 1985 में इस शहर को अधिकारिक तौर पर तोड़ दिया गया था। टाइम्स बीच को 1925 में एक अखबार के प्रचार के हिस्से के रूप में स्थापित किया गया था।

सेंट लुइस टाइम्स नामक एक अखबार ने 6 महीने की सदस्यता लेने और उसके साथ 67.50 डॉलर अधिक देने की एवज में 20-बाय-100 फुट लॉट मेरिमेक नदी के पास देने का प्लान बनाया था, जहां आबादी पूरी तरह से विकसित नहीं हुई थी। समाचार पत्र ने जिस शहर की कल्पना की थी, टाइम्स बीच कभी वैसा नहीं बन पाया। इसके बजाय, यहां पर लगभग 2,000 लोगों जो निचले-मध्य-वर्ग वाले समूह से आते थे, रहने लगे। यह जगह शिकागो से लॉस एंजिल्स को जोड़ने वाले हाईवे से सटी हुई थी। दुर्भाग्य से, टाइम्स बीच के पास इतने पैसे नहीं थे कि वो अपनी सड़कों को दुरूस्त कर सकें। ऐसे में कारों और गाड़ी से उड़ने वाली धूल, लोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ था। साल 1972 में शहर के अधिकारियों ने सोचा कि उन्हें समस्या का एक सही समाधान मिल गया है। उन्होंने स्थानीय अपशिष्ट-हाउलर रसेल ब्लिस को सड़कों पर तेल का छिड़काव करने के लिए प्रति गैलन सिर्फ 6 सेंट देने का वादा किया। यह फैसला यह सोचकर लिया गया था कि तेल के कारण धूल नहीं उड़ेगी। रसेल ब्लिस ने शहर भर की सड़कों पर जिस तेल का छिड़काव किया था, वो उसे साल भर पहले मुफ्त में मिला था।

दरअसल, एक रासायनिक निर्माता ने अपना अधिकांश पैसा सेना को दे दिया था, ताकि वो उसे अपशिष्ट पदार्थों से छुटकारा दिला सकें। इस दौरान उसने उस कचरे को छह ट्रक में डाल दिया। इस दौरान हेक्साक्लोरोफेन बना, जो एक खतरनाक रसायन है। अगर कोई व्यक्ति इसके संपर्क में आता है तो उसे 10 से अधिक वर्षों तक इससे होने वाली परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसके बाद टाइम्स बीच में दिन भर दौड़ने वाले घोड़े एक एक करके अचानक से मरने लगे। किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा था। कुछ दिनों बाद इंसान भी बीमार पड़ने लगे। इसके साथ ईपीए की एक टीम शहर में आई और उसने मिट्टी के कुछ सैंपल उठाए। साल 1982 में एजेंसी ने बताया कि शहर में डाइऑक्सिन का स्तर काफी ज्यादा है। डाइऑॅक्सिन सबसे शक्तिशाली कैंसर पैदा करने वाला एजेंट है, जो मनुष्य द्वारा बनाया गया था। इसके बाद इस शहर को क्रिसमस के ठीक बाद खाली कर दिया। हालांकि, साल 1999 में शहर को पूरे तरीके से साफ किया गया और फिर उसके बाद यह फिर लोगों के लिए खुल गया।

यह भी पढ़ें:

नाहरगढ़ फोर्ट में पर्यटकों को मिलेगी ऑडियो गाइड की सुविधा

पर्यटकों की सुविधार्थ पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के अधीन आने वाले जयपुर के आमेर महल, अल्बर्ट हॉल संग्रहालय, हवामहल स्मारक और जंतर-मंतर स्मारक में आॅडियो गाइड की सुविधा उपलब्ध है।

17/10/2019

अंतरराष्ट्रीय ऊंट उत्सव में हैरिटेज वॉक ने मोह लिया सबका मन

अंतरराष्ट्रीय ऊंट उत्सव के दौरान हेरिटेज वॉक का आयोजन किया गया, जिसमें सांस्कृतिक कार्यक्रमों एवं देशी विदेशी पर्यटकों सहित मेहमानों की आदर, सत्कार एवं सद्भावना के साथ मीठी मनुहार ने सबका मन मोह लिया।

13/01/2020

जयपुर का परकोटा हर कोई देखता ही रह जाता है

करीब 300 साल पहले जयपुर शहर की स्थापना की गई। लंबी चौड़ी और ऊंची प्राचीरों से घिरे इस नगर में प्रवेश कीजिए तो पहली झांकी से ही लगता है जैसे अरावली पर्वतमाला में कैनवास पर किसी सिद्धहस्त कलाकार ने अपनी तूलिका से यह दृश्यांकन किया है।

07/07/2019

25 पैसे तक के सिक्के वैध नहीं, 50 पैसे से ऊपर के सिक्के वैध, RTI से खुलासा

‘सूचना के अधिकार कानून’ के तहत मांगी गई सूचना में खुलासा हुआ कि 25 पैसे तक के छोटे सिक्के वैध मुद्रा नहीं हैं। रिजर्व बैंक ने यह भी स्पष्ट किया कि 50 पैसे, एक रुपया, दो रुपए, पांच और दस रुपए मूल्यवर्ग के सिक्के वैध मुद्रा है।

13/08/2019

चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का मलबा ढूंढ़ने में चेन्नई के इंजीनियर ने की मदद, नासा ने दिया क्रेडिट

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के लूनर रिकनैसैंस ऑर्बिटर ने चांद की सतह पर चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का मलबा ढूंढ लिया है। नासा ने विक्रम का मलबा ढूंढने का क्रेडिट चेन्नई के मैकेनिकल इंजीनियर शनमुगा सुब्रमण्यन को दिया है।

03/12/2019

मंगल ग्रह 24 दिसंबर को मेष राशि में करेगा गोचर, प्राकृतिक आपदा की संभावना

मंगल ग्रह का 24 दिसंबर को सुबह 11 बजे राशि परिवर्तन होगा। मंगल ग्रह मीन राशि से निकलकर अपनी स्वराशि मेष राशि में प्रवेश करेंगे। मंगल ग्रह मेष राशि में करीब 60 दिन रहेंगे यानी 22 फरवरी तक मेष राशि में रहने के बाद शुक्र की वृषभ राशि में चले जाएंगे। मेष राशि में मंगल का यह गोचर ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से काफी महत्वपूर्ण है।

21/12/2020

साल बदला, कुछ नियम भी बदले, आज से 5000 रुपए तक का कॉन्टैक्टलेस कार्ड पेमेंट

नव वर्ष के आगमन के साथ ही कुछ बदलाव और नियम देश में लागू हो जाएंगे। इन नियमों का आपके पैसों के लेनदेन, बीमा, चैटिंग, कार खरीदारी और कारोबार तक पर असर पड़ेगा। कुछ नियम ऐसे भी हैं जो जनवरी माह से तो अमल में आएंगे लेकिन 1 जनवरी से ही प्रभावी नहीं होंगे।

01/01/2021