Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of June 2021
 
खास खबरें

जोधपुर जिले का एक ऐसा गांव जहां 68 वर्ष से नहीं मनी दीपावली

Thursday, October 31, 2019 00:55 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

जोधपुर। जोधपुर जिले का एक गांव ऐसा भी है जो अपने 18 मृतक किसान भाइयों की याद में पिछले 68 वर्षों से केवल प्रतीकात्मक दीपावली मनाते हैं। जोधपुर जिले का भुण्डाना गांव ऐसा है जहां गांववासी पिछले 68 वर्ष से दीपावली के दिन डाकुओं के हाथ मारे गये 18 किसान साथियों की याद में केवल प्रतीकात्मक दीपावली मनाते हैं बल्कि पूरा गांव दिवंगत आत्माओं की याद में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन करता है।


सन 1947 में भारत आजाद होने के बाद जागीरदारी प्रथा समाप्त हो गई थी, लेकिन मारवाड़ रियासत में कई जगह जागीरदारी प्रथा कायम थी और जोधपुर जिले का भुण्डाना गांव के किसान सामंतवादी प्रथा का विरोध कर रहे थे, सन् 1950 को भारत का संविधान लागू होने के बाद किसानों को आस जगी थी कि सामंतवादी प्रथा का अंत होगा, लेकिन मारवाड़ में कई जगह इस प्रथा का अंत हुआ नहीं जिसका किसान विरोध कर रहे थे। जिसको देखते हुये सन् 1951 में 31 अक्टूबर को दीपावली रामा श्यामा वाले दिन डाकू कल्याण सिंह व उनके गिरोह ने मलार व भुण्डाना गांव के जागीरदारी प्रथा का विरोध करने वाले 18 किसानों को गोलियों से भून दिया था।


यह किसान मारे गये थे
जागीरदारी प्रथा का विरोध कर रहे हीराराम पुत्र गिरधारी राम चोयल, लिखमाराम पुत्र मूलाराम माचरा, जयरूपाराम पुत्र मूलाराम माचरा, जोधाराम पुत्र प्रभुराम चोयल, मेहराराम पुत्र जेठाराम चोयल, उगमाराम पुत्र मोटाराम ,लालू खान पुत्र हमीर खान जाति सिंधी मुसलमान, बिरदाराम पुत्र सेवाराम जाखड, रामबक्श पुत्र भूराराम जाखड, नारायण राम पुत्र शिम्भूराम , लिखमाराम पुत्र गिरधारी राम, भभूतराम पुत्र पालाराम , नारायण राम पुत्र किशनाराम, तेजाराम पुत्र देवाराम, नैनाराम पुत्र अमराराम खोड जिन्हे डाकुओ ने जागीरदारी प्रथा का विरोध करने के कारण मौत के घाट उतार दिया था।


ग्रामीणों ने की शहीद का दर्जा देने की मांग
लोको पायलेट नाथूराम जाखड़ ने बताया कि मृतक किसानों की याद में पिछले लंबे समय से ग्रामीण उन्हें शहीद का दर्जा देने की मांग करता रहा है।


मृतकों को शहीद का दर्जा देने की मांग
गांव के निवासी व जोधपुर रेलमंडल में लोको पायलेट नाथराम जाखड़ ने बताया कि जो किसान विरोध कर रहे थे वे सभी कम आयु वाले थे। डाकुओं द्वारा मारने के कारण उनकी विधवा, बच्चे आज भी याद करके आंसु निकल जाते है। इस कारण गांव वासी केवल प्रतीकात्मक दीपावली मनाते है और रामश्याम वाले दिन गांव के चौक में एकत्र होकर उनको दीप प्रज्जवलित कर श्रद्धांजलि देते है। दीपावली वाले दिन आयोजित श्रद्धांजलि सभा में नरेश जाखड़, राजूराम, राजेन्द्र, कपिल सोऊ, सुमेर सिंह, पूनाराम, सहित बडी संख्य में ग्रामीण व गणमान्य उपस्थित थे।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

FathersDay: मेरी ताकत मेरी पहचान हैं मेरे पिता...!!

मां बच्चों के लिए लाड़-दुलार, संस्कार देने की खान होती है तो पिता एक बरगद की तरह होता है। जिसके तले बच्चा सुरक्षित रहने के साथ उसे जीने की दिशा, अच्छे कामों के लिए मार्गदर्शन और उद्देश्य मिलता है। पिता के रहने से संतान खुद को बेहतर सुरक्षित महसूस करती है।

13/06/2019

कोरोना वायरस: क्यों जरूरी है मेलजोल कम करना, जानें इसके बारे में पूरी जानकारी

कोरोना वायरस के हाल में सामने आए विषाणु से उत्पन्न रोग कोविड 19 के पहले मामलेकी जानकारी मिलने के बाद इसके संक्रमण के फैलते जाने की खबरें भी धीरे-धीरे आने लगीं हैं। दो माह बाद अब इस संक्रमण के बहुत तेजी से फैलने की खबरें आने लगी हैं। इस रोग के तेजी से फैलने की खबरों ने विशेषज्ञ चिकित्सकों को चिंतित कर दिया है।

17/03/2020

आईआईटी दिल्ली का कमाल, पेड़ पर लगेंगे शाकाहारी अंडे, असली जैसे होंगे गुणकारी

अब अंडे भी पेड़ पर लगेंगे! नहीं हो रहा है न यकीन। मगर, यह हकीकत है। देश में यह कमाल आईआईटी दिल्ली ने कर दिखाया है। हालांकि इससे पहले अमेरिका और इसके बाद इटली इसे ईजाद कर चुका है। आश्चर्य यह भी कि इस अंडे को सभी खा सकेंगे। यानी, यह शुद्ध शाकाहारी होगा और उसकी तासीर बिल्कुल मुर्गी के अंडे जैसी होगी। इस अंडे में अंदर की पीली जर्दी भी मिलेगी।

03/11/2020

पहली आदिवासी कमर्शियल पायलट बनी अनुप्रिया लाकड़ा, सीएम ने दी बधाई

माओवादी प्रभावित मल्कानगिरी की रहने वाली एक आदिवासी लड़की व्यावसायिक विमान उड़ाने वाली राज्य की पहली महिला बन गई है।

09/09/2019

राजस्थान: मई में सबसे ज्यादा होते हैं सड़क हादसे, जानिए वजह

तेज गर्मी का कहर, स्कूलों-कॉलेजों की छुट्टियां और वाहनों की तेज रफ्तार के कारण मई माह में सड़कों पर मौत का तांडव होता है।

16/05/2019

माइक्रोचिप में दर्ज हुई रुद्र और रिद्धि की कुंडली

लोगों को आधार कार्ड के माध्यम से एक यूनिक आईडी मिली, जिसमें उनकी पूरी जानकारी दर्ज है। उसी तरह नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में रखे गए कई वन्यजीवों को भी यूनिक आईडी दी गई है।

22/04/2019

जयपुर यातायात पुलिस की अनूठी पहल, हाइवे पर वाहन चालकों से की 'चाय पर चर्चा'

यातायात पुलिस ने अनूठी पहल की शुरूआत की है। सुबह के समय चालक को झपकी आने के कारण हो रही दुर्घटनाओं से बचाव एवं यातायात नियमों के प्रति जागरूक करने के लिए कार्यक्रम किया गया, जिसमें पुलिस ने सुबह 4 बजे अजमेर-दिल्ली एक्सप्रेस हाईवे पर वाहन चालकों को चाय पिलाई गई। इससे उनकी थकान दूर हो गई।

09/02/2020