Dainik Navajyoti Logo
Sunday 1st of August 2021
 
खास खबरें

परदेसी बाबू पर आया राजस्थानी लड़की का दिल, लिए सात फेरे

Friday, January 31, 2020 22:30 PM
सगाई की रस्म के दौरान मौजूद दूल्हा एवं परिजन-दोस्त।

चित्तौड़गढ़। चित्तौड़गढ़ की एक बेटी परदेसी बाबू को दिल दे बैठी, लेकिन परदेसी बाबू को बेटी के साथ-साथ भारत की सभ्यता एवं संस्कृति इतनी अधिक अच्छी लगी कि वह भारतीय परम्परा के अनुसार, चित्तौड़गढ़ की इस बेटी के साथ सात फेरे लेने के लिए अपने परिवार के अन्य सदस्यों एवं दोस्तों के साथ चित्तौड़गढ़ आ पहुंचा। दोनो परिवारों की सहमति से शुक्रवार को सगाई की रस्म पूर्ण होने के बाद दोनों शनिवार को शादी के डोर में बंध गए।

राजकीय स्नातकोतर महाविद्यालय में प्राध्यापिका के पद पर कार्यरत डॉ. सीमा श्रीवास्तव एवं एक निजी मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत प्रेमशंकर श्रीवास्तव की पुत्री ख्याति लगभग 2015 में उच्च शिक्षा के लिए कनाड़ा गई जहां शिक्षा के साथ-साथ जॉब भी करने लगी। इसी दौरान उसकी मुलाकात अपने एक दोस्त की बर्थ-डे पार्टी के दौरान कनाड़ा निवासी जेरमी तिहान से हो गई, जो कि एक फाइव स्टार होटल में शेफ के पद पर कार्यरत था। बाद में दोनों की बीच मुलाकात का सिलसिला चलता रहा, और यह मुलाकात दोस्ती में बदल गई।


दो वर्ष पूर्व परिजनों से की मुलाकात
इसी दौरान 2018 में जेरमी अपने दोस्त ख्याति के साथ भारत आया एवं चित्तौड़गढ़ में ख्याति के परिजनों से मुलाकात की  एवं दीपावली भी उसने चित्तौड़गढ़ में ही मनाई। इसी दौरान ख्याति को लगा कि उसका दोस्त जेरमी उसका हमराही बन सकता है। इस पर   परिजनों को अपनी इस इच्छा से अवगत कराया, जिसके बाद उसके परिजन कनाड़ा गए। दो वर्ष से ख्याति की बहन भी कनाड़ा में ही निवास कर रही है।

कनाड़ा जाने के बाद परिजनों ने जेरमी के परिजनों से मुलाकात की, एवं उन्हें वहां की सभ्यता एवं संस्कृति सब कुछ ठीक लगने के बाद विवाह के लिए सहमति व्यक्त कर दी। इस सहमति के बाद जेरमी ने कनाड़ा में अपना व्यवसाय भी शुरू कर दिया। बात जब शादी की तय हुई तो जेरमी को भारत की सभ्यता एवं संस्कृति दिल को इतना छू गई कि उसने भारतीय परम्परा के अनुसार शादी करने की इच्छा व्यक्त की। ख्याति के परिजन भी यहीं चाहते थे क्योंकि उसके दादा-दादी वृद्ध होने के कारण कनाड़ा नहीं जा सकते थे।


जमकर नाचे दूल्हे राजा
सहमति के बाद परदेशी बाबू अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ गुरूवार को यहां एक रिसोर्ट में पहुंचे, जहां शुक्रवार को महिला संगीत एवं सगाई की रस्म पूरी की गई। शनिवार को वरमाला , फेरे की रस्म के साथ ही विदाई की रस्म होगी। सगाई से पहले दूल्हे ने कनाड़ा से आए अन्य लोगों के साथ जम कर नाचने का भी आनन्द लिया ।


दूल्हे ने इस दौरान  नवज्योति  से बातचीत करते हुए कहा कि कनाड़ा एवं भारत की शादी की रस्मों में काफी अन्तर हैं, लेकिन उसे यहां की कई परम्पराएं अच्छी लगी। यह पूछे जाने पर कि इस शादी के बाद क्या उसके परिवार के और सदस्य भी इसी तरह भारत में शादी करना चाहेंगे, तो उसने इससे इंकार नहीं किया। 


ख्याति के परिजनों ने कहा कि बच्चों को अपना भविष्य चुनने की पूरी आजादी होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि जेरमी के परिजनों के विचार से भी काफी   प्रभावित हुए। परिजनों का कहना था कि जिसमें बच्चों की खुशी होनी चाहिए, उसी में परिजनों की खुशी भी निहीत हैं।यहां आने पर जेरमी के परिजनों ने अपने हाथों में मेंहदी भी रचवाई, जिसको देख कर  काफी खुश दिखाई दिए।
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

धनतेरस पर करें मां लक्ष्मी, कुबेर और धन्वंतरि की पूजा, राशि के अनुसार करें खरीदारी

धन्वंतरी को हिन्दू धर्म में देवताओं के वैद्य माना जाता है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये भगवान विष्णु के अवतार समझे जाते हैं। इनका पृथ्वी लोक में अवतरण समुद्र मंथन के समय हुआ था। शरद पूर्णिमा को चंद्रमा, कार्तिक द्वादशी को कामधेनु गाय, त्रयोदशी को धन्वंतरी, चतुर्दशी को काली माता और अमावस्या को भगवती लक्ष्मी जी का सागर से प्रादुर्भाव हुआ था, इसीलिए दीपावली के दो दिन पूर्व धनतेरस को भगवान धन्वंतरी का जन्म धनतेरस के रूप में मनाया जाता है।

13/11/2020

जयपुर में मकान खरीदना हुआ महंगा, डीएलसी दरों में बढ़ोतरी

जयपुर जिले में अब मकान खरीदना और महंगा हो जाएगा। कलेक्टर जगरूप सिंह यादव की अध्यक्षता में हुई जिला स्तरीय कमेटी की बैठक में आवासीय पर 10 से 15 प्रतिशत की डीएलसी दरों में बढ़ोतरी करने का निर्णय लिया गया है।

31/08/2019

आमजन के लिए जेडीए जल्द ही तैयार करेगा मोबाइल एप

आर्थिक संकट के समय सीट संभालने वाले जयपुर विकास प्राधिकरण आयुक्त टी. रविकांत के नवाचारों का परिणाम यह रहा कि आम लोगों को काम कराने के लिए जेडीए कार्यालयों में चक्कर नहीं काटने पड़ रहे हैं।

01/01/2020

घट स्थापना के साथ चैत्र नवरात्र की शुरुआत, पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा

धर्म के अनुसार हर संप्रदाय का अपना अलग-अलग नववर्ष मनाया जाता है। हिंदू धर्म के अनुसार विक्रम संवत का शुभारंभ चैत्र मास की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को होता है। इसी दिन से नवरात्र की शुरुआत होती है। आदि शक्ति की आराधना का पावन पर्व चैत्र नवरात्र इस वर्ष 25 मार्च (बुधवार) से शुरू होगा। इसे वासंतिक नवरात्र भी कहते हैं। इसी दिन हिन्दू नववर्ष यानी नवसंवत्सर 2077 का शुभारम्भ होगा।

24/03/2020

घट स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र प्रारंभ, किसी तिथि का क्षय नहीं होने से इस बार नौ दिन के नवरात्र

शारदीय नवरात्र का प्रारम्भ हो गया है। इस बार नौ दिन के नवरात्र हैं। 29 सितंबर से प्रारम्भ होकर 7 अक्टूबर तक यह चलेंगे। 8 अक्टूबर को विजय दशमी है। इस दिन देवी प्रतिमाओं का विसर्जन होगा।

29/09/2019

गरबा महोत्सव में झलका संस्कृति का अनूठा संगम

नवरात्रि में भक्ति और मनोरंजन से सराबोर, खुशनुमा शाम में डीजे साउण्ड की करतल ध्वनि और रंग-बिरंगी लाइट्स की रोशनियों का संगम ऐसा लग रहा था कि मानो गुजरात की गरबा संस्कृति का कीर्तिमान स्थापित किया हो।

07/10/2019