Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 1st of April 2020
 
खास खबरें

सोशल मीडिया के जरिए अफसरों पर रखेंगे ध्यान: कलेक्टर डॉ. जोगाराम

Saturday, December 14, 2019 10:30 AM
जयपुर जिले के नए कलेक्टर डॉ. जोगाराम ने दैनिक नवज्योति के फेस-टू-फेस कार्यक्रम में कहा कि सोशल मीडिया के जरिए जिले के अफसरों पर ध्यान रखेंगे।

जयपुर। जयपुर जिले के नए कलेक्टर डॉ. जोगाराम सोशल मीडिया के जरिए जिले के अफसरों पर ध्यान रखेंगे। कल का काम आज और आज का काम अभी की नीति को अपने जीवन में अपना कर चलने वाले कलेक्टर कई तरह के नवाचार करने में माहिर हैं, जयपुर में भी इस पर वे अमल करेंगे।

 

बाड़मेर जिले की रामसर तहसील के छोटे से गांव गंगाला में किसान अर्जुनराम के घर जन्मे डॉ. जोगाराम का मानना है कि अनुशासित, गंभीरता और मेहनतकश जीवन जीकर हर कोई प्रगति कर सकता है। दैनिक नवज्योति के कार्यालय में शुक्रवार को उनसे हुई विशेष बातचीत में संवाददाता को बताया कि हर सोमवार को जिला स्तरीय अफसरों के साथ बैठक कर जिले की समस्याओं पर चर्चा कर उनका निराकरण करेंगे। महिला सुरक्षा के प्रति शुरू से ही गंभीर रहे जोगाराम ने दावा किया है कि आम आदमी के लिए उनके दफ्तर के दरवाजे हर समय खुले रहेंगे। उनसे हुई बातचीत के अंश इस प्रकार है।

सवाल: जयपुर के लिए आपका क्या विजन है?
जवाब: जयपुर बड़ा शहर है। यहां की जनता की समस्याओं का समय पर निस्तारण हो। इसके साथ ही सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं को जनता तक पहुंचाकर उनका लाभ दिया जा सके।

सवाल: शादियों का सीजन है, यहां भारी मात्रा में मिलावटी मावा आ रहा है। इस पर कार्रवाई को लेकर क्या करेंगे?
जवाब: जिला प्रशासन टीमें बनाकर सभी स्थानों पर छापे मार रहा है, जिसमें भारी मात्रा में मिलावटी मावा पकड़ा गया है। भविष्य में इसे रोका जाए। इसके लिए कमेटी गठित की गई है। यह कमेटी मिलावटी मावा, मसाला और अन्य खाद्य सामग्री के सैम्पल लेकर जांच के लिए लैब में भिजवाएगी।

सवाल: पंचायत व निकाय चुनाव नजदीक है। इसके लिए क्या तैयारियां है?
जवाब: पंचायत व निकाय चुनाव के लिए कार्मिकों की ड्यूटी लगाना, टास्क फोर्स, मतपत्र प्रकोेष्ठ, क्रिटिकल बूथों पर निगरानी के लिए पुलिस विभाग को निर्देश दिए गए है। वहीं जिले में शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव कराया जा सके, इसके लिए सभी विभागों के अधिकारियों की समीक्षा बैठक लेकर निर्देश दिए गए है। जिला प्रशासन का फेसबुक व ट्विटर पर अकाउंट बनाकर लोगों को जोड़ा जाएगा।

सवाल: सांभर में बहुत पक्षियों की जान गई, भविष्य में ऐसी घटना ना हो, इसके लिए क्या प्लान है?
जवाब: सांभर झील में हजारों की संख्या में पक्षियों की जान गई, यह बहुत दुखद है। यहां झील में लोग मृत पक्षियों को डाल देते है, जिससे पानी दूषित होने के साथ ही उसमें जीवाणु बन जाते है। इस पानी के पीने से और मृत जानवर व पक्षियों के मांस को खाने से पक्षियों की जान गई है। भविष्य में ऐसी घटना दुबारा ना हो, इसके लिए मृत पक्षियों के निस्तारण की योजना बनाई गई है। इसकी मॉनिटरिंग के लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की गई है।

सवाल: विभागों में तालमेल नहीं, इसके लिए आपकी क्या योजना है?
जवाब: विभागों में तालमेल नहीं होने के कारण जनता की समस्याओं का निस्तारण नहीं होता। अब हर सोमवार को सभी विभागों के अधिकारियों की एक मीटिंग बुलाई जाएगी, जिसमें संपर्क पोर्टल व संबंधित कार्यालयों में आने वाली शिकायतों के निस्तारण को लेकर चर्चा की जाती है। इसके साथ ही सभी विभागों का जिला स्तरीय एक वाट्सएप ग्रुप बनाया गया है, जिसमें सभी अधिकारियों को दिए गए टास्क के बारे में चर्चा की जाती है।

सवाल: आपसे मिलने वाले परिवादियों को पर्ची देने की जरुरत नहीं है। इसको लेकर क्या कहेंगे?
जवाब: जिले में लोगों की संबंधित कार्यालय में सुनवाई न होने पर ही वह कलेक्टर कार्यालय में आता है। यहां भी उसकी सुनवाई ना हो तो वह कहां जाएगा। इसलिए मैंने कार्यालय में आने वाले लोगों को बिना पर्ची के प्रवेश देना शुरू किया है। हालांकि पहले वाले कलेक्टर जगरूप सिंह यादव ने यह परंपरा शुरू की थी। कलेक्टर, तहसील, एसडीएम और एडीएम कोर्ट में पेंडिंग मामलों का निस्तारण करने के भी निर्देश दिए गए है। सभी अधिकारियों को जनता की सुनवाई कर तुरंत राहत देने के भी निर्देश दिए गए है। इसी प्रकार जिला स्तरीय अधिकारियों की हर माह में दो बार वीडियो कांफ्रेंस के जरिए भी मामलों के निस्तारण की जानकारी ली जाती है।

सवाल: जिले में गंदे पानी को लेकर हमेशा समस्या बनी रहती है। इसको लेकर क्या प्लान बनाया है?
जवाब: गंदे पानी की मुख्य समस्या जयपुर शहर में है। यहां पुरानी सीवरेज लाइनें है। गंदे व सीवरेज लाइनों की समय पर सफाई होने से यह समस्या हल हो सकती है। इसके लिए जेडीए और नगर निगम प्रशासन को निर्देश दिए गए है। इसके साथ ही शहर के लोगों की समस्याओं के लिए जिला प्रशासन ने जोनवार अधिकारियों को लगाया है। यह अधिकारी सप्ताह में आई शिकायतों का निस्तारण कर रिपोर्ट पेश करते है।
 

यह भी पढ़ें:

ये है एशिया का सबसे स्वच्छ गांव, जो भारत में है, जहां सड़क पर नजर नहीं आता कचरा

मेघालय में एक गांव मावलिननोंग स्थित है, जिसे 2003 से लगातार एशिया महाद्वीप के सबसे स्वच्छ ग्राम का दर्जा मिल रहा है।

14/06/2019

Video: पुष्कर मेले में 15 करोड़ का 'भीम', जिसके साथ हर कोई ले रहा सेल्फी

विश्व प्रसिद्ध पुष्कर पशु मेले का आकर्षक केन्द्र जोधपुर का भैंसा भीम है। जिसकी कीतम 15 करोड़ आंकी गई है। लेकिन इसके मालिक इसे इस कीमत में भी बेचना नही चाहते है।

05/11/2019

जयपुर के इंजीनियर की तकनीक से बनेंगी गांवों की सड़कें, ग्राउंड वॉटर को रिचार्ज करेगा बारिश का पानी

सड़क बनाने के एक्सपर्ट इंजीनियर 84 वर्षीय पृथ्वी सिंह कांधल की बारिश के जल को बचाने के लिए सुराखदार सड़कों के निर्माण की तकनीक को केन्द्र सरकार ने मंजूरी दी है। इस तकनीक से प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत बनने वाली 20 फीसदी सड़कों को बनाया जाएगा।

03/02/2020

इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स ने बनाई 12 किलो की फोल्डेबल साइकिल

शहर के इंजीनियरिंग प्रथम वर्ष के स्टूडेंट्स ने फोल्डेबल बाई साईकिल बनाने में सफलता प्राप्त की है। 12 किलोग्राम की यह साईकिल सिर्फ 4 स्क्वायर फीट क्षेत्रफल से भी कम क्षेत्रफल में आसानी से रखी जा सकती है।

27/02/2020

चांद बावडी में की जाएगी लाइटिंग

दौसा जिले के बांदीकुई में स्थित आठवीं सदी की चांद बावडी का दृश्य है। यहां पर्यटन विभाग की ओर से आभानेरी उत्सव का आयोजन होगा।

26/09/2019

हॉवर्ड के अलावा अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी में व्याख्यान देंगी रूमादेवी

पश्चिमि राजस्थान के बाड़मेर जिले की रूमादेवी अब अमेरिका की हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के साथ-साथ न्यूर्याक की कोलम्बिया यूनिवर्सिटी में भी व्याख्यान के लिए आमंत्रित हुई है। 22 फरवरी को आयोजित कॉन्फ्रेंस में रूमादेवी को सम्मानित भी किया जाएगा।

23/01/2020

आसमान से खेत में गिरा रहस्यमयी पत्थर, देखने आ रहे लोग

बिहार के मधुबनी जिले के लौकही प्रखंड के कोरियाही गांव के एक खेत में आसमान से एक रहस्यमयी पत्थर गिरने का मामला चर्चाओं में है।

23/07/2019