Dainik Navajyoti Logo
Friday 22nd of January 2021
 
जोधपुर

कोरोना के दौर में मेंटली स्ट्रोंग रहना जरूरी

Friday, October 09, 2020 00:50 AM
विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर विशेष

जोधपुर । हर साल विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 10 अक्टूबर को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों में मानसिक रोगों और उनके खतरनाक प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाना हैं। विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस इस साल महत्वपूर्ण होने वाला है, यह साल काफी कठिन है कोविड-19 के कारण लॉकडाउन और नुकसान होने की वजह से लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर काफी असर पड़ा हैं।


विश्व स्वास्थ्य संगठन और हमारे देश की मनोरोगों की सर्वोच्चम संस्था की रिपोर्ट के अनुसार विश्व में हर चौथा और हमारे देश में हर दसवां व्यक्ति किसी ना किसी तरह की मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित छोटी या बड़ी समस्या से पीड़ित हैं। 1 मिलियन से अधिक लोग इस मानसिक विकार के साथ अपनी जिन्दगी चला रहे हैं और करीब हर 40 सैकेण्ड में एक व्यक्ति अवसाद से आत्महत्या कर रहा है ऐसे में यह आवश्यक हो जाता है कि लोग अपने मानसिक स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दे।


मेडिपल्स हॉस्पिटल जोधपुर के वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉ. चन्द्र शेखर गुप्ता ने बताया ज्यादातर मानसिक रोगोें के लक्षण सामान्य व्यवहार वाले इंसान की तरह ही होते हैं, जिसकी वजह से इनको पहचानना और वर्णित करना किसी भी व्यक्ति  के लिए मुश्किल हो सकता है, लेकिन लक्षणों की तीव्रता और समयावधि अधिक होने के कारण इंसान अपने रोजमर्रा के काम और पारिवारिक जिम्मेदारियों का ठीक से निर्वाह नहीं कर पाता हैं। कुछ मानसिक रोग खासकर एंजायटी के लक्षण शारीरिक रोगो ह्रदय, सांस और पाचन तंत्र जैसे होते हैं, जिनमें अधिकतर समय जांचे सामान्य आती हैं।


मनोरोगों के कारण
जेनेटिक हमारे शरीर और दिमाग की हर कोशिश की सही बनावट और कार्य करने के लिए जीन्स का सही होना अत्यंत जरूरी हैं। जेनेटिक स्ट्रक्चर में कोई भी खराबी होने पर वह अंग ठीक से काम नहीं करता और उससे संबंधित लक्षण दिखाई देने लगते हैं। हार्मोन्स का लेवल जिस तरह शरीर को चलाने के लिए कुछ हार्मोन्स जैसे थायरॉईड, इन्सुलिन इत्यादि का सही मात्रा में ब्लड में होना जरूरी है उसी तरह दिमाग के सुचारू रूप से कार्य करने के लिए भी कुछ हार्मोन्स डोपामिन, सेरोटोनिन इत्यादि की सही मात्रा मस्तिष्क में होना जरूरी है। यही हार्मोन्स हमारे सोच विचार और व्यवहार को नियंत्रित करते हैं।


मनोरोगों के लक्षण एवं उपचार
लक्षणों की पहचान सही नहीं होने से भी निदान और उपचार दोनों ही कठिन हो जाता है, इसलिए लक्षणों की पहचान भी अति आवश्यक होती है सामान्य बेवजह अत्यधिक घबराहठ, अनावश्यक रूप से बार-बार विचारों का आना और एक ही विचार का दिमाग में अटक जाना इत्यादि। समय पर और सही इलाज होने से मरीज सम्पूर्ण ठीक होकर परिवार और समाज की जिम्मेदारियां ठीक से उठा पाता हैं।


मेंटली स्ट्रॉग बनें
अपना काउंसलर खुद बने, किसी भी व्यक्ति को खुद को समझना अत्यन्त जरूरी है, तभी वह विपरित परिस्थितियां आने पर खुद का काउंसलर बन सकता है, इसके लिए हमें सप्ताह में कम से कम 40 मिनट अपने स्वयं के लिए निकाले, एकांत में बैठकर अपने और अपने व्यक्तित्व के बारे में सोचे और देखे कि जिन्दगी में क्या चल रहा है हम कितना समय कहा बर्बाद कर रहे है। जीवन के वास्तविक लक्ष्य निर्धारित करे और उनका समय-समय पर आकलन करते रहे।

यह भी पढ़ें:

ट्रेनों में रेमलाट का ट्रायल शुरू : रेलवे अधिकारी केबिन में बैठकर ट्रेन की समस्या हल कर सकेंगे

आने वाले दिनों में रेलवे अधिकारी अपने चेंबर में बैठकर रेलवे ट्रेक पर दौड़ रही ट्रेनों की स्पीड, लोकेशन, फ्यलू प्रेशर और बैटरी वोल्टेज का पता कर सकेंगे। इससे ट्रेन में आने वाली समस्या का समाधन हो सकेगा। रेलवे द्वारा रिमोट मॉनिटरिंग एंड मैनेजमेंट ऑफ लोकोमोटिव एंड ट्रेन यानी रेमलाट पर काम शुरू कर दिया है।

25/12/2019

नकली घी बनाने की फैक्ट्री का पर्दाफाश

थाना क्षेत्र के तांबड़िया कला गांव में नकली घी बनाने की फैक्ट्री का पर्दाफ ाश हुआ। जिसमे 700 लीटर नकली घी, 120 लीटर तेल बरामद किया। पुख्ता सूचना पर जिला विशेष टीम ने व्रताधिकारी भोपालगढ़ धर्मेंद्र डूकिया, थानाधिकारी भोपालगढ़ राजेंद्र खदाव तथा जिला स्पेशल टीम के चेनप्रकाश मय जाबता के गोपाल सिंह के रहवासी मकान पर दबिश दी।

07/01/2020

बहुत धोखा खा चुके अब और नहीं खा सकते

भारत अपनी सीमा में किसी भी प्रकार का विकास कार्य करा सकता है। चीन को इसमें दखल देने का कोई हक नहीं है। चीन यह समझ लें कि अब 1962 जैसा माहौल नहीं है। हम सब तरह से मजबूत हैं। यह कहना है चीन को 62 के युद्ध में दांतों चने चबाने वाले रिटायर्ड ब्रिगेडियर शक्तिसिंह का। ब्रिगेडियर सिंह 1962 में भारत और चीन की लड़ाई लड़ चुके हैं। वे उस समय अरुणाचल प्रदेश में तैनात थे।

16/06/2020

नगर निगम चुनाव : 160 में से 53 वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित

नगर निगम चुनाव में इस बार उत्तर व दक्षिण दोनों में मेयर का आरक्षित पद सामान्य वर्ग की महिलाओं के लिए रिजर्व होने से इस चुनाव में कांग्रेस व भाजपा दोनों दल महिलाओं को तवज्जों दे रहे है। वहीं महिला मेयर होने से राजनिति से जुड़ी महिलाओं में भी चुनाव में दावेदारी करने को लेकर रूझान बढ़ने के साथ उत्साहित दिखाई दे रही है।

14/10/2020

205 यात्रियों को लेकर वायुसेना का विशेष विमान रवाना

ईरान से एयरलिफ्ट कर जोधपुर लाए गए 552 भारतीय नागरिकों में 457 को उनके घरों तक सेना ने पहुंचा दिया है। शुक्रवार की सुबह 205 भारतीयों को लेकर वायुसेना का विशेष विमान रवाना हुआ। ये लोग देश के अलग-अलग प्रांतों के है। दो दिन पहले ही 225 भारतीयों को जम्मू कश्मीर के लेह लद्दाख भेजा गया था।

24/04/2020

जोधपुर में आत्मनिर्भर योजना शुरू : 92 हजार परिवार के 3.49 लाख लोगों को निशुल्क मिलेंगे 3890 एमटी गेहूं व 213 एमटी चना

आत्मनिर्भर योजना के तहत जोधपुर जिले में 92 हजार से अधिक परिवार के 3 लाख 49 हजार 373 लोग लाभांवित होंगे। इन सबको 3890.27 मैट्रिक टन गेहूं व 213.10 मैट्रिक टन चने की दाल वितरित की जाएगी। रसद विभाग को गेहूं व चना मिल गए है और राशन डीलरों को सप्लाई करनी शुरू कर दी गई है।

12/06/2020

अधीक्षक ने दिए काउंटर बंद करने के आदेश, दूसरे ने दे दी दवाएं

मथुरादास माथुर अस्पताल के डीडीसी काउंटर 4 व 16 पर कार्यरत ठेके के फार्मासिस्ट में से एक को गले में दर्द व हल्के बुखार की शिकायत होने पर उसने 25 जुलाई को दोपहर करीब 2 बजे जांच के लिए अपना सैंपल दिया।

27/07/2020