Dainik Navajyoti Logo
Monday 30th of March 2020
 
जयपुर

आइसोलेशन में कोरोना मरीजों की रोबोट करेंगे देखभाल, नर्सिंग स्टाफ का मूवमेंट होगा कम

Thursday, March 26, 2020 10:10 AM
मरीजों के लिए दवा पहुंचाने का काम रोबोट करेंगे।

जयपुर। एसएमएस अस्पताल के आइसोलेशन सेंटर में भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों और संदिग्धों के लिए दवा तथा भोजन पहुंचाने का काम अब रोबोट करेंगे। इसके लिए अस्पताल में बुधवार को 3 रोबोट इंस्टॉल किए गए हैं। इनमें से दो काम कर रहे हैं। आइसोलेशन सेंटर में एक रोबोट पॉजिटिव मरीजों के लिए तो एक संदिग्धों के लिए आइसोलेशन वार्ड में काम कर रहा है। अस्पताल प्रशासन की ओर से फिलहाल इसका ट्रायल किया जा रहा है। गुरुवार को एक रोबोट चरक भवन में कोरोना ओपीडी और एक आइसोलेशन वार्ड में भी लगाया जाएगा।

अस्पताल अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा ने बताया कि आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कोरोना पॉजीटिव मरीजों को रोबोट दवा और भोजन देने का काम करेगा। इतना ही नहीं रोबोट लिफ्ट से दूसरे वार्डों में भी जा सकेंगे। क्लब फर्स्ट कंपनी की ओर से कंपनी सोशल रेस्पोंसिबिलिटी के तहत यह रोबोट जयपुर के युवा रोबोटिक्स विशेषज्ञ भुवनेश मिश्रा ने बनाए हैं और हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमितों की सेवा के लिए खुद आगे बढ़कर इन्हें अस्पताल को समर्पित किया है। इन रोबोट की खास बात यह है कि मेक इन इंडिया के तहत इन्हें जयपुर में ही तैयार किया गया है।

नर्सिंग स्टाफ का मूवमेंट होगा कम
भुवनेश ने बताया कि रोबोट को यहां लगाए जाने से कोरोना पीड़ितों के पास मेडिकल स्टाफ  का मूवमेंट कम हो जाएगा और इसका सबसे बड़ा प्रभाव यह होगा कि हॉस्पिटल में इंसानों की वजह से कोरोना के प्रसार की संभावना काफी कम हो जाएगी। ये रोबोट कोरोना संक्रमितों तक दवा, पानी व अन्य आवश्यक वस्तुएं ले जाने का काम करेंगे। फिलहाल रोबोट का ट्रायल किया गया है।

दो रोबोट और आएंगे, जिसमें एक को चरक भवन के कोरोना ओपीडी और एक आइसोलेशन वार्ड में काम में लिया जाएगा। भुवनेश ने बताया कि अस्पताल के अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा, डिप्टी सुपरीटेंडेंट डॉ. अनिल दुबे व सीनियर प्रोफेसर डॉ. सीबीण मीणा से बातचीत के बाद उनके मार्गदर्शन के तहत वार्ड में ये रोबोट लगाए गए हैं। भुवनेश का दावा है कि सवाई मानसिंह अस्पताल देश का पहला ऐसा अस्पताल होगा, जहां रोबोट मरीजों को दवा देंगे।

ये है रोबोट की खासियत
भुवनेश ने बताया कि इनकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि सोना 2.5 रोबोट लाइन फॉलोअर नहीं हैं, बल्कि आॅटो नेविगेशन रोबोट हैं। इसलिए इन्हें मूव कराने के लिए किसी भी प्रकार की लाइन बनाने की आवश्यकता नहीं होती है। इंसानों की तरह ये रोबोट सेंसर की मदद से स्वयं नेविगेट करते हुए अपना रास्ता स्वयं बनाते हैं और टारगेट तक पहुंचते हैं।

ये रोबोट आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, आइओटी और एसएलएएम तकनीक का उपयोग करके तैयार किए गए हैं। सर्वर के कमांड मिलने पर ये रोबोट सबसे पहले अपने लिए सबसे छोटे रास्ते का मैप क्रिएट करते हैं। ये किसी भी फर्श या फ्लोर पर आसानी से मूव कर सकते हैं।

लैपटॉप या स्मार्ट फोन से भी कर सकते हैं ऑपरेट
इन्हें वाई-फाई सर्वर के जरिए लैपटॉप या स्मार्ट फोन से भी ऑपरेट किया जा सकता है। ऑटो नेविगेशन होन से इन्हें अंधेरे में भी मूव कराया जा सकता है। इनकी सबसे खास बात यह है कि इनमें ऑटो डॉकिंग प्रोग्रामिंग की गई है, जिससे बैटरी डिस्चार्ज होने से पहले ही ये स्वयं चार्जिंग प्वॉइंट पर ऑटो चार्ज हो जाएंगे। यह रोबोट सात से दस किलो वजन उठा सकता है। इसकी बैटरी लाइफ सात घंटे की है। यह रोबोट तीन घंटे में फिर से रिचार्ज होता है।

इसलिए पड़ी जरूरत
अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा ने बताया कि नर्सिंग स्टाफ  को बार-बार दवा और भोजन देने के लिए कोरोना पॉजीटिव मरीजों के पास जाना पड़ता है। ऐसे में हर समय संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है। इस खतरे को रोकने के लिए रोबोट सर्विस एक अच्छा कदम है।

 

यह भी पढ़ें:

प्रदेश में नहीं थम रहा डेंगू का प्रकोप, अब तक 12 मौतें, 8800 पॉजिटिव केस

चिकित्सा विभाग के लाख दावों के बावजूद डेंगू का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। विभाग के आंकड़ों की मानें तो डेंगू से प्रदेश में अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है और 8800 से ज्यादा पॉजिटिव केस आ चुके हैं।

18/11/2019

रणथम्भौर अभयारण्य क्षेत्र में पर्यटकों की संख्या और वन्यजीवों की समस्याओं का पता लगाए कमेटी

राजस्थान हाईकोर्ट ने पूर्व डीजीपी अजीत सिंह की अध्यक्षता में बनी स्टैडिंग कमेटी को कहा है कि वह रणथम्भौर अभयारण्य क्षेत्र में पर्यटकों के पड़ रहे दबाव, वहां की क्षमता और संसाधनों सहित वन्यजीवों को हो रही समस्याओं का अध्ययन कर रिपोर्ट तैयार करें।

06/09/2019

निकाय चुनाव में भी जनता ने हमारी जनकल्याणकारी योजनाओं को समर्थन दिया: अशोक गहलोत

सीएम अशोक गहलोत ने निकाय चुनाव के परिणामों को लेकर ट्वीट किया कि निकाय चुनाव के नतीजे सुखद हैं।

19/11/2019

गहलोत ने कहा, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री शांति मार्च क्यों नहीं निकाल रहे?

एनआरसी और नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में भाजपा शासित राज्यों में हो रहे आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वहां के मुख्यमंत्री शांति मार्च क्यों नहीं निकाल रहे, उनको वहां की जनता को विश्वास में लेना चाहिए कि आपके साथ गलत नहीं होने देंगे।

21/12/2019

नए साल के जश्न का थमा सफर, 30 ट्रेनें रद्द और 38 का मार्ग परिवर्तित

कई महीने पूर्व नए साल का जश्न मनाने के लिए ट्रेनों में टिकट आरक्षित करवा कर सफर का सपना लेकर बैठे यात्रियों के जश्न पर रेलवे ने विराम लगा दिया है।

14/12/2019

राहुल गांधी की आक्रोश रैली को लेकर गहलोत-पायलट और अविनाश पांडे ने की बैठक

राहुल गांधी की 28 जनवरी को जयपुर के अल्बर्ट हॉल पर होने जा रही आक्रोश रैली को लेकर तैयारियां को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

27/01/2020

दुकान में लगी भीषण आग

किशनपोल बाजार में एक दुकान में भीषण आग गई, जिसकी चपेट में अन्य दुकानें भी आ गई।

20/06/2019