Dainik Navajyoti Logo
Monday 6th of July 2020
 
जयपुर

जयपुर में चाइनीज मांझा के खिलाफ पुलिस की बड़ी कार्रवाई, एक गिरफ्तार

Tuesday, January 14, 2020 17:05 PM
कॉन्सेप्ट फोटो ।

जयपुर। चाइनीज मांझा के खिलाफ ज्योति नगर थाना पुलिस ने कार्रवाई कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी से भारी मात्रा में चाइनीज मांझा बरामद किया है, जो चोरी-छिपे बेच रहा था।

थाना प्रभारी सुधीर उपाध्याय को मुखबिर से सूचना मिली, जिस पर उन्होंने मकान पर दबिश दी तो मौके पर चाइनीज मांझा पाया गया। मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी जयपुर में सप्लाई कर रहा, फिलहाल पुलिस पूछताछ कर रही है।

यह भी पढ़ें:

अब पास धारक ही दे सकेंगे फल-सब्जी, नगर निगम ने कराई 400 लोगों की सैंपलिंग

कोविड-19 वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए एतिहात बरतते हुए नगर निगम की ओर से 250 थड़ी ठेले वालों एवं 100 निगम कार्मिकों की सैंपलिंग कराई गई। इसके साथ ही निगम की ओर से अधिकृत पास धारक ठेले वाले ही कॉलोनियों में फल-सब्जी बेचने के लिए जा सकेंगे।

11/05/2020

मां से बिछड़ी तेहरून याद में गाने गाती थी, कई सालों बाद परिवारजनों से मिली

राजकीय बालिका गृह जयपुर में रह रही 11 साल की तेहरून के लिए शनिवार का दिन खुशियां लेकर आया और उसे बिछड़े हुए परिवार से मिला दिया।

16/06/2019

राजस्थान: पदोन्नति में भी एससी और एसटी वर्ग को आरक्षण देने के निर्देश

अब सभी संवर्गों में पदोन्नति में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के कर्मियों को आरक्षण का लाभ दिया जाएगा।

09/12/2019

सरकारी जमीन पर कब्जा शिकायतों की आड़ में अवैध धंधा

शहर के नए विकसित होने वाले इलाकों में विकास समितियों की आड़ में कुछ लोग वसूली का खेल कर रहे हैं। कॉलोनी में मकान का निर्माण करने वालों की बार-बार शिकायतें कर उन पर प्रेशर बनाया जाता है।

17/05/2019

जयपुर जिले की पंचायत समिति प्रधानों की लॉटरी निकाली, देखें पूरी लिस्ट

कोटपूतली, विराटनगर, गोविंदगढ़, बस्सी, चाकसू और सांगानेर पंचायत समिति में सामान्य वर्ग की महिला प्रधान बनेंगी।

28/12/2019

पांच साल में लोस चुनावों का खर्चा 67 % बढ़ा

प्रदेश में पिछले मात्र पांच सालों में चुनाव का खर्चा 67 फीसदी बढ़ गया है। सत्रहवीं लोकसभा चुनावों में करीब 260 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है।

19/04/2019

आज कवि सम्मेलनों में राजनीतिक विचारधारा हावी : प्रभा ठाकुर

टेलीविजिन पर राजनैतिक विचारधारा के सम्मेलन होने लग गए हैं, जिसकी जैसी राजनैतिक विचारधारा होती है उसी तरह के कवि होते है। इस तरह से कविता का राजनैतिक दृष्टि से जो दुरूपयोग हो रहा है, वो गलत है।

28/01/2020