Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of August 2020
 
जयपुर

भ्रष्टाचार की शिकायत करने वालों को संरक्षण देगी गहलोत सरकार, सभी विभागों को परिपत्र जारी

Tuesday, December 10, 2019 19:35 PM
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो)

जयपुर। भ्रष्टाचार की जीरो टॉलरेंस की नीति पर आगे बढ़ते हुए गहलोत सरकार ने लोकसेवकों के विरुद्ध भ्रष्टाचार की शिकायत करने वाले परिवादियों को प्रताड़ना से बचाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया है। सभी विभागों को इस संबंध में एक परिपत्र जारी कर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में भ्रष्टाचार की शिकायत करने वाले परिवादियों के कार्य द्वेषतापूर्वक नहीं रोकने एवं अन्य किसी भी प्रकार से प्रताड़ित नहीं किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इन निर्देशों की अवहेलना को सरकार गंभीरता से लेगी।


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विगत दिनों एसीबी मुख्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक में इस संबंध में निर्देश दिए थे। उन्होंने कहा था कि प्रदेश में किसी प्रकार का भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और भ्रष्टाचार के विरोध में आवाज उठाने वालों को सरकार पूरा संरक्षण देगी।


जान-बूझकर प्रताड़ित करने की मिल रही थी शिकायतें
गृह विभाग की ओर से जारी परिपत्र में कहा गया है कि यह देखने में आया है कि किसी लोकसेवक के खिलाफ  शिकायत अथवा ट्रेप कराने वाले व्यक्ति के वैध कार्यों को कई बार उस विभाग के अधिकारी एवं कार्मिक अटकाते हैं या उसे अन्य प्रकार से जान-बूझकर प्रताड़ित करने की भी शिकायतें प्राप्त होती हैं। विभागीय कार्मिकों की इस प्रवृत्ति के कारण आमजन में भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने के प्रति नकारात्मक सोच विकसित होती है। इससे भ्रष्टाचारियों को प्रोत्साहन मिलता है। राज्य सरकार ने सभी अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रमुख शासन सचिव एवं शासन सचिवों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने विभाग में यह सुनिश्चित करें कि भ्रष्टाचार की शिकायत करने वाले परिवादियों के वैध कार्य नियमानुसार अविलम्ब पूर्ण हों और उसे अनावश्यक रूप से प्रताड़ित नहीं किया जाए। अपने अधीनस्थ अधिकारियों से इस परिपत्र की पालना सुनिश्चित कराएं। साथ ही विभागाध्यक्ष समय-समय पर बैठक कर ऐसे परिवादियों से संबंधित कार्यों की भी समीक्षा करें।

यह भी पढ़ें:

प्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 10 कलेक्टर सहित 70 आईएएस बदले

राज्य सरकार ने निकाय चुनाव से पहले बड़ा प्रशासनिक फेरबदल किया है। इस फेरबदल में 10 जिलों के कलेक्टर सहित 70 आईएएस अधिकारियों को इधर से उधर किया गया है। वहीं एक आईएफएस व एक आरएएस का भी तबादला किया है और एक आईएफएस व एक आरएएस को एपीओ किया गया है।

22/09/2019

गंभीर कोरोना मरीजों के लिए टोसिलीजूमेब और रेमडीसीविर इंजेक्शन कराए जाएंगे उपलब्ध: शर्मा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कोविड-19 के गंभीर मरीजों के इलाज के लिए प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में टोसिलीजूमेब और रेमडीसीविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। रघु शर्मा ने बताया कि कोविड-19 के मैनेजमेंट में सबसे महत्वपूर्ण कोराना के कारण होनी वाली जनहानि को रोकना है।

31/07/2020

परिवहन विभाग का बड़ा फैसला, अब कहीं भी बनवा सकते हैं ड्राइविंग लाइसेंस

प्रदेशवासियों को राहत देने के लिए परिवहन विभाग ने बड़ा फैसला किया है। प्रदेश भर में अब कहीं भी ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकते है।

05/11/2019

साढ़े तीन करोड़ रुपए प्रतिमाह घाटे में है जयपुर मेट्रो

जयपुर मेट्रो के संचालन को सोमवार को चार साल पूरे होंगे, लेकिन इस अवधि में मेट्रो लगातार घाटे में चल रही है। जयपुर मेट्रो प्रतिमाह करीब साढ़े तीन करोड़ रुपए के घाटे में है।

03/06/2019

बाहरी पीसीआर को शहरी थानों में लगाया

कमिश्नरेट पुलिस ने संसाधनों का भरपूर उपयोग करने का नयाब रास्ता निकाला है। पुलिस ने बाहरी थानों में चली पीसीआर (चेतक) को शहर के अंदरुनी थानों में बेहतर पुलिसिंग के लिए लगाया है।

01/03/2020

कांग्रेस पार्टी का स्पष्ट मत, नागरिकता धर्म के आधार पर नहीं : पायलट

लोकसभा में पारित हुए नागरिक संशोधन विधेयक पर उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी ने इस बिल का सैद्धांतिक रूप से विरोध किया है।

11/12/2019

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा को लेकर बैठक, शिक्षा मंत्री तैयारियों के बारे में की समीक्षा

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा की अध्यक्षता में मंगलवार को शासन सचिवालय में राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) के आयोजन तथा तृतीय श्रेणी अध्यापक लेवल प्रथम व द्वितीय की भर्ती प्रक्रिया के संबंध में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में डोटासरा ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि रीट की परीक्षा से संबंधित कार्यवाही त्वरित और प्रभावी रूप में की जाए।

09/06/2020