Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 2nd of June 2020
 
इंडिया गेट

ईवीएम पर फिर बवाल

Tuesday, February 11, 2020 11:45 AM
संजय सिंह (फाइल फोटो)

ऐसा पहली बार नहीं हो रहा जब मतदान होने और नतीजे आने के बीच के समय में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन यानी ईवीएम की गड़बड़ी को लेकर बहस तेज हो गई हो। दिल्ली में शनिवार को विधानसभा चुनाव के लिए हुए मतदान के बाद से यही एक बार फिर से ईवीएम में गड़बड़ी का सवाल जेरेबहस है। आम आदमी पार्टी (आप) ने दावा किया है कि कुछ अधिकारियों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) को अनधिकृत रूप से ले जाने की कोशिश की है। संजय सिंह ने अपने फोन पर एक वीडियो भी दिखाया, जिसमें एक चुनाव अधिकारी डीटीसी की बस में हाथ में ईवीएम लिए दिखाई दे रहा है। सिंह ने आगे कहा कि यह बदरपुर के शांति निकेतन का वीडियो है। यहां लोगों ने अधिकारी को ईवीएम के साथ पकड़ा है। इसी तरह की जानकारी पूर्वी दिल्ली के शाहदरा और विश्वास नगर से मिली है। ईवीएम सील करके सीधे स्ट्रांग रूम में भेजी जाती हैं, फिर अधिकारियों को वे ईवीएम कैसे मिलीं। सांसद के मुताबिक इसके बारे में चुनाव आयोग को सूचित किया जाएगा। उनके मुताबिक आगे ईवीएम में छेड़छाड़ न हो सके, इसके लिए पार्टी के एमएलए और कार्यकर्ता स्ट्रांग रूम के बाहर मौजूद रहेंगे। वैसे देखा जाए तो ईवीएम पर संदेह के बरक्स जारी बहस को तेज करने में चुनाव आयोग ने भी भूमिका निभाई है।

आयोग को मतदान का फीसद बताने में 24 घंटे से अधिक का समय लग गया। आयोग की इस हिलाहवाली की वजह से ईवीएम पर संदेह की गुंजाइश को और बल मिला है। आम आदमी पार्टी ने आयोग की हिलाहवाली को भी ईवीएम की गड़बड़ी से जोड़ा है। हालांकि दिल्ली के मुख्य चुनाव आयुक्त ने ऐसी किसी भी संभावना से इनकार किया है। दिल्ली में तकरीबन 24 घंटे के बाद आए आंकड़े में मतदान का फीसद 62.59 बताया गया है। बताया जाता है कि भाजपा के कुछ स्थानीय नेताओं ने मतदान के कुछ समय के बाद ही यह आंकड़े बता दिए थे। तो फिर आखिर चुनाव आयोग को यह आंकड़ा मुल्क को बतलाने में 24 घंटे का समय आखिर क्यों लग गया। यह सवाल उठना लाजमी भी है क्योंकि शनिवार को मतदान के दौरान हर दो घंटे पर आयोग की ओर से मतदान का फीसद बताया जाता रहा। यहां तक कि शाम पांच बजे तक चुनाव आयोग की ओर से करीब 57 फीसद मतदान होने की बात कही गई थी। ऐसे में अंतिम के चंद घंटों का मतदान जोड़ने में 24 घंटे लगने का आखिर क्या लॉजिक हो सकता है। वजह जो भी हो पर चुनाव आयोग की यह हिलाहवाली ईवीएम पर जारी संदेह की गुंजाइश को और हवा दे गई है। सवाल केवल 8 तारीख के मतदान के बाद आम आदमी पार्टी की ओर से ईवीएम पर संदेह किए जाने भर का नहीं है। यह भारत की चुनाव प्रक्रिया का तकरीबन स्थाई भाव बन चुका है कि हर चुनाव के बाद ईवीएम की वैधानिकता पर सवाल खड़े किए जाएं। खासतौर से हारने वाली पार्टी कभी खुलकर तो कभी दबे छुपे लहजे में ईवीएम में गड़बड़ी की बात करती है। ईवीएम में गडबड़ी से जुड़ी सियासत का दिलचस्प पहलू यह है कि सत्ताधारी भाजपा भी विपक्ष में रहते हुए यह काम कर चुकी है। तमाम खबरिया चैनलों पर ईवीएम के सवाल पर सरकार और आयोग का जमकर बचाव करने वाले भाजपा के प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव यह भूल चुके हैं कि उनने कभी ईवीएम में गड़बड़ी के सवाल पर एक विद्वतापूर्ण किताब भी लिख चुके हैं, जिसकी प्रस्तावना भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवानी ने लिखी है। ‘डेमोक्रैसी एट रिस्क: कैव वी ट्रस्ट आॅवर इलेक्ट्रॉनिक मशीन’ नाम से लिखी गई इस किताब का लब्बोलुआब यह है कि ईवीएम के चुनाव करना लोकतंत्र के लिए किस कदर खतरनाक है। किताब में ईवीएम प्रणाली के विशेषज्ञ और स्टैनफर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डेविड डिल ने बताया है कि ईवीएम का उपयोग पूरी तरह से सुरक्षित तो बिल्कुल भी नहीं है।

मुमकिन है अपनी मौजूदा सियासत की वजह से जीवीएल अपनी ही इस किताब के पन्नों को पटलने में बिल्कुल ही दिलचस्पी नहीं रखते हों, लेकिन उनकी किताब की यह बात पूरी तरह सही है कि ईवीएम पर संदेह की यह गुंजाइश भारत के लोकतंत्र के लिए बेहद खतरनाक है। हैरानी का सबब यह है कि यह संदेह की गुंजाइश उस सरकार के समय पैदा हो रहा है जो खुद को मर्यादा पुरुषोत्तम राम का भक्त साबित करने का कोई मौका जाया नहीं होने देती। भगवान राम ने तो एक धोबी की ओर से उनकी पत्नी सीता जी के पवित्रता पर संदेह किए जाने के बाद उन्हें घर से निकाल दिया था। और बाद में उन्हें अग्नि परीक्षा तक देनी पड़ी। पर आज आलम यह है कि मुल्क का शासक चुनने की प्रक्रिया या कह लें चुनाव की मशीन की पवित्रता ही लगातार संदेह के घेरे में है और मुल्क की राम भक्त सरकार उस संदेह को दूर करने के बजाए विरोधियों का ही मजाक उड़ा रही है। कायदे से देखा जाए तो ईवीएम पर संदेह के बजाए यह प्रवृति लोकतंत्र के लिए कहीं अधिक खतरनाक है। लिहाजा दिगी चुनाव के नतीजे जो भी हो, लेकिन ईवीएम को लेकर पैदा हुए संदेह को जितनी जल्दी दूर कर ली जाए, मुल्क के लोकतंत्र के लिए उतना ही बेहतर होगा।    

- शिवेश गर्ग
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

सकार की है जीत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तीसरी बार सत्ता संभालेंगे। यों तो आम आदमी पार्टी को पिछली बार की तुलना में 5 सीटें कम मिली हैं, लेकिन सियासत की नजर से देखा जाए, तो इस बार की जीत पिछली बार की तुलना में बड़ी है।

13/02/2020

मनोहर पर्रिकर ने बदल डाली परंपरा

अब तक चली आ रही परंपराओं को बदलते हुए रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर अब थलसेना, नौसेना तथा वायुसेना के प्रमुखों, उपप्रमुखों तथा आर्मी कमांडरों के लिए नियुक्त किए जाने वाले प्रिंसिपल स्टाफ अफसरों (पीएसओ) की नियुक्ति में ज़्यादा रुचि ले रहे हैं. तीनों सेनाओं में इन वरिष्ठतम अधिकारियों की नियुक्ति पीएसओ के रूप में महत्वपूर्ण मसलों पर सेनाप्रमुखों को सुझाव देने के लिए की जाती है.

07/09/2016

दुनिया का सर्वश्रेष्ठ बजट और आम जनता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भाजपा संसदीय दल की बैठक में अपने सांसदों को बताया है कि दुनिया की आर्थिक हालत के मद्देनजर इस साल का बजट सर्वश्रेष्ठ बजट है।

05/02/2020

सवाल लोकतंत्र में भरोसे का है

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में एक कार्टून छपा है। कार्टून का कैप्शन है, ‘नाइट वॉचमैन’। तस्वीर क्रिकेट पिच की है। जिस पर अम्पायर की वेशभूषा में एक व्यक्ति बैटिंग करने की मुद्रा में खड़ा है।

08/05/2019

बजट की हड़प्पन भाषा

टाइम्स आॅफ इंडिया में ताजा बजट को लेकर एक कार्टून छपा है कि जिसका मजमून है कि इस बार के बजट का प्रीफेस हड़प्पन लिपी में लिखा है, यह समझ से परे हैं।

04/02/2020

एक राजनेता का गैर-राजनीतिक साक्षात्कार

जब बीच चुनाव के दौरान सुप्रीम कोर्ट की ओर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बने बॉयोपिक पर रोक लगा दी गई, तो उनने प्रचार का एक नया तरीका इजाद कर लिया।

26/04/2019

विरोध का संवैधानिक दायरा

सीएए के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शनों के बीच केरल विधानसभा ने इसे वापस लेने की मांग करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया। एक दिन के विशेष सत्र में सत्तारूढ़ माकपा नीत एलडीएफ और विपक्षी कांग्रेस नीत यूडीएफ ने प्रस्ताव का समर्थन किया, जबकि भाजपा के एकमात्र विधायक ओ. राजगोपाल ने असहमति जताई।

03/01/2020