Dainik Navajyoti Logo
Sunday 20th of June 2021
 
इंडिया गेट

तेज होता किसान आंदोलन

Wednesday, December 23, 2020 11:25 AM
फाइल फोटो

किसानों ने अपना संघर्ष और तेज कर दिया है। हरियाणा और उत्तर प्रदेश से जुड़ी दिल्ली की सरहदों पर प्रदर्शन करे रहे किसानों ने सोमवार सुबह से क्रमिक भूख हड़ताल शुरू कर दी है। किसान नेताओं के अनुसार प्रदर्शन कर रहे किसान अलग-अलग समूहों में भूख-हड़ताल करेंगे और हर समूह में 11 लोग रहेंगे। राजस्थान से आए किसानों ने भी जबर्दस्त भूमिका निभाई है। शाहजहांपुर बॉर्डर पर अखिल भारतीय किसान सभा के नेता अमराराम व पेमाराम की अगुवाई में राजस्थान के किसान डटे हैं। ठंड के बावजूद किसानों के हौसले बुलंद हैं।

आंदोलन में शामिल होने वाले किसानों की उपस्थिति दिनों दिन बढ़ती जा रही है और यह ज्यादा होती जा रही है। किसान मोर्चा की संयुक्त बैठक के बाद शाहजहांपुर बॉर्डर पर अमराराम के नेतृत्व में 11 साथी क्रमिक अनशन पर बैठे। इसी तरह बाकी मोर्चों पर भी किसान अनशन पर बैठे हैं। अब यह क्रम रोज चलेगा।। बकौल अमराराम, यह आंदोलन आम आदमी व किसानों के लिए आर-पार की लड़ाई है। इन काले कानूनों को वापस लेने तक यह संघर्ष जारी रहेगा। किसान जीतेगा और सरकार हारेगी। हिंदुस्तान अडानी-अंबानी की जागीर नहीं, यह 1 अरब 35 करोड़ लोगों का देश है, जिसको बड़ी मेहनत से किसानों और मजदूरों ने बनाया है। राजस्थान के अन्नदाता से अपील की है कि ज्यादा से ज्यादा संख्या मे बॉर्डर पर पहुंच कर किसानों के इस महाकुंभ में अपनी उपस्थिति की दर्ज कराएं ताकि इस आंदोलन से सरकार को काले कानून वापस लेने के लिए मजबूर किया जा सके।

साथ ही किसान यूनियनों ने रविवार को ऐलान किया कि वे 25 से 27 दिसंबर तक हरियाणा में सभी राजमार्गों पर टोल वसूली नहीं करने देंगे। किसानों के मुताबिक राजमार्गों पर टोल वसूली नहीं करने दी जाएगी। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान होते हुए यह जत्था दिल्ली पहुंचकर यहां चल रहे किसान आंदोलन में हिस्सा लेगा। जहां एक ओर देश में किसानों का आंदोलन तेज होता जा रहा है। मोदी सरकार का सियासी पाखंड भी चरम पर है। इस बीच, सरकार ने किसानों को बातचीत दोबारा शुरू करने को लेकर पत्र भेजा है। पर सरकार की यह चिट्ठी किसी सियासी पाखंड से कम है, क्योंकि उसमें बातचीत के लिए किसी भी तारीख नहीं है। सरकार और भाजपा किसान आंदोलन को कमजोर करने की कवायद में लगातार जुटी है।

खबर है कि उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में दिल्ली चलो को लेकर तैयारी कर रहे किसानों को योगी सरकार ने 50 लाख रुपए का नोटिस भेजा है। हालांकि बाद में सफाई दी कि वो 50 लाख नहीं 50 हजार था, लेकिन देश में यह नई चल रहा है कि किसी अंदोलन में शामिल होने वालों के खिलाफ सरकार की ओर से नोटिस भेजा जा रहा हो। हरियाणा सरकार की ओर से भी आंदोलन करे रहे किसानों को परेशान करने की तमाम खबरें आ रही हैं। कमाल देखिए कि कोरोना के बहाने संसद का शीतकालीन सत्र न करने का फैसला किया गया है। मगर दूसरी ओर, मुल्क के गृहमंत्री कोरोना की चिंता किए बगैर बंगाल में चुनावी सभा कर रहे थे।

सवाल है कि अगर संसद सत्र के लिए कोरोना का बहाना है, तो फिर चुनावी रैलियों के लिए यह बहाना क्यों नहीं लागू होना चाहिए? हालांकि तेज होते किसान आंदोलन के बरक्स मोदी सरकार को डर लगने लगा है, जिसका सबसे बड़ा सबूत खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का दिल्ली के गुरुद्वारा रकाबगंज में माथा टेकना है, क्योंकि किसान आंदोलन को केवल पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश भर का साबित करने की उनकी कोशिश नाकाम होती नजर आ रही है। मध्यप्रेदश के रायसेन में उन्होंने इस बात की पुरजोर कोशिश की थी कि किसानों का यह आंदोलन मुल्क के हिस्से के बड़े किसानों का है। मगर, मध्यप्रदेश के उनके बयान के बाद जिस कदर किसानों का आंदोलन तेज हुआ है यह आंदोलन की जमीनी हकीकत बयां करता है। किसानों को भ्रमित करने की भाजपा सरकारों की कोशिशें नाकाम हो चुकी हैं। अब तो इस आंदोलन में मजदूरों की बढ़ती भागीदारी भी मोदी सरकार के लिए बेहद चिंता का सबब बनने लगी है।
-शिवेश गर्ग (ये लेखक के अपने विचार हैं)

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

बजट की हड़प्पन भाषा

टाइम्स आॅफ इंडिया में ताजा बजट को लेकर एक कार्टून छपा है कि जिसका मजमून है कि इस बार के बजट का प्रीफेस हड़प्पन लिपी में लिखा है, यह समझ से परे हैं।

04/02/2020

योगीजी की वक्रोक्ति

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी फिसलती जुबान या कह लें अपनी बदजुबानी की वजह से बुरे फंसे हैं। बीते मंगलवार को योगीजी कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद न्यूज एजेंसी को रूटीन बयान दे रहे थे। इस वीडियो में मुख्यमंत्री अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करते सुने गए। इस लाइव वीडियो के एक छोटे से क्लिप को पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने अपने सोशल मीडिया पर ट्वीट किया था, जो कि काफी तेजी से वायरल हो गया।

08/04/2021

एक कूटनीतिक उपलब्धि

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने बुधवार को आखिरकार मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कर ही दिया। वह अब तक चीन की आपत्ति की वजह से बचा हुआ था।

04/05/2019

यह जूता एक इबारत है

आमतौर पर हर कहावत का अपना एक माजी होता है। समय और समाज की प्रयोगशाला से पगी और निकली ये कहावतें अक्सर सत्य की तरह बेहद कड़वी और क्रूर होती हैं।

19/04/2019

बेखुदी में फडणवीस

हर गुजरे हुए दिन के साथ सरकार गठन को लेकर भाजपा पर सियासी दवाब बढ़ता जा रहा है। क्योंकि नतीजे आने के दस दिनों के बाद भी महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर तस्वीर साफ नहीं हो पा रही है और सहयोगी शिवसेना ने इस हालात का लाभ उठाते हुए दवाब की सियासत तेज कर दी है

05/11/2019

शर्मसार करता चुनाव प्रचार

अपन भी रविवार को वोट डाल आए। पर चुनाव प्रचार का ऐसा स्तरहीन सिलसिला शायद ही कभी मुल्क में दिखा हो। यों तो महापुरुषों पर बेवजह की अभद्र टिप्पणियां, विरोधी दलों के नेताओं पर

14/05/2019

एक राजनेता का गैर-राजनीतिक साक्षात्कार

जब बीच चुनाव के दौरान सुप्रीम कोर्ट की ओर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बने बॉयोपिक पर रोक लगा दी गई, तो उनने प्रचार का एक नया तरीका इजाद कर लिया।

26/04/2019