Dainik Navajyoti Logo
Thursday 6th of May 2021
 
इंडिया गेट

कांग्रेस में बगावत का सिलसिला

Friday, March 12, 2021 11:25 AM
पीसी चाको (फाइल फोटो)

कांग्रेस में अंदरुनी कलह का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। केरल विधानसभा चुनावों से पूर्व वरिष्ठ कांग्रेस नेता पीसी चाको ने कांग्रेस छोड़ने का ऐलान कर पार्टी को करारा झटका दिया है। पीसी चाको ने केरल कांग्रेस और आलाकमान पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका आरोप है कि चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवार तय करने में गुटबाजी हावी रही है। कांग्रेस में कोई लोकतंत्र नहीं बचा है। उम्मीदवारों की सूची के बारे में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के साथ कोई चर्चा नहीं की गई। उनने यह आरोप भी लगाया कि केरल में 6 अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवारों का चयन दो समूहों ने अलोकतांत्रिक तरीके से किया। इसमें एक ए समूह का नेतृत्व ओमन चांडी और आई समूह का नेतृत्व रमेश चेन्नीथला कर रहे हैं। चाको ने कहा कि दोनों समूह दिवंगत नेता के. करूणाकरन और वरिष्ठ नेता एके एंटनी के समय से ही सक्रिय हैं। ए समूह का नेतृत्व एंटनी और आई समूह का नेतृत्व करूणाकरन करते थे। केन्द्रीय नेतृत्व पर भी सवाल खड़ा करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस में राष्ट्रीय स्तर पर ऐसा कोई नहीं है, जो पार्टी का नेतृत्व संभाल सके और ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना कर रही सोनिया गांधी ने यह जिम्मेदारी ली। चाको ने कहा कि कांग्रेस कार्य समिति ने एकमत से राहुल गांधी से आग्रह किया कि वह पार्टी के अध्यक्ष फिर से बनें, लेकिन वह तैयार नहीं हुए।

कांग्रेस में ग्रुप-23 से जुड़े विवाद की पृष्ठभूमि में चाको ने यह आरोप भी लगाया कि पिछले दो वर्षों से पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व सक्रिय नहीं है। पिछले एक साल के भीतर ज्योतिरादित्य सिंधिया के बाद चाको ऐसे दूसरे वरिष्ठ नेता हैं, जिन्होंने कांग्रेस छोड़ी है। चाको कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य रहे हैं। याद करें कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह से टकराव के बीच सिंधिया पिछले साल मार्च में भाजपा में शामिल हो गए थे। सिंधिया खेमे के 20 से अधिक विधायकों ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया था, जिसके बाद कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार गिर गई थी। चाको ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया है। यों तो केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने चाको के इस कदम पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। मगर कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने उन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि यह बात वह व्यक्ति कहता है, जिसने दिल्ली में गुटबाजी को सक्रियता के साथ प्रोत्साहित किया और बढ़ावा दिया। बहुत देर कर दी हुजूर जाते-जाते।

कांग्रेस ने उन्हें लंबे समय तक दिल्ली का प्रभारी बनाया था। लेकिन वे शीला दीक्षित से निभा नहीं पा रहे थे। बल्कि उन दोनों के बीच की तनातनी का फायदा आम आदमी पार्टी ने बखूबी उठाया। नतीजा ये हुआ कि कांग्रेस दिल्ली में अपना खाता भी नहीं खोल पाई। पूरे 15 साल तक दिल्ली की सत्ता पर बैठने वाली कांग्रेस ने 2020 में अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन किया। पार्टी को 5 फीसदी से भी कम वोट मिले। कांग्रेस के 66 में से 63 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई थी। इसके बाद पीसी चाको ने पार्टी के प्रभारी पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि हार का ठीकरा वे शीला दीक्षित पर ही फोड़ते नजर आए थे। यह दावे से नहीं कहा जा सकता कि पवन खेड़ा चाको के साथ किसी निजी खुन्नस में यह बात कह रहे हैं या पार्टी की सहमति से, क्योंकि खेड़ा शीला दीक्षित के बेहद करीबी रहे हैं। हालांकि पीसी चाको ने टिकट वितरण पर नाराजगी जताते हुए जिस तरह इस्तीफा दिया है, ऐसा लग रहा है कि वे शायद ऐसे ही किसी मौके की तलाश में थे। क्योंकि बेशक चाको जी-23 का हिस्सा न हो। मगर इस्तीफे के समय इस्तेमाल की गई शब्दावलियां जी-23 के नेताओं सरीखी ही है। इन नेताओं की केन्द्रीय नेतृत्व से आम शिकायत है कि वह उनकी योग्यताएं का सही इस्तेमाल नहीं कर रही है।

गौर करने की बात है कि ये वही नेता हैं, जिन्होंने दशकों तक कांग्रेस में रह कर सत्ता का सुख भोगा है। ये सभी नेता अपने जीवन का अधिकांश समय सत्ता में गुजार चुके हैं। उन्हें ना तो लंबे समय तक विपक्ष में रहने की आदत है, ना ही विपक्ष की सियासत करने का अधिक अनुभव। इनमें अधिकांश नेताओं का अपना कोई जनाधार नहीं है। वे कांग्रेस नेतृत्व यानी नेहरू-गांधी परिवार से अपनी निकटकता का लाभ उठाकर अपनी सियासत को अंजाम देते रहे हैं। पीसी चाको भी इसके अपवाद नहीं हैं। दो साल पहले उनने नेहरू-गांधी परिवार को मुल्क का पहला परिवार बताकर नया विवाद खड़ा कर दिया था। बेशक, नेहरू-गांधी परिवार के लिए अपनी निष्ठा और सदाशयता प्रकट करने के लिए उन्होंने ऐसा कहा हो, मगर उन्होंने तब नेहरू-गांधी परिवार के साथ-साथ कांग्रेस के लिए भी मुश्किल खड़ी कर दी थी। क्योंकि भाजपा ऐसा बयानों का लाभ उठाना खूब जानती है। पीसी चाको अब उसी परिवार के खिलाफ बगावत पर उतर आए हैं। केरल की सियासत के जानकार पीसी चाको के इस्तीफे को कांग्रेस के लिए बड़ा झटका बता रहे हैं, लेकिन कांग्रेस नेतृत्व और खासतौर से राहुल गांधी क्या वाकई इसे लेकर चिंतित हैं। ऐसा लगता नहीं है। क्योंकि जी-23 को लेकर उनकी नीति तो यही समझ में आती है कि भीतरघात से बेहतर है कि बागियों का सामना किया जाए।
-शिवेश गर्ग (ये लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

‘टाइम’ के इस कवर पेज के मायने

चुनावी माहौल में आज जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समर्थक तमाम कोशिशों के बाद भी उनकी सरकार की पांच साल की उपलब्धियों को गिना नहीं पाते, तो देसी मुद्दों को छोड़कर विदेश पर चले जाते हैं।

11/05/2019

चव्हाण का बयान और कांग्रेस की सियासत

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने एक दिलचस्प खुलासा किया है। उनने कहा है कि कि वे (कांग्रेस) मुस्लिम भाइयों की अपील पर भाजपा को हटाने के लिए सरकार में शामिल हुए हैं।

24/01/2020

कांग्रेस का संकट

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वायनाड से ऐतिहासिक जीत हासिल की। पर उनकी यह जीत फीकी पड़ गई। क्योंकि उनकी पार्टी को 2019 के आम चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा।

25/05/2019

गतिरोध बरकरार

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को तीनों विवादित कृषि कानूनों पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी। साथ ही न्यायालय ने इन कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले किसानों और सरकार के बीच व्याप्त गतिरोध दूर करने के लिए एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है। अदालत की ओर से गठित की जाने वाली समिति इन कानूनों को लेकर किसानों की शंकाओं और शिकायतों पर विचार करेगी।

13/01/2021

नरेन्द्र मोदी और भरोसे का नया दायरा

चुनाव प्रचार के दौरान सभी पार्टियों की जुबानी स्तरहीनता के बाद जब नरेन्द्र मोदी ने संसद के सेंट्रल हॉल में राजग की बैठक में जो उद्गार व्यक्त किए वह कई मायनों में हैरान तो कर रहे थे पर सियासी माहौल के लिहाज से सुखद थे।

28/05/2019

हकीकत को नकारता एक अभिभाषण

यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला सत्र है लिहाजा राष्ट्रपति का अभिभाषण बेहद अहम होना था। और राष्टÑपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद के दोनों सदनों को संबोधित करते हुए इसे अहम बनाने की कोशिश की भी।

21/06/2019

दिशा रवि की गिरफ्तारी का सबब

तो अब पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी जेरेबहस है। बेंगलुरु की रहने वाली 22 साल की दिशा रवि पर भारतीय दंड संहिता के अंतर्गत राजद्रोह, समाज में समुदायों के बीच नफरत फैलाने और आपराधिक षड्यंत्र के मामले दर्ज किए गए हैं। दिल्ली पुलिस का कहना है कि दिशा रवि ने वॉट्सऐप ग्रुप बनाया था और उसके जरिए टूलकिट डॉक्यूमेंट एडिट करके वायरल किया।

18/02/2021