Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of May 2021
 
भारत

विश्व पर्यावरण दिवस: शहरों में वन क्षेत्र बढ़ाने के लिए 'नगरवन' योजना की शुरुआत

Friday, June 05, 2020 14:05 PM
जावड़ेकर ने योजना की शुरुआत की।

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने शहरों में वन क्षेत्र बढ़ाने के लिए शुक्रवार को 'नगरवन' नाम से एक योजना की शुरुआत की है, जिसके तहत 200 शहरों को शामिल किया जाएगा। विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर आयोजित एक वेबिनार में पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने महाराष्ट्र के पुणे नगर निगम द्वारा विकसित वार्जे स्मृति वन का लोकार्पण कर 'नगरवन' योजना की शुरुआत की। उन्होंने बताया कि नगर निगम वाले 200 शहरों में इस योजना का विस्तार किया जाएगा। इसमें केंद्र सरकार की तरफ से कैम्पा फंड से आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी। पुणे के उपनगरीय वार्जे क्षेत्र में पिछले 5 साल के दौरान 9 हजार एकड़ क्षेत्र में यह स्मृति वन विकसित किया गया है। इसे सार्वजनिक निजी भागीदारी के तहत विकसित किया गया है। महाराष्ट्र के वन मंत्री संजय राठौड़ ने वार्जे स्मृति वन से योजना की शुरुआत करने के लिए केंद्र सरकार का धन्यवाद किया।

जावड़ेकर ने अपने संबोधन में कहा हमारे यहां गांवों में काफी जंगल हैं, लेकिन शहरों में काफी कम जंगल हैं। शहरों में उद्यान हैं, लेकिन वन नहीं हैं। कुछ शहरों में जंगल हैं, लेकिन अधिक जंगल की जरूरत है। शहरों में वन क्षेत्र और बंजर बन चुकी भूमि के आंकड़े एकत्र किए जाएंगे और सार्वजनिक-निजी भागीदारी से नगरवन योजना को जनांदोलन बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने ढाई से तीन अरब टन 'कार्बन सिंक' बनाने का फैसला किया है और नगरवन योजना इसमें कारगर होगी। जहां अच्छा वन बनेगा उनको पुरस्कार देने पर भी विचार करेंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत ने मात्र 2.5 प्रतिशत भूमि और 4 प्रतिशत प्राकृतिक जन संसाधन के साथ 16 प्रतिशत जनसंख्या तथा 16 प्रतिशत पशुधन के दबाव के बावजूद दुनिया की 8 फीसदी जैव विविधता का संवर्द्धन कर साबित कर दिया है कि हम कम संसाधन में भी प्रकृति की रक्षा कर सकते हैं। यह भारतीय संस्कृति की प्रकृति है जिसमें हम पशु, पक्षी और पेड़ों की भी पूजा करते हैं और उनका संरक्षण करते हैं। हर गांव में एक वन ऐसा होता है, जिसमें कटाई-चराई नहीं होती।

बंजर हो चुकी भूमि को पुन: उर्वरक बनाने के लिए संयुक्त राष्ट्र की संधि यूएनसीसीडी के कार्यकारी निदेशक इब्राहिम थिआव ने पर्यावरण संरक्षण के लिए भारत के प्रयासों की तारीफ करते हुए कहा कि विकास और विकास को समर्थन देने में धरती की क्षमता के बीच संतुलन कायम रखने में हम सब अपना योगदान दे सकते हैं। कोविड-19 ने एक बार फिर यह बता दिया है कि हम किस हद तक प्रकृति पर निर्भर हैं। लंबे समय तक हमारी यह सोच रही कि हम हमेशा के लिए प्रकृति का दोहन कर सकते हैं और इसके संसाधन असीमित हैं। वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और जानवरों में रहने वाले वायरसों का संक्रमण इंसानों में फैलने के लिए हम स्वयं जिम्मेदार हैं। अब यह समझने का समय आ गया है कि प्रकृति को जितनी हमारी जरूरत है उससे कहीं ज्यादा हमें प्रकृति की जरूरत है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की कार्यकारी निदेशक इंगर एंडर्सन ने कहा कि कोविड-19 के जरिए धरती ने अपना सबसे कड़ा संदेश दिया है कि हमें अपने तौर-तरीकों में बदलाव करना होगा। मानवीय गतिविधियों ने जमीन के लगभग पूरे हिस्से को बदल दिया है। हम उन महत्त्वपूर्ण पारिस्थितियों को बदल रहे हैं जिन पर जैव विविधता आश्रित है। हम जलवायु परिवर्तन और कोविड-19 जैसी नई बीमारियों को न्योता दे रहे हैं। प्रकृति की चेतावनी पर ध्यान देने का समय आ गया है।

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा कि यह महामारी प्रकृति की ओर से दी गई चेतावनी है। धरती माता हमें प्रकृति का सम्मान करने का संदेश दे रही है। प्रकृति के साथ सामंजस्य और उसकी रक्षा करना भारतीय संस्कृति का हिस्सा है। जलवायु परिवर्तन एक बड़ा खतरा है और इसे कम करने के लिए हमें अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए। सरकार ने इस वर्ष वृक्षारोपण का लक्ष्य बढ़ाकर 145 करोड़ कर दिया है। देश की 35 प्रतिशत आबादी शहरों में रहती है और यदि हर व्यक्ति एक पेड़ भी लगाता है तो प्रदूषण को बहुत हद तक कम किया जा सकता है। हमें प्राकृति संसाधनों का दोहन भी कम से कम करना होगा। वन मंत्रालय में वन महानिदेशक आरपी गुप्ता ने कहा कि घनी आबादी वाले शहरों में पर्यावरण को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। हमें प्रकृति तरफ वापस लौटना होगा। इस संदर्भ में नगरवन योजना महत्वपूर्ण है। नगर निगमों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके इलाके में कुछ प्रतिशत भूमि वनों के लिए आरक्षित हो। इसमें सभी को साथ मिलकर काम करना होगा। पर्यावरण मंत्रालय की ओर से पूरा सहयोग दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें:

टूलकिट केस: दिशा रवि को पटियाला हाउस कोर्ट ने दी जमानत, भरना होगा एक लाख का मुचलका

किसान आंदोलन से जुड़े टूलकिट मामले में गिरफ्तार पर्यावरण एक्टिविस्ट दिशा रवि को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने मंगलवार को दिशा को 1 लाख रुपए के मुचलके पर सशर्त जमानत दे दी। इस तरह दिशा रवि 9 दिन बाद जेल से बाहर निकल सकती हैं। मामले में सह-आरोपी शांतनु ने भी कोर्ट में जमानत याचिका लगाई है। इस पर बुधवार को सुनवाई हो सकती है।

23/02/2021

देशद्रोह का आरोपी शरजील इमाम जहानाबाद से गिरफ्तार, असम पर दिया था भड़काऊ बयान

देशद्रोह एवं साम्रदायिक तनाव फैलाने समेत कई गंभीर आरोपों के बाद से भूमिगत हो गये जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), दिल्ली के छात्र शरजील को दिल्ली पुलिस ने बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार कर लिया।

28/01/2020

महाराष्ट्र में कांग्रेस को झटका, विखे पाटिल ने दिया इस्तीफा

महाराष्ट्र में कांग्रेस सरकार का झटका लगा है। पार्टी विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

04/06/2019

सलमान खुर्शीद के बयान पर बोले राशिद अल्वी, कांग्रेस को 'दुश्मनों' की जरूरत नहीं

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने अपनी पार्टी के नेता सलमान खुर्शीद पर पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे को लेकर उनके बयानों की तीखी आलोचना करते हुए उन पर अप्रत्यक्ष रूप से हमला किया और कहा है कि कांग्रेस को 'दुश्मनों' की जरूरत नहीं है।

09/10/2019

JNU फीस बढ़ोतरी विवाद : कैंपस में उपराष्ट्रपति का संबोधन, बाहर छात्रों का विरोध प्रदर्शन

जेएनयू में फीस बढ़ोतरी को लेकर बवाल हो गया। छात्रों ने बढ़ी फीस को लेकर विरोध मार्च शुरू कर दिया, इस दौरान छात्रों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई, जिसके बाद पुलिस ने गिरफ्तारियां भी की।

11/11/2019

गृहमंत्री राजनाथ ने की पूजा-अर्चना, रोड शो के बाद भरा नामांकन

केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को सत्रहवीं लोकसभा चुनाव में लखनऊ संसदीय सीट से अपना नामांकन पत्र दाखिल किया।

16/04/2019

SC ने UGC के फाइनल ईयर की परीक्षाएं करवाने के सर्कुलर को रखा बरकरार, कहा- बिना परीक्षा के प्रमोट नहीं होंगे छात्र

कोरोना काल के मद्देनजर विश्वविद्यालय और कॉलेजों में स्नातक और स्नातकोत्तर कोर्सेज के फाइनल ईयर की परीक्षाएं करवाने के खिलाफ दाखिल अर्जी पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। कोर्ट ने यूजीसी के 6 जुलाई के सर्कुलर को बरकरार रखते हुए कहा कि फाइनल ईयर की परीक्षाएं आयोजित किए बिना छात्रों को पास नहीं किया जा सकता है।

28/08/2020