Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 11th of May 2021
 
भारत

कृषि क्षेत्र में बजट के कार्यान्वयन पर वेबिनार, PM मोदी बोले- देश को फूड प्रोसेसिंग क्रांति की आवश्यकता

Monday, March 01, 2021 13:35 PM
पीएम मोदी ने वेबिनार को किया संबोधित।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कृषि क्षेत्र में बजट के कार्यान्वयन को लेकर हुए वेबिनार को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि लगातार बढ़ते हुए कृषि उत्पादन के बीच 21वीं सदी में भारत को पोस्ट हार्वेस्ट (फसल कटाई के बाद) क्रांति या फिर खाद्य प्रसंस्करण (फूड प्रोसेसिंग) क्रांति और वैल्यू एडिशन (मूल्य संवर्धन) की आवश्यकता है। देश के लिए बहुत अच्छा होता अगर ये काम दो-तीन दशक पहले ही कर लिया गया होता। अब जो समय बीत गया है, उसकी भरपाई तो करनी ही है। आने वाले दिनों के लिए अपनी तैयारी और तेजी को भी बढ़ाना है। आज हमें कृषि के हर सेक्टर में हर खाद्यान्न, फल, सब्जी, मत्स्य सभी में प्रोसेसिंग पर विशेष ध्यान देना है। इसके लिए जरूरी है कि किसानों को अपने गांवों के पास ही स्टोरेज की आधुनिक सुविधा मिले। खेत से प्रोसेसिंग यूनिट तक पहुंचने की व्यवस्था सुधारनी ही होगी।

मोदी ने कहा कि किसानों की उपज को बाजार में अधिक से अधिक विकल्प मिल सके, यह सुनिश्चित करना समय की जरूरत है। हमने अपनी कृषि उपज को वैश्विक प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ बाजार में एकीकृत किया है। हमें देश के एग्रीकल्चर सेक्टर का, प्रोसेस्ड फूड (तैयार खाद्य पदार्थ) के वैश्विक मार्केट में विस्तार करना ही होगा। हमें गांव के पास ही एग्रो इंडस्ट्री कलस्टर्स की संख्या बढ़ानी ही होगी ताकि गांव के लोगों को गांव में ही खेती से जुड़े रोजगार मिल सकें। उन्होंने कहा कि हमने जरूरी सुधार के अलावा 11,000 करोड़ रुपए की पीएलआई योजनाएं शुरू की है, जो कृषि उद्योग की मदद करेंगी। खाने के लिए तैयार, पकाने के लिए तैयार, समुद्री भोजन और कई अन्य वस्तुओं को बढ़ावा दिया जा रहा है। खाद्य प्रसंस्करण के साथ हमें आधुनिक प्रौद्योगिकी के साथ सबसे छोटे किसानों की मदद करने पर भी ध्यान देना चाहिए। क्या ट्रैक्टर और ऐसी अन्य मशीनरी के लिए छोटे किसानों को एक संस्थागत, सस्ता और प्रभावी विकल्प प्रदान कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ऑपरेशन ग्रीन्स योजना के तहत किसान रेल के लिए सभी फलों और सब्जियों के परिवहन पर 50 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है। किसान रेल भी आज देश के कोल्ड स्टोरेज नेटवर्क का सशक्त माध्यम बनी है। बीते 6 महीने में ही करीब 275 किसान रेलें चलाई जा चुकी हैं। ये छोटे किसानों के लिए बहुत बड़ा माध्यम तो हैं ही, कंज्यूमर और इंडस्ट्री को भी इसका लाभ हो रहा है। खेती से जुड़ा एक और अहम पहलू सॉइल टेस्टिंग का है। बीते वर्षों में केंद्र सरकार द्वारा करोड़ों किसानों को सॉइल हेल्थ कार्ड दिए गए हैं। अब हमें देश में सॉइल हेल्थ कार्ड की टेस्टिंग की सुविधा गांव-गांव तक पहुंचानी है। एग्रीकल्चर सेक्टर में रिसर्च एंड डेवलपमेंट को लेकर ज्यादातर योगदान पब्लिक सेक्टर का ही है। अब समय आ गया है कि इसमें प्राइवेट सेक्टर की भागीदारी बढ़े। हमें अब किसानों को ऐसे विकल्प देने हैं जिसमें वो गेहूं-चावल उगाने तक ही सीमित न रहे।

मोदी ने कहा कि यह समय है जब निजी क्षेत्र कृषि क्षेत्र में अनुसंधान और विकास में अपनी भागीदारी बढ़ा रहा है। यह सिर्फ बीजों तक सीमित नहीं होना चाहिए, बल्कि एक फसल से जुड़ा एक समग्र वैज्ञानिक पारिस्थितिकी तंत्र और पूरा चक्र। मोटे अनाज के लिए भारत की एक बड़ी जमीन बहुत उपयोगी है। मोटे अनाज की डिमांड पहले ही दुनिया में बहुत अधिक थी, अब कोरोना के बाद ये इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में बहुत प्रसिद्ध हो चुका है। इस तरफ किसानों को प्रोत्साहित करना भी फूड इंडस्ट्री के साथियों की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि हमारे यहां कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग लंबे समय से किसी न किसी रूप में की जा रही है। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग सिर्फ व्यापार बनकर न रहे, बल्कि उस जमीन के प्रति हमारी जिम्मेदारी को भी हम निभाएं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि माइक्रो इरिगेशन फंड की राशि बढ़ाकर दोगुनी कर दी गई है। देश की 1000 और मंडियों को ई-नाम योजना से जोड़ने का फैसला लिया गया है। इन सारे फैसलों में सरकार की सोच झलकती है, इरादा महसूस होता है और सरकार के विजन का पता चलता है। बीते वर्षों में किसान क्रेडिट कार्ड छोटे से छोटे किसानों तक, पशुपालकों से लेकर मछुआरों तक इसका दायरा बढ़ाया है। किसानों को ऋण, बीज और बाजार, खाद ये किसान की प्राथमिक जरूरत है, जो उसे समय पर चाहिए। हमें किसानों को ऐसी टेक्नोलॉजी, ऐसे बीज उपलब्ध करवाने हैं जो जमीन के लिए उपयोगी हो और जिनमें न्यूट्रिशन की मात्रा भी हो। हमें कृषि क्षेत्र से जुड़े स्टार्टअप को बढ़ावा देना होगा और इनसे युवाओं को जोड़ना होगा। कोरोना के समय हमने देखा है कि कैसे स्टार्टअप्स ने फलों और सब्जियों को लोगों के घरों तक पहुंचाया। ज्यादातर स्टार्टअप युवाओं ने ही शुरू किए।

यह भी पढ़ें:

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का निधन

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर का निधन हो गया।

21/08/2019

ब्रिटेन को सीरम इंस्टीट्यूट दे रहा था वैक्सीन की 50 लाख डोज

ब्रिटेन को भारत कोविशिल्ड वैक्सीन की 50 लाख डोज भेज रहा था। अब 21 प्रदेशों में लोगों को यह वैक्सीन देने का निर्णय किया गया है।

08/05/2021

CA परीक्षा मामला: सुप्रीम कोर्ट ने ICAI के आग्रह पर 10 जुलाई तक स्थगित की सुनवाई

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने सुप्रीम कोर्ट को गुरुवार को बताया कि कुछ राज्यों में कोरोना महामारी की विभीषिका के मद्देनजर चार्टर्ड अकाउंटेंसी (सीए) की परीक्षाओं के आयोजन में कुछ दिक्कतें आ रही हैं। आईसीएआई के आग्रह पर कोर्ट ने मामले की सुनवाई 10 जुलाई तक स्थगित कर दी।

02/07/2020

प्रियंका का भाई प्रेम, भाजपा ने आदिवासियों और गरीबों के साथ किया धोखा

कांग्रेस महासचिव एवं पार्टी के पूर्वी उत्तर प्रदेश मामलों की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि कांग्रेस का लक्ष्य समावेशी विकास के साथ देश का सशक्तीकरण करना है।

21/04/2019

सुप्रीम कोर्ट की महिलाओं के कार्य पर अहम टिप्पणी, कहा- एक दिन में करीब 299 मिनट करती है घरेलू कार्य

अगर महिलाओं को उनके पति यह कहते है कि तुम आवास में करती ही क्या हो। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी की है।

06/01/2021

भारत में 31 हजार के पार पहुंचा कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, 1000 से ज्यादा मौतें

कोरोना वायरस का कहर दुनिया के साथ-साथ भारत में भी बढ़ता जा रहा है। देश में इस खतरनाक वायरस के अब तक कुल 31,332 मामले आ चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार इस जानलेवा वायरस के कारण अब तक 1007 लोगों की मौत हो चुकी है। वर्तमान में कुल 22629 एक्टिव केस हैं।

29/04/2020

सरकारी विभागों में भ्रष्टाचार का बोलबाला, घूस लेने में पुलिस-पंचायत पहले और राजस्व विभाग दूसरे नंबर पर

प्रदेश में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) लगातार घूसखोरों पर शिकंजा कस रही है, फिर भी भ्रष्ट अफसर बाज नहीं आ रहे हैं। जनवरी 2021 में घूस लेने के मामले में पंचायत और पुलिस महकमा पहले तथा राजस्व विभाग दूसरे स्थान पर। यह खुलासा एसीबी की फरवरी माह में तैयार की गई रिपोर्ट में हुआ है।

22/02/2021